Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुनियाँ
04-25-2019, 11:55 AM,
#31
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
अशोक की मुश्किल
भाग 7

महुआ की फ़तह…




गतांक से आगे…
जल्दी सो जाने के कारण दूसरे दिन दोनों की नींद जल्दी खुल गई। रोजमर्रा के कामों से निबट के महुआ ने चाय और नाश्ता बनाया, फ़िर दोनों ने ब्रेड अण्डे के साथ जम के नाश्ता किया।
चाचा बैठक मे आकर बैठ गये और महुआ को बुलाया जब महुआ आई तो चाचा बोले –“महुआ बेटी कल के इलाज से तू सुपाड़े के अलावा एक इन्च और लण्ड अपनी चूत में लेने में कामयाब रही इसका मतलब अगर हम दोनों मेहनत करें तो शायद एक हफ़्ते से भी कम में तू अशोक से पूरा लण्ड डलवा के चुदवाने लायक बन सकती है मेरे कहे मुताबिक लगातार इलाज करवाती रहे। यहाँ इस अकेले घर में हम दोनों को और कोई काम तो है नहीं सो क्यों न हमलोग लगातार इलाज मन लगाकर इस काम को जल्द से जल्द खत्म करने की कोशिश करें?” 
महुआ –“ठीक कहा चाचाजी। मैं भी जल्द से जल्द अशोक के लायक बन के उसे दिखाना चाहती हूँ।
चन्दू चाचा –“तो ऐसा कर ये साड़ी खराब करने के बजाय अगर स्कर्ट ब्लाउज हो तो साड़ी उतार के स्कर्ट ब्लाउज पहन ले। 
उधर महुआ स्कर्ट ब्लाउज पहनने गई इधर चन्दू चाचा ने अपना मलहम का डिब्बा बैग से निकाल के महुआ की चूत के इलाज की पूरी तैयारी कर ली। चन्दू चाचा ने स्कर्ट ब्लाउज पहने महुआ को आते देखा। स्कर्ट ब्लाउज में उसके बड़े बड़े खरबूजे जैसे स्तन और भारी चूतड़ थिरक रहे थे ।
चन्दू चाचा ने हाथ पकड़कर उसे अपनी गोद में खींच लिया। उनकी गोद में बैठते ही महुआ ने चन्दू चाचा का लण्ड अपनी स्कर्ट में गड़ता महसूस किया। उसने अपने चूतड़ थोड़े से उठाये और चन्दू चाचा की धोती हटा के उनका लण्ड नंगा किया और अपनी स्कर्ट ऊपर कर चन्दू चाचा का लण्ड अपने गुदाज चूतड़ों मे दबा कर बैठ गई
चन्दू चाचा ने उसका ब्लाउज खोलते हुए कहा- वाह बेटी ऐसे ही हिम्मत किये जा।
बटन खुलते ही महुआ ने ब्लाउज उतार दिया । चन्दू चाचा उसके खरबूजे सहलाने दबाने और निपल मसलने लगे। कुछ ही देर में महुआ के मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी। अचानक महुआ ऊठी और चन्दूचाचा की तरफ़ मुँह घुमाकर उनकी गोद में दोनों तरफ़ पैर कर बैठ गई । चन्दू चाचा ने देखा महुआ की चूचियाँ उनके मसलने दबाने से लाल पड़ गई हैं। अब महुआ की चूत चन्दूचाचा के लण्ड पर लम्बाई मे लेट सी गई। महुआ ने अपने एक स्तन का निपल चन्दूचाचा के मुँह में ठूँसते हुए सिसकारी भरते हुए कहा कहा –“ स्स्स्स्ससी इलाज शुरू करो न चाचा।”
चन्दू चाचा –“अभी लो बेटा।”
कहकर चन्दू चाचा ने अपना मलहम निकाला और महुआ की चूत की फ़ाँके खोल फ़ाँकों के बीच थोप दिया फ़िर अपने लण्ड के सुपाड़े पर भी मलहम थोपा और उसे महुआ के हाथ में पकड़ा दिया और अपने दोनों हाथों से उसकी बड़ी बड़ी खरबूजे जैसी चूचियाँ थाम सहलाने, दबाने, उनपर मुँह मारने निपल चूसने चुभलाने में मस्त हो गये। उनकी हरकतों से उत्तेजित महुआ ने उनका लण्ड अपने हाथ में ले अपनी चूत के मुहाने पर रखा और सिसकारियाँ भरते हुए अपनी चूत का दबाव लण्ड पर डाला। पक से सुपाड़ा चूत में घुस गया । मारे मजे के महुआ और चन्दू चाचा दोनों के मुँह से एक साथ निकला –
“उम्म्म्म्म्म्म्म्ह”
उसी समय चाचा चन्दू चाचा ने हपक के उसकी बड़ी बड़ी चूचियों पर मुँह मारा । दरअसल चाचा को महुआ की बड़ी बड़ी खरबूजे जैसी चूचियों में ज्यादा ही मजा आ रहा था इसीलिए उनकी सहलाने, दबाने, उनपर मुँह मारने निपल चूसने चुभलाने की रफ़्तार में तेजी आती जा रही थी। जैसे जैसे उनकी रफ़्तार बढ़ रही थी वैसे वैसे महुआ भी अपनी चूत का दबाव लण्ड पर बढ़ा रही थी और उसकी चूत मलहम के कमाल से रबड़ की तरह फ़ैलते हुए चन्दू चाचा का लण्ड अपने अन्दर समा रही थी। जब लण्ड अन्दर घुसना बन्द हो गया तो महुआ ने नीचे झुक कर देखा आज, कल के मुकाबले एक इंच ज्यादा लण्ड चूत में घुसा था इस कामयाबी से खुश हो चुदासी महुआ अपनी कमर चला के चाचा के लण्ड से चुदवाने लगी।
चन्दू चाचा –“शाबाश बेटा इसी तरह मेहनत किये जा, तू जितनी मेहनत करेगी, उतनी ही जल्दी तुझे कामयाबी मिलेगी और अशोक को ताज्जुब से भरी खुशी होगी और वो तेरा दीवाना हो जायेगा।”
अगले पाँच दिन चन्दू चाचा और महुआ ने चुदाई की माँ चोद के रख दी। चाहे बिस्तर में हों, बैठक में, रसोई में या बाथरूम में जरा सी फ़ुरसत होते ही चन्दू चाचा महुआ को इशारा करते और दोनों मलहम लगा के शुरू हो जाते पाँचवें दिन शाम को दोनों इसी तरह कुर्सी पर बैठे चुदाई कर रहे थे और कि अचानक महुआ चन्दू चाचा का पूरा लण्ड लेने में कामयाब हो गई वो खुशी से किलकारी भर उठी बस फ़िर क्या था चन्दू चाचा ने उसे गोद में उठाया और ले जा के बिस्तर पर पटक दिया और बोले –“शाबाश बेटा आज तू पूरी औरत बन गई अब सीख मर्द औरत की असली चुदाई, तेरा आखरी पाठ।”
ये कह चन्दू चाचा ने महुआ की हवा में फ़ैली दोनों टांगे उठाकर अपने कंध़ों पर रख लीं
अपने फ़ौलादी लण्ड का सुपाड़ा उसकी अधचुदी बुरी तरह से भीगी चूत के मुहाने पर रखा और एक ही धक्के में पूरा लण्ड ठाँस दिया और धुँआधार चुदाई करने लगा। महुआ को आज पहली बार पूरे लण्ड से चुदाने का मजा मिल रहा था सो वो अपने मुँह से तरह तरह की आवाजें निकालते हुए चूतड़ उछाल उछाल के चुदा रही थी। जिस तरह महुआ चूतड़ उछाल रही थी उसे देख चन्दू चाचा बोले-
“शाबाश बेटी अब मुझे पूरा भरोसा हो गया कि तू अशोक को खुशकर वैद्यराज चुदाईआचार्य चोदू चन्द चौबे चाचा उर्फ़ चोदू वैद्य का नाम ऊँचा करेगी।” 
चन्दू चाचा भी आज पाँच दिनों से मन मार कर आधे अधूरे लण्ड से चुदाई कर कर के बौखलाये थे सो आज पूरी चूत मिलने पर धुँआधार चोद रहे थे। दोनों की ठोकरों की ताकत और जिस्म टकराने की फ़ट फ़ट की आवाज बढ़ती जा रही थी आधे घण्टे की धुँआधार चुदाई के बाद अचानक महुआ के मुँह से निकला – 
" अहह और जोर से चोदू चाचा जल्दी जल्दी ठोक मेरी चूत, वरना झड़ने वाली है चाचा उफफफफफफफइस्स्सआःाहहहउम्म्महह"
चन्दू चाचा –“ ले अंदर और ले मैं भी अहहहहहहहहहहहहहहहहाहोह "
और दोनों झड़ गये। साँसों पे काबू पाने के बाद महुआ ने चाची को फ़ोन मिलाया।
जब फ़ोन की घण्टी बजी, उस समय चम्पा चाची पलंग पर लेटी दोनों टाँगे फ़ैलाये अशोक के लण्ड से अपनी चूत कुटवा रही थी उनका गदराया जिस्म अशोक के पहाड़ जैसे बदन के नीचे दबा हुआ था और अशोक उन्हें रौंदे डाल रहा था। चम्पा चाची बड़बड़ा रही थीं –“हाय इस लड़के का तो मन ही नहीं भरता, अरी महुआ! देख तेरा आदमी चाची को पीसे डाल रहा है अहह अहहहहहहहहहहहहहहहहाहोह!”
