Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
02-20-2019, 06:13 PM,
#61
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
56

इन बातों ही बातों में नेहा की आँख लग गई .... पर पता नहीं क्यों अंदर ही अंदर मुझे कुछ बुरा लग रहा था| ऐसा लग रहा था की अभी जो हुआ (सम्भोग) वो जबरदस्ती हुआ था| भौजी शायद मन ही मन मेरे ख्यालों को पढ़ चुकीं थीं|

भौजी: क्या हुआ? आप कुछ छुपा रहे हो?

मैं: नहीं तो?

भौजी: आप जानते हो ना आप मुझसे जूठ नहीं बोल सकते| पिछले एक घंटे से आप कोई न कोई बात करके बातों को घुमा देते हो....प्लीज बताओ ना?

मैं: वो......जो कुछ अभी हुआ उसे लेकर थोड़ा परेशान हूँ|

भौजी: क्यों?

मैं: मुझे Guilty फील हो रहा है| ऐसा लग रहा है मैंने आपके साथ जबरदस्ती की...आपको देख के लग रहा है की आप वो सब नहीं karna चाहते थे....बस मेरा मन रखने के लिए आपने वो...... (मैंने बात अधूरी छोड़ दी)

भौजी: I'M Sorry अगर आपको ऐसा लगा| पर मुझे सिर्फ आपकी सेहत की चिंता है.... अगर आप मेरी वजह से बीमार पड़े तो मैं खुद को माफ़ नहीं कर पाऊँगी| मेरे एक दिन एक्स्ट्रा रुकने से आपकी ये हालत हुई| पर माँ-पिताजी ने मुझे जबरदस्ती रोक लिया ....वरना मैं जल्दी आ जाती और तब शायद आपकी ये हालत नहीं होती| मैंने ये सब आपका दिल रखने के लिए कतई नहीं किया...मेरा भी मन था.... पर मैं आपकी सेहत को लेके चिंतित थी इसलिए आप मेरी ख़ुशी नहीं देख पाये| आप ऐसा बिलकुल ना सोचें की आपने कोई जबरदस्ती की है ...या मेरा मन नहीं था| प्लीज ऐसा ऐसा मत सोचा करो...

मैं: वैसे एक बात और है जो मैं जानने को बहुत उत्सुक हूँ?

भौजी: पूछिये?

मैं: उस दिन आपके और चन्दर भैया के बीच में क्या बात हुई? क्योंकि जब भैया अंदर आये थे तो वो गुस्से में थे और जब बहार निकले तो संतुष्ट थे!

आगे भौजी ने मुझे पूरी बात बताई जिसको मैं डायलाग के रूप में लिख रहा हूँ|

चन्दर भैया: (गुस्से में) ये किसका बच्चा है? मैंने तो तुम्हें सालों से नहीं छुआ....तुम तो मुझे अपने पास भी नहीं भटकने देती फिर ये कैसे हुआ?

भौजी: आपका ही बच्चा है...और खबरदार आपने अगर इस बच्चे के बारे में कुछ उल्टा सीधा कहा तो? सुहागरात में जो हुआ उसके बाद मैं कभी आपको अपने पास भी नहीं भटकने दूंगी| मुझसे और मेरे बच्चों से दूर रहना| आपने मेरे साथ धोका किया है...मेरी छोटी बहन के साथ...छी...छी...छी...छी ... मैं आपकी तरह नहीं हूँ जो बहार जाके मुँह मारूँ! वरना मुझ मैं और आप में फर्क ही क्या रह जायेगा?

भैया भौजी के तेवर देख के थोड़ा सहम गए ... ये भौजी का मेरे प्रति POSSESIVENESS थी जो अब उनके सामने माँ के प्यार के रूप में बहार आ रही थी|

चन्दर भैया: (थोड़ा संभल के, पर फिर भी अपनी अकड़ दिखाते हुए) तो आखिर ये सब कैसे हुआ?

भौजी: उस दिन जब आप देसी चढ़ा के आये थे तब आपने जबरदस्ती मेरे साथ बलात्कार किया था...कुछ याद आया?

चन्दर भैया: नहीं...ये नहीं हो सकता ...मुझे अच्छे से याद है उस दिन मैंने तुम्हें नहीं छुआ था|

भौजी: तो मेरी पीठ पे ये निशाँ कैसे आये...जानते हो कितनी गाली बाकि थी मुझे... अब भी मेरे यौन अंगों पे आपके गंदे हाथों के निशान हैं...काटने के निशान...नौचने के निशान..... बता दूँ ये बात अब को? या कर दूँ थाने में कंप्लेंट और वो भी जो तुमने मेरी छोटी बहन के साथ किया ....?

चन्दर भैया: तुम अपने पति के खिलाफ कंप्लेंट करोगी?

भौजी: अगर आप मुझ पे इतना गन्दा इल्जाम लगा सकते हो तो मैं भी आप के खिलाफ कंप्लेंट कर सकती हूँ|

भौजी के तेवर और रवैय्ये ने चन्दर भैया को यकीन दिल दिया था की ये नहीं का बच्चा है|
ये सब बता के भौजी रो पड़ीं ...

मैं: I'm Sorry !!! मुझे ये बात नहीं करनी चाहिए थी|

भौजी: मुझे इस बात का कोई दुःख नहीं है...दुःख है तो इस बात का की मैं इस बच्चे को आपका नाम नहीं दे सकती!

मैं: देखो आप जानते हो ये हमारा बच्चा है...मैं जानता हूँ ये हमारा बच्चा है| बस !!! इसका दूसरा रास्ता था की आप मेरे साथ भाग चलो....पर वो आपके हिसाब से अनुचित है| तो मैं आपको उस बात के लिए जोर नहीं दूँगा|

भौजी ने मेरे दाहिने हाथ को अपना तकिया बने और मुझसे फिर से लिपट गईं| वो बहुत भावुक हो गईं थीं और ऐसे में उन्हें एक कन्धा चाहिए था जिसपे वो अपना सर रख के रो सकें| उनके आसन मुझे टी-शर्ट के ऊपर से महसूस हो रहे थे|

मैं: I LOVE YOU !!!

भौजी: (सुबकते हुए) I LOVE YOU TOO !!!

उन्होंने मेरे गाल पे Kiss किया और हम ऐसे ही लिपटे सो गए| जब मेरी आँख खुली तो भौजी वहाँ नहीं थी|

नेहा मेरी छाती पे लेटी हुई थी, मेरा हाथ अब भी उसकी पीठ पे था| मैं बहुत सावधानी से उठा ताकि नेहा कहीं गिर ना जाए| फिर मैंने हाथ-मुँह धोया और नेहा को जगाने आया| नेहा को गोद में उठा के उसकी आँखें धोई तब जाके नेहा जाएगी| मैं उसे ले के रसोई घर की ओर जा ही रहा था की तभी भौजी आ गईं| उनके हाथ में चाय थी, ओर एक कप में दूध था| साफ़ था की दूध मेरे लिए था, मैंने दूध का कप लिया ओर नेहा को पिलाने लगा;

भौजी: ये आपके लिए है... नेहा के लिए नहीं|

मैं: बच्चे चाय नहीं पीते ....दूध पीते हैं| अब से इसे दूध ही देना...सुबह-शाम|

भौजी: ठीक है कल से दे दूंगी...अभी तो आप दूध पी लो| आपको ज्यादा जर्रूरत है!

मैं: यार.... मुझे कुछ नहीं हुआ है| मैं बिलकुल ठीक हूँ| Stop treating me like a patient!

भौजी: ओह..सॉरी !!! (मैंने उन्हें कुछ ज्यादा ही झिड़क दिया था)

भौजी मुड़ के जाने लगीं, तो मैंने जल्दी से नेहा को गोद से उतार ओर भौजी के कंधे पे हाथ रख के उन्हें रोक ओर अपनी ओर पलटा| बिना देर किये मैंने आने दोनों हाथों से उनका चेहरा थामा ओर उनके होठों पे अपने होंठ रख दिए ओर kiss करने लगा| एक मिनट बाद हम अलग हुए तो मैंने उन्हें; "I'm Sorry" कहा| वो कुछ नहीं बोलीं बस मेरे गले लग गईं| इतने में वहाँ रसिका भाभी आ गईं| उन्हें आता देख मैं भौजी से अलग हो गया|

रसिका भाभी: दीदी..........

भौजी: तेरी हिम्मत कैसे हुई यहाँ आने की?

रसिका भाभी: दीदी...एक बार मेरी बात सुन लो प्लीज!!!

भौजी: तेरी.....

मैं: (भौजी की बात काटते हुए) बोलने दो उन्हें|

भौजी: (मेरी ओर देखते हुए) बोल

रसिका भाभी: दीदी मैं बहक गई थी.... प्लीज मुझे माफ़ कर दो! इतने दिनों से उन्होंने मुझे छुआ नहीं और ऐसे में मैं मानु जी की ओर आकर्षित हो गई| उन्होंने ही मुझे उनसे (अजय भैया) से बचाया ओर मैं ये बात भूल गई की.... मेरी वासना मुझ पे हावी हो गई थी! इसलिए मैंने ये पाप किया| मैं आपसे हाथ जोड़के माफ़ी माँगती हूँ| प्लीज मुझे माफ़ कर दो!!! मैं दुबारा ऐसी गलती कभी नहीं करुँगी| मैं समझ चुकी हूँ की ये सिर्फ आप के हैं| मैंने कल रात सब देख लिया था...की आप इनसे कितना प्यार करते हो|

भौजी और मेरी आँखें चौड़ी हो गईं पर दोनों को कोई शिकवा या गिला नहीं था| देख लिया तो देख लिया...

भौजी: देख अगर तूने कोई बकवास की तो..... समझ ले मैं सब बता दूंगी की तूने इनके साथ क्या-क्या करना चाहा था| वैसे भी तू इतनी मशहूर है की कोई तेरी बात कभी नहीं मानेगा|

रसिका भाभी की आँखें झुक गईं .... क्योंकि उनका ब्लैकमेल करने का प्लान फ्लॉप हो चूका था| 

वो आगे कुछ नहीं बोलीं बस चुप-चाप चलीं गई| उनके जाते ही भौजी ने मुझसे पूछा;

भौजी: तो सुन लिया आपने?

मैं: हाँ... अब ही इनके अंदर वो कीड़ा कुलबुला रहा है| खेर आपके जवाब ने उनकी बोलती बंद कर दी|

अभी हमारी बातें चल ही रहीं थी की माँ और पिताजी भी आ गए| थोड़ी आव-भगत के बाद उन्हें पता चला की मेरी तबियत ख़राब थी...और तबियत ख़राब होने के पीछे का करना भी क्या था.... खेर उन्होंने उस समय कुछ नहीं कहा| मेरा ये मन्ना है की शायद पिताजी ये बात समझ सकते थे परन्तु माँ को ये बात हजम नहीं हो रही थी| इसका पता मुझे कुछ देर बाद चला| घर में भौजी खाना पका रहीं थीं और मैं और नेहा वहीँ तखत पे खेल रहे थे| माँ आज जहाँ मेरी चारपाई होती थी वहां पर बड़की अम्मा के साथ बैठीं थी और उन्होंने मुझे वहाँ से आवाज दी;

माँ: मानु......इधर आ|

मैं: जी आया!

मैं उनके पास पहुंचा और हाथ बंधे खड़ा हो गया| तभी बड़की अम्मा वहाँ से कुछ काम करने चलीं गई|

माँ: बैठ मेरे पास...मुझे कुछ बात करनी है|

मैं: जी बोलिए|

माँ: बेटा तो इतना होशियार है, समझदार है, फिर तू ऐसा क्यों कर रहा है? आखिर क्यों तू बात को नहीं समझता| तू जानता है की आज नहं तो कल हमने चले जाना है...फिर तू अपनी भौजी से इतना मोह क्यों बढ़ा रहा है? क्यों उसे तकलीफ देना चाहता है?

मेरे पास उनकी बातों का कोई जवाब नहीं था ...मैं सर नीचे झुका के बैठ गया| मैं माँ को क्या जवाब देता...खुद को कैसे रोकता भौजी के करीब जाने से, खासकर तब जब वो हमेशा मेरे सामने रहती हैं| मेरे एक छोटे से मजाक ने उनका क्या हाल किया था ये मैं भलीं-भाँती जानता था| मैं सच में बहुत उदास और परेशान था की मैं क्या करूँ कैसे खुद को कंट्रोल करूँ ....

मैं: माँ...यहाँ पे मेरा कोई दोस्त नहीं है...एक बस वही हैं जिनसे मेरी इतनी बनती है| ऊपर से नेहा के साथ तो जैसे मैं खुद बिलकुल बच्चा बन जाता हूँ| आपका कहना ठीक है की मुझे इतना मोह नहीं बढ़ाना चाहिए पर.... ठीक है... मैं ऐसी गलती फिर नहीं करूँगा|

मैंने माँ से कह तो दिया था पर मैं जानता था की मैं उस पे अमल नहीं कर पाउँगा| मैंने सब समय पे छोड़ दिया और शायद यही मेरी गलती थी....या फिर अब बहुत देर हो चुकी थी!



खेर रात के भोजन के बाद अब बारी थी सोने की| घर की औरतें आज बड़े घर में सोने वालीं थीं और बचे तीन मर्द: मैं, पिताजी और बड़के दादा तो हम सब आज रसोई के पास वाले आँगन में सोने वाले थे| अब समस्या ये थी की भौजी को मेरी ज्यादा ही चिंता थी, तो भोजन के उपरांत वो मेरे पास आईं;

भौजी: सुनिए ... आप कहाँ सोने वाले हो?

मैं: यहाँ आँगन में|

भौजी: ठीक है फिर मैं यहीं अपने घई में साउंगी|

मैं: देखो ऐसे ठीक नहीं लगेगा....सभी औरतें वहाँ सोएंगी और आप यहाँ...बड़की अम्मा क्या कहेंगी?

भौजी: वो सब मुझे नहीं पता....मैं यहीं साउंगी... रात को अगर आपकी तबियत ख़राब हो गई तो आप तो किसी को उठाओगे नहीं... क्योंकि उससे "सबकी नींद डिस्टर्ब हो जाएगी"| मैं यहन हूँगी तो कम से कम रात को उठ के चेक तो कर लिया करुँगी|

मैं: ऑफ-ओह मुझे कुछ नहीं हुआ है.. I M fit and fine

भौजी: वो सब मैं कुछ नहीं जानती| मैं तो यहीं सोउंगी|

अब मुझे इसका हल निकलना था| मैं भौजी को लेके बड़े घर पहुंचा तो वहाँ जाके देखा की सोने का अरेंजमेंट क्या है? घर के आँगन में चार चारपाइयाँ थीं| सबसे दूर वाली रसिका भाभी की, उसके बाद बड़की अम्मा की, उसके बाद माँ की और उसके बाद भौजी की|

मैं: ऐसा करो एक चारपाई यहाँ आपके और माँ के बीच में डाल देते हैं, उसपे मैं सो जाऊँगा| इस तरह मैं आपके सामने भी हूँगा और आपको ज्यादा चिंता भी नहीं रहेगी|

भौजी: ठीक है!

अब मैंने सभी चारपाइयाँ दूर-दूर कीं और मेरी और भौजी की चारपाई के बीच करीब चार फुट का फासला था| बाकी सभी चारपाइयों का भी यही हाल था|

भौजी: अपनी चारपाई इतनी दूर क्यों रखी है|

मैं: (मैंने भौजी को छेड़ते हुए कहा) ऐसा करते हैं मैं आपके साथ ही सो जाता हूँ!

भौजी: हाय!!! मेरी ऐसी किस्मत कहाँ! आप अभी सो जाओगे और आधी रात को चले जाओगे| मजा तो तब आये जब आप रात भर मेरे साथ रहो| काश.....

मैं: अच्छा अब अपनी ख्यालों की दुनिया से बहार आओ और इस चारपाई पे बिस्तर लगवाओ|

खेर मैं चारपाई पे लेट गया ...और करीब आधे घंटे बाद माँ, बड़की अम्मा और रसिका भाभी भी आ गए|

माँ: मानु....तू यहाँ क्या कर रहा है?

मैं: माँ.... आपको बहुत मिस कर रहा था तो सोचा आज आपके पास सो जाऊँ| अब एक चारपाई पे तो आप और मैं आ नहीं सकते ना ही मैं इतना छोटा हूँ की आप मुझे गोदी में सुला लो|

मेरी बात सुन के सब हंसने लगे....माँ भी मुस्कुरा दीं| सब अपनी-अपनी चारपाई पे लेट गए| करीब एक घंटा बीता होगा...मुझे झपकी लगी की तभी अचानक एक एहसास हुआ| ऐसा लगा जैसे किसी ने मेरे माथे को छुआ हो! मैंने आँख खोली तो देखा भौजी हैं| मैंने तुरंत आँख बंद कर ली और ऐसे दिखाया जैसे मैं सो रहा हूँ| दरअसल भौजी मेरा बुखार चेक कर रहीं थीं| उस समय रात के नौ नजी थे| फिर दस बजे दुबारा वो मेरा बुखार चेक करने उठीं| फिर ग्यारह बजे ....फिर बारह बजे...अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ| मैं नहीं चाहता था की कोई मेरी वजह से परेशान हो! जैसे ही भौजी मेरा बुखार चेक कर के लेटीं, मैं उठा और जाके उनके पीछे लेट गया| भौजी ने दाईं और करवट ले रखी थी और मैं उनकी ओर करवट लेकर लेटा, उनकी बगल से होते हुए अपना हाथ उनकी कमर पे रखा और उनके कान में होले से फुसफुसाया;

मैं: कब तक मेरा बुखार चेक करने के लिए उठते रहोगे|

भौजी: आप सोये नहीं अभी तक?

मैं: जिसकी पत्नी बार-बार उठ के उसका बुखार चेक कर रही हो... वो भला सो कैसे सकता है? प्लीज सो जाओ...मैं बिलकुल ठीक हूँ| अगर मुझे तबियत जरा सी भी ख़राब लगेगी तो मैं आपको उठा दूँगा, वादा करता हूँ|

भौजी: पर मुझे नींद नहीं आ रही|

मैं: आपको सुला मैं देता हूँ|

मैंने उनकी गर्दन पे पीछे से kiss किया.... और भौजी के मुख से "सीईईइ ... " की आवाज निकली| कुछ देर मैं उनकी कमर में बाँह डाले लेटा रहा और जब मुझे यकीन हुआ की वो सो गईं हैं तब मैं अपनी चारपाई पे वापस आके लेट गया| 
Reply
02-20-2019, 06:13 PM,
#62
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
57

करीब पांच बजे भौजी फिर उठीं और मेरा बुखार चेक करने लगीं| जैसे ही उनके हाथ का मुझे स्पर्श हुआ मैं एक दम से जग गया|

भौजी: अरे ...सॉरी मैंने आपको उठा दिया|

मैं: कोई बात नहीं...मैं वैसे भी उठने वाला था|

भौजी: अभी पौने पाँच हुए हैं.... आप सो जाओ|

मैं: अरे बाबा मैं बहुत तारो-ताजा महसूस कर रहा हूँ|

भौजी: आप मेरी बात कभी नहीं मानते|

मैं: क्या करें! वैसे आप कुछ भूल नहीं रहे?

भौजी: क्या?....... ओह! आपकी Good Morning Kiss ना.... वो अभी नहीं मिलेगी|

मैं: क्यों?

भौजी: आप मेरी बात जो नहीं मानते|

मैं: हाय तो आपकी Good Morning Kiss के लिए वापस सो जाएँ?

भौजी: हाँ..... तब मिलेगी|

मैं: चलो ठीक है ना तो ना सही... पर देख लो अगर अभी नहीं दी तो सारे दिन ना लूंगा...और ना ही लेने दूँगा|?

भौजी: ठीक है! देखते हैं!

मैं उठा...ब्रश, कुल्ला, sponge bath लिया और कपडे बदल के तैयार हो गया| चाय पी... और तभी माँ ने कमरे में तंगी टी-शर्ट देख ली|

माँ: अरे ये टी-शर्ट किसकी है?

मैं: जी मेरी|

माँ: तूने कब ली ये टी-शर्ट?

मैं: जी ...वो.....

इतने में भौजी नाश्ता लेके आ गईं;

भौजी: माँ.... वो मैंने दी है| (आज पहली बार उन्होंने माँ के सामने उन्हें माँ कहा था|)

भौजी के मुँह से माँ सुन के माँ को थोड़ा अलग लगा! पर उन्होंने कुछ कहा नहीं| पर उनके चेहरे पे मुझे कुछ अलग भाव दिखे| शायद उन्हें कभी उम्मीद नहीं थी की भौजी उन्हें माँ कह के पुकारेंगी|

माँ: बहु... क्यों लाइ तू इसके लिए टी-शर्ट? जर्रूर इस नालायक ने ही माँगी होगी| क्यों रे लाडसाहब?

भौजी: नहीं माँ....वो घर में माँ और पिताजी इनसे मिलना चाहते थे| आखिर इनके कहने पर ही तो मैं मायके गई थी| अब इनसे मिलना तो हो नहीं पाया इसलिए माँ-पिताजी ने मुझे कहा की तुम एक अच्छी सी टी-शर्ट गिफ्ट कर देना| तो उस दिन मैं अपने भाई के साथ बाजार गई थी| वहाँ मुझे ये टी-शर्ट पसंद आई तो मैं ले आई|

माँ: तू झूठ तो नहीं बोल रही ना?

भौजी: नहीं माँ

माँ: बेटा क्या जर्रूरत थी पैसे खर्च करने की|

भौजी: माँ ये तो प्यार है...... अम्म्म….. माँ-पिताजी का!
(भौजी ने जैसे-तैसे बात को संभाला|)

मुझे नहीं पता की माँ के दिल में उस वक़्त क्या चल रहा था| पर हाँ एक बात तो तय थी की माँ को ये बात कहीं न कहीं लग चुकी थी|कुछ देर बाद माँ अपने कामों में लग गई और मैं वहीँ बैठ रहा| करीब दस बजे बड़की अम्मा आईं उन्हें बाजार जाना था किसी काम से तो वो माँ को साथ ले गईं| पिताजी और नादके दादा तो पहले से ही खेत पर थे| घर पे अब, मैं, भौजी, वरुण और रसिका भाभी ही बचे थे| मैं रसोई के पास छप्पर के नीचे तख़्त पे बैठा था| भौजी मेरे पास बैठीं थीं और रसिका भाभी नहा के अभी-अभी निकलीं थीं| वो वहीँ खड़ी अपने बाल सुख रहीं थीं| जैसे ही रसिका भाभी बड़े घर की ओर बढ़ीं भौजी ने मुझसे कहा;

भौजी: अब तबियत कैसी है आप की?

मैं: Fit and Fine !!!

भौजी: तो आप यहाँ बैठो मैं नहा के आती हूँ|

मैं: यार नहाना तो मुझे भी है|

भौजी: तो आप पहले नहा लो|

मैं: हम्म्म ....

भौजी: साथ नहाएं?

मैं: नेकी ओर पूछ-पूछ !

मैं ओर भौजी फटा-फ़ट उनके घर में घुस गए ओर भौजी ने जल्दी से दरवाजे की कुण्डी लगा दी| दिल में तरंगे उठने लगीं थी ओर मन उतावला हो रहा था| पर मैं हाथ बांधे खड़ा था...खुद को समेटे हुए| भौजी दरवाजा लगा के आईं और मेरे सामने खड़ी हो गईं| फिर उन्होंने अपने दोनों हाथ मेरे कन्धों पे रख दिए ओर हमारी आँखें एक दूसरे से मिलीं! मैंने अपने दाहिने हाथ से भौजी के बाएं गाल को सहलाया और भौजी ने अपनी गर्दन भी उसी दिशा में मोड़ ली जिधर मेरा हाथ था| मैंने सीधे हाथ से उनकी गर्दन को पकड़ा और उन्हें अपनी ओर खींचा| भौजी मुझे Kiss करना चाहतीं थीं और इसलिए उन्होंने अपने होठों से मेरे होठों को छूने की कोशिश कि पर मैंने उनके और अपने होठों के बीच एक ऊँगली रख दी|

भौजी: क्या हुआ?

मैं: कुछ भी तो नहीं|

भौजी: फिर मुझे Kiss करने से क्यों रोका?