तभी फ़ोन की घण्टी बजी चाची ने लेटे लेटे चुदते हुए फ़ोन का स्पीकर आन किया और हाँफ़ती सी आवाज में कहा –“हलो!”
महुआ –“हलो चाची! हाँफ़ रही हो क्या अशोक ज्यादा ही थका रहा है?”
महुआ ने चाची को छेड़ा ।
चम्पा चाची(अशोक की कमर में टाँगे लपेट मुँह पे उंगली रख और आँखें तरेर कर आवाज न करने और चुदाई धीमी करने का इशारा करते हुए)-“अरे नहीं रसोईं की तरफ़ थी सो फ़ोन उठाने के लिए दौड़ के आई इसीलिए साँस उखड़ रही है।” चाची ने झूठ का सहारा लिया।
महुआ –“छोड़ो चाची! अब मैं बच्ची नहीं रही चन्दू चाचा ने मेरा इलाज कर मुझे जवान औरत बना दिया आप की टक्कर की, सो फ़िकर ना करें मैं कल सुबह आ रही हूँ आपको अशोक की तरफ़ से दी जाने वाली इस रोज रोज कि थकान और हाँफ़ी से छुटकारा दिलाने।”
जवाब में अशोक ने चाची की चूत में जोर का धक्का मारते हुए कहा –“शाबाश महुआ! जल्दी से आजा ! मेरा मन तुझसे जल्द जल्द कुश्ती करने को हो रहा है।”
महुआ –“बस आज और सबर करो राजा! कल से तो अपनी कुश्ती रोज ही होगी और सबर भी क्या करना, तुम तो साले वैसे भी मजे कर ही रहे हो, इस खबर की खुशी में और जी भर के चाची को खुश करो और उनका आशीर्वाद लो।”
चम्पा चाची(पलट कर अशोक को नीचे कर ऊपर से उछल उछल के उसके लण्ड पर चूत ठोकते हुए)-“अरे! मैं बाज आई ऐसे बेटी दामाद से, बेटी जल्दी से आजा और ले जा अपने इस पहलवान को, तो मैं कुछ चैन की साँस लूँ। फ़िर चाहे तू कुश्ती लड़ या दंगल। अच्छा अब रात बहुत हो गई है सोजा। कल जब तू आ जायेगी तब बात करेंगे।”
महुआ फ़ोन रखते रखते भी छेड़ने से बाज नहीं आई –“ठीक है मैं फ़ोन रखती हूँ आप अपना कार्यक्रम जारी रखें।”
इतना कहकर महुआ ने फ़ोन काट दिया।
तभी अशोक ने नीचे से कमर उछाल चूत में लण्ड ठाँसते हुए नहले पे दहला मारा –“अरे चाची चैन की साँस लेने की तो भूल जाओ । ये पहलवान वो शेर है जिसके मुँह में खून लग गया है वो भी तुम्हारा, कहने का मतलब जिसके लण्ड को चस्का लग़ गया है वो भी तुम्हारी इस मालपुए सी चूत का अब ये इतनी आसानी से पीछा छोड़ने वाला है नहीं, वैसे भी आपने वादा किया है कि अब जबतक मैं यहाँ हूँ आप रोज मेरे लण्ड से अपनी चूत फ़ड़वायेंगी और जब भी मैं यहाँ आऊँगा आपकी चूत को अपने लण्ड के लिए तैयार पाऊँगा।”
चाची ने मुस्कुरा के आँखें तरेरीं और चूतड़ उछालते हुए बोलीं -“अपने मतलब की ऐसी बातें सब कैसी याद हैं, अभी कोई काम की बात बताऊँ तो दूसरे ही दिन कहेगा कि चाची मैं भूल गया।”
अशोक हँसते हुए उनके उछलते बिखरते उरोजों पर मुँह मारने लगा।…………
क्रमश:………………
Reply
04-25-2019, 11:55 AM,
#32
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
अशोक की मुश्किल
भाग 8
कब के बिछड़े…


गतांक से आगे…
अगले दिन चन्दू चाचा और महुआ अलसाये से उठे फ़िर धीरे धीरे जाने की तैयारी की। धीरे धीरे इसलिए क्योंकि बीच बीच में चन्दू चाचा महुआ को चुदाई की ट्रिक्स सिखाने लगते वो भी महुआ के बदन पर प्रेक्टिकल कर के । सो करीब शाम 5 बजे चन्दू चाचा, महुआ को ले चाची के घर पहुंचे। खाना पीना होते होते 7 बज गये अंधेरा हो गया तो चाची ने चन्दू चाचा –“अब इतनी रात में कहाँ जाओगे चन्दू यहीं रुक जाओ। ”
फ़िर चाची ने धीरे से जोड़ा ताकि कोई और न सुन ले –“दो घड़ी इस पुरानी दोस्त के पास भी बैठ लो।”
चन्दू चाचा(मुस्कुराकर) –“ठीक है चम्पा।”
जल्द ही महुआ और अशोक मेहमानों वाले कमरे में अपनी अपनी मुद्दतों की अधूरी सुहागरात पूरी करने के लिए पहुँचे।
उनके जाते ही चम्पा चाची चन्दू चाचा को लगभग घसीटते हुए अपने कमरे में ले गई। कमरे मे पलंग के अलावा उस खेली खायी एक्सपर्ट चुदक्कड़ चम्पा चाची ने ज़मीन पर भी एक बहुत साफ सुथरा बिस्तर लगा हुआ था और उसपर दो तकिये भी लगे थे, जिसे देख चन्दूचाचा, चम्पा की तरफ़ अर्थ पूर्ण ढ़ंग से देख के मुस्कुराये –“वाह! चम्पारानी तेरे इरादे तो काफ़ी खतरनाक लगते हैं।”
जवाब में चम्पा चाची ने चन्दू चाचा को पलंग पर धक्का दे बैठा दिया फ़िर उनकी धोती हटा कर उनका हलब्बी लण्ड निकाल हाथ से सहला के बोली –“जमाना हो गया चन्दू तेरा ये मूसल देखे हुए।”
फ़िर चम्पा अपना पेटीकोट उठा चन्दू चाचा की गोद में अपने शानदार बड़े बड़े गोल भारी गुदाज चूतड़ रखकर बैठ गयी । चन्दू चाचा के सीने से चम्पा चाची की गुदाज पीठ सटी थी। चन्दू चाचा के हलब्बी गरम लण्ड पर चम्पा चाची की फ़ूली पावरोटी सी चूत धरी थी और वो चन्दू चाचा के लण्ड की गरमी से अपनी चूत सेंक कर गरम कर रही थीं। चन्दूचाचा ने अपनी गोद में चाची के शानदार बड़े बड़े गोल भारी गुदाज चूतड़ों का मजा लेते हुए अपने दोनो हाथ उनके ब्लाउज में घुसेड़ दिये और उनकी बड़ी बड़ी चुचियों को टटोलने लगे। चम्पा चाची सिस्कारियाँ भरने लगीं, उनकी पहले से गरम चुदक्कड़ चूत बहुत जल्द पानी छोड़ चन्दू चाचा के लण्ड को तर करने लगी।
अचानक चम्पा चाची उठी और उन्होंने चन्दू चाचा की तरफ़ घूमकर उनकी तरफ़ मुँह करके फ़िर से गोद में सवारी गाँठ ली, जैसे घोड़े के दोनों तरफ़ एक एक पैर डालकर बैठते हैं। अब चन्दू चाचा के लण्ड का सुपाड़ा चम्पा चाची की चूत के मुहाने से टकरा रहा था चन्दू चाचा ने देखा चाची की बड़े खरबूजों जैसी चूचियाँ मसलने से लाल हो गईं थी। चन्दू चाचा उन पर मुंह मारने लगे। ये देख चम्पा चाची अपने दोनो हाथों से अपना एक भारी स्तन पकड़ अपना निपल चन्दू के मुँह में दे बोली –
“जोर जोर से चूस चन्दू राजा।”
चन्दू चाचा चूचियों को बारी बारी से अपने मुँह मे ले कर चाटने और चूसने लगे और चम्पा चाची सिस्कारियाँ भरते हुए मस्ती से अपने दोनो हाथों से अपनी चूचियाँ उठा उठा कर चन्दू चाचा से चुसवा रही थी। चम्पा चाची मस्त हो अपनी दोनो जांघों के बीच चन्दू चाचा का हलब्बी लण्ड मसल्ने रगड़ने लगी. यह देख कर चन्दू चाचा अपना हाथ चम्पा चाची की चूत पर ले गये और उसने धीरे से चम्पा चाची की चूत के अंदर एक उंगली डाल दी. फिर चूत के फाकों पर अपनी उंगली फेरने लगे. उनकी चूत बुरी तरह भीगी हुई थी. चन्दू चाचा उनकी चूत की घुंडी को अपनी उँगलिओं से पकड़ने और मसल्ने लगा. चम्पा चाची इससे बहुत उत्तेजित हो सिसकारी भरने लगी –
“इस्स्स्स्स्स्स्स…!
और चन्दू चाचा ने चम्पा चाची के होठों पर अपने होंठ रख दिये और चूसने लगे तभी चाची ने अपनी जीभ उनके मूँह मे डाल दी तो चन्दू चाचा उसे चूसने लगे। चम्पा चाची ने मारे उत्तेजना के चन्दू चाचा का हाथ अपनी जांघों में भींच लिया और उनकी धोती खींच के फ़ेक दी और अपने चूतड़ उछालते हुए बोली,
"हा्य चन्दू राजा, इस्स्स्स्स्स्स्स…! मेरी चुदासी चूत मे आग लगी है,अब जल्दी कर वरना ये बिना चुदे ही झड़ जायेगी।
चन्दू चाचा, चम्पा चाची को गोद में लिए लिए ही खड़े हो गये और जमीन पर बिछे बिस्तर पर लिटा दिया फ़िर एक तकिया उनके भारी चूतड़ों के नीचे लगा दिया जिससे उनकी फ़ूली चूत और भी उभर आई। दोनों पुराने खिलाड़ी थे । चाची ने उनका लण्ड थाम कर उसका सुपाड़ा अपनी भीगी चूत के मुहाने पर धरा और टाँगे उनके कंधों पर रख ली। चन्दू ने धक्का मारा। पक से सुपाड़ा अन्दर।
“इस्स्स्स्स्स्स्स…आह!”
चाची ने सिसकी ली।
चन्दू चाचा –“वाह चम्पा रानी तेरी तो अभी भी वैसी ही टाईट है जैसी पन्द्रह साल की उमर में थी।”
चम्पा चाची –“हाय चन्दूराजा! और ये ऐसी तब है जब्कि मैं पिछले एक हफ़्ते से अपनी भतीजी के पति यानि दामादजी के असाधारण हलव्वी लण्ड से धुँआदार चुद रही हूँ। अशोक न दिन देखता है न रात वख्त-बेवख्त हर वख्त उसे मेरा बदन सेक्सी लगता है और हर जगह चुदाई के लिए रूमानी बाथरूम हो या बेडरूम बैठ्क हो या रसोई, बस लण्ड सटा के लिपटने लगता है। हाय। मुझे तो अब गिनती भी याद नहीं कि उसने कितनी बार चोदा होगा। सब तेरे मलहम का प्रताप है राजा।” 
चन्दू चाचा (दूसरा धक्का मारते हुए) –“वाह चम्पा रानी तब तो नवजवान लड़के के नवजवान लण्ड से तुमने खूब खेला होगा, बड़े मजे किये होंगे।”
चम्पा चाची(नीचे से चूतड़ उछाल कर चन्दू का बचा लण्ड भी अपनी चूत में निगलते हुए) –“हाय चन्दू! मजे तो मैं इस समय भी कर रही हूँ राजा।पूरी जवानी चूत का खेत लण्ड के बिना सुखाने के बाद ऊपर वाले को तरस आ ही गया और सींचने को दो दो धाकड़ लण्ड भेज दिये।”
चन्दू चाचा (धक्का लगाते हुए) –“हाय चम्पा रानी ये हरा भरा मांसल बदन ये पावरोटी सी फ़ूली मालपुए सी चूत । ऊपर से मुहल्ले भर की बुज़ुर्ग चाची का ठप्पा चाहे जितना खेलो कोई कभी शक कर ही नहीं सकता। ऐसा बुढ़ापा ऊपरवाला सबको दे।” 
चाची हँस पड़ी। दोनों पुराने खिलाड़ियों ने तीसरे ही धक्के में पूरा लण्ड धाँस लिया और उछल उछल के चुदाई का मजा लेने लगे। 
अशोक और महुआ का किस्सा इससे कुछ ज्यादा रफ़्तार वाला था। दोनों ने एक दूसरे को हफ़्ते भर से देखा तक नहीं था, वैसे भी दोनों मे जिस्मानी ताल्लुक कभी कभार आधा अधूरा ही होता था सो दोनों को ही चन्दू चाचा के इलाज के असर को आजमाने की जल्दी थी। कमरे में पहुँचते ही अशोक महुआ से लिपट गया और बोला –“महुआ रानी, कितने दिनों बाद तू हाथ आई है अब बोल तू है तैयार! कुश्ती के लिए, आज मैं कोई रियायत करने के मूड में नहीं हूँ।” 
महुआ –“घबरा मत राजा आज मैं पीछे हटने वाली नहीं हूँ।”
तभी अशोक ने महुआ के पेटीकोट में हाथ डाल के उसकी चूत दबोच ली, महुआ ने सिसकी की तो अशोक ने उंगली चुभो दी। उसने पाया कि चूत पहले की तरह ही टाइट है वो आश्चर्य से बोला –“तू तो बोली थी कि तेरा इलाज पूरा हो चुका ये तो वैसी ही टाईट है?”
महुआ –“यही तो चाचा के मलहम का कमाल है।”
“देखते हैं”
कहते हुए अशोक ने उसके कपड़े नोच डाले महुआ ने भी तुर्की बतुर्की उसे नंगा कर दिया ये देख अशोक ने नंगधड़ग महुआ को उठाके बिस्तर पर पटक दिया महुआ ने दोनों टाँगे फ़ैला कर उसके लण्ड को चुनौती दी अशोक उसपर टूट पड़ा। दोनों ने उस रात पहले ही राउण्ड में इतनी धुआंदार चुदाई की, कि न चाहते हुए भी उस थकान से उन्हें कैसे नींद आ गई उन्हें पता ही नहीं चला।
क्रमश:………………………
Reply
04-25-2019, 11:55 AM,
#33
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
अशोक की मुश्किल
भाग 9
मिलन की रात…


गतांक से आगे…
करीब रात के दो बजे पहले अशोक फ़िर महुआ की नींद खुली दोनों ने मुस्कुरा के एक दूसरे की तरफ़ देखा।
महुआ –“कहो कैसी रही। क्या ख्याल है मेरे बारे में?”