मैं: भूल गए सुबह की बात?

भौजी: ऑफ ओह्ह !!! Please lemme kiss naa!!!

मैं: ना

भौजी: awww

भौजी: प्लीज.... आगे से कभी नहीं मना करुँगी|

मैं: ना

भौजी: जब घी सीढ़ी ऊँगली से ना निकले तो ऊँगली टेढ़ी करनी पड़ती है| Kiss तो मैं कर के रहूंगी|

मैं: Give it your best shot!

भौजी: Oh I Will!!!

इतना कह के उन्होंने मेरी टी-शर्ट पकड़ के मुझे अपनी ओर खींचा पर मैंने अपनी गर्दन दूर कर ली| उन्होंने मेरी टी-शर्ट के अंदर अपने हाथ डाले और मेरी छाती पे फिराने लगीं| गिर हाथों को ऊपर गले तक ले गईं और मेरी टी-शर्ट गर्दन से निकाल फेंकी| नीचे मैंने जीन्स पहनी हुई थी...भौजी ने उसका बटन खोला...फिर जीप खोली और हाथ अंदर डाल के मेरा लंड को कच्छे के ऊपर से पकड़ लिया| उसे पकड़ के वो सहलाने लगीं| मेरी नजर उनके चेहरे पे थी और भौजी बड़े ही सेक्सी तरह से अपने होठों को काटती ..कभी एक डैम सिकोड़ के Kiss करने की आकृति बनाती| फिर उन्होंने नीचे बैठ के मेरी जीन्स उतार डाली|अब मैं सिर्फ कच्छे में रह गया था, पर जिस तरह से भौजी मुझे Tease कर रहीं थीं मन बेकाबू होने लगा था|भौजी ने बैठे-बैठ ही मेरा कच्छा निकाल फेंका|अब मैं पूर्ण नंगा था|भौजी कड़ी हो गईं और मुझे निहारने लगीं, जैसे आज पहली बार ऐसे देखा हो? वो बार-बार अपने होठों पे जीभ फिरा रहीं थीं ...कभी-कभी अपने गुलाबी होठों को दाँतों तले दबा भी लेतीं थी| 

मैंने आँखों के इशारे से उन्हें बताया की आपने अभी तक कपडे पहने हुए हैं| जब उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी तो मैंने खुद आगे बढ़ कर उनके पल्लू कोखींचा जिससे उनके वक्ष सामने से नंगे हो गए| मतलब मैं उनका क्लीवेज देख पा रहा था| मन तो कर रहा था की खींच के भौजी के सारे कपडे फाड़ दूँ वॉर वो जंगलीपना होता| बड़ी मुश्किल से खुद को रोक और सहज दिखाया| शायद एक पल को तो भौजी भी हैरान थी वो था ही इतना कातिलाना सीन|

मैं: क्या देख रहे हो?

भौजी: हैरान हूँ ...कैसे कंट्रोल कर लेते हो खुद को? मेरा तो मन कर रहा है की खा जाऊँ तुम्हें|

मैं: मैं वहशी नहीं हूँ.... जो टूट पडूँ आप पर और आपके कपडे फाड़ डालूँ|

भौजी: हाय!!! आपकी इसी अदा के तो कायल हैं हम|

मैं: हमारे सारा दिन नहीं है, मैं जा रहा हूँ नहाने| (मैंने भौजी को छेड़ा)

भौजी: आप यहाँ नहाने आये हो?

मैं: तो और किस लिए आया हूँ मैं? मैं नहाऊँगा और आप मेरी पीठ मलोगे!

भौजी: हुँह...जाओ मैं बात नहीं करती आपसे|

भौजी मुंह मोड़ के कड़ी हो गईं| मैं जानता था की उनका गुस्सा जूठा है इसलिए मैं उनके पीछे एक दम से सट के खड़ा हो गया| मेरा लंड उनकी नितम्ब में अच्छे तरीके से चुभ रहा था| मैंने अपने हाथों को उनकी कमर से होते हुए पेट पे ले जाके लॉक कर दिया| अब भौजी मुझसे बिलकुल चिपक के खड़ीं थीं और मेरा लंड उनकी नितम्ब में धंसा था| भौजी के मुंह से सिसकारी फुट निकली.... मैंने अपने हाथ ऊपर की और ले जाने शुरू किये और उनके ब्लाउज के अंदर घुसा दिए| उनके स्तन मेरे हाथों में थे और मैं उन्हिएँ बड़े प्यार से सहला रहा था| इधर भौजी के शरीर ने भी प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी थी| उन्होंने स्वयं अपने ब्लाउज खोल दिए ताकि मैं आसानी से उनके स्तनों का मंथन कर सकूँ| ब्लाउज सामने की और से बिलकुल खुला था पर उनकी पीठ का हिस्सा मेरी नंगी छाती को भौजी की पीठ से मिलने नहीं दे रहा था इसलिए मैंने भौजी के स्तनों को एक पल के लिए छोड़ा और स्वयं उनके ब्लाउज को उनके शरीर से जुदा कर दिया| अब मैं पीछे खड़ा उनके गले पे किश कर रहा था और अपने दोनों हाथों से उनके स्तनों के साथ खेल रहा था| भौजी का हाथ अपने आप मेरे सर पे आज्ञा और वो मेरे बालों में अपनी उँगलियाँ चलाने लगीं और मुझे प्रोत्साहन देने लगीं|मैंने अपना एक हाथ उनकी साडी के अंदर डाला और भौजी की योनि पे अपनी ऊँगली से स्पर्श किया| भौजी समझ गईं की मैं चाहता हूँ की वे अपनी साडी उतार दें| इसलिए उन्होंने अपने साडी जल्दी-जल्दी में खींचना शुरू कर दी| और देखते ही देखते उनकी साडी जमीन पे पड़ी थी| मैंने अपने दोनों हाथों से भौजी के पेटीकोट का नाद खोला और वो सरक के नीचे गिर गया| भौजी मेरी ओर पलटी ओर मुझे एक बार फिर Kiss करना चाहा| पर मैं फिर से अपनी गर्दन को उनके होठों की पहुँच से दूर रखने में सफल रहा| 

भौजी: (मुझसे विनती करते हुए) प्लीज...प्लीज ... एक Kiss दे दो|

पर पता नहीं क्यों उन्हें तड़पाने में मुझे बहुत मजा आरहा था|

मैं: दे देता .... पर एक दिन Late आने की सजा तो मिलनी चाहिए ना?

भौजी: आपकी ये सजा मेरी जान ले लेगी| आप चाहे मुझे खाना मत दो..पानी मत दो... पर आपकी ये kiss ना देने की बात....हाय!!!

इससे पहले की भौजी तीसरी बारकोशिश करतीं, मैं स्वयं नीचे बैठ गया और उनकी नंगी योनि कपाटों पर अपने होंठ रख दिए| भौजी ने एक दम से मेरा सर पकड़ लिया और बालों में अपनी उँगलियाँ फिराने लगी| मैंने भी उनकी योनि में अपनी जीभ प्रवेश करा दी और उनकी योनि से रास की एक एक बूँद को अपनी जीभ से खाने लगा| भौजी के मुंह से "सी..सी...सी....सी..." की आवाजें निकल रहीं थी| मैंने अपना मुंह पूरा खोला...जितना खोल सकता था और उनकी योनि को अंदर भर लिया| इसी दौरान मैंने अपनी जीभ उनकी योनि के अंदर-बहार करने लगा| भौजी की हालत ख़राब होने लगी| उन्होंने खड़े-खड़े ही अपनी एक टांग उठा के मेरे बाएं कंधे पे रख दी| अब तो उनकी योनि पूरे तरीके से मेरे मुंह में आ पा रही थी| पांच मिनट.....बस इतना ही टिक पाईं वो और उन्होंने अपना झरना बहाना शुरू कर दिया| ऐसा झरना जिसकी एक-एक बूँद मेरे मुंह में समां गई|भौजी स्खलित होने के बाद एक पल के लिए लड़खड़ा गईं, मैंने उन्हें सहारा दे के संभाला|

भौजी: उम्म्म्म.... मुझे जरा एक पल के लिए बैठने दो|

मैं: क्यों क्या हुआ? तबियत तो ठीक है ना?

भौजी: हाँ....बस चक्कर सा लगा| वो आज बहुत दिनों बाद इतना बड़ा Orgasm हुआ की... चक्कर सा आ गया|

मैं: आपने मेरी जान ही निकाल दी थी| चलो आप लेट जाओ और थोड़ा आराम करो तब तक मैं जल्दी से नहा लेता हूँ|

भौजी कुछ नहीं बोलीं...और ना ही लेटीं| मैंने जैसे ही पानी का लोटा सर पे डाला तो मेरी कंप-कंपी छूट गई| मेरी पीठ भौजी की ओर थी ओर मैंने साबुन लगा रहा था| तभी भौजी के हाथ मुझे मेरी पीठ पे महसूस हुए| वो पीछे से आके मुझसे चिपक के खड़ी हो गईं| उनके स्तन मेरी पीठ में धंसे हुए थे| फिर उन्होंने ऊपर-नीचे होना शुरू कर दिया जैसे वो अपने स्तनों से मेरी पीठ पे साबुन मल रहीं हों|मैं: आप आराम कर लो|

भौजी: हाय...कितनी चिंता है आप को मेरी! पर इतना सेक्सी सीन का फायदा उठाने का मुका कैसे छोड़ दूँ|

ये कहते हुए उन्होंने मुझे अपनी तरफ घुमाया और नीचे बैठ के मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया| लंड सिकुड़ चूका था, पर जैसे ही भौजी के जीभ ने उसे छुआ वो एकदम से खड़ा हो गया| जैसे कोई inflatable raft तैयार हो जाती है! भौजी ने उसे अपने दोनों होठों से पकड़ा और जीभ से चाटने लगीं| मैंने उन्हें कन्धों से पकड़ा और खड़ा किया| फिर उन्हें उल्टा घुमाया और खड़े-खड़े ही लंड को पकड़ के उनकी योनि के भीतर प्रवेश करा दिया| फिर उनकी दायीं टांग को पकड़ के उठा दिया और पीछे से धक्के लगाना शुरू कर दिया|करीब दस मिनट की धकम-पेली के बाद मैं उनके भीतर ही झड़ गया| मेरे झड़ने के तुरंत बाद ही भौजी भी दुबारा स्खलित हो गईं| 
Reply
02-20-2019, 06:13 PM,
#63
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
58

भौजी: (हाँफते हुए) हाय... थक गई!

मैं: चलो मैं आपको नहला देता हूँ|

मैंने भौजी को स्नानघर में पटरे पे बिठाया और उनके हर एक अंग पर अच्छे से साबुन लगाया| साबुन लगते समय मैं जान-बुझ के नके अंगों को कभी सहला देता तो कभी प्यार से नोच देता| मेरा िासा करने पे भौजी मुस्कुरा देतीं या हलके से सिसिया देती|होम दोनों के नहाने के बाद मैंने उनके शरीर से पानी पोछा और तब भौजी ने चौथी बार कोशिश की मुझे Kiss करने की पर इस बार मैंने हम दोनों के होठों के बीच तौलिया रख दिया|

भौजी: अब मान भी जाओ न..... प्लीज!!!

मैं: ना!!! अभी तो आधा दिन बाकी है|

मैं इतना कहके, फटाफट कपडे पहने और मुस्कुराता हुआ बहार आ गया| कुछ समय बाद भौजी भी कपडे पहन के बहार आईं|

भौजी बार-बार मुंह बना के कह रहीं थी की एक Kiss ....बस एक Kiss ... पर मैं उन्हें तड़पाये जा रहा था| वो भोजन बनाते समय भी बार-बार अपनी जीभ निकाल के चिढ़ाती तो कभी अपने होठों को काटते हुए "प्लीज" कहतीं| पर मैं हर बार ना में सर हिला देता| कुछ देर बाद नेहा स्कूल से आ गई, माँ और अम्मा भी घर आ गए, बड़के दादा और पिताजी भी खेत से घर आ गए| सब ने एक साथ खाना खाया और भोजन के पश्चात माँ और बड़की अम्मा तो छप्पर के नीचे लेटीं बातें कर रहीं थीं| वरुण और रसिका भाभी एक चारपाई पे पसरे हुए थे और मैं, नेहा और भौजी भौजी के घर के आँगन में दो चारपाइयों पे लेटे थे| एक चारपाई पे मैं और नेहा और दूसरी पे भौजी|

भौजी: नेहा देख ना...तेरे पापा मुझे Kissi नहीं देते!

मैं: Kissi तो आपको नहीं मिलेगी .... पर हाँ नेहा का जर्रूर मिलेगी| (और मैंने नेहा के गालों को चुम लिया)
बेटा आप जाके मम्मी को kiss करो और उन तक मेरी किश पहुँच जाएगी|

नेहा उठी और जाके भौजी के गाल पे kiss करके वापस आ गई और फिर मेरे पास लेट गई|

भौजी: अरे बेटा kissi तो हवा में उड़ गई| पापा से कहो की मुझे डायरेक्ट kiss करें|

मैं: ना... बेटे आज सुबह जब मैंने आप्पकी मम्मी से कहा की Good Morning Kiss दो तो उन्होंने मना कर दिया| अब आप भी तो रोज सुबह मुझे Godd Morning Kiss देते हो ना?

नेहा ने हाँ में सर हिलाया|

भौजी: Sorry बाबा! आजके बाद कभी मना नहीं करुँगी.... अब तो दे दो?

मैं: ना

भौजी: अच्छा नेहा अगर आप मुझे पापा से kissi दिलाओगे तो मैं आपको ये चिप्स का पैकेट दूंगी? (ये कहते हुए उन्होंने अपने तकिये के नीचे से एक चिप्स का पैकेट निकला|)

मैं: ओह तो अब आप मेरी बेटी को रिश्वत दोगे?

नेहा उठ के भौजी की तरफ जाने लगी तो मैंने नेहा का हाथ पलाद के रोक और उसके कान में खुसफुसाया; "बेटा ये लो दस रुपये और चुप-चाप चिप्स का पैकेट खरीद लाओ|" नेहा ने चुपके से पैसे अपने हाथ में दबाये और बाहर भाग गई| किस्मत से मेरी पेंट में दस का नोट था जो काम आगया|

भौजी: नेहा कहाँ गई?

मैं: चिप्स लेने !!!

भौजी: हैं??? (भौजी ने बड़े ताव से ये बोला ) ठीक है बहुत हो गया अब! सुबह से कह रहीं हूँ.... सीढ़ी ऊँगली से घी निकालना चाहा नहीं निकला...ऊँगली टेढ़ी की पर फिर भी नहीं ....अब तो घी का डिब्बा ही उल्टा करना होगा!!!

मैं: क्या मतलब?

भौजी: वो अभी बताती हूँ| 

मैं पीठ के बल लेटा हुआ था, भौजी एकदम से उठीं और मेरी चारपाई के नजदीक आके खडी हो गईं| वो एक दम से मुझपर कूद पड़ीं और जैसे मल युद्ध करते समय दो पहलवान हाथों को लॉक करते हैं, ठीक उसी तरह भौजी ने मेरे और अपने हाथों को लॉक किया| अब वो मेरे ऊपर बैठीं हुई थीं;

मैं: ही..ही...ही... वाह रे मेरी जंगली बिल्ली!

भौजी: मिऊ....

भौजी ने पूरी कोशिश की मुझे kiss करने की पर मैं हर बार मुंह फिरा लेता| उनका हर एक शॉट टारगेट मिस कर रहा था! अब बारी मेरी थी, मैंने अपना दाहिना हाथ छुड़ाया,और अचानक से करवट ली| हमला अचानक था इसलिए भौजी अब सीधा मेरे नीचे थीं| अब मैं ऊपर था और भौजी मेरे नीचे.... बीस सेकंड तक मैं भौजी की आँखों में देखता रहा| मुझे उनकी आँखों में ललक दिख रही थी| उनके होंठ थर-थारा रहे थे| एक बार को तो मन किया की उनके होंठों को चूम लूँ पर नहीं....अभी थोड़ा तड़पना बाकी था| कहते हैं ना ...बिरहा के बाद मिलने का आनंद ही कुछ और होता है!!! हम ऐसे ही एक दूसरे की आँखों में देखते रहे तभी वहाँ नेहा आ गई| मैं कूद के उनके ऊपर से हैट गया और भौजी की चारपाई पे बैठ हँसने लगा|

खेर नेहा जो चिप्स लाइ थी वो हम ने मिल के खाया और मैंने जानबूझ के बात बदल दी| शाम हुई... सब ने चाय पी... फिर रात हुई...भोजन खाया और सोने की तैयारी करने लगे|

पिताजी: अरे भई कभी हमारे पास भी सोया करो|

मैं: अब पिताजी घर में तीन ही तो "मर्द" हैं| तीनों यहाँ सो गए तो वहाँ बाकियों की रक्षा कौन करेगा?

मेरी बात सुन के बड़के दादा और पिताजी दोनों ठहाका मार के हँसने लगे| मैं जानबूझ के पिताजी और बड़के दादा के पास बैठा रहा और यहाँ-वहाँ की बातें करता रहा, कुछ न कुछ सवाल पूछता रहा| इसके पीछे मेरा मकसद ये था की ताकि भौजी मेरे सोने से पहले सो जाएँ वरना वो मेरे पहले सोने का फायदा उठाने से बाज़ नहीं आएँगी| और हुआ वही जो मैं चाहता था! घडी में रात के दस बजे थे| जब मैं बड़े घर के अंदर पहुँचा तो सब सो चुके थे| भौजी की चारपाई सब से पहले थी...उसके बगल में मेरी चारपाई और मेरे बगल में माँ लेटी थीं| मैं भौजी के सिरहाने रुका और अपने घुटनों पे बैठा| भौजी बिलकुल सीढ़ी लेटीं थी और मैंने झुक के उनके होंठों को चूम लिया| मैं उनके नीचले होंठ को मुंह में भर के चूस रहा था और भौजी भी अब तक समझ चुकीं थी की जिस kiss के लिए वो इतना व्याकुल थीं वो आखिर उन्हें मिल ही गई|

दो मिनट के "रसपान" के बाद हम अलग हुए और मैं अपनी चारपाई पे चुप-चाप लेट गया| कुछदेर बाद एक हाथ मेरी छाती पे था| ये किसी और का हाथ नहीं बल्कि माँ का हाथ था| एक पल के लिए तो मेरी धड़कन ही रूक गई थी| फिर मैंने थोड़ा गौर से देखा तो माँ और मेरी चारपािर पास-पास थी...या ये कहें की सटी हुई थीं| माँ गहरी नींद में थी और मैं बिना कुछ बोले सो गया| सुबह पाँच बजे Good Morning kiss के साथ भौजी ने मुझे जगाया|

भौजी: How’d you like my Good Morning Kiss?

मैं: Awesome !!!

पर आज सुबह के लिए मेरे पास एक जबरदस्त प्लान था| ऐसा प्लान जो मेरे दिमाग में रात भर चल रहा था|

कुछ दिन पहले बिस्तर लगाते समय भौजी ने कहा था की काश एक रात मैं और वो एक साथ बिता सकते| उस समय मैंने बात को टाल दिया था पर रात भर वो बात दिमाग में गूँजती रही| अब मेरा प्लान पूरी तरह से तैयार था| सुबह तैयार हो के मैं भौजी को ढूंढते हुए उनके घर पहुँच गया| भौजी उस वक़्त साडी पहन रही थी| उनके दांतों तले साडी का पल्लू दबा हुआ था...और वो बड़ी सेक्सी लग रहीं थी|

मैं: मुझे एक छोटा सा काम था आपसे?

भौजी: हाँ बोलिए....

मैं: आप बड़े सेक्सी लग रहे हो| ख़ास कर आपकी नाभि.....सीईईईईई ....मन कर रहा है Kiss कर लूँ?

भौजी: तो आप पूछ क्यों रहे हो?

मैं: नहीं....अभी नहीं..... खेर आपको मेरा एक छोटा सा काम करना होगा| आज जो भी बात में पिताजी के सामने आपसे पूछूँ आप बस उसमें हाँ में हाँ मिला देना?

भौजी: ठीक है...पर बात क्या है?

मैं: सरप्राइज है....अभी नहीं बता सकता|

भौजी: हाय...आप फिर से अपने सरप्राइज से तड़पाओगे?

मैं: हाँ... शायद आपको अच्छा भी लगे|

भौजी: आपका दिया हुआ हर सरप्राइज मुझे अच्छा लगता है| पर इस बार क्या चल रहा है आपे दिमाग में?

मैं: सब अभी बता दूँ?

ये कह के मैं बाहर भाग आया|आज पिताजी और बड़के दादा पास ही के गाँव में एक ठाकुर साहब के यहाँ गए थे| मैं उन्हें ढूंढते हुए वहाँ पहुँच गया|

ठाकुर साहब: अरे आओ बेटा! बैठो...अरे सुनती हो? जरा बेटे के लिए शरबत लाना|

पिताजी: बेटा ये अवधेश जी हैं|

मैं: पांयलागि ठाकुर साहब!

ठाकुर साहब: अरे भािशाब, बोली भाषा से तो आपका लड़काबिलकुल शहरी नहीं लगता? कोई घमंड नहीं.... वाह! अच्छे संस्कार डाले हैं आपने|

बड़के दादा: बहुत आज्ञाकारी है हमारा मानु| पर हाँ एक बात है....अन्याय बर्दाश्त नहीं करता|

ठाकुर साहब: वाह भई वाह! सोने पे सुहागा!!! लो शरबत पियो|

वहाँ सब बातों में व्यस्त थे .... और मैं इधर मारा जा रहा था अपनी बात कहने को| अब अगर में बीच में उन्हें टोकता तो सब को बुरा लगता| और वैसे भी अभी-अभी तारीफ हुई थी मेरी...इतनी जल्दी इज्जत का भाजी-पाला करना ठीक नहीं होता| इसलिए मैं चुप-चाप बैठा रहा और बातें सुनता रहा| कुछ ही देर में वहाँ ठाकुर साहब की बेटी आ गई| उसका नाम सुनीता था...वो आई और सब को प्रणाम किया और फिर ठाकुर साहब की बगल में बैठ गई|

ठाकुर साहब: अरे भाईसाहब ...अगर आपको बुरा ना लगे तो बच्चे जरा आस-पास टहल आएं?

पिताजी: जी इसमें बुरा मैंने वाली क्या बात है| जाओ बेटा

मेरी आखें बड़ी हो गईं...की आखिर ये हो क्या रहा है? कहीं पिताजी यहाँ मेरा रसिहत पक्का तो करने नहीं आये? पर अब अगर अपनी बात मनवानी थी तो जो पिताजी कहेंगे वो करना तो पड़ेगा ही| इसलिए मैं सुनीता के साथ उसके कमरे की ओर चल पड़ा|

सुनीता: आपका नाम क्या है?

मैं: मानु...ओर आपका?

सुनीता: सुनीता

मैं: कौन सी क्लास में पढ़ती हैं आप?

सुनीता: जी ग्यारहवीं| और आप?

मैं: बारहवीं| सब्जेक्ट्स क्या हैं आपके.....मेरा मतलब विषय?

सुनीता: जी मैं समझ गई...कॉमर्स|

मैं: (मन में सोचते हुए: इसे अंग्रेजी आती है) cool

सुनीता: और आपके?

मैं: कॉमर्स... तो कौन सा सब्जेक्ट बोरिंग लगता है आपको? (मैंने उसकी अकाउंट की बुक उठाते हुए कहा|)

सुनीता: जो आपके हाथ में है|

मैं: एकाउंट्स? This is the easiest subject.

सुनीता: That's because you're good in it.

मैं: आपको बस Debit - Credit की चीजें पता होनी चाहिए| इसका बहुत ही आसान तरीका है, All you’ve to do is remember the golden rules of accounting:
1. Debit what Comes in and Credit what goes out!
2. Debit the receiver and credit the giver!
3. Debit all Expenses and Losses and Credit all Incomes and Gains!

सुनीता: Easy for you to say!

अब चूँकि हम थोड़ा खुल चुके थे तो समय था अपने मन में उठ रहे सवाल का जवाब जानने का|

मैं: आपके पिताजी ने मुझे और आपको यहाँ अकेला भेज दिया....कहीं यहाँ शादी की बात तो नहीं चल रही?