अशोक –“भई वाह तुमने तो आज कमाल कर दिया।”
महुआ –“कमाल तो चाचा के मलहम का है।”
अशोक –“भई इस कमाल के बाद तो मेरे ख्याल से इनका नाम चन्दू वैद्य के बजाय चोदू वैद्य होना चाहिये।
इस बात पर महुआ को हँसी आ गई, अशोक भी हँसने लगा। तभी चाची के कमरे से हँसने की आवाज आई।
अशोक –“लगता है ये लोग भी जाग रहे हैं चलो वहीं चलते हैं।
महुआ कपड़े पहनने लगी तो अशोक बोला –“कपड़े पहनने का झंझट क्यों करना जब्कि तेरा सब सामान चाचा ने और मेरा सब सामान चाची ने देखा और बरता है।”
सो दोनों यूँ ही एक एक चादर लपेट के चाची के कमरे में पहुँचे। चन्दू चाचा पलंग पर नंगधड़ग बैठे थे और चम्पा चाची उनकी गोद में नंग़ी बैठी उनका लण्ड सहला रही थी चाचा उनकी एक चूची का निपल चुभला रहे थे और दुसरी चूची सहला रहे थे। इन्हें देख चाची चन्दू चाचा की गोद से उठते हुए बोलीं –“आओ अशोक बेटा अभी तेरी ही बात हो रही थी।“
चन्दू चाचा – “आ महुआ बेटी मेरे पास बैठ।” कहकर चाचा ने उसे गोद में बैठा लिया।
अशोक –“मेरे बारे में क्या बात हो रही थी चाची?”
चाची (खींच के अशोक को अपनी गोद में बैठाते हुए)–“अरे मैंने इन्हें बताया कि मेरे अशोक का लण्ड दुनियाँ का शायद सबसे लंबा और तगड़ा लण्ड नाइसिल के डिब्बे के साइज का है। इसीपर ये हँस रहे थे कि धत पगली कही ऐसा लण्ड भी होता है। अब तू इन्हें दिखा ही दे।”
कहकर चाची ने अशोक की चादर खींच के उतार दी। इस कमरे में घुसते समय का सीन देख अशोक का लण्ड खड़ा होने लगा ही था फ़िर चम्पा चाची के गुदाज बदन से और भी टन्ना गया। चम्पा चाची ने अशोक का फ़नफ़नाता लण्ड हाथ में थाम के चन्दू चाचा को दिखाया –“ये देख चन्दू।”
चन्दू चाचा – “भई वाह चम्पा तू ठीक ही कहती थी, तो महुआ बेटी तूने आज ये अशोक का पूरा लण्ड बर्दास्त कर लिया या आज भी कसर रह गई।”
इस बीच महुआ अपने बदन से चादर उतार के एक तरफ़ रख चुकी थी, चन्दू चाचा के गले में बाहें डालते हुए बोली –“नही चाचा मैने पूरा धँसवा के जम के चुदवाया आपका इलाज सफ़ल रहा।”
चन्दू चाचा(उसके गाल पर चुम्मा लेते हुए) –“शाबाश बेटी!”
चाची (अशोक का लण्ड सहलाते हुए) –“अब तो तेरे इस चोदू लण्ड को मेरी भतीजी से कोई शिकायत नहीं।”
अशोक ने मुस्कुरा के चाची के फ़ूले टमाटर से गाल को होठों में दबा जोर का चुम्मा लिया और बायाँ हाथ उनके बाँये कन्धे के अन्दर से डाल उनका बाँया स्तन थाम दाहिने हाथ से उनकी चूत सहलाते हुए बोला- “जिसे एक की जगह दो शान्दार चूतें मिलें वो क्यों नाराज होगा।”
चाची (मुस्कुराकर अशोक का लण्ड अपनी चूत पर रगड़ते हुए) –“हाय इस बुढ़ापे में मैंने ये अपने आप को किस जंजाल में फ़ँसा लिया। चन्दू मैं तेरी बहुत शुक्रगुजार हूँ जो जो तू ने मेरी भतीजी का इलाज किया। जब भी इस गाँव के पास से निकलना सेवा का मौका जरूर देना। पता नहीं तेरे बाद मेरे गाँव की लड़कियों का कौन उद्धार करेगा ।”
चन्दू (महुआ के गुदाज चूतड़ों की नाली में लण्ड फ़ँसा के रगड़ते हुए)-“ मेरा बेटा नन्दू सर्जन डाक्टर है, उसे मैंने ये हुनर भी सिखाया है उसने पास के गाँव में दवाखाना खोला है वो न सिर्फ़ आस पास के गाँवों की लड़कियों की चूते सुधारता है बल्कि जवान औरतों की बच्चा होने के बाद या शौकीन चुदक्कड़ औरतों, बुढ़ियों की ढीली पड़ गई चूतें भी आपरेशन और मेरे मलहम की मदद से सुधार कर फ़िर से सोलह साल की बना देता है।”
ये सुन सबके मुँह से निकला वाह कमाल है तभी चन्दू चाचा मुस्कुराये और अशोक को आँख के इशारे से शुरू करने इशारा किया अशोक भी मुस्कुराया और अचानक चन्दू चाचा और अशोक ने चम्पा चाची और महुआ को बिस्तर पर पटक दिया और लण्ड ठाँस कर दनादन चुदाई शुरू कर दी, दोनों औरतें मारे आनन्द के किलकारियाँ भर रही थी। उस रात चन्दू चाचा और अशोक ने चूतें बदल बदल के धुँआदार चुदाई की।
अगले दिन अशोक और महुआ लखनऊ लौट गये चन्दू चाचा, चम्पा चाची के बचपन के बिछ्ड़े यार थे सो उस जुदाई के एवज में एक हफ़्ते तक रुक जी भरकर उनकी चूत को अपना लण्ड छकाते रहे।
अब सब की जिन्दगी मजे से कट रही है जिन दिनों महुआ महीने से होती है वो चम्पा चाची को लखनऊ बुला लेती है और उन दिनों चम्पा चाची अशोक के लण्ड की सेवा अपनी चूत से करती हैं महुआ के फ़ारिग होने के बाद भी अशोक दो एक दिन उन्हें रोके रखता है और एक ही बिस्तरे पर दो दो शान्दार गुदाज बदनों से एक साथ खेल, एक साथ मजा लेता है और चूतें बदल बदल कर चोदता है। इसके अलावा अशोक जब भी काम के सिलसिले में चम्पा चाची के गाँव जाता है और वादे के अनुसार चाची की चूत को अपने लण्ड के लिए तैयार पाता है । चम्पा चाची भी काफ़ी बेतकल्लुफ़ हो गई हैं चु्दवाने की इच्छा होने पर मूड के हिसाब से अशोक को या चन्दू चाचा को बुलवा भी लेती हैं या उनके पास चली भी जाती हैं।
तो पाठकों! जैसे अशोक और चम्पा चाची के दिन फ़िरे वैसे सबके फ़िरें।
समाप्त
Reply
04-25-2019, 11:55 AM,
#34
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
फ्रेंड्स पेश है सलीम जावेद मस्ताना की तीसरी कहानी आपके लिए 

मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
भाग -1
चचा-भतीजा


तरुन 17 साल का छोकरा था उसका लण्ड हरदम खड़ा रहता था कुदरत ने उसके लण्ड में बड़ी ताकत भर दी है साला बड़ी मुश्किल से शांत होता था। पड़ोस में एक बल्लू नाम का जवान रहता था उन्हें तरुन और पूरे मुहल्ले के लड़के चाचा कहते थे, तरुन और बल्लू दोनो बड़े गहरे दोस्त थे। कई चालू लड़कियाँ भी उनकी दोस्त थीं जिन्हें दोनो साथ साथ चोदते थे।
उन्हीं में एक मोना नाम की लड़की थी। स्कूल बस में आते जाते; लड़कों के कंधों की रगड़ खा खा कर मोना को पता ही नही चला की कब कुल्हों और छातियो पर चर्बी चढ़ गयी.. जवानी चढ़ते ही मोना के नितंब बीच से एक फाँक निकाले हुए गोल तरबूज की तरह उभर गये. मोना की छाती पर भगवान के दिए दो अनमोल 'फल' भी अब 'अमरूदों' से बढ़कर मोटे मोटे 'बेलों' जैसे हो गये थे । मोना के गोरे चिट्टे बदन पर उस छोटी सी खास जगह को छोड़कर कहीं बालों का नामो-निशान तक नही था.. हलके हलके रोयें मोना की बगल में भी थे. इसके अलावा गर्दन से लेकर पैरों तक वो एकदम चिकनी थी. लड़कों को ललचाई नज़रों से अपनी छाती पर झूल रहे ' बेलों ' को घूरते देख मोना की जांघों के बीच छिपी बैठी हल्के हल्के बालों वाली, मगर चिकनाहट से भरी तितली के पंख फड़फड़ाने लगते और बेलों पर गुलाबी रंगत के 'अनार दाने' तन कर खड़े हो जाते.