सुनीता: पता नहीं.... पर मैं अभी शादी नहीं करना चाहती|

मैं: Same Here !!!

हम वहीँ खड़े स्कूल और सब्जेक्ट्स पे बात कर रहे थे...तभी वहाँ सुनीता की माँ हमारे "दूध" ले आईं| हम बिलकुल दूर-दूर खड़े थे .... और बातें चल रहीं थी| बातों-बातों में पता चला की वो काफी हद्द तक मेरे टाइप की लड़की है... मेरा मतलब बातें काम करती है और इन बातों के दौरान उसने एक भी बार सेक्स, गर्लफ्रेंड, बॉयफ्रेंड आदि जैसे टॉपिक नहीं छेड़े| हमारी बातें बस Hobbies तक सीमित थीं| पर दिल में उस लड़की के लिए कोई जज्बात नहीं थे और ना ही मन कुछ कह रहा था| दिखने में लड़की बहुत simple थी...कोई दिखावा नहीं| बातों-बातों में पता चला की उसे गाना गाना (singing) अच्छा लगता है| थोड़ी देर में हम बहार अ गए और वापस अपनी-अपनी जगह बैठ गए| करीब एक घंटे बाद पिताजी ने विदा ली, हालाँकि ठाकुर साहब बहुत जोर दे रहे थे की हम भोजन कर के जाएँ पर पिताजी ने क्षमा माँगते हुए "अगली बार" का वादा कर दिया| ठाकुर साहब बातों से तो मुझे नरम दिखाई दिए पर इसके आगे का मैं उनके बारे में कुछ नहीं जान सका, और वैसे भी मुझे क्या करना था इस पचड़े में पड़ के| 
Reply
02-20-2019, 06:13 PM,
#64
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
59

हम घर पहुंचे और भोजन के बाद पिताजी और बड़के दादा एक चारपाई पे बैठे बातें कर रहे थे| मैं भी वहीँ बैठ गया...अब पिताजी समझ तो चुके थे की कोई बात अवश्य है पर मेरे कहने का इन्तेजार कर रहे थे| करीब पाँच मिनट बड़के दादा को कोई बुलाने आया और वो चले गए| अब मैं और पिताजी अकेले बैठे थे, यही सही समय था बात करने का|

मैं: पिताजी....आपकी मदद चाहिए थी?

पिताजी: हाँ बोल?

मैं: वो पिताजी .... मैंने किसी को वादा कर दिया है|

पिताजी: कैसा वादा? और किसको कर दिया तूने वादा?

मैं: जी .... मैंने भौजी से वादा किया की मैं उन्हिएँ और नेहा को अयोध्या घुमाने ले जाऊँगा| अकेले नहीं....आपके और माँ के साथ|

पिताजी: अच्छा तो?

मैं: अब अकेले तो मैं जा नहीं सकता ..... तो आप ही प्लान बनाइये ना? प्लीज ...प्लीज.... प्लीज!!!

पिताजी: (हँसते हुए) ठीक है... पर पहले अपनी भौजी को बुला, उनसे पूछूं तो की तू सच बोल रहा है या जूठ?

मैंने भौजी को वहीँ बैठे-बैठे इशारे से बुलाया| भौजी डेढ़ हाथ का घुंगट काढ़े आके मेरे पास खड़ी हो गईं?

पिताजी: बहु....मैंने सुना है की लाडसाहब ने तुम्हें वादा किया है की वो तुम दोनों माँ-बेटी ओ अयोध्या घुमाने ले जायेंगे? ये सच है?

भौजी: जी....पिताजी|

पिताजी: (थोड़ा हैरान होते हुए) ठीक है... हम कल जायेंगे....सुबह सात बजे तैयार रहना|

बस भौजी चुप-चाप चलीं गईं| पर जाते-जाते मुड़ के मेरी और देखते हुए भाओें को चढ़ाते हुए पूछ रहीं थी की ये क्या हो रहा है?

मैं: तो पिताजी...मैंने पता किया है की वहाँ घूमने के लिए बहुत सी जगहें हैं .... तो हमें एक रात stay करना होगा वहीँ|

पिताजी: ह्म्म्म्म्म ... आजकल बहुत कुछ पता करने लगा है तू?

मैं झेंप गया और वहाँ से चल दिया| अब सब बातें क्लियर थीं| हम रात वहाँ रुकेंगे...तीन कमरे बुक होंगे...एक में पिताजी और माँ....एक में मैं...और एक कमरे में भौजी और नेहा| रात को मेरा फुल चाँस भौजी के साथ रात गुजारने का| इस तरह भौजी की Wish भी पूरी हो जाएगी| हाँ एक बात थी ... की मुझे भौजी को इस रात के Stay के बारे में कुछ नहीं बताना|
पर मैं नहीं जानता था की किस्मत को कहानी में कुछ और ही ट्विस्ट लाना है|

मैं भौजी के पास जब पहुंचा तो उन्होंने पूछा;

भौजी: सुनिए....आप जरा बताने का कष्ट करेंगे की अभी-अभी जो पिताजी ने कहा वो क्या था? आपने कब मुझसे वादा किया?

मैं: यार ... मैं आपको और नेहा को घुमाना चाहता था.... तो मैंने थोडा से जूठ बोला| That's it!!

भौजी: ओह्ह्ह्ह! तो ये सरप्राइज था..... !!! पर आपने ठीक नहीं किया... खुद भी माँ-पिताजी से जूठ बोला और मुझसे भी जूठ बुलवाया|

मैं: यार कहते हैं ना, everything is fair in Love and War!!!

रात में मेरा और भौजी दोनों का बहुत मन हो रहा था की हम एक साथ सोएं या प्यार करें पर कल सुबह मंदिर जाना था तो किसी तरह अपने मन को समझा बुझा के मना लिया|सबसे ज्यादा खुश तो नेहा थी| वो मुझसे चिपटी हुई थी और बहुत लाड कर रही थी| बार बार कहती... "पापा... वहां हम ये करेंगे...वो करेंगे.... ये खाएंंगे ...वहां जायेंगे" सबसे ज्यादा उतसाहित तो वही थी|अगली सुबह जल्दी-जल्दी तैयार हुए....और हाँ Good Morning Kiss भी मिली! निकलने से पहले माँ ने मुझे हजार रूपए दिए संभालने को| दरअसल मेरी माँ कुछ ज्यादा ही सोचती हैं...जब भी हम किसी भीड़ भाड़ वाली जगह जाते हैं तो वो आधे पैसे खुद रखतीं हैं| आधे पिताजी को देती हैं और थोड़ा बहुत मुझे भी देती हैं| ताकि अगर कभी जेब कटे तो एक की कटे...!!! खेर सवा सात तक हम घर से निकल लिए| माँ-पिताजी आगे-आगे थे और मैं और भौजी पीछे-पीछे थे| नेहा मेरी गोद में थी और सब से ज्यादा खुश तो वही थी| हम मैन रोड पहुंचे और वहां से जीप की ...जिसने हमें बाजार छोड़ा| वहाँ से दूसरी जीप की जिसने हमें अयोध्या छोड़ा| कुल मिला के हमें दो घंटे का असमय लगा अयोध्या पहुँचने में| वहाँ सब से पहले हम मंदिरों में घूमे, मैं नेहा को वहाँ की कथाओ के बारे में बताने लगा और घूमते-घूमते भोजन का समय हो गया| वहाँ एक ही ढंग का रेस्टुरेंट था जहाँ हम बैठ गए| खाना आर्डर मैंने किया ... टेबल पर हम इस प्रकार बैठे थे; एक तरफ माँ और पिताजी और दूसरी तरफ मैं, नेहा और भौजी| खाना आया और मैं नेहा को खिलाने लगा... भौजी ने इशारे से मुझे कहा की वो मुझे खाना खिला देंगी पर मैंने उन्हें घूर के देखा और जताया की पिताजी और माँ सामने ही बैठे हैं| भोजन अभी चल ही रहा था की मैंने होटल की बात छेड़ दी;

मैं: पिताजी इस रेस्टुरेंट के सामने ही होटल है...चल के वहाँ पता करें कमरों का?

पिताजी: नहीं बेटा हम Stay नहीं करेंगे|

मैं: (पिताजी का जवाब सुन मैं अवाक रह गया|) पर क्यों?....अभी तो बहुत कुछ देखना बाकी है?

पिताजी: फिर कभी आ जायेंगे....

मेरी हालत ऐसी थी मानो जैसे किसी ने जलते तवे पर ठंडा पानी डाल दिया हो! सारा प्लान फ्लॉप! मन में गुस्सा बहुत आया और मन कर रहा था की अभी भौजी को ले के भाग जाऊँ! पर मजबूर था!! इधर मेरे चेहरे पर उड़ रहीं हवाइयां भौजी समझ चुकीं थीं| पर किस्मत को कुछ और मंजूर था|

भोजन की उपरांत हम घाट पे बैठे थे| अभी घडी में दो बजे थे... पिताजी ने कहा की अब चलना चाहिए| हम सीढ़ियां चढ़ की ऊपर आये और टैक्सी स्टैंड जो वहाँ से करीब बीस मिनट की दूरी पर था उस दिशा में चल दिए| रास्ते में पिताजी को एक और मंदिर दिखा और हम वहीँ चल दिए| उसी दिन वाराणसी में "हनुमान गढ़ी" नमक मंडी है जहाँ आतंकवादियों ने बम रखा था| अयोध्या से वाराणसी की दूरी यही कोई चार घंटे के आस-पास की होगी, रेल से तो ये और भी काम है| वहाँ जब ये घटना घाटी तो उसका सेंक अयोध्या तक आया और अचानक से उसी समय वहाँ चौकसी बढ़ा दी गई| भगदड़ के हालत बनने लगी...खबर फेल गई की वाराणसी में बम धमाका हुआ है और इसके चलते अनेक श्रद्धालु भड़क गए ...पुलिस ने सबकी चेकिंग शुरू कर दी| भीड़ को रोक पाना मुश्किल सा हो रहा था| हम जहाँ खड़े थे वहाँ भी मंदिर हैं तथा किसी बेवकूफ ने बम की अफवाह फैला दी| भीड़ बेकाबू हो गई और भगदड़ मच गई|

माँ-पिताजी आगे थे और पीछे से आये भीड़ के सैलाब ने हमें अलग कर दिया|फिर भी मैं दूरी से उन्हें देख पा रहा था... और सागर चाहता तो हम वापस मिल सकते थे| पर नाजाने मुझ पे क्या भूत सवार हुआ...मैंने भौजी का हाथ पकड़ा...और नेहा तो पहले से ही मेरी गोद में थी और सहमी हुई थी ...और मैं धीरे-धीरे पीछे कदम बढ़ाने लगा| भौजी मेरा मुँह टाक रहीं थी की आखिर मैं कर क्या रहा हूँ पर मैंने कुछ नहीं कहा और पीछे हत्ता रहा| पिताजी को लगा की भीड़ के प्रवाह से हम अलग हो रहे हैं| जब पिताजी और हमारे में फासला बढ़ गया तो मैं भौजी और नेहा को लेके कम भीड़ वाली गली में घुस गया|

भौजी: (चिंतित स्वर में) माँ-पिताजी तो आगे रह गए?

मैं: हाँ....

मैं इधर-उधर नजर दौड़ाने लगा... और आखिर में मुझे करीब सौ कदम की दूरी पर एक होटल का बोर्ड दिखाई दिया| मैं भौजी और नेहा को वहीँ ले गया, दरवाजा बंद था अंदर से और मैं जोर-जोर से दरवाजा पीटने लगा| जब दरवाजा नहीं खुला तो मैंने चीख के कहा; "प्लीज दरवाजा खोलो...मेरे साथ मेरे बीवी और बच्ची है|" तब जाके एक बुजुर्ग से अंकल ने दरवाजा खोला|

मैं: प्लीज अंकल मदद कीजिये|

बुजुर्ग अंकल: जल्दी अंदर आओ|

हम जल्दी अंदर घुस गए और अंकल ने दरवाजा बंद कर दिया|

मैं: Thank You अंकल| हम यहाँ घूमने आये थे और अचानक भगदड़ में अपने माँ-पिताजी से अलग हो गए| आपके पास फ़ोन है?

बुजुर्ग अंकल: हाँ... ये लो|

मैंने तुरंत पिताजी का मोबाइल नंबर मिलाया|

मैं: पिताजी...मैं मानु बोल रहा हूँ|

पिताजी: (चिंतित होते हुए) कहाँ हो बेटा तुम? ठीक तो हो ना?

मैं: हमने यहाँ एक होटल में शरण ली है| यहाँ भीड़ बेकाबू हो गई है.. आप लोग ठीक तो हैं ना?

पिताजी: हाँ बेटा...भीड़ के धक्के-मुक्के में हम टैक्सी स्टैंड तक पहुँच गए और यहाँ पोलिसेवाले किसी को रुकने नहीं दे रहे हैं| उन्होंने हमें जीप में बिठा के भेज दिया है| तुम भी जल्दी से वहाँ से निकलो|

मैं: पिताजी .... पूरी कोशिश करता हूँ पर मुझे यहाँ हालत ठीक नहीं लग रहे| भगवान न करे अगर दंगे वाले हालत हो गए तो ....

पिताजी: नहीं...नहीं...नहीं.. तुम रुको और जैसे ही हालत सुधरें वहाँ से निकलो|

मैं: जी|

पिताजी: निकलने से पहले फोन करना|

मैं: जी जर्रूर|

मैंने फोन रख दिया और अंकल जी को आवाज दी|

मैं: आपका बहुत-बहुत धन्यवाद! आपने ऐसे समय पर हमारी मदद की|

बुजुर्ग अंकल: अरे बेटा मुसीबत में मदद करना इंसानियत का धर्म है|

मैं: अच्छा अंकल जी .... यहाँ कमरा मिलेगा?

बुजुर्ग अंकल: हाँ ..हाँ जर्रूर| ये लो रजिस्टर और अपना नाम पता भर दो|

मैंने रजिस्टर में Mr. and Mrs. Manu XXXX (XXXX का मतलब मेरा surname है|) लिखा|

बुजुर्ग अंकल: और इस गुड़िया का नाम क्या है?

मैं: नेहा

बुजुर्ग अंकल मुस्कुरा दिए और मुझे कमरे की चाभी दी| होटल का किराया ५००/- था.. शुक्र है की मेरे पास माँ के दिए हुए १०००/- रूपए थे वरना आज हालत ख़राब हो जाती| कमरा सेकंड फ्लोर पे था और एक दम कोने में था| जब हम कमरे में घुसे तो कमरे में एक सोफ़ा था... AC था.... TV था.... और एक डबल बैड| नेहा तो TV देख के खुश थी.... मैंने उसे कार्टून लगा के दिया और वो सोफे पे आलथी-पालथी मार के बैठ गई और मजे से कार्टून देखने लगी| मैं उसकी बगल में बैठा, अपने घुटनों पे कोणी रख के अपना मुँह हथेलियों में छुपा के कुछ सोचने लगा| भौजी दरवाजा अबंद करके आईं और मेरी बगल में बैठ गईं| उन्होंने अपने दोनों हाथों की मेरे कन्धों पे रखा और मुझे अपनी और खींचा| और मैं उनकी गोद में सर रख के एक पल के लेट गया| दिल को थोड़ा सकून मिला|

फिर मैं उठा और उनसे पूछा;

मैं: आप चाय लोगे?

भौजी: पहले आप बताओ की क्या हुआ आपको?

मैं: कुछ नहीं...मैं अभी चाय बोलके आता हूँ|

भौजी: नहीं चाय रहने दो...रात को खाना खाएंगे|

मैं: आप बैठो मैं अभी आया|

मैं नीचे भाग आया और दो कूप चाय और एक गिलास दूध बोल आया| वापस आके मैंने दरवाजा बंद किया और पलंग पे लेट गया|

भौजी: बात क्या है? आप क्या छुपा रहे हो मुझ से| (और भौजी उठ के मेरे पास पलंग पे बैठ गई)

मैं: दरअसल आपको घुमाने का मेरा प्लान नहीं था| मेरा प्लान था की एक रात हम साथ गुजारें ....जैसा आप चाहती थी| आपने कुछ दिन पहले कहा था ना...?

भौजी: ओह... तो ये बात है|

मैं: मैंने सोचा की घूमने के बहाने पिताजी तीन कमरे बुक करेंगे, एक में माँ-पिताजी ..एक में मैं और एक में आप और नेहा होंगे| रात को मैं आपके कमरे में आ जाता और एक रात हम साथ गुजारते| पर पिताजी ने मेरे सारे प्लान पे पानी फेर दिया| जब भगदड़ मची तो मैंने सोचा की हम अलग हो जायेंगे और हम रात एक साथ बिताएंगे| पर हालात और भी ख़राब हो चुके हैं...अगर दंगे भड़क उठे तो मैं कैसे आपको और नेहा को सम्भालूंगा... और अगर आप में से किसी को कुछ हो गया तो मैं भी जिन्दा नहीं रहूँगा| (ये कहते हुए मेरी आँखें भर आईं|)

भौजी: कुछ नहीं होगा हमें, आपके होते हुए कुछ नहीं होगा| मुझे आप पे पूरा भरोसा है....आप सब संभाल लेंगे| देख लेना हम सही सलामत घर पहुँच जायेंगे| अब आप अपना मूड ठीक करो!

इतना में दरवाजे पे दस्तक हुई|

मैं: चाय आई होगी|

भौजी: मैंने मना किया था न....

भौजी ने दरवाजा खोल के चाय और दूध ले लिया और मैं भी उठ के उनके पीछे खड़ा हो गया और उस लड़के को दस रुपये टिप भी दे दिए|

भौजी: दूध? आप ना पैसे बर्बाद करने से बाज नहीं आओगे!

मैं: बर्बाद....वो मेरी भी बेटी है|

हमने बैठ के चाय पी और नेहा को दूध पिलाया| नेहा को तो टॉम एंड जेरी देखने में बड़ा मजा आ अहा था और वो उन्हें देख हँस रही थी|

मैं: आपको इतना भरोसा है मुझ पे?

भौजी: जो इंसान मेरी एक खवाइश के लिए सब से लड़ पड़े उसपे भरोसा नहीं होगा तो किस पे होगा|

हमने चाय पी और पलंग पे सहारा ले के बैठे थे| भौजी बिलकुल मेरे साथ चिपक के बैठीं थीं और उनका सर मेरे कंधे पे था और वो भी टॉम एंड जेरी देखने लगीं| शायद उन्हें भी वो प्रोग्राम अच्छा लग रहा था| कुह देर में में आँख लग गई और जब मैं जाएगा तो मेरा सर उनकी गोद में था और वो बड़े प्यार से मेरे बालों को सहला रहीं थी| घडी सात बजा रही थी... मैं उठा और फ्रेश हो के आया और भौजी से पूछा;

मैं: खाना खाएं?

भौजी: अभी? आप बैठो मेरे पास| थोड़ा देर से खाते हैं|

मैं: As you wish!

अब भौजी की बारी थी उन्होंने मेरी गोद में सर रख लिया और TV देखने लगीं| मैं उनके बालों में उँगलियाँ फेरने लगा...मैं अपनी उँगलियों को चलते हुए उनके कान के पास ले आता और फिर एक उन्ग्लिस से उनके कान के पीछे के हिस्से को आहिस्ता-आहिस्ता सहलाता| भौजी को बड़ा अच्छा लग रहा था| फिर मैंने अपनी उँगलियों को उनके चेहरे की outline पे फिराने लगा|

भौजी: You’ve magical fingers! कहाँ सीखा ये सब?

मैं: बस आपको छूना अच्छा लगता है...और ये सब अपने आप होने लगता है!
आठ बजे तो नेहा मेरे पास आई और बोली;

नेहा: पापा...पापा... भूख लगी है!

मैं: ठीक है...बताओ आप क्या खाओगे?

भौजी: इससे क्या पूछ रहे हो आप...जो भी मिलता है बोल दो!

मैं: बेटा चलो मेरे साथ... हम खाना आर्डर कर के आते हैं|

भौजी: अरे इसे कहाँ ले जा रहे हो?

मैं: You’ve a problem with tha?

भौजी: No ... आपकी बेटी है... जहाँ चाहे ले जाओ| पर कुछ महंगा आर्डर मत करना!

भौजी जानती थी की खाने-पीने के मामले में मेरा हाथ खुला है और मैं पैसे खर्च करने से नहीं हिचकता| मैं नेहा को गोद में लिए रिसेप्शन पे गया और खाना आर्डर कर दिया| कुछ ससमय में खाना आया| खाना देख के भौजी को प्यार भरा गुस्सा आया|
Reply
02-20-2019, 06:13 PM,
#65
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
60

भौजी: Don’t yo tell me that your “little princess” ordered all this?

मैं: mmm… As a matter of fact she did!

भौजी गुस्से में मुंह बना के मुझे देखने लगती हैं|

मैं: Oh Come on Yaar…. It’s nothing! Just a Veg Biryani, Makhni Dal, Shahi Paneer and Rumali Rotis.

भौजी: आप ना..... (भौजी कहते-कहते रुक गईं और मुझसे रूठ गईं)

मैंने नेहा को गोद से उतार और बाथरूम में हाथ धोने भेज दिया| फिर मैं उनके पास गया और घुटनों पे बैठ के उनके चेहरे को ऊपर किया और होठों पे kiss किया| तब जाके उनका गुस्सा शांत हुआ|

भौजी: अब कितने पैसे बचे हैं आपके पास?

मैं: काफी हैं!!!

भौजी: एक-दो दिन रुकने के लिए काफी हैं?

मैं: (पूरा आत्मविश्वास दिखाते हुए कहा) हाँ!

जबकि ऐसा नहीं था| मेरे पास सिर्फ ३००/- बचे थे| ५००/- का किराया और ३००/- का खाना-पीना| कुछ मेरे पास पहले से भी थे! इतने में नेहा बहार आ गई और हम खाने के लिए सोफे पे बैठ गए|

मैं: मैं नीचे अंकल से पूछ रहा था की बहार हालात कैसे हैं? उन्होंने बताया की अभी कुछ शान्ति है पर इस समय कोई टैक्सी या जीप नहीं मिलेगी| साथ ही साथ मैंने पिताजी को फ़ोन भी कर दिया|

भौजी: क्या बात हुई पिताजी से?

मैं: उन्हें साड़ी बात बताई और वो कह रहे थे की तुम लोग रुके कहाँ हो? तो मैंने उन्हें ये बताया की हम धर्मशाला में ठहरे हैं| दो कमरे बुक हैं, एक मेरा और एक आपका और नेहा का|

भौजी: अच्छा किया जो आपने फोन करके बता दिया| अब कम से कम घर में कोई चिंता तो नहीं करेगा|

फिर खाना शुरू हुआ...मैं नेहा को खिला रहा था और भौजी मुझे| खान-खाते खाते नौ बज गए और थोड़ी देर बाद बैरा भी आ गया बर्तन लेने| मैंने उसे फिर से टिप दी और कुछ लाने को भी कहा, वो ख़ुशी-ख़ुशी चला गया| भौजी ने मुझे उससे खुसुर-फुसुर करते देख लिया था|

भौजी: क्या कह रहे थे आप उससे?

मैं: कुछ नहीं|

भौजी: जूठ.... बताओ अब क्या मंगाया है आपने?

मैं: कुछ नहीं बाबा!

आधे घंटे बाद वो बैरा तीन ग्लास गर्म दूध ले आया जो मैंने रिसीव किया और दरवाजा लॉक अकरके बैठ गया|

भौजी: आपको पता है ना मैं दूध नहीं पीती?

मैं: हाँ... पर फिर मैं आपको जैसे-तैसे पिला भी तो देता हूँ|

भौजी: ना.... आपने भी मुझे उस दिन एक Kiss के लिए बहुत तड़पाया था ना?

मैं: ठीक है... मैं भी नहीं पियूँगा|

भौजी: तो मंगाया क्यों?

मैं: ताकि हम दोनों पी सकें|

भौजी: अच्छा बाबा...आप जीते.... मैं हारी!

तब जाके उन्होंने वो दूध पिया|

दूध पीने के बाद मैंने नेहा को अपनी गोद में लिया और उसे सुलाने के लिए कहानी सुनाई| भौजी भी मेरे पास ही बैठी थीं और मेरे कंधे पी सर रख के कहानी सुनने लगीं| कहानी सुनते-सुनते नेहा सो गई, फिर मैंने उसे सोफे पी ठीक से लिटाया और एक चादर ओढ़ा दी क्योंकि AC ओन था| तबतक भौजी उठ के अपने कपडे उतार रहीं थी| अब हमारे पास कपडे तो थे नहीं बदलने को...क्योंकि वो बैग पिताजी के पास रह गया था|भौजी अपनी साडी उतार रहीं थी और मैं खड़ा उन्हें देख रहा था| तभी भौजी ने नजर उठा के मेरी ओर देखा और कहा;

भौजी: क्या देख रहे हो?

मैं: कुछ नहीं....

भौजी: लो आप ही उतार दो| (ऐसा कहते हुए उन्होंने साडी का एक कोना मेरी ओर बढ़ा दिया)

मैं: ना...आप ही उतारो|

भौजी ने साडी बड़ी अदा के साथ उतारी और उसे तहा के अलमारी में रख दिया| अब वो सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में थी| मुझे लगा की वो ऐसे ही सोयेंगी पर देखते ही देखते वो अपने ब्लाउज के बटन खोलने लगीं, और ब्लाउज भी उतार के साडी के साथ रख दिया| मेरे सामने भौजी ब्रा और पेटीकोट में थीं| बहुत ही कामुक दृश्य था और उस एक पल के लिए मैं साड़ी चिंताएं भूल गया|

भौजी: आप ऐसे ही सोने वाले हो?

मैं: नहीं....

मैंने भी अपनी टी-शर्ट उतारी और जीन्स उतार के पलंग पी रख दी| ये मेरी बहुत बुरी आदत है की मैं अपने कपडे जहाँ-तहँ फेक देता हूँ| भौजी ने वो कपडे उठाये और तहा ने लगीं| इसी बीच में बाथरूम चला गया| जब मैं बाथरूम से निकला तो कमरे में बस एक लाल रंग का जीरो वाट का बल्ब जल रहा था और भौजी बिस्तर पी मेरी ओर करवट लेके लेटीं थीं और उन्होंने चादर ओढ़ रखी थी|

मैं: ठण्ड लग रही है तो AC बंद कर दूँ?

भौजी: नहीं... कपडे कम पहने हैं ना इसलिए...चलने दो!

मैं कच्छे और बनियान पहने था... तो मैंने AC थोड़ा धीमे कर दिए और मैं भी चादर के अंदर घुस गया| एक चादर के अंदर मैं और भौजी वो भी बस अपने inner garments में! वाओ!
मैं भी भौजी की ओर करवट लेके लेट गया पर उन्हें जरा भी स्पर्श नहीं किया| मेरे हाथ अपनी जगह थे| भौजी ने अपना हाथ उठा के मेरी कमर पे रखा, और तब मैंने भी अपना हाथ उठा के उनकी कमर पे रखा| दोनों की धड़कनें तेज होने लगीं थी...!!! हम दोनों प्यासी नजरों से एक दूसरे को देख रहे थे और बस मन कर रहा था की टूट पड़ो! मैंने ही पहल की और अपने होठों को उनके करीब लाया ओर उनकी आँखों में देखते हुए उनकी सहमति माँगी| जिसे उन्होंने बड़े प्यार से अपनी नजरें झुका कर दे दिया| मैंने उनके होठों को अपने होठों से छुआ और धीरे से उनके नीचले होंठ को अपने मुंह में suck कर लिया और उसे चूसने लगा| भौजी ने अपना हाथ मेरी कमर से हटा के मेरे सर के बालों में घुसा दिया और उँगलियाँ फिराने लगीं| मैंने अपने मुंह को थोड़ा और खोला और उनके दोनों होठों को मुंह में भर कर चूसने लगा| अब भौजी ने भी सहयोग देना शुरू कर दिया|उनकी तरफ से मिल रहे सहयोग के चलते मैंने उनके होठों को छोड़ दिया और उन्होंने अब अपनी जीभ मेरे मुख में प्रवेश करा दी| मैंने भी अपनी जिह्वा को खुला छोड़ दिया और मेरी जीभ उनकी जीभ से खेलने लगी| भौजी ने अपना हाथ मेरे बालों से हटा के मेरी बनियान के अंदर डाल दिया और अब मेरा भी मन कर रहा था की मैं खुद को Unleash कर दूँ उन पर.........| पांच मिनट के Smooch के बाद मैं उनके ऊपर आ गया|

मैंने उनकी ब्रा में हाथ डाला और उनके स्तनों को दबाने लगा| भौजी ने हाथ घुमा के अपनी ब्रा के हूकों को खोल दिया और मैंने बड़े प्यार से उसे खींच के उनसे अलग कर दिया| भौजी के स्तन एकदम नंगे मेरे सामने थे और मैंने उन पे अपने दाँत गड़ा दिए| भौजी सिसिया उठीं;

मैं: प्लीज आवाज मत करो.... नेहा जग जाएगी!

भौजी: आपने मेरे तन बदन में आग लगा दी है| अब ये आवाजें कैसे रोकूँ? स्स्स्स्स्स्स ....अह्ह्हह्ह !!!

मैंने सोचा बीटा तुहे ही थोड़ा आराम से करना होगा वरना इनकी आवाज से एह जाग जर्रूर जाएगी| मैंने थोड़े धीरे से भौजी के स्तन को दांतों से दबाया और चूसने लगा| भौजी मेरे सर को अपने स्तनों पे दबा रहीं थीं और मैं बारी-बारी से उनके स्तनों का पान कर रहा था| भौजी की धड़कनें बहुत तेज हो चलीं थीं और उनकी सांसें भी तेज होने लगीं थीं| मैंने उनके स्तनों को छोड़ा और धीरे-धीरे उन्हें Kiss करते हुए नीचे बढ़ा और उनके पेटीकोट के ऊपर आकर रूक गे| पेटीकोट का नाड़ा मैंने अपने दातों से खोला और उसे उतार के नीचे फेंक दिया| अब मुझे भौजी की पेंटी दिखी... पहले तो मैंने उस उँगलियों से छू के देखा...वो गीली हो चुकी थी|

मैं: You’re already Wet!

भौजी: You made me….

उनके चेहरे को देख के साफ़ लग रह था की उनके अंदर किस तरह की आग भड़की हुई है| मैंने उनकी पेंटी भी उतार फेंकी और उनकी योनि पे टूट पड़ा| दोनों हाथों के अंगूठों की मदद से मैंने उनकी योनि के द्वारों को खोला और अपनी जीभ अंदर डाल दी| उनकी योनि अंदर से रस से भर इहइ थी और मैं बड़े प्यार से उस रास को चाट रहा था| जितना चाटता उतना ही और निकलता...जैसे अंतहीन रस का भण्डार था| जब वो भाव नहीं रुका तो मैंने अपनी जीभ से उनकी योनि के द्वारों को अपनी जीभ से बारी-बारी से चूसना और कुरेदना शुरू कर दिया| अब तो जैस वो रस बहार आने को आमादा था और बहार की ओर रिसने लगा| मैंने उसकी एक भी बूँद बर्बाद नहीं की और चाटता रहा| फिर भी भौजी की तड़प शांत नहीं हुई...मैंने अपनी जीभ को उनकी योनि में पुनः प्रवेश कराया और जैसे लंड अंदर-बहार करते हैं, उसी प्रकार जीभ को भी अंदर-बहार करने लगा| भौजी कसमसाने लगीं और उनका शरीर कमान की तरह तन गया| मतलब भौजी झड़ने वालीं थीं| मैंने ये चुसाई जारी रखी और आगे दो मिनटों में भौजी के मुंह से; "आन्न्न्ह्ह्ह !!! स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स" की आवाज निकली और वो झड़ गईं, उनका सारा रस मेरे मुंह में समां गया| जब वो शांत हुईं तब मैंने अपना मुंह उनकी योनि से हटाया| मेरे मुंह से उनकी योनि से नबिक्ले रस का एक तार लटक रहा था! भौजी ने गपक के उसे अपने मुंह में भर लिया और मुझे अपने ऊपर खींच लिया| मैंने उनके माथे पे Kiss किया ताकि अभी-अभी जिस तूफ़ान ने उनके अंदर खलबली मचाई थी वो शांत हो जाए| करीब पांच मिनट बाद वो सामान्य हुईं और मैंने उनके गालों को चूमा| 

मैं: Are you comfortable?

भौजी ने हाँ में सर हिलाया|उन्होंने उठने की कोशिश, शायद वो चाहतीं थी की वो मेरे ऊपर आएं, पर मैंने उन्हें हिलने नहीं दिया|

मैं: क्या हुआ?

भौजी: अब मेरी बारी... (मतलब अब वह मेरा चूसना चाहतीं थीं)

मैं: नहीं.... अभी नहीं!

मैं उनके ऊपर ही पड़ा रहा और उनहीं बेतहाशा kiss करने लगा| वो भी मेरी Kiss का जवाब Kiss से ही दे रहीं थीं| जब मैं रुकता तो वो मेरे गालों को अपने मुंह में भर के काट लेतीं... कभी चूसतीं ... मेरा लंड में आई अकड़न अब मेरा बुरा हाल कर रही थी| लंड का उभार अब उन्हें भी अपनी योनि पे चुभने लगा था| उन्होंने एक हाथ नीचे ले जाके मेरे लंड पे रख दिया और उसे दबाने लगीं| मेरे मुंह से "आह!" निकली और वो समझ गेन की लंड पे पड़ रहे कच्छे का दबाव मुझे दर्द दे रहा है|

भौजी: आपके "उस" पर दबाव ज्यादा है| अपने inner garments उतार क्यों नहीं देते?
(भौजी ने "उस" कहते समय अपनी आँखों से नीचे की तरफ इशारा किया था|)

मैं: मुझे लगा आप उतारोगे!

भौजी मुस्कुरा दीं और मेरी बनियान उतार के नीचे फेंक दी| फिर उन्होंने मेरा कच्छा उतारना चाहा परन्तु उतार नहीं पाईं मैंने स्वयं कच्छे को थोड़ा नीचे सरकाया और फिर उन्होंने उसे अपनी लात के जोर से नीचे धकेला और फिर मैंने थड़ा सहयोग दिया और वो भी उतर के नीचे जा गिरा| अब मैं फिर से उनकी आँखों में झाँकने लगा...शायद उनकी अनुमति चाहता था| भौजी क्या समझीं ये नहीं जानता पर उन्होंने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ के दिशा दी और मैंने धीरे से Push किया और लंड उनकी योनि में प्रवेश कर गया| भौजी ने अपनी गर्दन को पीछे की और खींचा जैसे की कोई सख्त गर्म चीज उनकी योनि में उतर गई हो और "स्स्सह्ह्ह अह्ह्हह्ह" के साथ अपने अंदर उठ रहे तूफ़ान को दर्शाया| इधर मेरा हाल भी कुछ ऐसा ही था... उनकी योनि अंदर से धधक रही भट्टी जैसी थी,,,जिसके ताप ने मेरे लंड में रक्त का प्रवाह बढ़ा दिया था| मैंने धीरे-धीरे लंड को अंदर-भीतर करना शुरू किया| एक बार में मैं केवल आधा ही अंदर जा रहा था और भौजी सिसिया रहीं थीं|

भौजी: आपने पूरा अंदर नहीं किया ना?

मैं: नहीं...

भौजी: क्यों?

मैं: आप और जोर से चिलओगे!

भौजी: नहीं चिलाउंगी... प्लीज !!!

अब उनकी बात मैं कैसे टाल सकता था| पर मैं उन्हें कष्ट नहीं देना चाहता था, इसलिए मैने धीरे-धीरे लंड को अंदर Push करना शुरू कर दिया| चूँकि योनि अंदर से गीली थी इसलिए लंड बिना किसी अड़चन के अंदर फिसल रह था परन्तु जैसे ही समूचा लंड अंदर गया भौजी की आँखें खुली की खुली रह गईं| उनके मुंह से "आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ह्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म.....स्स्स्सआःह्ह्ह्ह्ह" जैसी आवाज निकलने लगीं|

मैं: Am I hurting you?

भौजी ने ना में सर हिलाया| मुझे लगा शायद वो इसे इंजॉय कर रहीं हैं और उस आनंद के कारन उनके मुँह से सिस्कारियां छूट रहीं हैं, और अब तो मुझे भी मजा आने लगा था, तो मैंने मौजों में बहते हुए अपनी रफ़्तार बढ़ा दीं| अब तो भौजी की आवाज में MOANING की आवाज आने लगी| मन ने कहा की उन्हें बहुत ननद आ रहा है, तू ब्रेक मत लगा| इसलिए मैं बिना रुके धक्के मारता रहा| जैसे ही मैं अंदर डालता तो भौजी का शरीर कमान की तरह उठने लगता, और निकालते ही वो वापस अपनी मुद्रा में लेट जातीं| रफ़्तार बढ़ चुकी थी और मैं अब चरमोत्कर्ष पे पहुँचने वाला था| उधर भौजी तो झड़ चुकीं थीं और मेरी छाती पे हाथ रख के मुझे रोकना चाह रहीं थीं पर मैं फिर भी Push करने में लगा हुआ था| आखिर एक जोर दार बिस्फोट के साथ मेरा वीर्य उनके गर्भ में समाता चला गया| जैसे ही वीर्य की आखरी बूँद उनके अंदर छूटी मैं उनसे अलग हो कर लेट गया| दोनों की सांसें तेज थीं और शरीर भी थका हुआ था| करीब पांच मिनट बाद धड़कनें और सांसें सामान्य हुईं|
Reply
02-20-2019, 06:15 PM,
#66
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
61



मैं उठा और बाथरूम में मूतने घुस गया| जब मैं बहार आया तो नेहा को चेक करने लगा की कहीं वो हमारी आवाज सुन के उठ तो नहीं गई| मैं उसके सिरहाने बैठ गया और उसके बालों पे हाथ फेरने लगा| भौजी को लगा की मैं नेहा के पास सोने वाला हूँ|



भौजी: ये क्या? आप फिर से अलग सोने वाले हो?



मैं: मैं..... (मेरे कुछ कहने से पहले ही उन्होंने अपनी बात रख दी|)



भौजी: अगर यही करना था तो यहाँ आने का प्लान क्यों बनाया? (और भौजी मुंह फेर के दुरी तरफ करवट लेके लेट गईं)



मैं: अरे बाबा ...मैं तो बस नेहा को देखने आया था की कहीं वो जाग तो नहीं गई|



इतना कहके मैं वापस चादर में घुस गया और उनसे सट के लेट गया| जैसे ही मेरे नंगे बदन का एहसास भौजी को हुआ वो मेरी और पलटी और मेरे आगोश में समा गईं|



मैं: Are You Happy?



भौजी: Nope……



मैं: What??? I thought this is what you wanted?



भौजी: इतनी जल्दी नहीं.... अभी तो पूरी रात बाकी है|



इतने कहते हुए वो उठीं और मुझपे सवार हो गईं और मेरे लबों को अपने लबों से ढक दिया| मेरे हाथ उनकी नंगी पीठ पे फिसलने लगे| पता नहीं क्यों पर उन्हें Kiss करते समय मेरे मुंह से "म्म्म्म्म...हम्म्म्म" जैसी आवाज निकलने लगी| मेरी आवाज सुन भौजी को नाजाने क्या हुआ उन्होंने मुझे और तड़पना शुरू कर दिया| वो मेरे होंठों को अपने होठों से छूटी और फिर हट जातीं... फिर छूतीं...फिर हट जातीं| फिर उन्होंने ध्यान मेरे निप्प्लेस पे केंद्रित किया| उन्होंने झुक के उन्हें बारी-बाजरी अपने दाँतों से काटना शुरू कर दिया| उनके हर बार काटने पर मुंह से "आह" निकल जाती| काट-काट के उन्होंने निप्पलों को लाल कर दिया| फिर वो खिसक मेरे घुटनों पे बैठ गईं और झुक के मेरे मुरझाये हुए लंड को अपने मुँह में भर लिया| लंड चूँकि सिकुड़ चूका था तो वो पूरा का पूरा उनके मुँह में चला गया| पर चूँकि अभी-अभी पतन के बाद वो सो रहा था| भौजी पूरी कोशिश करने लगीं की वो खड़ा हो जाए पर कमबख्त माना ही नहीं! भौजी ने उसे दो मिनट तक अच्छे से चूसा परन्तु वो अकड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था| मुझे खुद पे गुस्सा आने लगा की "यार भौजी का कितना मन है...और ये कमबख्त खड़ा ही नहीं हो रहा|"



मैं: Sorry यार.... इसे थोड़ा समय लगेगा!



भौजी का मुँह उतर गया| मैंने उन्हें फिर से अपने नीचे लिटाया और उस मुरझाये हुए को जैसे-तैसे अंदर डाल दिया| अंदर जाने में उसने परेशान तो किया पर फिर मैं भौजी के ऊपर लेट के उन्हें Kiss करने लगा और भौजी के नादर की आग भड़कने लगी|



भौजी: कोई बात नहीं...थोड़ा आराम कर लो!



मैं: ना...



मैं उन्हें फिर से बेतहशा चूमने लगा| भौजी के मुँह से "मम्म" जैसी आह निकलने लगी और ये आवाज मेरे दिल की धड़कनें बढ़ाने के लिए काफी थी| पूरे शरीर में जैसे खून का बहाव अचानक से बढ़ गया| और ये क्या लंड भौजी की योनि की गर्मी पा के अकड़ने लगा|



भौजी: "आआह" !!!



मैं: क्या हुआ?



भौजी: आपका "वो" आह्ह्ह !!!



मैं: दर्द हो रहा है?



भौजी: नहीं.... आप हिलना मत|



लंड में जैसे-जैसे कसावट आ रही थी वो भौजी की योनि जो सिकुड़ गई थी उसे फिर से चौड़ी करने लगा| देखते ही देखते लंड फिर से अकड़ के फुँफकार मारने लगा|



भौजी: आआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह....स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स



मैंने धीरे-धीरे लंड को अंदर-बहार करना शुरू कर दिया| और भौजी के मुख पे आये भाव साफ़ बता रहे थे की वो इसे कितना एन्जॉय कर रहीं हैं|



मैं: आपको Hardcore तरीका देखना है?



भौजी: हाँ.... स्स्स्स्स्स्स्स्स्स आह्ह्ह्हह्ह !!!



मैंने धक्कों की रफ़्तार एकदम से तेज कर दी और मैं जितनी ताकत थी सब झोंक डाली.... भौजी के मुँह से सिस्कारियों की रेल शुरू हो गई; "आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स ....माआअ म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म ..... आह आह आह ......स्स्स्स...अह्ह्हह्ह ह्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म" और इसी शोर के साथ भौजी स्खलित हो गईं| मैं जनता था की अगर मैं अभी नहीं रुका तो भौजी को दर्द हो सकता है... इसलिए चार-पांच बार के धक्कों के बाद मैं रुक गया और भौजी के मुख को देखने लगा| भौजी ने आँखें मूँद रखीं थीं, करीब दो मिनट बाद उन्होंने आँखें खोलीं और मुझे देखा| मेरी आँखों में प्यास साफ़ झलक रही थी|



उन्होंने करवट ली, मुझे नीचे लिटाया और मेरे लंड पे सवार हो गईं| फिर उन्होंने ऊपर-नीचे होना शुरू किया| उनके हर धक्के से लंड उनके गर्भ से टकराता और भौजी उतना ही ऊपर उचक जातीं| उनकी योनि अंदर से मेरे लंड को खा रही थी...निचोड़ रही थी... चूस रही थी| पांच मिनट के झटकों ने ही मेरी हालत ख़राब कर दी| मैं झड़ने वाला था.... और मैंने भौजी के स्तनों को अपने हाथों में दबोच कस के दबा दिया| भौजी के मुँह से एक जोरदार चींख निकली; "आअह्ह्ह!!!" और हम दोनों एक साथ झड़ गए| भौजी की योनि में हम दोनों का रस भरा हुआ था और वो बहने लगा था....बह्ते-बह्ते वो मेरे टट्टों से होता हुआ बिस्तर पे जा गिरा| मैंने अचानक से करवट बदली और भुजी को अपने नीचे लिटा दिया| उनके स्तन मेरे दबाने से लाल हो गए थे और शायद दुःख भी रहे होंगे| इसलिए मैंने अपनी जीभ से उन्हें धीरे-धीरे चाटने लगा ताकि मुँह की गरमाई से शायद वो कम दुःखें| भौजी ने अपने दोनों हाथ मेरे सर पे रख दिए और उँगलियाँ मेरे बालों में फिराने लगीं|



मुझे नहीं पता की उनके स्तनों में दर्द होना बंद हुआ या नहीं पर इस बात का खेद था की मेरी वजह से उन्हें तकलीफ हुई और ये बात मेरे चेहरे से साफ़ झलक रही थी|



भौजी: बस बाबा... अब दर्द नहीं हो रहा| अब आप भी लेट जाओ... कब तक इसी तरह मुझे प्यार करते रहोगे?



मैं: सारी उम्र!



भौजी: आपको मेरा कितना ख्याल है....मेरी हर ख्वाइश पूरी करते हो..... सब से लड़ पड़ते हो सिर्फ मेरे लिए! प्यार करते समय भी अगर मेरे मुँह से आह! निकले तो परेशान हो जाते हो.... अब इससे ज्यादा एक औरत और क्या चाहती है अपने पति से? I LOVE YOU !



मैं: I LOVE YOU TOO !!!



फिर हमने एक smooch किया और मैं उनकी बगल में लेट गया| भौजी ने मेरे बाएं हाथ को खोल के सीधा किया और उसे अपना तकिया बना उस पे अपना सर रख दिया और मुझे झप्पी दाल के सो गईं| सुबह जब आँख खुली तो सुबह के सात बज रहे थे और नेहा और भौजी दोनों अभी तक नहीं उठे थे|



मैं उठा और भौजी को वापस चादर ओढ़ा दी| AC बंद किया... बाथरूम में मुँह-हाथ धोने घुस गया| बहार आके मैंने TV ओन किया और न्यूज़ देखने लगा| बेब्स से ये बात साफ़ हुई की हालत सुधरे हुए हैं और कोई भी दंगा वगेरह नहीं भड़का| ये सुन के दिल को सकूँ मिला!!! मैंने फटा-फैट अपने कपडे पहनने शुरू कर दिए| पहले सोचा की चाय आर्डर कर दूँ फिर सोचा की यार भौजी ने कपडे नहीं पहने हैं ऐसे में ये ठीक नहीं होगा| फिर मैंने प्यार से नेहा को उठाया और उसे गोद में ले के बाथरूम गया और हाथ-मुँह धुल के वापस सोफे पे बैठा दिया| उसका फेवरट टॉम एंड जेरी आ रहा था और वो बड़े चाव से उसे देख रही थी|



मैं उठ के भौजी के पास गया और बेडपोस्ट का सहारा ले के बैठ गया| फिर धीरे से उनके सर पे हाथ फेरा और गाल पे Kiss किया| मेरे Kiss करने पे भौजी थोड़ा कुनमुनाई और फिर आँखें खोल के मेरी ओर देखा ओर मुस्कुरा के; "Good Morning" बोलीं| मैंने भी जवाब में "Good Morning" कहा|



मैं: चलिए बेगम साहिबा ... उठिए! घर नहीं जाना क्या?



मेरी बात सुन के जैसे उनका सारा मूड ही ऑफ हो गया| ओर वो मुँह बना के उठीं ओर चादर जो उनके ऊपर पड़ी थी उसे ही लपेट के बाथरूम में घुस गईं| जब दस मिनट तक वो वापस नहीं आइन तो मुझे मजबूरन बाथरूम का दवाए खटखटाना पड़ा|



मैं: यार I'M Sorry!



पर आदर से की आवाज नहीं आई... मैं घबरा गया ओर दरवाजा तोड़ने की तैयारी करने लगा| पर जैसे ही मैंने दरवाजे को छुआ वो खुल गया| अंदर जाके देखा तो भौजी कमोड पर बैठीं थीं ओर कुछ बोल नहीं रहीं थी|



मैं: (अपने घुटनों पे आते हुए) Please ..... I'M Sorry ! I didn’t mean to….