दरअसल उसे अपने उन्मुक्त उरोजों को किसी मर्यादा में बाँध कर रखना कभी नही सुहाया और ना ही उनको चुन्नी से पर्दे में रखना. मौका मिलते ही ब्रा को जानबूझ कर बाथरूम की खूँटी पर ही टाँग जाती और मनचले लड़कों को अपने इर्द गिर्द मंडराते देख मज़े लेती.. अक्सर जान बूझ अपने हाथ ऊपर उठा अंगड़ाई सी लेती और बेल तन कर झूलने से लगते, उस वक़्त मोना के सामने खड़े लड़कों की हालत खराब हो जाती... कुछ तो अपने होंटो पर ऐसे जीभ फेरने लगते मानो मौका मिलते ही मुँह मार देंगे.
उसे पूरी उम्मीद थी तरुन पढ़ाने ज़रूर आयेगा । इसीलिए रगड़ रगड़ कर नहाते हुए मोना ने खेत की मिट्टी अपने बदन से उतारी और नयी नवेली कच्छी पहन ली जो उसकी मम्मी 2-4 दिन पहले ही बाजार से लाई थी," पता नही मोना! तेरी उमर में तो मैं कच्छी पहनती भी नही थी. तेरी इतनी जल्दी कैसे खराब हो जाती है" उसकी मम्मी ने लाकर देते हुए कहा था. मोना ने स्कूल वाली स्कर्ट डाली और बिना ब्रा के शर्ट पहन कर बाथरूम से बाहर आ गयी.
“निकम्मी! ये हिलते हैं तो तुझे शर्म नही आती?" उसकी मम्मी की इस बात को मोना ने नज़रअंदाज किया और अपना बैग उठा सीढ़ियों से नीचे उतरती चली गयी.
लड़के ने घर में घुस कर आवाज़ दी. उसे पता था कि घर में कोई नही है. फिर भी वो कुछ ना बोली. दर-असल पढ़ने का मन था ही नही, इसीलिए सोने का बहाना किए पड़ी रही. मोना के पास आते ही वो फिर बोला
"मोना!"
उसने 2-3 बार आवाज़ दी. पर उसे नही उठना था सो नही उठी. हाए ऱाम! वो तो अगले ही पल लड़कों वाली औकात पर आ गया. सीधा नितंबों पर हाथ लगाकर हिलाया,"मोना.. उठो ना! पढ़ना नही है क्या?"
बेशर्मी से वो चारपाई पर उसके सामने पसर गयी और एक टाँग सीधी किए हुए दूसरी घुटने से मोड़ अपनी छाती से लगा ली. सीधी टाँग वाली चिकनी जाँघ तो उसे ऊपर से ही दिखाई दे रही थी.. उसको क्या क्या दिख रहा होगा, आप खुद ही सोच लो.
"ठीक से बैठ जा! अब पढ़ना शुरू करेंगे.. " हरामी ने मोना की जन्नत की ओर देखा तक नही। एक डेढ़ घंटे में जाने कितने ही सवाल निकाल दिए उसने, मोना की समझ में तो खाक भी नही आया.. कभी उसके चेहरे पर मुस्कुराहट को कभी उसकी पॅंट के मर्दाने उभार को देखती रही।
पढ़ते हुए उसका ध्यान एक दो बार मोना की चूचियो की और हुआ तो उसे लगा कि वो 'उभारों' का दीवाना है. मोना ने झट से उसकी सुनते सुनते अपनी शर्ट का बीच वाला एक बटन खोल दिया.
मोना की गदराई हुई चूचियाँ, जो शर्ट में घुटन महसूस कर रही थी; रास्ता मिलते ही सरक कर साँस लेने के लिए बाहर झाँकने लगी.. दोनो में बाहर निकलने की मची होड़ का फायदा उनके बीच की गहरी घाटी को हो रहा था, और वह बिल्कुल सामने थी.
तरुण ने जैसे ही इस बार उससे पूछने के लिए मोना की और देखा तो उसका चेहरा एकदम लाल हो गया.. हड़बड़ाते हुए उसने कहा," बस! आज इतना ही..
वो थक जाने का अभिनय कर के लेट गई। वो एक बार बाहर की तरफ़ गया मोना समझी कमबखत सारी मेहनत को मिट्टी में मिला के जा रहा है । पर वो बाहर नज़र मार कर वापस आ ग़या और मोना के नितंबों से थोड़ा नीचे उससे सटकर चारपाई पर ही बैठ गया.
वो मुँह नीचे किताब पर देख रही थी पर उसे यकीन था कि वो चोरी चोरी मोना के बदन की मांसल बनावट का ही लुत्फ़ उठा रहा होगा!
"मोना!"
इस बार थोड़ी तेज बोलते हुए उसने मोना के घुटनों तक के लहँगे से नीचे मोना की नंगी गुदाज पिंडलियों पर हाथ रखकर उसे हिलाया और सरकते हुए अपना हाथ मोना के घुटनो तक ले गया. अब उसका हाथ नीचे और लहंगा ऊपर था.
उससे अब सहन करना मुश्किल हो रहा था. पर शिकार हाथ से निकलने का डर था. चुप्पी साधे उसको जल्द से जल्द अपने पिंजरे में लाने के लिए दूसरी टाँग घुटनो से मोड़ और अपने पेट से चिपका ली. इसके साथ ही स्कर्ट ऊपर सरकता गया और मोना की एक जाँघ काफ़ी ऊपर तक नंगी हो गयी. मोना ने देखा नही, पर मोना की कच्छी तक आ रही बाहर की ठंडी हवा से उसे लग रहा था कि उसको मोना की कच्छी का रंग दिखने लगा है.
"मोना" इस बार उसकी आवाज़ में कंपकपाहट सी थी.. वो शायद! एक बार खड़ा हुआ और फिर बैठ गया.. शायद स्कर्ट उसके नीचे फँसा हुआ होगा. वापस बैठते ही उसने स्कर्ट को ऊपर पलट कर मोना की कमर पर डाल दिया..
उसका क्या हाल हुआ होगा ये तो पता नही. पर मोना की बुर में बुलबुले से उठने शुरू हो चुके थे. जब सहन करने की हद पार हो गयी तो अपना हाथ मूडी हुई टाँग के नीचे से ले जाकर अपनी कच्छी में उंगलियाँ डाल 'वहाँ' खुजली करने करने के बहाने उसको कुरेदने लगी. मोना का ये हाल था तो उसका क्या हो रहा होगा? सुलग गया होगा ना?
मोना ने हाथ वापस खींचा तो अहसास हुआ जैसे मोना की बुर की एक फाँक कच्छी से बाहर ही रह गयी है.
वो तो मोना की उम्मीद से भी ज़्यादा शातिर निकला. अपना हाथ स्कर्ट के नीचे सरकते हुए मोना के चूतड़ों पर ले गया....
कच्छी के ऊपर थिरकती हुई उसकी उंगलियों ने तो मोना की जान ही निकल दी. कसे हुए मोना के चिकने चूतड़ों पर धीरे धीरे मंडराता हुआ उसका हाथ कभी 'इसको' कभी उसको दबा कर देखता रहा. मोना की चूचियाँ चारपाई में दबकर छॅट्पटेने लगी थी. मोना ने बड़ी मुश्किल से खुद पर काबू पाया हुआ था..
अचानक उसने मोना के स्कर्ट को वापस ऊपर उठाया और धीरे से अपनी एक उंगली कच्छी में डाल दी.. धीरे धीरे उंगली सरकती हुई पहले नितंबों की दरार में घूमी और फिर नीचे आने लगी.. मोना ने दम साध रखा था.. पर जैसे ही उंगली मोना की 'फूल्कुन्वरि' की फांकों के बीच आई; वो उच्छल पड़ी.. और उसी पल उसका हाथ वहाँ से हटा और चारपाई का बोझ कम हो गया..