भौजी: नहीं... आपकी कोई गलती नहीं.... बस थोड़ा सा emotional हो गई थी| I LOVE YOU !!!



मैं: I LOVE YOU TOO !!! मैं जानता हूँ आप वापस घर नहीं जाना चाहते और सच मानिये मैं भी नहीं जाना चाहता| पर हमारे पास और कोई चारा नहीं है| घर तो जाना ही पड़ेगा ना?



भौजी ने हाँ में सर हिलाया| मैं जानता था की उन का मन उदास है और अब कहीं न कहीं मैं खुद को दोषी मैंने लगा था| मैं आगे बढ़ा और उनके होंठों को चूम लिया| भौजी थोड़ा सामान्य दिखीं और मैं बहार आ गया और पाँव लटका के पलंग पे बैठ गया| करीब पांच मिनट बाद भौजी बहार निकलीं और अपने कपडे अलमारी से निकाले और वपस बाथरूम में घुस गईं और तैयार हो के बहार आ गईं| अब मेरेमुँह लटका हुआ था ... भौजी मेरे पास आईं और बोलीं;



भौजी: अब आप खुद को दोष मत दो| मैं भूल ही गई थी की हमें घर भी वापस जाना है| प्लीज....



मैं: ठीक है... आप बैठो... मैं चाय के लिए बोल के आता हूँ|



भौजी: नहीं चाय रहने दो... पहले से ही बहुत लेट हो चुके हैं| नौ बज रहे हैं...चलिए चलते हैं|



मैं: नहीं... खाली पेट कहीं नहीं जायेंगे?



भौजी: पर मैंने ब्रश नहीं किया?



मैं: तो क्या हुआ... एक दिन बिना ब्रश के कुछ खा लो! और वैसे भी अब तो मैं आपको भूखा बिलकुल नहीं रहने दूँगा| (मेरा इशारा भौजी की प्रेगनेंसी की ओर था)



भौजी मेरी बात समझ गईं और मुस्कुरा दीं| मैं चाय-नाश्ता बोलने के लिए रिसेप्शन पे गया और वहीँ से पिताजी को फ़ोन मिलाया;



मैं:हेल्लो पिताजी प्रणाम!



पिताजी: खुश रहो बेटा... अब कैसे हालात हैं वहाँ?



मैं: सब शांत है पिताजी...बस चाय पीके निकल ही रहे हैं|



पिताजी: ठीक है बेटा सही-सलामत यहाँ पहुँचो|



मैं: जी पिताजी|



मैं वापस अपने कमरे में पहुंचा और दो मिनट बाद ही वहाँ चाय-नाश्ता लिए बैरा आ गया|



भौजी: आप तो चाय बोलने गए थे? ये नाश्ता कैसे?



मैं: Complementry है!



भौजी: हाँ-हाँ मैं ही बेवकूफ हूँ यहाँ| Complementry !!!



मैं: यार... आपको भूखा नहीं रहना चाहिए ना?



भौजी: हाँ बाबा समझ गई.... अब आप मेरा ख़याल नहीं रखोगे तो कौन रखेगा?



मैं मुस्कुरा दिया और हमने बैठ के नाश्ता किया| नाश्ते में गोभी और पनीर के परांठे थे और बहुत टेस्टी भी थे|



मैं: डिलीशियस!!!



भौजी: अच्छा जी?



मैं: I mean not as Delicious as you’re!



ये सुन भौजी खिल-खिला के हंस पड़ीं| तब जाके मन को चैन मिला की कम से कम वो हँसीं तो| हम तैयार हो नीचे आ गए, रिसेप्शन पे वही बुजुर्ग अंकल खड़े थे|



बुजुर्ग अंकल: जा रहे हो बेटा?



मैं: जी... अभी माहोल शांत है...सोचा यही समय है निकलने का|



बुजुर्ग अंकल: हाँ बेटा ...पर अब घबराने की कोई बात नहीं है| हालात काबू में हैं!!! तो अब कब आना होगा?



मैं: जी अभी तो कुछ नहीं कह सकता पर जब भी आएंगे यहीं रुकेंगे|



बुजुर्ग अंकल: हाँ बेटा जर्रूर|



मैं: अच्छा अंकल चलते हैं|



बुजुर्ग अंकल: खुदा हाफ़िज़ बेटा!



मैं: खुदा हाफ़िज़ अंकल|



होटल से टैक्सी स्टैंड कुछ दूरी पे था तो मैंने बहार निकल के रिक्शा किया और उसने हमें टैक्सी स्टैंड छोड़ा| टैक्सी स्टैंड पहुँचने तक भौजी ने मेरा हाथ पकड़ रखा था|



भौजी: वो अंकल मुसलमान थे?



मैं: तो?



भौजी: फिर भी उन्होंने हमारी मदद की?



मैं: वो इंसानियत का फ़र्ज़ अदा कर रहे थे, और उनकी जगह मैं होता तो मैं भी उनकी मदद अवश्य करता| मेरे हिंदी होने से उन्हीने कोई फर्क नहीं था और न ही मुझे उनके मुसलमान होने से कोई फर्क पड़ा| ख़ास बात ये थी की उन्होंने हमारी मदद की!



भौजी: आप सही कहते हो| मुसीबत में जो साथ दे वही सच्चा इंसान होता है| "मजहब हमें नहीं बांटता हम मजहब के नाम पे खुद को बांटते हैं!!!"



रिक्शे में बैठे नेहा रास्ते भर इधर-उधर देख के बहुत खुश थी| टैक्सी स्टैंड पहुँच हम जीप का इन्तेजार करने लगे, यही सही समय था नेहा से कुछ बात करने का;



मैं: नेहा बेटा सुनो?



नेहा: जी पापा!



मैं: (भौजी से) अरे आपने इसे मेरी तरह हर बात बोलने से पहले "जी" लगाना सीखा दिया?



भौजी: नहीं तो... बच्ची थोड़े ही है| बड़ी हो गई है मेरी लाडो और अपने पापा से कुछ न कुछ तो सीखेगी ही?



मैं: अच्छा नेहा बेटा आप ने एक अच्छी आदत सीखी है| अपने से बड़ों से बात करते समय "जी" लगाया कोर और हाँ बड़ों को कभी भी उनका नाम लेके नहीं पुकारना ये शिष्टाचार नहीं है| उन्हें पुकारते समय, चाचा जी, नाना जी, अंकल जी, मम्मी जी आदि तरीके से बोलना चाहिए ठीक है बेटा?



नेहा: जी पापा जी!



मैं: शाबाश! खेर मुझे ये बात नहीं करनी थी आपसे| अब आप मेरी एक बात सुनो, घर में अगर कोई आपसे पूछे की आप कहाँ रुके थे रात भर तो आप क्या कहोगे?



नेहा: आप के साथ! (उसने बड़े प्यार और नादानी से जवाब दिया|)



मैं: नहीं बेटा| अगर को पूछे तो कहना की हम धर्मशाला में रुके थे... एक कमरे में आप और आपकी मम्मी सोये और एक में मैं अकेला सोया था| ठीक है?



नेहा: जी पापा जी|



मैं: शाबाश! 



इतने में जीप आ गई और हम तीनों एक लाइन में पीछे बैठ गए| जीप में ज्यादा तर औरतें बैठीं थीं ... शायद किसी पूजा मण्डली की थीं और वो हमें ऐसे बैठे देख खुश थीं| उनमें से एक औरत बोली;



औरत: तुम दोनों पति पत्नी हो?



भौजी: हाँ ... क्यों?



औरत: कुछ नहीं... भगवान जोड़ी बनाये रखे|



और इस तरह बातों का सील-सिला जारी हुआ| वो औरतें भी अपनी मण्डली की कुछ लोगों से अलग हो गए थे| खेर कुछ देर बाद हम बाजार पहुँच गए और वहाँ से अगली सवारी ले के मैन रोड उत्तर गए| अब यहाँ से घर तक पैदल जाना था| रास्ते भर हम दोनों हँसते-खेलते हुए बातें करते हुए जा रहे थे| घर पहुंचे और भौजी ने डेढ़ हाथ का घूँघट काढ लिया| हमें देख सभी लोग खुश हो गए...ऐसा लगा जैसे हम सरहद से लौटे हों?

पिताजी बाहें फैलाये खड़े थे और मैं जाके उनके गले लग गया|



पिताजी: बेटा चल पहले अपनी माँ से मिल ले| वो कल से बहुत परेशान है|



अब ये सुन के मेरे प्राण सूखने लगे| मैं तुरंत बड़े घर की ओर भागा और माँ को कमरे में चारपाई पे बैठा हुआ पाया| मैं तुरंत उनके गले लग गया और तब जाके उनके मन को शान्ति मिली होगी|



माँ: बेटा... तूने तो जान निकाल दी थी मेरी|



मैं: देखो ... मैं बिलकुल ठीक-ठाक हूँ|



भौजी ने भी हमारी बात सुनी थी और वो भी मेरे पीछे-पीछे आ गईं|



भौजी: माँ... इन्होने मेरा और नेहा का बहुत ध्यान रखा|



उनके मुंह से "माँ" सुन के माँ का मुंह फिर से फीका पड़ गया| मैंने बात को नया मोड़ देते हुए माहोल को हल्का किया:



मैं: माँ.... आपके हाथ की चाय पीने का मन कर रहा है|



माँ: मैं अभी बनाती हूँ, तू तब तक नहा धो ले|



और माँ उठ के चाय बनाने चलीं गईं| माँ की नाराजगी भौजी से छुप ना पाइ और वो भी कुछ उदास दिखाई दीं|



मैं: यार... I’m Sorry! But you’re a being Pushy! मैं जानता हूँ की आप दिल से उन्हें अपनी माँ मानते हो....पर आपको ये बात उनसे साफ़ करनी होगी की आखिर आपके दिल में क्या है| अगर आप इसी तरह जबरदस्ती रिश्ते बनाओगे तो बात बिगड़ सकती है| हो सकता है की माँ को या औरों को शक हो की हमारा रिश्ता क्या है?


भौजी ने गर्दन झुका ली और बिना कुछ कहे वहां से चलीं गई|
Reply
02-20-2019, 06:15 PM,
#67
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
62

कुछ समय बाद मैं, माँ और पिताजी साथ बैठे थे और मैं पिताजी को कल जो हुआ उसके बारे में बता रहा था| इतने में वहाँ बड़के दादा, रसिका भाभी, भौजी और बड़की अम्मा भी आ गए;

मैं: जैसे ही पीछे से भगदड़ मची मैं नेहा और भौजी अकेले रह गए| भीड़ का धक्का इतना तेज था की वो आप लोगों को आगे बहा के ले गया पर इधर हम फंस गए| अगर हम उसी बहाव में बहते तो शायद हम लोगों के पैरों तले दब जाते! इसलिए हमदोनों नेहा को लेके एक छोटी सी गली में घुस गया| भीड़ ने आगे का रास्ता ब्लॉक कर दिया था इसलिए हम टैक्सी स्टैंड वाले रास्ते की ओर नहीं बढ़ सकते थे| मैंने भौजी औरपीछे जाने के लिए कहा, मुझे लगा शायद थोड़ा घूम के ही सही हम टैक्सी स्टैंड तक पहुँच जाएँ पर आगे कोई रास्ता ही नहीं था| इतने में भीड़ का एक झुण्ड हमारी ओर भगा आ रहा था...मैं बहुत घबरा गया| अगर अकेला होता तो भाग निकलता पर नेहा साथ थी इसलिए मैं छुपने के लिए कोई आश्रय ढूंढने लगा| तभी वहाँ एक होटल का बोर्ड दिखा हम उसके बहार खड़े हो गए ओर दरवाजा भड़भड़ाने लगे पर किसी ने दरवाजा नहीं खोला| हार के एक धर्मशाला के बहार पहुंचे ओर उसका दरवाजा खटखटाया पर कोई नहीं खोल रहा था| तब मैंने चिल्ला के कहा की मेरे साथ एक छोटी सी बच्ची है ओर नेहा ने भी अब तक रोना शुरू कर दिया था| उसकी आवाज सुन एक बुजुर्ग से अंकल ने दरवाजा खोला ओर हम फटा-फट अंदर घुस गए| अब वो तो शुक्र है की माँ ने मुझे कुछ पैसे पहले दिए थे जिसकी वजह से हमें वहाँ दो कमरे मिल गए वरना रात सड़क पे बितानी पड़ती|
(इस बात चीत में मैंने कहीं भी भौजी को "भौजी: कह के सम्बोधित नहीं किया...क्योंकि अब उन्हें भौजी कहने में शर्म आने लगी थी! ओर वो भी कभी मुझे मानु जी या तुम नहीं कहतीं थी...हमेशा इन्होने या आप कहके ही सम्भोधित करती थीं|)

पिताजी: भई मानना पड़ेगा तुम्हारी माँ की होशियारी काम आ ही गई|

माँ: देखा आपने...जब भी मैं पैसे आधे-आधे करती थी तो सबसे ज्यादा आपको ही तकलीफ होती थी| आज मेरी सूझबूझ काम आ ही गई|

पिताजी: (माँ की पीठ थपथपाते हुए) शाबाश देवी जी!

पिताजी: भैया आप समधी साहब को भी फोन कर दो की सब ठीक-ठाक पहुँच गए हैं|

बड़के दादा: हाँ भैया मैंने खबर पहुँचा दी है|

मैं: आपने ससुर जी..... मतलब... को खबर पहुंचा दी?
(भौजी की आदत मुझे भी लग गई थी....अब बात को सम्भालूँ कैसे ये समझ नहीं आया, पर मैं फिर भी बच गया| वो ऐसे की कुछ साल पहले अजय भैया की साली जब घर आई थी तब उन दिनों मैं भी घर पे था, तो वो मुझे भी जीजा कहती थी...इसी बात के मद्दे नजर पिताजी ने कुछ नहीं कहा|)

पिताजी: अरे बेटा खबर तो पहुंचानी जर्रुरी थी| मैं तो तुम्हें भी बताने वाला था की तुम्हारी माँ यहाँ कितनी परेशान है, वो तो घर भी नहीं आना चाहती थी| कह रही थी जबतक लड़का नहीं आता मैं सड़क पर रह लुंगी पर घर नहीं जाउंगी| वो तो मैंने उसे समझाया-बुझाया तब जाके मानी| ओर जब तुम्हारा फोन आया तो उसने मना कर दिया की मैं तुमहिं कुछ ना बताऊँ वरना तुम उसी भगदड़ में भाग आओगे|

मैं: ये आपने सही कहा...अगर मुझे पता होता तो मैं रात को ही जैसे-तैसे पहुँच जाता|

पिताजी: इसीलिए कुछ नहीं बताया|

बड़के दादा: मुन्ना तुम्हारी बात सुन के हमें तुम पे बहुत गर्व है| तुमने इस खानदान की गरिमा बढ़ाई है| शाबाश!!! (ओर बड़के दादा मेरी पीठ थपथपाने लगे) ओर हाँ समधी साहब ने तुम्हें बुलाया है| इसी बहाने तुम उन्हें प्रसाद भी दे आना|

अब मेरा हाल तो ऐसे था जैसे अंधे को क्या चाहिए, दो आँखें! मैं तो खुद उनसे मिलना चाहता था आखिर जिस शोरूम की कार इतनी मस्त है उस शोरूम के मालिक से मिलना तो बनता ही था!!!

मैं: जी जर्रूर...

बात खत्म हुई ओर बड़के दादा और अम्मा उठ के भूसे वाले कमरे में सफाई करने चले गए| इधर रसिका भाभी उठ के कपडे धोने कुऐं पर चलीं गईं| अब बच गए पिताजी, माँ, भौजी और मैं| भौजी डेढ़ हाथ का घूँघट काढ़े चुप-चाप खड़ीं थी, ऐसा लग रहा था जैसे वो कुछ कहना चाहतीं हों| मुझे लगा की कहीं उन्हेोन मेरी बातों का बुरा तो नहीं लगा लिया?

पर जब वो बोलीं तो बातें स्पष्ट हो गईं;

भौजी: पिताजी... माँ.... मुझे आपसे कुछ कहना है?

पिताजी: बोलो बहु|

भौजी: मैं आपको और माँ को अपने माँ-पिताजी ही मानती हूँ| आप लोगों के यहाँ होने से मुझे बिलकुल घर जैसा लगता है| आप के यहाँ रहते हुए मुझे कभी अपने मायके की याद नहीं आती और ना ही मन करता है मायके जाने का| कल जिस तरह से इन्होने मेरी और नेहा की रक्षा की उसके बाद तो जैसे आप सब का मेरी जिंदगी पर पूरा हक़ है| पर यदि मेरे आपको माँ-पिताजी कहने से कोई आपत्ति है तो आप बता दें, मैं आपको चाचा-चाची ही कहूँगी!

माँ: नहीं बहु...ऐसी कोई बात नहीं है| तुम हमें अपने माँ-पिताजी की तरह मानती हो ये तो अच्छी बात है, पर क्या जीजी तुम्हें प्यार नहीं करतीं?

भौजी: करती हैं... पर आप सब तो बेहतर जानते हो की यहाँ एक लड़का होने की आस बंधी है| नेहा के होने के बाद तो शायद ही कभी अम्मा और दादा ने उसे पुचकारा हो| ऐसे में मुझे वो दर्ज़ा वो प्यार कभी नहीं मिला जो आप लोग देते हैं|

पिताजी: बहु देखो... अपने बड़े भाई साहब से तो मैं इस बारे में कुछ नहीं कह सकता पर यकीन मानो हमें तुम्हारा हमें माँ-पिताजी कहना बिलकुल बुरा नहीं लगा| ऐसी छोटी-छोटी बातों को दिल से ना लगाया करो|

भौजी: जी पिताजी!

पिताजी: तो लाड साहब कब जाना है अपनी भौजी के मायके?

मैं: जी आप कहें तो आज..नहीं तो कल!

पिताजी: बेटा प्रसाद कभी लेट नहीं करना चाहिए| आज शाम ही चले जाना पर रात होने से पहले लौट आना?

मैं: जी ठीक है.... पर माँ आज रात का खाना आप बनाना?

भौजी: क्यों? मेरा हाथ का खाना अच्छा नहीं लगता आपको?

भौजी की बात सुन माँ-पिताजी हँस पड़े|

मैं: अच्छा लगता है... पर बहुत दीं हुए माँ के हाथ का खाना खाए हुए! वैसे अगर माँ और बड़की अम्मा दोनों खाना बनायें तो स्वाद ही कुछ और होगा|

मेरी इस बात पे पिताजी ने हांमी भरी और बड़की अम्मा को आवाज लगा के रात के खाने का प्लान बता दिया|

भौजी और माँ-पिताजी की जो भी बात हुई उसमें मैंने बिलकुल भी हिस्सा नहीं लिया था|कारन साफ़ था, मैं किसी का भी पक्षपात नहीं करना चाहता था| मैं चाहता था की भौजी अपना मुद्दा स्वयं सामने रखें और अपनी दलील भी स्वयं दें| इससे उनमें आत्मविश्वास बढ़ेगा! दोपहर के भोजन के बाद मुझे और भौजी को साथ बैठने का कुछ समय मिला, हम भौजी के घर में बैठे थे;

मैं: I hope you’re not angry on me!

भौजी: नहीं तो...आपको किसने कहा मैं आपसे खफा हूँ?

मैं: मुझे लगा शायद आपने मेरी बात का बुरा मान लिया है|

भौजी: आपने जो कहा वो बिलकुल सही कहा था, इसमें बुरा मैंने वाली बात तो थी ही नहीं|

मैं: तो मेरे पास बैठो!

भौजी उठ के मेरे पास बैठ गईं|और मेरे कुछ कहे बिना ही उन्होंने मुझे Kiss किया| पर ये बहुत छोटा सा Kiss था!

मैं: इतना छोटा?

भौजी: ये आपकी Good Morning Kiss थी| सुबह से Pending थी ना! (और भौजी मुस्कुरा दीं)

शाम होने से पहले ही मैं तैयार हो के बैठ गया| मैंने आज "शर्ट" पहनी थी और नीचे पेंट, काले जूते जो पोलिश से चमक रहे थे| बस एक टाई की कमी थी तो पक्का लगता की मैं इंटरव्यू देने जा रहा हूँ|

भौजी: वाओ! You’re looking Dashing!

मैं: Thanks !!! कहते हैं ना “First Impression is the Last Impression”|

भौजी: मेरा हाथ मांगने के लिए आप कुछ लेट नहीं हो गए? ही..ही..ही...

मैं: Very Funny !!! अब आप भी ढंग के कपडे पहनना|

भौजी: हाँ भई... एबीएन आप Dashing लग रहे हो तो मुझे तो ब्यूटीफुल लगना ही पड़ेगा ना! अच्छा ये बताओ कौन सी साडी पहनू?

मैं: इसे मेरे लिए सरप्राइज ही रखो बस जो भी हो मेरी शर्ट से मैचिंग हो!

भौजी: ठीक है, आप बहार जाओ मैं तैयार हो के आती हूँ|

मैं: बहार जाऊं? मेरे सामने तैयार होने में कोई हर्ज़ है?

भौजी: नहीं तो... मुझे क्या... आपने तो मुझे देखा ही है|

मैं: I was Kidding !!! मैं बहार जा रहा हूँ!

और भौजी हंसने लगीं.....

अब आगे....

मैं बहार आके नेहा के साथ खेल रहा था और मुझे इस तर सजा धजा देख रसिका भाभी की आह निकल ही गई;

रसिका भाभी: हाय! नजर न लग जाए आप को मेरी! जबरदस्त लग रहे हो!

मैं: किसी और की तो नहीं पर हाँ आपकी नजर जर्रूर लग जाएगी|If you don’t mind mean asking….. ओह... अगर आपको बुरा ना लगे तो मैं आपसे कुछ पूछना चाहता हूँ?

रसिका भाभी: हुकुम करो मालिक!

मैं: प्लीज ... दुबारा मुझे ये मत कहना! खेर... उस दिन सब जानते हुए आप ने वो बात हमारे सामने इसीलिए दोहराई थी ना क्योंकि आप हमें ब्लैकमेल करना चाहतीं थीं... है ना?

रसिका भाभी: नहीं तो... वो तो मैं....

मैं: आप रहने दो... मैं जानता हूँ आपका उद्देश्य क्या था? अब साफ़-साफ़ बता क्यों नहीं देती की क्या चाहती थीं आप?

रसिका भाभी: आपको

मैं: इतने सब के बाद भी आप का मन मुझसे नहीं हटा?

रसिका भाभी: क्या करें.... अपनी भौजी की प्यास तो आप बुझा देते हो.... पर मेरा क्या? मैंने सोचा था की दीदी डर जाएँगी और मना नहीं करेंगी! शायद मैं उन्हें मना भी लेती उसके लिए... (रसिका भाभी ने बात आधी छोड़ दी)

मैं: किसके लिए?

रसिका भाभी: आप, मैं और दीदी एक साथ चुदाई करते!

मैं: OH FUCK !!! You gotta be kidding me !!! (मैंने गुस्से से झल्लाते हुए कहा|)

रसिका भाभी: क..क......क्या....क्या हुआ?

मैं: यकीन नहीं आता! Fuck…… Man….. You’re…..आपको कोई ..... मैं आपसे बात ही नहीं करना चाहता| इतना मैल भरा है आपके मन में!!! छी!!!

रसिका भाभी: मानु जी... प्लीज.... ये बात दीदी को मत बताना....आप तो कुछ ही दिन में चले जायेंगे.... और यहाँ दीदी के आलावा मेरा और है कौन जो ध्यान रखे .... प्लीज...मैं आपके आगे हाथ जोड़ती हूँ...पाँव पड़ती हूँ|

मैं आगे कुछ नहीं बोला.... और नेहा को गोद में लेके दूर आज्ञा| मुझे तो अब उनसे घिन्न आने लगी थी!!! छी!!!

नेहा: पापा जी...क्या हुआ?

मैं: कुछ नहीं बेटा...आप जाके खेलो और हाँ कपडे गंदे मत करना|

नेहा गोद से उतरी और वरुण के साथ खेलने चली गई| मैं हाथ बंधे खड़ा था और इतने में मुझे पिताजी की आवाज आई;

पिताजी: अरे वाह भई! आज तो सज-धज के जा रहे हो...वो भी अपनी भौजी के मायके?

मैं: (मैंने पिताजी की बात उन्हीं पे डाल दी|) पिताजी आपसे ही सीखा है की कहीं जाओ तो ऐसे कपडे पहनो की देखने वाला कहे की वाह!

पिताजी: शाबाश बेटे! समधीजी को हमारा प्रणाम कहना और रात वहां मत रुकना!

मैंने हाँ में सर हिलाया और इतने में पिताजी को खेतों में कोई जाना-पहचाना दिखा और उसे आवाज लगते हुए वो खेतों में चले गए|

भौजी जब तैयार होक बहार निकलीं तो उन्हें देखते ही मैं रसिका भाभी की सारी बात भूल गया|लाल रंग की शिफॉन की साडी ...उसपे काले रंग का डिज़ाइनर बॉर्डर... और काले रंग का ब्लाउज वाओ!! बिलकुल इस फोटो जैसा| बस इसमें ब्लाउज डिज़ाइनर है और फूल स्लीव का है पर उनका पलाइन था और आधी स्लीव का था|

उन्हें देखते ही दिल की धड़कनें थम गईं और मैं मुंह खोले उन्हें देखता रहा|बाल खुले हुए थे और सर पे पल्लू था|

भौजी: ऐसे क्या देख रहे हो?

मैं: You’re looking faboulous!

भौजी: Awww… Thanks!!!

तभी वहाँ बड़की अम्मा आ गईं और उन्हें बता के हम चलने को हुए;

मैं: नेहा...नेहा ....कहाँ हो बेटा?

नेहा भागती हुई आई और उसके कपडे गंदे हो गए थे|

भौजी उसे देखते ही गुस्सा हो गईं|

भौजी: ये लड़की ना... मना किया था न तुझे....

मैं: (भौजी की बात काटते हुए) कोई बात नहीं...आओ बेटा… मैं आपको तैयार करता हूँ|

भौजी: लाइए ... मैं तैयार कर देती हूँ|

मैं: रहने दो... आपकी साडी की क्रीज़ खराब हो जाएगी| वैसे भी आप नेहा पे भड़के हुए हो खामखा डाँट दोगे!

मैं नेहा को अंदर ले जाके तैयार कर के ले आया और हम भौजी के मायके के लिए निकल पड़े| रास्ते में हम बातें कर रहे थे;

मैं: यार प्लीज ये घूँघट हटा दो!

भौजी ने बिना कुछ कहे घूँघट हैट दिया और अब उनके खुले बाल मुझ पे जादू कर रहे थे| उन्हें इस तरह देख मुझे बीती रात वाला समय याद आने लगा|

भौजी: क्या हुआ? क्या देख रहे हो?

मैं: कुछ नहीं आपको इस तरह देख के मुझे कल रात की याद आ गई|

भौजी मेरी बात समझ गईं और उन्होंने मुझे प्यार से दाहिनी बाजू पे मुक्का मारा|

मैं: oww !!!
Reply
02-20-2019, 06:15 PM,
#68
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
63

भौजी: अच्छा ये बताओ की मूड क्यों खराब है आपका?

मैं: क्या? मेरा मूड बिलकुल ठीक है!

भौजी: हुंह...जिस तरह से आपने मुझे नेहा के कपडे बदलने नहीं दिए उससे साफ़ जाहिर है की कोई बात तो है जो आप छुपा रहे हो|

मैं: छुपा नहीं रहा! बस अभी नहीं कहना चाहता| अभी आप खुश हो... अपने मायके जा रहे हो और ऐसे मैं अगर कोई बेकार का टॉपिक नहीं छेड़ना चाहता|

भौजी चलते-चलते रुक गईं|

भौजी: I Wanna Know…नहीं तो मैं कहीं नहीं जाऊँगी|

मैं: (अब मैं भी दो कदम चल के रुक गया|) क्यों अपना मूड ख़राब करना चाहते हो?

भौजी: आपको मेरी कसम!

अब कसम दी थी...बाँध दिया मुझे ... तो बोलना ही पड़ा और मैंने उन्हें सारी कहानी सुनाई| नेहा आगे भाग के आम के पेड़ पे पत्थर मार रही थी| मेरी बात सुन के भौजी अपनी कमर पे हाथ धार के कड़ी हो गईं और अपने माथे को पीटते हुए बोलीं;

भौजी: हाय राम! ये चुडेल.... काश मैं इसे कोई गाली दे सकती!

मैं: क्यों अपना मुंह गन्दा करते हो| छोडो उसे! चलो चलते हैं..माँ-पिताजी इन्तेजार कर रहे हैं|

भौजी: अब मूड नहीं है मेरा| आप ही चले जाओ!

मैं: इसीलिए नहीं बता रहा था आपको| आपका मन नहीं है तो ना सही पर मेरा और न एह का मन बहुत है माँ-पिताजी से मिलने का| तो हम तो जायेंगे ...आप घर लौट जाओ|

भौजी: मुझे तो लगा की आप मुझे मनाओगे....पर आपने एक भी बार मुझे नहीं मनाया|

मैं: क्योंकि मैं जानता हूँ की आप मेरे बिना वापस जाओगे ही नहीं| अब चलो....वापस भी आना है|

खेर जैसे तैसे मैंने भौजी का मन हल्का किया और हँसी-मजाक करते हुए हम भौजी के मायके पहुँचे|

उनके घर के आँगन में ही भौजी के माँ-पिताजी अर्थात मेरे सास-ससुर चारपाई डाले बैठे थे| हमें देख के ससुर जी खड़े हुए, इधर भौजी जाके सासु जी से गले मिलीं| मैंने सास-ससुर के पाँव हाथ लगाये और उन्होंने बड़े प्यार से मुझे बिठाया| नेहा भी भाग के अपने नानू और नानी के पाँव-हाथ लगा के वापस मेरी गोदी में बैठ गई| ससुर जी की नजरों से लग रहा था की वो मेरे कपडे पहनने के ढंग से बहुत खुश हैं और मन ही मन मेरी तारीफ कर रहे हैं|

ससुर जी: बेटा हमारी बड़ी दिली तमन्ना था की एक बार तुम से भेंट हो| तुमने तो हमारी बेटी पे जादू कर दिया है| जब से इसने होश संभाला है ये अपने आगे किसी की नहीं सुनती और तुमने....तुमने इसे बिलकुल सीधा कर दिया|जब छोटी थी तो इसे भेड़ की तरह जहाँ हाँक दो चुप-चाप चली जाती थी, पर चार किताबें क्या पढ़ीं हमसे बहंस करने लगी| अपने चरण काका के लड़की शादी में आने से मन कर दिया! दो बार लड़के को दौड़ाया तब भी नहीं मानी...पर तुमने इससे पता नहीं क्या कहा, की मान गई|

मैं: जी पिताजी.... आपको बुरा तो नहीं लगा मैंने आपको पिताजी कहा?

ससुर जी: हाँ..हाँ.. बेटा... तुम हमें पिताजी ही कहो|

मैं: जी पिताजी... दरअसल हम दोनों पढ़े लिखे हैं...मतलब मैं तो अभी पढ़ ही रहा हूँ ... तो हम में अच्छा तालमेल है| हम दोनों अच्छे दोस्त हैं...और दोस्ती में दोस्त का कहा तो मन्ना ही पड़ता है ना? रही बात बहस की तो... बुरा मत मानियेगा पर मैंने ये देखा है की यहाँ गाँव में लोग लड़कियों को दबाया जाता है| जब इंसान पढ़-लिख जाता है तो उसमें अन्याय से लड़ने की हिम्मत आ जाती है और वो किसी के भी विरुद्ध खड़ा हो सकता है|हाँ मैं ये मानता हूँ की उन्हें (भौजी को) चरण काका की लड़की की शादी के ले आने से मना नहीं करना चाहिए था| दरसल आपको याद होगा की आज से कुछ साल पहले आपके यहाँ हवन था और उसमें उन्हें यहाँ आन था| उस समय मैं छोटा था...और वो काफी दिन यहाँ रूक गईं| मुझे उस बात पे बहुत गुस्सा आया और मैंने शहर वापस जाने का मन बना लिया| हम लोग यहीं से होक गए थे पर मैं रिक्शे से नहीं उतरा और अपनी अकड़ दिखा रहा था| इसी दर से की कहीं मैं फिर से ना बुरा मान जाऊँ उन्होंने आने से मना कर दिया| पर वो ये भूल गईं की मैं अब छोटा नहीं रहा|

पिताजी: यहाँ गाँव में हम काम पढ़े-लिखे लोग नियम-कानून बनाते रहते हैं और तुम्हारी बात पूरी तरह से सही है| पर अगर तुम्हारे जैसे लोग इस गाँव में रहे और हमें शिक्षित करें तो ये सोच बदली जा सकती है| पर इस बीहड़ में कौन आना चाहेगा?

मैं: आपने बिलकुल सही कहा| पर जब यहाँ भी विकास होगा तो पढ़े-लिखे लोग यहाँ अवश्य आएंगे और ये सोच अवश्य बदलेगी|

(घबराइये मत मित्रों मैं यहाँ "मोदी सरकार" के बारे में कुछ नहीं कहूँगा!!! ही..ही..ही..ही..)

इतने में भौजी और उनकी माँ भी हमारे पास चारपाई डाले बैठ गए|

ससुर जी: वैसे कहना पड़ेगा में बेटा तुम किसी वयस्क की तरह बात करते हो| तुमने जिस तरह से अपनी बात को पेश किया है वो काबिले तारीफ है| ना कोई घमंड...न कोई अकड़...एक दम सरल शब्दों में बात करते हो! और तो और हम तो तुम्हारे ऋणी हैं| जिस तरह तुमने हमारी बेटी और पोती की रक्षा की!

मैं: नहीं पिताजी...मैंने आप पर कोई एहसान नहीं किया! आखिर मेरा भी उनसे कोई रिश्ता है|

मैंने ससुर जी को प्रसाद दिया ...चाय पी और चलने की अनुमति माँगी, तभी वहाँ भौजी की छोटी बहन अपने पति के साथ आ गई!

पिताजी: अरे बेटा रुको... अभी तो आये हो| कम से कम एक दिन तो रुको हमारे साथ| देखो तुम्हारी भौजी की बहन भी आ गई कुछ दिन दोनों बहने भी मिल लेंगी?

मैं: पिताजी अवश्य रुकता परन्तु कल क्या हुआ आप तो जानते ही हैं| ऐसे में माँ-पिताजी कल घबरा गए थे| तो उन्होंने कहा की बेटा रात होने से पहले लौट आना| फिर कभी अवश्य आऊँगा!
(भौजी की ओर देखते हुए) आप एक-दो दिन रुक जाओ...सबसे मिल लो ... मैं घर निकलता हूँ|

पर भौजी का अपनी बहन को देखते ही मुँह बन गया था| यहाँ तक की दोनों गले मिले तो भौजी ने बड़े उखड़े तरीके से व्यवहार किया|

भौजी: नहीं... कल नेहा का स्कूल है|

मैं: कल तो Sunday है|

भौजी: (मुझे घूरते हुए) नहीं..पर नेहा का होमवर्क भी तो है...पहले ही दो दिन छुट्टी मार चुकी है ये|

ससुर जी: बेटी अब तो तुम्हारे "मानु जी" ने भी कह दिया की रूक जाओ, अब तो रुक जा!

भौजी: नहीं पिताजी... आपको तो पता ही है की वहाँ भी सब मुझे ही सम्भालना है| शहर से माँ-पिताजी (मतलब मेरे माँ-पिताजी) भी आये हैं तो उनका ख्याल भी मुझे ही रखना है|

ससुर जी: बेटी रूक जाती तो अच्छा होता|

मैं: (प्यार से) रूक जाओ ना... प्लीज!

भौजी: बोला ना नहीं| (उन्होंने बड़े उखड़े तरीके से जवाब दिया)

मैं: ये नहीं मानने वाली पिताजी| हम चलते हैं! पायलागी!!! पायलागी माँ!

सासु जी: खुश रहो बेटा!

ससुर जी: खुश रहो बेटा!

हम वहाँ से चल पड़े और भौजी की बेरुखी तो देखो, उन्होंने अपनी बहन को बाय तक नहीं कहा ना ही गले मिलीं...और तो और नेहा को भी उनके पास जाने नहीं दिया|

हम घर से कुछ दूर आ गए थे पर हम दोनों में बातचीत बंद थी| मैं नेहा को गोद में उठाय उनके साथ-साथ चल रहा था, आखिर भौजी स्वयं ही मुझ से बोलीं;

भौजी: मुझे माफ़ कर दो| (और भौजी एकदम से रुक गईं)

मैं: ठीक है!

भौजी: नहीं आपने मुझे माफ़ नहीं किया|

मैं: कर दिया|

भौजी: नहीं किया.. (मैं उनसे करीब चार कदम दूर था)

मैं: ये सब क्या हो रहा था? रसिका भाभी का गुस्सा अपने घरवालों पे क्यों उतार रहे थे? और यहाँ तक की मेरी बात भी अनसुनी कर दी!

भौजी: मैं उस बात से परेशान नहीं थी!

मैं: तो किस बात से आपका मुँह फीका पड़ गया?

भौजी की आँखों में आँसू छलक आये! मैंने तुरंत नेहा को गोद से उतरा और उनहीं जाके गले से लगा लिया| मेरी छाती से सर लगा के वो रोने लगीं|

मैं: क्या हुआ...? प्लीज बताओ!

भौजी: उसे देखते ही वो सब बातें याद आ गईं?

मैं: किसे?

भौजी: शगुन...मेरी छोटी बहन!

तब मुझे भौजी की सारी बात याद आई की ये उनकी वही बहन है जिसके साथ चन्दर भैया ने......!!!

मैं: ओह्ह! चुप हो जाओ! मुझे नहीं पता था की ये वही है... मैं सब समझ गया| उसे देखते ही आपके सारे जख्म हरे हो गए| इसीलिए आपका व्यवहार उखड़ा हुआ था|

तब जाके भौजी शांत हुई और हम उसी तरह से सड़क के एक किनारे पे एक दूसरे से लिपटे खड़े थे| दूर से एक साइकल सवार की घंटी की आवाज सुनाई दी तब हम अलग हुए| भौजी का सुबकना बंद था|

मैं: अच्छा मेरी तरफ देखो और भूल जाओ उन बातों को| जो हो गया सो हो गया| मैं हूँ आ आपके लिए अब! तो फिर?

भौजी: जी...अब आपका ही तो सहारा है वरना मैं कब की मर चुकी होती|

मैं: यार आप फिरसे मरने की बात कर रहे हो! कम से कम नेहा के बारे में तो सोचो|

भौजी: सॉरी!

फिर उन्होंने ही बात बदल दी और हम चलते-चलते बातें करने लगे|

भौजी: अच्छा आप रुके क्यों नहीं घर पे?

मैं: वहाँ रुकते तो रात को हम मिलते कैसे? अब तो हाल ये है की बिना आपसे मिले चैन नहीं आता...रात को सोना दुश्वार हो जाता है| नींद ही नहीं आती!

भौजी: मेरा भी कुछ ऐसा ही हाल है| वो दिन (चरण काका की लड़की की शादी वाला समय) मैंने कैसे निकाले ये मैं ही जानती हूँ| रात को तकिये को अपने सीने से चिपका के सोती थी...ये मान लेती थी की आप मेरे साथ सो रहे हो| जब आँख खुलती तो तकिये को ही Kiss कर लेती पर वो कभी सामने से जवाब नहीं देता था| और कल रात के बाद तो अब जैसे आज आपके बिना नींद ही नहीं आने वाली!

मैं: कम से कम आप सो तो रहे थे... मेरा तो हाल ही बुरा था| ऐसा था मानो मुझे एक जानवर के साथ एक कमरे में बंद कर दिया हो, वो भी ऐसा जनवार जो मुझे नोच के खाने को तैयार हो| इधर मेरी आँख बंद हुई और वो जानवर मेरी छाती पे बैठ मुझे खाने लगा!

भौजी: जानती हूँ.... अगर मैं आपकी जांघ होती तो मर ही जाती...

मैं: फिर आपने.....

भौजी: सॉरी..सॉरी ... अब कभी नहीं बोलूंगी! आपकी कसम !!!

ये समझ लो दोस्तों की हमारे घर से भौजी के घर का रास्ता हद्द से हद्द बीस मिनट का होगा जिसे हमने आधा घंटे का बना दिया बातों-बातों में|हम घर पहुँचे...कपडे बदले मैंने पिताजी को सारा हाल सुनाया और खाना खाने बैठ गए| खाना अम्मा और माँ ने मिलके बनाया था और खाना वाकई में बहुत स्वादिष्ट था| सब इन माँ और अम्मा की बहुत तारीफ की और खास कर मैंने| खाने के बाद सोने का प्रोग्राम वही था पर मन आज जानबूझ के अपनी पुरानी जगह सोना चाहता था पर भौजी मान नहीं रही थी|

मैं: यार प्लीज मान जाओ...जब से आया हूँ आपके साथ ही सो रहा हूँ| और ऐसा नहीं है की मेरा मन नहीं है आपके पास रहने का परन्तु घर में लोग क्या सोचते होंगे? की मैं हमेशा आपके पास ही रहता हूँ|

भौजी: ठीक है पर एक शर्त है?

मैं: बोलो

भौजी: आप मुझे सुलाने के बाद सोने जाओगे वरना मैं सारी रात यहीं तड़पती रहूँगी|

मैं: ठीक है, इतना तो मैं अपनी जानेमन के लिए कर ही सकता हूँ|

भौजी: क्या कहा आपने?

मैं: जानेमन!

भौजी: हाय...दिल खुश कर दिया आपने! अब से मैं आपको जानू कह के बुलाऊंगी|

मैं: ठीक है पर सब के सामने नहीं|

भौजी: Done!

अच्छा जानू, अब मुझे सुलाओ!

मैं: सुलाऊँ? अब क्या आपको गोद में ले के सुलाऊँ?

भौजी: मैं नहीं जानती...जबतक सुलाओगे नहीं मैं नहीं जाने दूँगी!

मैं: अच्छा बाबा!
(मैंने नेहा को आवाज मारी, वो दूसरी चारपाई पे लेटी थी और वरुण उसके पास बैठा था| दोनों खेल रहे थे| )

नेहा: जी पापाजी!

मैं: बेटा आपको कहानी सुननी है?

नेहा ने हाँ में सर हिलाया|

मैं: चलो आप मेरी गोदी में आ जाओ|

नेहा उचक के मेरी गोदी में लेट गई| मेरे सीधे हाथ को उसने अपना तकिया बना लिया और बाएं हाथ पे उसकी टांगें थी| भुजी ने अपना हाथ नीचे से ले जाके मेरा बाहिना हाथ पकड़ लिया और उसे प्यार से मसलने लगीं| मैं कहानी सुनाता रहा और दोनों सुनती रहीं| नेहा तो सो गई पर भौजी की मस्ती जारी थी| उन्होंने अपना हाथ ले जाके मेरे लंड के ऊपर रख दिया और अब उसे दबाने लगीं| इतने में वहां बड़की अम्मा, माँ और रसिका भाभी आ गईं| उन्हें देख भौजी ने अपना हाथ धीरे से सरका लिया| रसिका भाभी डरी हुई लग रहीं थीं और उन्हें देख भौजी ने ऐसे मुँह बना लिया जैसे वो अभी गुर्राने वाली हैं|

माँ: तू सोया नहीं अभी तक?

मैं: जी नेहा को कहानी सुना रहा था|

माँ: चल जल्दी सो जा...सुबह बिना किसी के उठाये उठता नहीं है|

मैं: जी पर मैं आज पिताजी के पास सोऊँगा|

भौजी ने मुझे आँख बड़ी कर के दिखाई और बिना आवाज निकाले होठों को हिलाते हे कहा; "पहले मुझे तो सुला दो|" मैं कुछ बोला नहीं बस हाँ में सर हिलाया| अब तक माँ और बड़की अम्मा लेट चुके थे और कुछ बात कर रहे थे| रसिका भाभी तो चादर सर तक ओढ़ के भौजी के डर के मारे सो गईं थीं| अब हम बातें तो नहीं कर सकते थे बस खुसफुसा रहे थे;

भौजी: बहुत मन कर रहा है...

मैं: मेरा भी...पर जगह कहाँ है?

भौजी: आप ही कुछ सोचो? घर के पीछे चलें?

मैं: माँ और अम्मा से क्या कहोगे की हम कहाँ जा रहे हैं?

भौजी:प्लीज ...

मैं: अभी कुछ नहीं हो सकता! आप सो जाओ!

भौजी: ठीक है...तो मेरी Good Night Kiss?

मैं: कैसी Good Night Kiss? ये तो कभी तय नहीं हुआ हमारे बीच?

भौजी: अब हो गया|

मैं: आप ना... बहुत बदमाश हो... सो जाओ! Good Night !

और मैंने नेहा को उनकी बगल में सुलाया और मैं उठ के चला आया| भौजी भी उठ के मेरे साथ चल पड़ीं और मैं फिर से खुसफुसाया;

मैं: आप कहाँ जा रहे हो?

भौजी: (मुँह बनाते हुए) दरवाजा बंद करने!

जैसे ही भौजी ने दरवाजा बंद करने को दोनों हाथ दरवाजे पे रखे मैंने मौके का फायदा उठाया और अपने दोनों हाथों से उनका चेहरा थाम और उनके होठों पे जोर दार Kiss किया!

मैं: Good Night जानेमन!

भौजी: Good Night जानू!!!

मैं आके अपनी चारपाई पे लेट गया| समय देखा तो रात के नौ बजे थे| करीब दस बजे मेरी नींद खुली तो देखा भौजी मेरे सामने खड़ीं थीं!

मुझे आँख बंद किये ऐसा लग रहा था जैसे कोई मेरी ओर टकटकी बांधे देख रहा हो, जब आँखें खुलीं और भौजी के देखा तो मैं सकपका के उठा|देखा तो भौजी की गोद में नेहा थी और वो सुबक रही थी|

मैं: (खुसफुसाते हुए) क्या हुआ? सब ठीक तो है ना?

मुझे उठ के बैठे देख नेहा उनकी गोद से मेरी तरफ आने को मचलने लगी| इतने में बड़के दादा की नींद नेहा की आवाज सुन के खुल गई और उन्होंने पूछा;

बड़के दादा: कौन है वहाँ?

भौजी: मैं हूँ पिताजी|

बड़के दादा: क्या हुआ? और ये लड़की क्यों रो रही है|

भौजी: वो पिताजी.... नेहा रो रही थी और इनके (मेरे पास) पास आन के जिद्द कर रही थी तो उसे यहाँ ले आई|

बड़के दादा: कम से कम मुन्ना को चैन से सोने तो दो| जब देखो उसके पीछे पड़े रहते हो दोनों के दोनों!

भौजी को ये बात छुभि...और चुभनी भी थी, क्योंकि जिस तरह से बड़के दादा ने उन्हें झिड़का था वो ठीक नहीं था| मैंने नेहा को गोद में लेने के लिए हाथ आगे बढाए और नेहा भी मेरी गोद में आना चाहती थी परन्तु भौजी उसे जाने नहीं दे रही थीं|

मैं: Aww मेरा बच्चा!!!

भौजी: नहीं रहने दो...मैं इसे सुला दूंगी| आप सो जाओ!

मैं: दो! (मैंने हक़ जताते हुए कहा|)

मैंने खुद ही आगे बढ़ के जबरदस्ती उनकी गोद से नेहा को ले लिया| फिर मैं उसकी पीठ थपथपाते हुए उसे सुलाने लगा| नेहा का सुबकना जारी था... फिर मैं उसे अपनी छाती से चिपकाए लेट गया|

मैं: Aww मेरी गुड़िया ने बुरा सपना देखा?

नेहा ने हाँ में सर हिलाया|

मैं: बेटा... सपने तो सपने होते हैं..वो सच थोड़े ही होते हैं| चलो छोडो उन बातों को... आप कहानी सुनोगे?