मोना की छोटी सी मछ्ली तड़प उठी. उसे फ़िर लगा, मौका हाथ से गया.. पर इतनी आसानी से वो भी हार मान'ने वालों में से नही हूँ... सीधी हो मोना ने अपनी जांघें घुटनों से पूरी तरह मोड़ कर एक दूसरी से विपरीत दिशा में फैला दी. अब स्कर्ट मोना के घुटनो से ऊपर था और उसे विश्वास था कि मोना की भीगी हुई कच्छी के अंदर बैठी 'छम्मक छल्लो' ठीक उसके सामने होगी.
थोड़ी देर और यूँही बड़बड़ाते हुए मैं चुप हो कर पढ़ने का नाटक करने लगी. अचानक उसे कमरे की चिट्कनी बंद होने की आवाज़ आई. अगले ही पल वह वापस चारपाई पर ही आकर बैठ गया.. धीरे धीरे फिर से रेंगता हुआ उसका हाथ वहीं पहुँच गया. मोना की चूत के ऊपर से उसने कच्छी को सरककर एक तरफ कर दिया. मोना ने हल्की सी आँखें खोलकर देखा. उसने चस्मा नही पहना हुआ था. शायद उतार कर एक तरफ रख दिया होगा. वह आँखें फ़ाड़ मोना की फड़कती हुई बुर को ही देख रहा था. उसके चेहरे पर उत्तेजना के भाव अलग ही नज़र आ रहे थे..
अचानक उसने अपना चेहरा उठाया तो मोना ने अपनी आँखें पूरी तरह बंद कर ली. उसके बाद तो उसने उसे हवा में ही उड़ा दिया. चूत की दोनो फांकों पर उसे उसके दोनो हाथ महसूस हुए. बहुत ही करीब उसने अपने अंगूठे और उंगलियों से पकड़ कर मोटी मोटी फांकों को एक दूसरी से अलग कर दिया. जाने क्या ढूँढ रहा था वह अंदर. पर जो कुछ भी कर रहा था, उससे सहन नही हुआ और मोना ने काँपते हुए जांघें भींच कर अपना पानी छोड़ दिया.. पर आश्चर्यजनक ढंग से इस बार उसने अपने हाथ नही हटाए...
किसी कपड़े से (शायद मोना के स्कर्ट से ही) उसने चूत को साफ़ किया और फिर से मोना की चूत को चौड़ा कर लिया. पर अब झाड़ जाने की वजह से उसे नॉर्मल रहने में कोई खास दिक्कत नही हो रही थी. हाँ, मज़ा अब भी आ रहा था और मैं पूरा मज़ा लेना चाहती थी.
अगले ही पल उसे गरम साँसें चूत में घुसती हुई महसूस हुई और पागल सी होकर मोना ने वहाँ से अपने आपको उठा लिया.. मोना ने अपनी आँखें खोल कर देखा. उसका चेहरा मोना की चूत पर झुका हुआ था.. मैं अंदाज़ा लगा ही रही थी कि उसे पता चल गया कि वो क्या करना चाहता है. अचानक वो मोना की चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा.. मोना के सारे बदन में झुरझुरी सी उठ गयी..इस आनंद को सहन ना कर पाने के कारण मोना की सिसकी निकल गयी और मैं अपने नितंबों को उठा उठा कर पटक'ने लगी...पर अब वो डर नही रहा था... मोना की जांघों को उसने कसकर एक जगह दबोच लिया और मोना की चूत के अंदर जीभ डाल दी..
"अयाया!" बहुत देर से दबाए रखा था इस सिसकी को.. अब दबी ना रह सकी.. मज़ा इतना आ रहा था की क्या बताउ... सहन ना कर पाने के कारण मोना ने अपना हाथ वहाँ ले जाकर उसको वहाँ से हटाने की कोशिश की तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया," कुछ नही होता मोना.. बस दो मिनिट और!" कहकर उसने मोना की जांघों को मोना के चेहरे की तरफ धकेल कर वहीं दबोच लिया और फिर से जीभ के साथ मोना की चूत की गहराई मापने लगा...
फिर क्या था.. उसने चेहरा ऊपर करके मुस्कुराते हुए मोना की और देखा.. उसका उतावलापन देख तो मोना की हँसी छूट गयी.. इस हँसी ने उसकी झिझक और भी खोल दी.. झट से उसे पकड़ कर नीचे उतारा और घुटने ज़मीन पर टिका उसे कमर से ऊपर चारपाई पर लिटा दिया..," ये क्या कर रहे हो?"
"टाइम नही है अभी बताने का.. बाद में सब बता दूँगा.. कितनी रसीली है तू हाए.. अपने चूतड़ थोड़ा ऊपर कर ले.."
"पर कैसे करूँ?..
दर असल मोना के तो घुटने ज़मीन पर टिके हुए थे
"तू भी ना.. !" उसको गुस्सा सा आया और मोना की एक टाँग चारपाई के ऊपर चढ़ा दी.. नीचे तकिया रखा और उसे अपना पेट वहाँ टिका लेने को बोला.. मोना ने वैसा ही किया..
"अब उठाओ अपने चूतड़ ऊपर.. जल्दी करो.." बोलते हुए उसने अपना मूसल जैसा लण्ड पॅंट में से निकाल लिया..
मोना अपने नितंबों को ऊपर उठाते हुए अपनी चूत को उसके सामने परोसा ।
तभी दरवाजे पे दस्तक हुई और उसने नज़रें चुराकर एक बार और मोना की गोरी चूचियो को देखा और खड़ा हो गया....
उसकी मम्मी अन्दर आई और उसे साथ ले गईं।
मोना कमरे से बाहर आयी । मम्मी के कमरे के पास से निकलते हुए उसने अन्दर से आती आवाज सुनी-
"तुमने दरवाजे पर दस्तक दे कर सब गड़बड़ की है इसे अब तुम ही निबटाओ। 15 मिनिट से ज़्यादा नही लगाऊँगा..... मान भी जा चाची अब....
मोना ने झाँका भ्रम टूट गया.. नीचे अंधेरा था.. पर बाहर स्ट्रीट लाइट होने के कारण धुँधला धुँधला दिखाई दे रहा था...
"पापा तो इतने लंबे हैं ही नही..!" मोना ने मॅन ही मॅन सोचा...
वो उसकी मम्मी को दीवार से चिपकाए उस'से सटकार खड़ा था.. उसकी मम्मी अपना मौन विरोध अपने हाथों से उसको पिछे धकेलने की कोशिश करके जाता रही थी...
"देख चाची.. उस दिन भी तूने उसे ऐसे ही टरका दिया था.. मैं आज बड़ी उम्मीद के साथ आया हूँ... आज तो तुझे देनी ही पड़ेगी..!" वो बोला.....
"तुम पागल हो गये हो क्या तरुन? ये भी कोई टाइम है...तेरा चाचा जान से मार देगा..... तुम जल्दी से 'वो' काम बोलो जिसके लिए तुम्हे इस वक़्त आना ज़रूरी था.. और जाओ यहाँ से...!" उसकी मम्मी फुसफुसाई...
"काम बोलने का नही.. करने का है चाची.. इस्शह.." सिसकी सी लेकर वो वापस उसकी मम्मी से चिपक गया...
"नही.. जाओ यहाँ से... अपने साथ उसे भी मरवाओगे..." उसकी मम्मी की खुस्फुसाहट भी उनकी सुरीली आवाज़ के कारण साफ़ समझ में आ रही थी....
"वो लुडरू मेरा क्या बिगाड़ लेगा... तुम तो वैसे भी मरोगी अगर आज मेरा काम नही करवाया तो... मैं कल चाचाको बता दूँगा की मैने तुम्हे बाजरे वाले खेत में अनिल के साथ पकड़ा था...." तरुन हँसने लगा....
"मैं... मैं मना तो नही कर रही तरुन... कर लूँगी.. पर यहाँ कैसे करूँ... तेरी दादी लेटी हुई है... उठ गयी तो?" उसकी मम्मी ने घिघियाते हुए विरोध करना छोड़ दिया....
"क्या बात कर रही हो चाची? इस बुधिया को तो दिन में भी दिखाई सुनाई नही देता कुछ.. अब अंधेरे में इसको क्या पता लगेगा..."
तरुन सच कर रहा था....
"पर छोटी भी तो यहीं है... मैं तेरे हाथ जोड़ती हूँ..." मोना की मम्मी गिड़गिडाई...
" आज तो वो ये सुपाड़ा ले के बड़ी हो गई होती अगर तुम गड़बड़ न करतीं..... किसी को नही बताएगी... अब देर मत करो.. जितनी देर करोगी.. तुम्हारा ही नुकसान होगा... मेरा तो खड़े खड़े ही निकलने वाला है... अगर एक बार निकल गया तो आधे पौने घंटे से पहले नही छूटेगा.. पहले बता रहा हूँ..."
"तुम परसों खेत में आ जाना.. तेरे चाचा को शहर जाना है... मैं अकेली ही जाउन्गी..
समझने की कोशिश करो तरुन..मैं कहीं भागी तो नही जा रही....."उसकी मम्मी ने फिर उसको समझाने की कोशिश की....
क्रमश:…………………
Reply
04-25-2019, 11:56 AM,
#35
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
भाग -2
चचा भतीजा


" तुम्हे मैं ही मिला हूँ क्या? चूतिया बनाने के लिए... बल्लू बता रहा था कि उसने तुम्हारी उसके बाद भी 2 बार मारी है... और मुझे हर बार टरका देती हो... परसों की परसों देखेंगे.... अब तो मोना के लिए तो एक एक पल काटना मुश्किल हो रहा है.. तुम्हे नही पता चाची.. तुम्हारे भारी चूतड़ देख देख कर ही जवान हुआ हूँ.. हमेशा से सपना देखता था कि किसी दिन तुम्हारी चिकनी जांघों को सहलाते हुए तुम्हारी रसीली चूत चाटने का मौका मिले.. और तुम्हारे मोटे मोटे चूतड़ों की कसावट को मसलता हुआ तुम्हारी चूत में उंगली डाल कर देखूं.. सच कहता हूँ, आज अगर तुमने मुझे अपनी मारने से रोका तो या तो मैं नही रहूँगा... या तुम नही रहोगी.. लो पकड़ो इस्सको..."
उनकी हरकतें इतनी साफ़ दिखाई नही दे रही थी... पर ये ज़रूर साफ़ दिख रहा था कि दोनो आपस में गुत्थम गुत्था हैं... मैं आँखें फ़ाडे ज़्यादा से ज़्यादा देखने की कोशिश करती रही....
"ये तो बहुत बड़ा है... मैंने तो आज तक किसी का ऐसा नही देखा...." उसकी मम्मी ने कहा....
"बड़ा है चाची तभी तो तुम्हे ज़्यादा मज़ा आएगा... चिंता ना करो.. मैं इस तरह करूँगा कि तुम्हे सारी उमर याद रहेगा... वैसे चाचा का कितना है?" तरुन ने खुश होकर कहा.. वह पलट कर खुद दीवार से लग गया था और मोना की मम्मी की कमर उसकी तरफ कर दी थी........
"धीरे बोलो......" उसकी मम्मी उसके आगे घुटनो के बल बैठ गयी... और कुछ देर बाद बोली," उनका तो पूरा खड़ा होने पर भी इस'से आधा रहता है.. सच बताउ? उनका आज तक मेरी चूत के अंदर नही झड़ा..." मोना की मम्मी भी उसकी तरह गंदी गंदी बातें करने लगी.. वो हैरान थी.. पर उसे मज़ा आ रहा था..
"वाह चाची... फिर ये गोरी चिकनी दो फूल्झड़ियाँ और वो लट्तू कहाँ से पैदा कर दिया.." तरुन ने पूछा... पर मोना की समझ में कुछ नही आया था....
"सब तुम जैसों की दया है... मेरी मजबूरी थी...मैं क्या यूँही बेवफा हो गयी...?"
कहने के बाद उसकी मम्मी ने कुछ ऐसा किया की तरुन उच्छल पड़ा....
"आआआअहह... ये क्या कर रही हो चाची... मारने का इरादा है क्या?" तरुन हल्का सा तेज बोला.....
"क्या करूँ ?इतना बड़ा देख शरारात करने को मन किया । मरोड़ दूँ थोड़ा सा!" उसके साथ ही उसकी मम्मी भद्दे से तरीके से हँसी.....
उसे आधी अधूरी बातें समझ आ रही थी... पर उनमें भी मज़ा इतना आ रहा था कि मोना ने अपना हाथ अपनी जांघों के बीच दबा लिया.... और अपनी जांघों को एक दूसरी से रगड़ने लगी... उस वक़्त उसे नही पता था कि उसे ये क्या हो रहा है.......
अचानक घर के आगे से एक ट्रॅक्टर गुजरा... उसकी रोशनी कुछ पल के लिए घर में फैल गयी.. उसकी मम्मी डर कर एक दम अलग हट गयी.. पर मोना ने जो कुछ देखा, रोम रोम रोमांचित हो गया...
तरुन का लण्ड गधे के की तरह भारी भरकम, भयानक और काला कलूटा था...वो साँप की तरह सामने की और अपना फन सा फैलाए सीधा खड़ा था... "क्या हुआ? हट क्यूँ गयी चाची.. कितना मज़ा आ रहा है.. तरुन ने उसकी मम्मी को पकड़ कर अपनी और खींच लिया....
"कुछ नही.. एक मिनिट.... लाइट ऑन कर लूँ । बिना देखे उतना मज़ा नही आ रहा... " उसकी मम्मी ने खड़े होकर कहा...
"कोई दिक्कत नही है... तुम अपनी देख लो चाची...!" तरुन ने कहा....
"एक मिनिट...!" कहकर मोना की मम्मी घुटनो के बल बैठ तरुन का भयानक लण्ड अपने हाथ में पकड़ कर अपनी चूत से रगड़ने लगी।
तरुन खड़ा खड़ा सिसकारियाँ भरते हुए पपीते जैसी बड़ी बड़ी चूचियाँ पकड़कर दबाते और मुँह मारते हुए तरह तरह की आवाजें निकाल रहा था.. और मोना की मम्मी बार बार नीचे देख कर मुस्कुरा रही थी... तरुन की आँखें पूरी तरह बंद थी...
"ओहूँऊ... इष्ह... मेरा निकल जाएगा...!" तरुन की टाँगें काँप उठी... पर उसकी मम्मी बार बार ऊपर नीचे नीचे ऊपर अपनी चूत से रगड़ती रही.. तरुन का पूरा लण्ड उसकी मम्मी के रस से गीला होकर चमकने लगा था..
"तुम्हारे पास कितना टाइम है?" उसकी मम्मी ने लण्ड को हाथ से सहलाते हुए पूछछा....
"मेरे पास तो पूरी रात है चाची... क्या इरादा है?" तरुन ने साँस भर कर कहा...
"तो निकल जाने दो..." उसकी मम्मी ने कहा और लण्ड के सुपाड़े को अपनी चूत से रगड़ अपने हाथ को लण्ड पर...तेज़ी से आगे पीछे करने लगी...
अचानक तरुन ने अपने घुटनो को थोड़ा सा मोड़ा तरुन का लण्ड गाढ़े वीर्य की पिचकारियाँ सी छोड़ रहा था.. ..
"कमाल का लण्ड है तुम्हारा... उसे पहले पता होता तो मैं कभी तुम्हे ना तड़पाती..."
मोना की मम्मी ने सिर्फ़ इतना ही कहा और तरुन की शर्ट से लण्ड को साफ़ करने लगी.....
"अब मेरी बारी है... कपड़े निकाल दो..." तरुन ने मोना की मम्मी को खड़ा करके उनके नितंब अपने हाथों में पकड़ लिए....
"तुम पागल हो क्या? परसों को में सारे निकाल दूँगी... आज सिर्फ़ लहंगा नीचे करके 'चोद' ले..." उसकी मम्मी ने नाड़ा ढीला करते हुए कहा...
"मन तो कर रहा है चाची कि तुम्हे अभी नंगी करके खा जाऊँ! पर अपना वादा याद रखना... परसों खेत वाला..." तरुन ने कहा और उसकी मम्मी को झुकाने लगा.. पर उसकी मम्मी तो जानती थी... हल्का सा इशारा मिलते ही उसकी मम्मी ने उल्टी होकर झुकते हुए अपनी कोहानिया फर्श पर टिका ली और घुटनो के बल होकर जांघों को खोलते हुए अपने नितंबों को ऊपर उठा लिया...