नेहा ने हाँ में सर हिलाया और उसका सुबकना कुछ कम हुआ| मैंने उसे हलकी सी हसने वाली कहानी सूना दी और वो सुनते-सुनते सो गई| कुछ देर बाद मुझे नींद सी आने लगी पर सोचा की एक बार मूत आऊँ|मैं मूत के हाथ धो के लौटा तो मन में एक अजीब सा एहसास हुआ...जैसे कोई मेरे बिना उदास है| मन ने कहा की एक बार भौजी को देख आऊँ, इसलिए मैं दबे पाँव बड़े घर की ओर चल दिया|वहाँ पहुँच के देखा तो भौजी दरवाजे की दहलीज पे बैठी हुईं थीं|
Reply
02-20-2019, 06:16 PM,
#69
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
64

मैं: Hey ! आप सोये नहीं अभी तक?

भौजी ने ना मैं सर हिलाया| मैं भी उकड़ूँ हो के उनके सामने बैठ गया|

मैं:OK बाबा! अब छोडो ना!

भौजी अब भी कुछ नहीं बोलीं|

मैं: अच्छा बाबा अब मैं ऐसा क्या करूँ की आप खुश हो जाओ|

भौजी: कुछ नहीं...आप सो जाओ... मैं भी जाती हूँ|

उनका जवाब बड़ा उकड़ा हुआ था, मानो वो मुझे नींद से जगाने के लिए खुद को कोस रहीं हों| भौजी उठीं और पलट के जाने लगीं तो मैंने उनका हाथ थाम लिया और उनको अपनी ओर खींचा| अब वो मुझसे बिलकुल सट के खड़ीं थीं|

मैं: देखो...बड़के दादा ने जो कहा उसे दिल से मत लगाओ| वो नहीं जानते की मेरी रूह पर सिर्फ ओर सिर्फ आपका ही हक़ है|

भौजी: नहीं... मुझे आपको नहीं उठाना चाहिए था|

मैं: हमारे बीच में कब से फॉर्मेल्टी आ गई? इसका मतलब की अगर मुझे रात को कुछ हो जाए तो मैं आपको उठाऊँ ही ना... क्योंकि आपकी नींद टूट जायेगी|

भौजी: नहीं.. नहीं... आपको जरा सी भी तकलीफ हो तो आप मुझे आधी रात को भी उठा सकते हो|

मैं: वाह! मैं आपको आधी रात को भी उठा सकता हूँ और आप मुझे रात दस बजे भी नहीं उठा सकते? Doesn’t make sense!

भौजी मेरी बात समझ चुकीं थीं और उन्होंने मुझे आगे बढ़ के kiss किया! पर मन जानता था की उनका मन अभी भी शांत नहीं है| इसलिए मैंने उनका हाथ पकड़ा और एक बार बहार से अंदर झाँका और देखा की कोई हमारी बातें सुन तो नहीं रहा| फिर मैंने उनका हाथ पकड़ा और खींच के बड़े घर के पीछे ले गया| कुछ देर पहले उनका भी मन था और मेरा भी... !! वहां ले जाके मैंने उन्हें दिवार के सहारे खड़ा किया और उन्हीने ताबड़तोड़ तरीके से चूमने लगा| भौजी की सांसें एज हो चलीं थीं परन्तु मेरा खुद पे काबू था| उन्हें चूमने के बाद मैंने उनकी साडी उठाई और मैं उसके अंदर घुस के घुटनों के बल बैठ गया और उनकी योनि को अपनी जीभ से कुरेदने लगा| जैसे ही मेरी जीभ की नोक ने उनकी योनि के कपालों को छुआ, भौजी के मुँह से लम्बी सी सिसकारी छूट गई; "स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स..अह्ह्हह्ह्ह्ह"| हाथों का प्रयोग न करते हुए मैंने उनकी योनि के द्वारों को अपनी जीभ की मदद से कुरेद के खोला और उनकी योनि में अपनी जीभ घुसा दी| भौजी की योनि अंदर से गर्म थी और उनका नमकीन रस जीभ पर घुलने लगा| मैं बिना जीभ को हिलाय ऐसे ही उनकी योनि में जीभ डाले मिनट भर बैठा रहा और इधर भौजी ने अपनी कमर हिलाके मेरी जीभ को अपनी योनि में अंदर बाहर करना शुरू का दिया; और “अह्ह्ह...अह्ह्ह..अंह्ह्ह” का शोर मचा दिया| परन्तु वो थकीं हुई थीं और ज्यादा देर तक कमर न हिला सकीं| करीब दस बार में ही वो थक गईं और फिर से दिवार की टेक लेके खड़ी हो गईं| अब मेरी बारी थी, मैंने जीभ को जितना अंदर दाल सकता था उतना अंदर डाला और जीभ को रोल करके बाहर लाया| इस हरकत ने भौजी को पंजों पे खड़ा कर दिया और उन्होंने अपने हाथ के बल से मेरा सर अपनी योनि पे दबा दिया| साफ़ संकेत था की उन्हें बहुत मजा आ रहा है| मैंने उसी प्रकार उनकी योनि के रस को पीना शुरू कर दिया| मैं अपनी जीभ को रोल करके खोलता हुआ उनकी योनि में प्रवेश करा देता और फिर से अंदर से बाहर की ओर रोल करता हुआ बाहर ले आता| भौजी बार-बार अपने पंजों पे उछलने लॉगिन थीं और अब ज्यादा समय नहीं था मेरे पास वरना घरवाले हम पे शक करते! इसलिए मैंने ये खेल छोड़ दिया और जीभ को तेजी से अंदर बाहर करने लगा..उनके "Clit" को चाटने-चूसने लगा..हलका-हल्का दाँतों से दबाने लगा| उनकी योनि के कपालों को मुँह में भर के खींचने लगा और भौजी चरमोत्कर्ष पर पहुँच ने ही वालीं थीं की मैंने अपनी जीभ को उनकी योनि में फिर से प्रवेश करा के अंदर से उनकी योनि को गुदगुदाने लगा| भौजी ने पूरी कोशिश की कि वो अपनी योनि से मेरी जीभ पकड़ लें पर जीभ इतनी मोती नहीं थी कि उनकी योनि कि पकड़ में आ जाए और इसी आनंद में भौजी ने अपना हाथ मेरे सर पे रखा और अपनी कमर को हिलाते हुए झड़ने लगीं| भौजी ने अपने रास को बिना रोके छोड़ दिया और वो मेरे मुँह में समाने लगा और काफी कुछ तो मेरे होठों से बाहर छलक के नीचे भी गिरने लगा| जब उनका झरना बंद हुआ तब मैं उनकी साडी के अंदर से निकला और वापस खड़ा हुआ| मेरे होठों के इर्द-गिर्द भौजी के रास कि लकीरें अब भी बानी हुई थीं जिसे भौजी ने अपने पल्लू से साफ किया| मैंने एक लम्बी सांस छोड़ी और भौजी कि ओर देखा तो वो संतुष्ट लग रहीं थीं|

जब दोनों कि साँसें ओर धड़कनें सामान्य हुईं तब मैंने उनसे कहा;

मैं: अब तो आप खुश हो?

भौजी: हाँ...

मैं: तो चलें?

भौजी: कहाँ?

मैं: सोने... और कहाँ|

भौजी: नहीं...आपने मुझे तो संतुष्ट कर दिया पर आप अभी संतुष्ट नहीं हो!

मैं: आप खुश तो मैं खुश! अब चलो जल्दी वरना कोई हमें ढूंढता हुआ यहाँ आ जायेगा!

भौजी: आप हमेशा ऐसा क्यों करते हो? मेरी ख़ुशी पहले देखते हो पर मेरा भी तो कुछ फर्ज बनता है आपके प्रति?

मैं: जर्रूर बनता है...पर इस समय आपको प्यार कि ज्यादा जर्रूरत थी| आपका मन उदास था इसलिए मैंने.... (मैं बात को अधूरा छोड़ दिया|)

भौजी: पर इन जनाब का क्या? (उन्होंने मेरी पेंट में उठे उभार की ओर इशारा करते हुए कहा|)

मैं: ये थोड़ी देर में शांत हो जायेगा|

भौजी: पर मुझे ये अच्छा नहीं लगता की आप मेरी ख़ुशी के लिए इतना कुछ करते हो ओर बदले में अगर मैं आपको कुछ देना चाहूँ तो आप कुछ भी नहीं लेते?

मैं: मैं कोई सौदागर नहीं हूँ जो आपकी ख़ुशी के बदले आपसे कुछ माँगू|

भौजी: हाय! कितनी खुश नसीब हूँ मैं जिसे आप जैसा पति मिला| ओर एक बात कहूँ जानू...जब आप इस तरह से पेश आते हो ना तो मन करता है की आपके साथ कहीं भाग जाऊँ|

मैं: मैं तो कब से तैयार हूँ....आप ही नहीं मानते| खेर.. अब चलो रात बहुत हो रही है ओर सुबह आपको उठना भी है|

भौजी: पर प्लीज let me try once!

मैं: देखो अभी समय नहीं है हमारे पास| इतनी जल्दी कुछ नहीं हो पायेगा आपसे!

भौजी: मैं कर लूँगी (इतना कह के उन्होंने मेरे लंड को पेंट की ऊपर से पकड़ लिया|

मैं: अगर नेहा जाग गई और मुझे अपने पास नहीं पाया तो फिर से रोने लग जाएगी|

भौजी: Next time आपने ऐसा किया ना तो मैं आपसे कभी बात नहीं करुँगी|

मैं: ठीक है ... बाबा अब जल्दी से मुस्कुरा दो ताकि मैं चैन से सो सकूँ|

भौजी मुस्कुराईं और आगे बढ़ के मुझे Kiss किया और फिर मैंने उन्हें बड़े घर के दरवाजे पे छोड़ा और वहीँ खड़ा रहा जबतक उन्होंने दरवाजा अंदर से बंद नहीं कर लिया| फिर मैंने हाथ-मुँह धोया और अपनी जगह आके नेहा के पास लेट गया|

सुबह मैं जान बुझ के जल्दी उठ गया वरना बड़के दादा भौजी को मेरी नींद तोड़ने के लिए फिर से डांटते|

भौजी: आप इतनी जल्दी क्यों उठ गए?

मैं: ऐसे ही.. माँ कह रहीं थी की जल्दी उठना चाहिए|

भौजी: जानती हूँ आप जल्दी क्यों उठे हो, ताकि मुझे पिताजी से डाँट न पड़े| आप सो जाओ...कोई कुछ नहीं कहेगा|

मैं: नहीं...अब नींद नहीं आएगी|

भौजी: क्यों जूठ बोल रहे हो आप| आपकी आँखें ठीक से खुल भी नहीं रही|

मैं: वो नहाऊँगा तो अपने आप खुल जाएगी... और रही बात नींद पूरी करने की तो वो मैं दोपहर में कर लूँगा|

खेर आज का दिन कुछ अलग ही था...सुबह से ही घर में बहुत चहल कदमी थी| पता नहीं क्या कारन था...मेरे पूछने पर भी किसी ने कुछ नहीं बताया| यहाँ तक की भौजी को भी इस बारे में कुछ नहीं पता था| मैं नाहा-धो के तैयार हुआ..और चूँकि आज संडे था तो नेहा मेरे पास अपनी किताब लेके आ गई|

उसकी किताब में बहुत से रंग-बिरंगे चित्र थे जैसे की छोटे बच्चों की किताबों में होते हैं| उसकी alphabets (वर्णमाला) की किताब सबसे ज्यादा रंगीन थी| मैं नेहा को A B C D पढ़ाने लगा, दरअसल मैं और नेहा बड़े घर के आँगन में बैठे थे और हमारी पीठ दरवाजे की ओर थी| इतने में भौजी चाय ले के आईं और मेरी ओर ट्रे बढ़ाते हुए बड़ी उखड़ी आवाज में बोलीं;

भौजी: आपसे मिलने कोई आया है!

मैंने आँखों की इशारे से पूछा की कौन है तो उन्होंने आँखों के इशारे से ही पीछे मुड़ने को कहा| जब मैं पीछे मुड़ा तो देखा वहां सुनीता खड़ी है| आज उसने पीले रंग का सूट पहना था ओर हाथ में किताबें थीं|

सुनीता: जब मेरे घर आये थे तो मुझे पड़ा रहे थे... और यहाँ इस छोटी सी बच्ची को पढ़ा रहे हो! क्या पढ़ाना आपकी हॉबी है?

मैं: (हँसते हुए) यही समझ लो ... अब आपकी हॉबी है गाना और गाना किसे पसंद नहीं पर पढ़ाना सब को पसंद नहीं है| कुछ तो चीज uncommon है हम में!

भौजी ने अपनी भौं को चाढ़ाते हुए मुझे देखा जैसे पूछ रही हो की ये सब क्या चल रहा है और मैं सुनीता की हॉबी के बारे में कैसे जानता हूँ|

मैं: ओह.. मैं तो आप दोनों का परिचय कराना ही भूल गया| ये हैं ....

सुनीता: (मेरी बात काटते हुए) आपकी प्यारी भौजी.. हम मिल चुके हैं... यही तो मुझे यहाँ लाईं....

मैं: ओह...

एक तरह से अच्छा हुआ की किसी ने दोनों का पहले ही परिचय करा दिया| क्योंकि मैं अब भौजी को भौजी नहीं कहता था...

मैं: तो बताइये कैसे याद आई हमारी?

इसके जवाब में उन्होंने एकाउंट्स की किताब उठा के मुझे दिखा दी| अब मेरा मन बहुत कर रहा था की मैं भौजी को थोड़ा चिडाऊं..तड़पाऊँ..जलाऊँ इसलिए मने आग में थोड़ा घी डाला|

मैं: (भौजी से) इनके लिए भी चाय लो दो!

भौजी ने मुझे घूर के देखा जैसे कह रहीं हो की क्या मैं इनकी नौकर हूँ पर जब उन्होंने मुझे मुस्कुराते हुए देखा तो मुझे जीभ चिढ़ा के चली गईं|

सुनीता मेरे सामने कुर्सी कर के बैठ गई और नेहा तो अपनी किताब के पन्ने पलट के देखने में लगी थी| सुनीता ने आगे बढ़ के उसके गालों को प्यार से सहलाया और बोली; "So Sweet !"| नेहा एक दम से मुझसे चिपट है और सुनीता से आँखें चुराने लगी|


मैं: बेटा... मैंने आपको क्या सिखाया था? चलो हेल्लो बोलो?

नेहा ने आँखें चुराते हुए हेल्लो कहा और फिर से मुझसे लिपट गई|

मैं: She’s very shy!

सुनीता: Yeah..I can understand that.

कुछ देर बाद भौजी आ गईं और सुनीता को चाय दे के जाने लगीं तभी उन्होंने देखा की हम पढ़ रहे हैं तो उन्होंने नेहा को अपने साथ चलने को कहा| मैं इस्पे भी चुटकी लेने से बाज नहीं आया;

मैं: कहाँ ले जा रहे हो नेहा को?

भौजी:खाना पकाने! (उन्होंने चिढ़ के जवाब दिया)

मैं: क्यों? बैठे रहने दो यहाँ...आपके पास होगी तो खेलती रहेगी|

भौजी: और यहाँ रहेगी तो आप दोनों को "अकेले: में पढ़ने नहीं देगी!

भौजी ने अकेले शब्द पे कुछ ज्यादा ही जोर डाला था| मतलब साफ़ था...वो भी मुझसे चुटकी लेने से बाज नहीं आ रहीं थीं| हमारी बात सुन सुनीता हंसने से खुद को रोक ना पाई और उसे हँसता देख भौजी जल भून के राख हो गईं और वहाँ से चली गईं|

सुनीता ने मुझे किताब खोल के दिखाई और अपने सवाल पूछने लगी|

हम पढ़ाई कर रहे थे...वाकई में पढ़ाई ही कर रहे थे ..तभी वहाँ बड़की अम्मा और माँ आ गए|

बड़की अम्मा: अरे बेटा... भोजन का समय होने वाला है तो भोजन कर के ही जाना|

सुनीता: आंटी... मतलब अम्मा...वो मैं...

माँ: नहीं बेटा...खाना खा के ही जाना|

सुनीता: जी!

अब खाने का समय हुआ तो हम दोनों का खाना परोस के बड़े घर ही भेज दिया गया, और सबसे बड़ी बात खाना परोस के लाया कौन, "भौजी"!!! अब तो भौजी अंदर से जल के कोयला हो रहीं थीं और मुझे भी बहुत अटपटा से लग रहा था की आखिर मेरे घरवाले इस लड़की की इतनी खातिर-दारी क्यों कर रहे हैं?

सुनीता: अरे भाभी...आप क्यों भोजन ले आईं, हम वहीँ आ जाते|

मैं जानता था की यार अब अगर तूने आग में घी डाला तो तेरा तंदूरी बनना पक्का है, इसलिए मैं चुप-चाप था|

भौजी: (बड़े प्यार से बोलीं..हालाँकि मुझे ऐसा लगा की ये प्यार बनावटी था) आप हमारी मेहमान हैं और मेहमान की खातिरदारी की जाती है|

सुनीता उनकी बातों से संतुष्ट थी पर ना जाने क्यों मेरा मन भौजी की बातों का अलग ही मतलब निकाल रहा था| खेर हम खाना खाने लगे और अभी हमने शुरू ही किया था की नेहा वहाँ आ गई और मेरे पास बैठ गई| अक्सर मैं और नेहा साथ ही भोजन करते थे या फिर मैं उसे भोजन करा कर खता था, इसलिए उसे इस बात की आदत थी| मैंने एक कौर नेहा की ओर बढ़ाया ओर भौजी उसे आँख दिखा के मना करने लगी| मैंने उनकी ये हरकत पकड़ ली;

मैं: क्यों डरा रहे हो मेरी बेटी को?

भौजी: नहीं तो..आप खाना खाओ, इसे मैं खिला दूँगी|

मैं: कल तक तो ये मेरे साथ खाती आई है तो आज आप इसे खिलाओगे? आओ बेटा...चलो मुँह खोलो... और मम्मी की तरफ मत देखो|

भौजी: क्यों बिगाड़ रहे हो इसे?

मैं: मैं इसे बिगाड़ूँ या कुछ भी करूँ...आपको इससे क्या?

भौजी कुछ नहीं बोलीं पर सुनीता को ये बात अवश्य खटकी;

सुनीता: भाभी..आप बुरा ना मानो तो मैं एक बात पूछूं?

भौजी: हाँ पूछो!

सुनीता: बेटी ये आपकी है...और दुलार इसे मानु जी करते हैं ...वो भी इस परिवार में सब से ज्यादा| जब से आई हूँ मैं देख रही हूँ की नेहा इन से बहत घुल-मिल गई है... मतलब आमतौर पे बच्चे चाचा से या किसी से इतना नहीं घुल्ते०मिल्ते जितना नेहा घुली-मिली है| प्लीज मुझे गलत मत समझना ...मैं कोई सज=हिकायत नहीं कर रही बस पूछ रही हूँ|

भौजी: दरअसल....

मैं: प्लीज.... Leave this topic here ! I don’t want to you guys to chit-chat on it.

बस इतना कह के मैं खाने से उठ गया| भौजी और सुनीता दोनों ने बहुत मानाने की कोशिश की पर मन नहीं माना और बाहर चला गया| एक तो पहले से ही सुनीता को स्पेशल ट्रीटमेंट दिए जाने से दिम्माग में उथल-पुथल मची थी और ऊपर से उसे भी यही टॉपिक छेड़ना था? मैंने हाथ-मुँह धोये और कुऐं की मुंडेर पर बैठ गया| कुछ समय बाद नेहा, भौजी और सुनीता तीनों बाहर निकले...मैं नहीं जानता दोनों क्या बात कर रहे थे पर तीनों मेरी ही ओर आ रहे थे| इससे पहले वो लोग मेरे पास पहुँचते मैं अकड़ दिखाते हुए खेतों की ओर चला गया| हमारे खेतों की मेढ पर एक आम का पेड़ था मैं उसी के नीचे बैठा सोच रहा था|

तभी वहाँ सुनीता आ गई और मेरे सामने खड़ी हो गई|

सुनीता: Wow! You actualy Love her (Neha)!

मैं: What?

सुनीता: आपकी भाभी ने मुझे सब बता दिया है|

मैं: सब?

सुनीता: हाँ... की आप नेहा को कितना प्यार करते हो? घर में कोई नहीं जो उसे इतना प्यार करे...यहाँ तक की उसके अपने पापा भी उसे वो प्यार नहीं देते जो आप देते हो| इसीलिए वो आपसे वही दुलार पाती है जो उसके पापा को करना चाहिए था| सच कहूँ तो जब मुझे पता चला की आप और आपकी भाभी अयोध्या में फंस गए हैं तो मैं घबरा गई थी| फिर पता चला की आप लोग सही सलामत घर आ गए हैं, तब जाके दिल को ठंडक पहुँची| इस सब का असली श्रेय आपको जाता है|

मैं: ऐसा कुछ भी नहीं है... अभी ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो आपको नहीं पता| मैंने कोई हीरो बनने वाला काम नहीं किया...बस वही किया जो मुझे करना चाहिए था|

सुनीता: But for us you’re a Hero.

मैं: That’s the worst part. Anyways… I don’t wanna talk about this. Let’s continue our studies.

सुनीता: आप में यही तो खूबी है की आप अपनी बढ़ाई नहीं सुन्ना चाहते|

मैं: शायद|

मैंने बात को वहीँ छोड़ दिया और हम वापस पढ़ाई करने बैठ गए| मन ही मन मुझे ऐसा लगा की भौजी ने खाना नहीं खाया होगा और इसलिए मैं सुनीता को बाथरूम जाने का बहाना मार के बाहर आ गया| भौजी को ढूंढा तो वो अपने घर में चारपाई पर लेटीं थीं|

मैं: आपने खाना खाया?

भौजी ने ना में सर हिलाया|

मैं: क्यों?

भौजी: क्योंकि आपने नहीं खाया|

मैं: ओके मुझे माफ़ कर दो... दरअसल मैं नहीं चाहता ता की आप उस बात का कोई जवाब दो, और फिर फिर भी आपने उसे सारी बात दी|

भौजी: हाँ पर आपके और मेरे रिश्ते के बारे में कुछ नहीं बताया?

मैं: पर आपको बताने की क्या जर्रूरत थी.. वो शहर में पढ़ी है और जर्रूरत से ज्यादा समझदार भी ऐसे में आपका उसे ये सब कहना ठीक नहीं था और मैं नहीं चाहता की कोई मेरी बेटी पे तरस खाए|

भौजी: मैंने कुछ गलत तो नहीं कहा|

मैं: (कुछ देर छुप रहने के बाद) आपका मूड क्यों खराब है? मैं आपसे बस थोड़ा मजाक कर रहा था...आपको जल रहा था..बस| हम दोनों के बीच में कछ भी नहीं है|

भौजी: जानती हूँ!... इतना तो भरोसा है मुझे आप पर| मगर...

मैंने मन ही मन सोचा की जो डर मुझे सता रहा था वो कहीं सही न निकले और सस्पेंस तब और बढ़ गया जब भौजी ने बात आधी छोड़ दी|
Reply
02-20-2019, 06:16 PM,
#70
RE: Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन
65

मैं: मगर क्या? Oh No..No..No… ये सब मेरी शादी का चक्कर तो नहीं?

भौजी कुछ नहीं बोलीं बस उनकी आँख से आंसूं की एक बूँद छलक के बाहर आई और बहती हुई उनके कानों तक चली गई|

मैं: मैं अभी पिताजी से बात करता हूँ|

भौजी: (सुबकते हुए) नहीं... प्लीज आपको ....

मैं: आपको पता है ना क्या होने जा रहा है और आप मुझे कसम देके रोक रहे हो?

भौजी: ये कभी न कभी तो होना ही था ना!

मैं: कभी होना था...अभी नहीं!

भौजी: क्या कहोगे पिताजी से? की मैं अपनी भौजी से प्यार करता हूँ और उनसे शादी करना चाहता हूँ|

मैं: हाँ

भौजी: और उसका अंजाम जानते हो ना?

मैं: हाँ ... वो हमें अलग कर देंगे|

भौजी: यही चाहते हो?

मैं: नहीं... पर अगर मैं उनसे सच नहीं बोल सकता तो कम से कम उन्हें कुछ सालों के लिए टाल अवश्य सकता हूँ| प्लीज मुझे अपनी कसम मत देना...आप नहीं जानते वो लड़की भी मुझसे शादी नहीं करना चाहती|

भौजी: क्या?

मैं: हाँ.. अयोध्या जाने से एक दिन पहले हम ठाकुर साहब के घर मिले थे और तब बातों-बातों में मुझे शक हुआ की कहीं यहाँ मेरे रिश्ते की आत तो नहीं चल रही और अपना शक मिटाने के लिए मैंने सुनीता से पूछा तो उसने मुहे कहा की वो ये शादी कतई नहीं करेगी|

भौजी मेरी बात से कुछ संतुष्ट दिखीं .... और मैंने ये सोचा की अभी मामला गर्म है और ऐसे में अगर मैंने हथोड़ा मारा तो कहीं बात बिगड़ ना जाये और वैसे भी मेरा मकसद था की पहले भौजी खाना खाएं क्योंकि व पेट से हैं| शायद भौजी को पता था की मैं उन्हें खाने के लिए अवश्य बोलने आऊंगा इसलिए उन्होंने पहले से ही खाना परोसा हुआ था जो खिड़की पर ढक के रखा हुआ था| मैंने थाली उठाई और उन्हें खाना खिलने लगा|भौजी ने मुझे भी खाना अपने हाथ से खिलाया और हुमा खाना खत्म होने ही जा रहा था की वहाँ नेहा और सुनीता आ गए|

सुनीता: हम्म्म … I knew there was something between you guys!

भौजी: Maybe you’re right. There’s something between us but that depends on who’s commenting on it. If you’re jealous you’ll call it an extra marital affair and you’ll go out screaming that these two are in relationship. But if you’re a true friend, which I think you’re then for you we’re just Good Friends!

भौजी की बात सुन के सुनीता एकदम से अवाक खड़ी उन्हें और मुझे घूरती रही| शायद उसने ये उम्मीद नहीं की थी की जो स्त्री साडी पहनती है और पहनावे में बिलकुल गाँव की गावरान लगती है वो इतनी फर्राटे दार अंग्रेजी कैसे बोल लेती है?

सुनीता: क्या आपने इन्हें अंग्रेजी बोलना.....

मैं: (उसकी बात काटते हुए) नहीं .. ये दसवीं तक पढ़ीं हैं उसके आगे नहीं पढ़ पाईं क्योंकि इनकी पढ़ाई छुड़ा दी गई|

सुनीता: भाभी I gotta say, I’m impressed!

भौजी: Thank You!

सुनीता: मैं वादा करती हूँ ये बात किसी को पता नहीं चलेगी|

भौजी: Appreciated !!!

खेर बात खत्म हुई और कुछ देर बाद सुनीता अपने घर चली गई|

शाम के पांच बजे ...और आज चाय रसिका भाभी ने बनाई थी| अब चूँकि मैं उनके हाथ का बना कुछ भी नहीं खाता था तो जब वो चाय लेके आईं तो भौजी का गुस्सा जिसे मैंने अपने प्यार से दबा रखा था फुट ही पड़ा;

भौजी: (गरजते हुए) तू....

मैं: (उनकी बात बीच में काटते हुए) प्लीज शांत हो जाओ .... आपको मेरी कसम!

भौजी: निकल जा और ले जा ये चाय... इन्होने अपनी कसम दे दी वरना आज तेरी खेर नहीं थी|

मैं कुछ नहीं बोला और सर झुका के बैठा हुआ था|

भौजी: आप क्यों सर खुका के बैठे हो?

मैं: मैं एक अच्छा पति नहीं साबित हो सका|

भौजी: क्या? ये आप क्या कह रहे हो?

मैं: मेरा फ़र्ज़ है की मैं आपको खुश रखूँ ... पर मेरी वजह से तो आप और तनाव में घिरते जा रहे हो|

भौजी: नहीं .... नहीं... ऐसा कुछ नहीं है| आप ने तो सच बता के मेरा भरोसा कायम रखा है|

मैं: खेर छोडो इस बात को... क्योंकि आप कभी भी नहीं मानोगे|

भौजी: इसलिए नहीं मानती क्योंकि आप गलत कह रहे हो| मेरी नजर में आप सबसे बेस्ट Father हो! नेहा आपका खून नहीं फिर भी उसे आप अपने बच्चे के जैसा ही चाहते हो!

मैं: ओह प्लीज! अब मेरा गुणगान बंद करो| मैं उसे प्यार करता हूँ पर शायद आपसे कम|

भौजी: आपको नहीं पता की आपकी इन्हीं आदतों से लोग मेरी किस्मत पर जलने लगते हैं|

मैं: ऐसा कौन है जो आपसे जलता है| सिवाय रसिका भाभी के!!!

भौजी: मेरी अपनी बहन शगुन! उसे हमारे बारे में ज्यादा तो नहीं पता पर हाँ जितना कुछ भी उसे भाई से पता चला उससे वो जली हुई है और उसे कहीं-कहीं बड़ा मजा भी आया|

मैं: तो आपको मेरे जरिये लोगों को जलाने में बड़ा मजा आता है?

भौजी: हाँ कभी-कभी!!! ही..ही..ही... लोगों को लगता है की कोई मुझे इतना प्यार करता है...

आग भौजी के कुछ कहने से पहले ही मैंने उनके होठों को चूम लिया|

भौजी: उम्म्म ...

मैं: अच्छा बस! अब मुझे पिताजी से बात करने जाने दो|

भौजी: प्लीज सम्भल के बात करना! कुछ ऐसा-वैसा मत बोलना.... और अगर वो जोर दें तो बात मन लेना!

मैं: वो तो नहीं हो सकता|

भौजी मुँह बनाने लगीं और मैं बाहर आके पिताजी को ढूंढने लगा| पिताजी भूसे वाले कमरे के बाहर चारपाई पे अकेले बैठे थे| मैं उनके पास पहुँचा और उनका चेहरा ख़ुशी से चमक रहा था| मन तो नहीं किया की उनकी ख़ुशी उनसे छें लूँ पर मैं भौजी के साथ धोका नहीं करना चाहता था| पता नहीं क्यों पर मेरे दिमाग में बस यही बात चल रही थी| हालाँकि हमारे रिश्ते की परिभाषा ही इतनी अनोखी है की उसे सुनने वाला उसका कुछ अलग ही मतलब निकलेगा| जब मैं पिताजी के सामने चुप-चाप खड़ा अपने विचारों में गुम था तो पिताजी ने स्वयं ही मुझसे पूछा;

पिताजी: अरे भई लाड-साहब .. आओ-आओ बैठो!

मैं: जी आपसे कुछ पूछना था|

पिताजी: यही ना की आज सुनीता आई थी और..... (पिताजी ने बात अधूरी छोड़ दी)

मैं: जी... क्या आप लोग मेरी शादी की सोच रहे हैं?

पिताजी: हाँ बेटा... ठाकुर साहब ने तुम्हारी बड़ी तारीफ सुनी है और उन्होंने ही ये रिश्ता भेजा है| उस दिन जब तुम आये थे तब उन्होंने हमें इसी बात के लिए बुलाया था|

मैं: पर आप जानते हैं ना की मैं अभी और पढ़ना चाहता हूँ|

पिताजी: हाँ बेटा...और सुनीता भई अभी और पढ़ना चाहती है| ठाकुर साहब का कहना है की अभी रोका कर देते हैं! शादी जब दोनों की पढ़ाई पूरी हो जाएगी तब करेंगे|

मैं: पर आप जानते हैं की सुनीता भी शादी नहीं करना चाहती|

पिताजी: क्या?

मैं: जी... उस दिन मुझे शक हो गया था इसलिए मैंने सोचा की एक बार सुनीता से पूछूं की उसके मन में क्या है? कहीं वो भी तो माधुरी जैसी नहीं!

पिताजी: पर ठाकुर साहब ने तो हमें ये कहा की सुनीता इस शादी के लिए तैयार है और जबतक मानु हाँ नहीं कहता शादी नहीं होगी|

मैं: पिताजी...अब आप ही सोचिये की ये हमारे साथ ये दोहरा मापदंड क्यों अपना रहे हैं! उनकी खुद की लड़की शादी के लिए तैयार नहीं है और वो उसके साथ जबरदस्ती कर रहे हैं| और आप ये बताइये की आप उनके घर क्यों गए रिश्ते के लिए?

पिताजी: बेटा उन्होंने हमें एक खेत बेचने के लिए बुलाया था| बातों-बातों में उन्होंने शादी की बात छेड़ दी| पर हमने साफ़ कह दिया की लड़का अभी पढ़ रहा है और उसकी मर्जी के खिलाफ हम कुछ नहीं कर सकते| हालाँकि वो कह रहे थे की लड़का आपका है और ऐसे में मेरी मर्जी चलेगी पर इन दिनों में जो कुछ हुआ उससे हमें यकीन हैं की तुम कोई गलत फैसला नहीं करोगे| खेर हम घर में बात करते हैं इस मुद्दे पे|

प्याजी इतना कह के बड़के दादा को ढूंढते हुए खेतों की ओर चले गए|

मैंने अपनी तरफ से सारी बातें साफ़ कर दीं थीं और अब मन चैन की रहत ले सकता था परन्तु कहीं तो कुछ था जो अभी भी सही नहीं था..भौजी अब भी उतनी खुश नहीं थीं जितना मैं उन्हें पिछले कुछ दिनों से देख रहा था| आखिर किस की नजर लग गई थी हमारे प्यार को? ऐसा क्या करूँ की वो पहले की तरह खुश रहे?

रात होने लगी थी और भौजी रात्रि भोज का प्रबनध करने में लगीं थीं| खाना बन गया र जब खाने की बारी आई तो हालांकि मेरा मन नहीं था खाने का परन्तु पिताजी के दबाव में भोजन करने बैठ ही गया| जब भोजन के दौरान सुनीता और मेरी शादी के मसले पर ही बात चल रही थी| आखरी फैसला ये हुआ की अबकी बार ठाकुर साहब यहाँ आएंगे और सारी बातें साफ़ करेंगे जिसमें सुनीता का मर्ज़ी शामिल होगी| आखरी फ़ासिला मुझ पे छोड़ा गया की जैसा मैं ठीक समझूँगा वही होगा| भोजन करके उठा तो दिल ने कहा की भौजी खाना नहीं खानेवाली और हुआ भी यही| मैं भोजन के उपरान्त तख़्त पे बैठ हुआ था और नेहा मेरे पास ही बैठी हुई थी| भौजी सब का खाना परोस के चली गईं, जब अम्मा ने उनसे खाने को कहा तो उन्होंने कह दिया की वो बाद में खा लेंगी| आखिर मुझे उनको कैसे भी खाना खिलाना था तो मैं ही उनके पास उनके घर में गया;

मैं: तो मलिकाय हुस्न .. आज खाना नहीं खाना है? (मैंने माहोल को थोड़ा हल्का करना चाहा|)

भौजी: भूख नहीं है!

मैं: अब आप क्यों दुखी हो? मैं शादी नहीं कर रहा!

भौजी: आज नहीं तो कल तो होगी ही!

मैं: कल की चिंता में आप अपना आज खराब करना चाहते हो? कम से कम हम आज तो खुश हैं...

भौजी: पर कल का क्या?

मैं: अगर आपको कल की ही चिंता करनी थी तो क्यों नजदीक आय मेरे? आप जानते थे न की हमारे रिश्ते में हम कल के बारे में नहीं सोच सकते? क्यों आने दिया मुझे खुद के इतना नजदीक की आपके खाना ना खाने से मुझपे क़यामत टूट पड़ी है|

मेरी बातें उन्हें चुभी अवश्य होंगी पर भौजी कुछ नहीं बोलीं और ना ही रोईं|

मैं: ठीक है...जैसी आपकी मर्जी हो वैसा करो... पर हाँ ये याद रखना की एक जिंदगी और भी आपसे जुडी है!

मैं जानता था की अगर मैंने इन्हें कसम से बाँध भी दिया तो भी ये बेमन से खाना तो खा लेंगी पर इनके चेहरे पे वो ख़ुशी कभी नहीं आएगी जो मैं देखना चाहता था| पर दिल कह रहा था की भौजी खाना खा लेंगी! मैं बाहर आया और अम्मा से कहा;

मैं: अम्मा...आप खाना परोस दो! मैं रख आता हूँ अगर मन किया तो खा लेंगी|

बड़की अम्मा: मुन्ना... तुम बोलो उसे वो जर्रूर मान जाएगी| तुम्हारी बात नहीं टालेगी!

मैं: जानता हूँ अम्मा पर मुझे नहीं पता की आखिर उन्हें दुःख क्या है? और मेरे कहने से वो खाना खा लेंगी पर खुश नहीं रहेंगी! और इस समय उनका खुश रहना ज्यादा जर्रुरी है|

मैंने थाली को ढका और उनके कमरे में स्टूल के ऊपर रख दिया और चुप-चाप वापस आ गया| नेहा को कहानी सुनाई और वो सो गई... पर मैं सो ना सका| करवटें बदलता रहा पर दिल को चैन कहाँ?
हार के मैं उठ के बैठ गया और गंभीर मुद्रा में सर झुका के सोचने लगा| दिमाग में केवल भौजी की तस्वीर थी…. वही उदास तस्वीर!!! करीब दस बजे भौजी के घर का दरवाजा खुला और भौजी बाहर निकलीं ... उनके हाथ में थाली थी... को अब खाली थी| मतलब कम से कम उन्होंने खाना तो खा लिया था| भौजी थाली रख के मेरे पास आईं;

भौजी: मैंने खाना खा लिया!

मैं: Good !

भौजी: अब आप क्यों उदास हो?

मैं: "बाहार ने फूल से पूछा की; तू क्यों खामोश है? जवाब में फूल ने बाहार से कहा क्योंकि फ़िज़ा उदास है!"

मेरी इस बात का मतलब भौजी समझ चुकीं थी की मेरी उदासी का कारन उनका उदास रहना है| भौजी खड़ी होक मुझे देखती रहीं और फिर मेरा हाथ पकड़ के अंदर घर में ले आईं और दरवाजा बंद कर दिया|

भौजी: जानू.... आप मुझसे इतना प्यार क्यों करते हो! मेरे खाना ना खाने से...खामोश रहने से आप उखड क्यों जाते हो?

मैं: मैं खुद नहीं जानता की मैं आपको इतना टूट के क्यों प्यार करता हूँ!

मैंने अपनी बाहें फैला के उन्हें गले लगना चाहा और भौजी भी मुझसे लिपट के मेरे सीने में सिमट गईं| उनके गले लगने से जो एहसास हुआ उसे व्यक्त करना संभव नहीं है| पर हाँ एक संतुष्टि अवश्य मिलीं की अब उनके मन में कोई चिंता या द्वेष नहीं है|मैंने उनके सर को चूमा और उन्हें खुद से अलग किया और लेटने को कहा| भौजी लेट गईं और मैं भी उनकी बगल में लेट गया| उन्होंने फिर से मेरे दाहिने हाथ को अपना तकिया बनाया और मुझसे लिपट के बोलीं;

भौजी: कल रात जब मेरा मन खराब था तो आपने मेरा ख़याल रखा था... हालाँकि मेरी उदासी का कारन आप नहीं थे पर फिर भी आपने मेरा ख़याल रखा| पर आज मैं आपकी वजह से उदास नहीं थी बस इस वजह से उदास थी की मैं आपको खो दूँगी... पर आपका कहना की हमें कल की चिंता नहीं करनी चाहिए, क्या इसका मतलब ये है की आपकी शादी के बाद भी आप मुझे उतना ही प्यार करोगे जितना अभी करते हो?

मैं: अगर शादी के बाद भी मैं आपको उतना ही प्यार करूँगा तो क्या ये उस लड़की से धोका नहीं होगा? फिर भला मुझ में और चन्दर भैया क्या फर्क रह जायेगा? हाँ मेरे दिल में जो आपके लिए जगह है वो हमेशा बरक़रार रहेगी| मैं जितना प्यार नेहा से करता हूँ हमेशा करूँगा पर आप और मैं तब उतना नजदीक नहीं होंगे जितना अभी हैं|

भौजी: आपकी ईमानदारी मुझे पसंद आई... और सच कहूँ तो मुझे आपसे इसी जवाब की अपेक्षा थी|

मैं भौजी के बालों में हाथ फिरा रहा था और मुझे ऐसा लगा जैसे वो सो गईं हों| इसलिए मैंने धीरे से अपना हाथ उनके सर के नीचे से निकाला| जब मैं उठ के जाने लगा तो उन्होंने मेरी बांह पकड़ ली और बोलीं;

भौजी: जा रहे हो?

मैं: हाँ....

भौजी: आप कुछ भूल नहीं रहे?

मैं: याद है!

उनका इशारा Good Night Kiss से था| मैंने उनके होठों को चूमा और उठने लगा|

भौजी: नहीं ये नहीं .... और भी कुछ था!

मैं: क्या?

भौजी: अगर आप मेरी उदासी का इलाज कर सकते हो तो मैं क्यों नहीं?

मैं: पर मैं उदास नहीं हूँ|

भौजी: खाओ अपने बच्चे की कसम|

ऐसा कहते हुए उन्होंने मेरा हाथ अपनी कोख पे रख दिया| मैं जूठी कसम नहीं खा सकता था इसलिए चुप था| मेरी उदासी का कारन शादी था| मैं इस बात को भूल ही गया था की शादी के बाद में उस लड़की के साथ कैसे एडजस्ट करूँगा? कैसे भूल पाउँगा की भौजी अब भी मेरा इन्तेजार कर रहीं हैं? भले ही वो मुंह से ना बोलें पर मैं तो जानता ही हूँ की उनका मन क्या चाहता है? इसका एक मात्र इलाज था की मैं उन्हें भगा के ले जाऊँ! पर क्या मैं उनकी और नेहा की जिम्मेदारी उठाने को तैयार हूँ? और उस बच्चे का क्या जो अभी इस दुनिया में आने वाला है?

मैं: हाँ मैं उदास हूँ!

मैंने हाथ भौजी की कोख से उठाया और मैंने बहुत कोशिश की कि मैं अपनी ये उधेड़-बुन उनसे छुपा सकूँ इसलिए मैंने उन्हें जूठ बोल दिया की आज मेरे उदास रहने का कारन, आपके चेहरे पे वो मुस्कान का ना होना है जो पहले हुआ करती थी|

भौजी: अब आपकी उदासी का कारन मैं हूँ तो मेरा फ़र्ज़ है की मैं आपका ख़याल रखूं|

मैं: नहीं... उसकी जर्रूरत नहीं है| आपकी एक मुस्कान मेरी दासी गायब करने के लिए काफी है|

भौजी: क्यों जर्रूरत नहीं? आप मेरी इतनी चिंता करते हो... मेरे लिए इतना कुछ करते हो तो क्या मेरा मन यहीं करता की मैं भी आपको उतना ही प्यार दूँ|

मैं: पर मैंने कब कहा की...

भौजी: (बीच में बात काटते हुए... और अपना पूरा हक़ जताते हुए) पर वर कुछ नहीं| मैंने आपसे आपकी इज्जाजत नहीं माँगी है| चलिए आप मेरे पास लेटिए?

मैं अब और क्या कहता.... लेट गया उनकी बगल में और जानता था की आगे वो क्या करने वाली हैं|
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 98 122,329 54 minutes ago
Last Post: kw8890
Star Maa Bete ki Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल sexstories 102 5,658 8 hours ago
Last Post: sexstories
Star Adult kahani पाप पुण्य sexstories 207 570,328 11-24-2019, 05:09 PM
Last Post: Didi ka chodu
Lightbulb non veg kahani एक नया संसार sexstories 252 97,265 11-24-2019, 01:20 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Parivaar Mai Chudai अँधा प्यार या अंधी वासना sexstories 154 81,314 11-22-2019, 12:47 PM
Last Post: sexstories
Star Gandi Sex kahani भरोसे की कसौटी sexstories 54 98,173 11-21-2019, 11:48 PM
Last Post: Ram kumar
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई sexstories 27 115,710 11-18-2019, 01:04 PM
Last Post: siddhesh
Thumbs Up Porn Story चुदासी चूत की रंगीन मिजाजी sexstories 32 138,563 11-17-2019, 12:45 PM
Last Post: lovelylover
  Dost Ne Kiya Meri Behan ki Chudai ki desiaks 3 24,830 11-14-2019, 05:59 PM
Last Post: Didi ka chodu
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 69 559,734 11-14-2019, 05:49 PM
Last Post: Didi ka chodu



Users browsing this thread: 3 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Bubs se dhud nikelta photohttps://internetmost.ru/widgetok/Thread-chudai-story-%E0%A4%85%E0%A4%A8%E0%A5%8B%E0%A4%96%E0%A5%80-%E0%A4%9A%E0%A5%81%E0%A4%A6%E0%A4%BE%E0%A4%88?page=3डरा धमकाकर कर दी चुड़ैजावन भाल bhen की gand marwati khaniyasavita bhabhi bobas hd indiasexxxshamna kasim nagi photoRituparna aur Sasti kar xx moviePatthar ki full open BP nipple choosne walihindi bhid bhri bus me choti bahan ko bhai ke samny god me betha cudai storybadee chate balichoot chudainagadya sexy hirohin sexxxvideoteler ला zavlimaliyana suhagrat. Xxx.movie. porn 24लपक लपक कर बोबा चूसाबचा ईमोशन कैशे करते तारक मेहता का एक्ट्रेस सेक्स फोटो बाबाvishalbody लेडी pornसुबह करते थे सत्संग व रात को करते थे ये काम Sex xxxamyra dastur pege nudeaditi bhatia ki sex baba nude picsbhabhi ko chodna SikhayaxxxxTelugu said auntys nudeimages sexbaba.comमै और मेरा परिवार सेक्स कहानी सेक्सबाबा नेटmight tila zavu lagloekka khubsurat biwi ne dusare adami se chudayakirayabali ki kamsin beti e chudai ki kahani hindi mewww antarvasnasexstories com incest mujhe mere apnon ne chodahindi sex stories thand ke month me maa ki seal todi raat me chudai ki15साली की वडकी का सेकसी विडी वोDise bhosde or dise big land xxnxsurveen chawala faked photo in sexbabachudai chut me camera lagakesexraj sexy bathrum puche videvoकविता कि गाँङ मारीgalli dakar cudai ki kahani Hindi meNeha kakkar porn photo HD sex baba लैंड फुद्दी म डालना दिखायोsexbaba .com xxx actress gif sote waqtChoda sagi sis koSexy mal phootsXxxxhdbf panjabi bhabi मस्त नारायणी की चुतXXX बड़े चौड़े चुतड़ भीड़ मे गांड़ मसलवाने की कहानीxxxxxxxxxxx बरी मोटी गाँड लरकिCharamsukh incest kahanianti beti aur kireydar sexbaba sonakshhi ki nangixxxphotosrupali thakurain ko devar tej ne chodapapa ke sath ghar basaya sexstorieचुदक्कड़ अम्मी, रंडी खाला और नानी घर के सभी मरद से चुदवाती हैमारटी मालग झवझवीpradeep nisha ki chut kese fadta hBhabhi ne chut me bhata dalasexwww.nude.tbbu.sexbaba.comKapde bira ladki xxx photanterwasna saas bhabhi aur nanand ek sath storiesईडीयन सेकससूनीचूत https://xxxxvido hindi desi jabrjsti chuddaiSali bar bar chila rahi jhi nikalo dard ho raha hay abhi aadha gaya hay sirf urdu kahani mainlambada Anna Chelli sex videos comSUBSCRIBEANDGETVELAMMAFREE XXमम्मी से शादी sexbabakuteyake chota mare adme ne bideoबस कसकस विडीयो xxxमै अपने लडँ से अपने घर कि औरतो कि चुत की प्यास बुझाताबूर चौदत आहेma ko khidkike pichhe se chodaiaa aa jor se ghus Gaya bahar nikalo chudai videoदिपिका पादुकोण का चडि और बरोnasamajh ladki ko land chusayanushrat bharucha photo XXX Babawww xvideos com video45483377 8775633 0 velamma episode 90 the seducerRasiligandwww.mugdha chapekar ki full nangi nude sex image xxx.comrbd lgane se sekxy kroo too grbh nhi rukegaxxx khun nikala asa video bf khatarnak jangal kaAntarvasna bimari me chudai karwai jabrdastihdporn video peshb nikal diyagaon ki biwi ko gand maraBaji bivi or ammi rakhael bnni saxy kahani