तरुन मोना की मम्मी का दीवाना यूँ ही नही था.. ना ही उसने मोना की मम्मी की झूठी तारीफ़ की थी... आज भी मोना की मम्मी जब चलती हैं तो देखने वाले देखते रह जाते हैं.. चलते हुए मोना की मम्मी के भारी नितंब ऐसे थिरकते हैं मानो नितंब नही कोई तबला हो जो हल्की सी ठप से ही पूरा काँपने लगता है... कटोरे के आकर के दोनो बड़े बड़े नितंबों का उठान और उनके बीच की दरार; सब कातिलाना थे...मोना की मम्मी के कसे हुए शरीर की दूधिया रंगत और उस पर उनकी कातिल आदयें; कौन ना मर मिटे!
खैर, मोना की मम्मी के कोहनियों और घुटनो के बल झुकते ही तरुन उनके पीछे बैठ गया... अगले ही पल उसने मोना की मम्मी के नितंबों पर थपकी मार कर लहंगा और पॅंटी को नीचे खींच दिया. इसके साथ ही तरुन के मुँह से लार टपक गयी वो बड़े बड़े चूतड़ों पर मुँह मारते हुए,बोला-
" क्या मस्त गोरे गुदगुदे कसे हुए चूतड़ हैं चाची..!"
कहते हुए वो अपने दोनो हाथ मोना की मम्मी के नितंबों पर चिपका कर उन्हे सहलाने और मुँह मारने लगा...
मोना की मम्मी उससे 90 डिग्री पर झुकी हुई थी, इसीलिए उसे उनके ऊँचे उठे हुए एक नितंब के अलावा कुछ दिखाई नही दे रहा था.. पर मैं टकटकी लगाए तमाशा देखती रही.....
"हाए चाची! तेरी चूत कितनी रसीली है अभी तक... इसको तो बड़े प्यार से ठोकना पड़ेगा... पहले थोड़ी चूस लूँ..." उसने कहा और मोना की मम्मी के नितंबों के बीच अपना चेहरा डाल दिया.... मोना की मम्मी सिसकते हुए अपने नितंबों को इधर उधर हटाने की कोशिश करने लगी...
"आअय्यीश्ह्ह्ह...अब और मत तडपा तरुन..आआअहह.... चूत तैयार है.. अब ठोक भी दे न अंदर!"
"ऐसे कैसे ठोक दूँ अंदर चाची...? अभी तो पूरी रात पड़ी है...." तरुन ने चेहरा उठाकर कहा और फिर से जीभ निकाल कर चेहरा मोना की मम्मी की जांघों में डाल दिया...
"समझा कर तरुन... आआहह...फर्श चुभ रहा है... थोड़ी जल्दी कर..!" मोना की मम्मी ने अपना चेहरा बिल्कुल फर्श से सटा लिया.. उनके 'दूध' फर्श पर ठीक गये....," अच्च्छा.. एक मिनिट... खड़ी होने दे...!"
मोना की मम्मी के कहते ही तरुन ने अच्छे बच्चे की तरह उन्हें छोड़ दिया... और मोना की मम्मी ने खड़े होकर मोना की तरफ मुँह कर लिया...
जैसे ही तरुन ने मोना की मम्मी का लहंगा ऊपर उठाया.. उनकी पूरी जांघें और उनके बीच छोटे छोटे गहरे काले बालों वाली मोटी चूत की फाँकें मोना के सामने आ गयी... तरुन घुटने टेक कर मोना की मम्मी के सामने मोना की तरफ पीठ करके बैठ गया और उनकी चूत मोना की नज़रों से छिप गयी... अगले ही पल मोना की मम्मी आँखें बंद करके सिसकने लगी... उनके मुँह से अजीब सी आवाज़ें आ रही थी...
वो हैरत से सब कुछ देख रही थी...
"बस-बस... मुझसे खड़ा नही रहा जा रहा तरुन... दीवार का सहारा लेने दो..",
मोना की मम्मी ने कहा और साइड में होकर दीवार से पीठ सटा कर खड़ी हो गयी... उन्होने अपने एक पैर से लहंगा बिल्कुल निकाल दिया । तरुन के सामने बैठते ही अपनी नंगी टाँग उठाकर तरुन के कंधे पर रख दी..
अब तरुन का चेहरा और मोना की मम्मी की चूत आमने सामने दिखाई दे रहे थे..
तरुन ने अपनी जीभ बाहर निकाली और मोना की मम्मी की चूत में घुसेड़ दी.. मोना की मम्मी पहले की तरह ही सिसकने लगी... मोना की मम्मी ने तरुन का सिर कसकर पकड़ रखा था और वो अपनी जीभ को कभी अंदर बाहर और कभी ऊपर नीचे कर रहा था...
अंजाने में ही मोना के हाथ अपनी कच्छी में चले गये.. मोना ने देखा; उसकी चूत भी चिपचिपी सी हो रही है..
तभी तरुन के कंधे से पैर हटाने के चक्कर में मोना की मम्मी लड़खड़ा कर गिरने ही वाली थीं कि अचानक पीछे से कोई आया और मोना की मम्मी को अपनी बाहों में भरकर झटके से उठाया और बेड पर ले जाकार पटक दिया.. मोना की तो कुछ समझ में ही नही आया..
मोना की मम्मी ने चिल्लाने की कोशिश की तो उनके ऊपर सवार हो गया और मुँह दबाकर बोला,
" मैं हूँ भाभी.. पता है कितने दिन इंतजार किया हैं खेत में..." फिर तरुन की और देखकर बोला,"क्या यार? तू भी अकेला चला आया उसे नहीं बुलाया.."
उसने अपना चेहरा तरुन की और घुमाया, तब मोना ने उन्हे पहचाना.. वो बल्लू चाचा थे... घर के पास ही उनका घर था.. पेशे से डॉक्टर(बलदेव)...मोना की मम्मी की ही उमर के होंगे... अब तो मोना के बर्दास्त की हद पार हो गई और वो दौड़कर बिस्तर पर चाचा को धक्का देकर उनके ऊपर चढ़ के अपनी मम्मी से कहने लगी,-
" मम्मी ! मेरे पास से तो तरुन को खींच लाईं। अब तुम ये क्या कर रही हो दो दो के साथ। तुम्हारी को दो दो मुझे एक भी नहीं?"
अचानक उसे देख कर वो सकपका गये,
" तू यहीं है छोटी तू.. तू जाग रही है?"
मैं बोली,-
" मैं छोटी नहीं हूँ।”
मोना की मम्मी शर्मिंदा सी होकर बैठ गयी,
" ये सब क्या है? जा यहाँ से.. अभी तू छोटी है और तरुन की और घूरने लगी...
मोना बोली,-
" नहीं मम्मी ! मैं छोटी नहीं हूँ । पूछो तरुन भैया से ।”
तरुन खिसिया कर हँसने लगा...
“हाँ चाची! ये ठीक कहती है आज मैंने सुपाड़ा डाला ही दिया होता अगर तुम न आ गयीं होतीं।”
“चाची! मेरी मानो तो एतिहात के तौर पर इसे मुझसे नही, क्योंकि मेरा ज्यादा बड़ा है और मै थोड़ा अनाड़ी भी हूं.. इसको बल्लू चाचा से चुदवा दें उनका मुझसे छोटा भी है.. और वे माहिर खिलाड़ी भी हैं । ”
तरुन ने कहा और सरक कर मोना की मम्मी के पास बैठ गया.... मोना की मम्मी अब दोनो के बीच बैठी थी...
बल्लू चहक कर-
"ठीक है आ जा बेटी.. अपने बल्लू चाचा की गोद में बैठ.. "
मोना की मम्मी ने हालात की गंभीरता को समझते हुए मोना की तरफ़ देखकर हाँ मैं सिर हिलाया और वो खुशी खुशी अपने दोनो कटोरे के आकर के दूधिया रंग के बड़े बड़े चूतड़ों को बल्लू चाचा की गोद में रख कर बैठ गयी....
वो लोग भी इंतजार करने के मूड में नहीं लग रहे थे.. बल्लू ने मोना की दोनों बगलों से हाथ डालकर मोना की चूचियों को दबोच लिया.. मोना ने गोद में बैठकर अपने बड़े बड़े चूतड़ों के बीच की नाली में उनका लण्ड फ़ँसा रखा था। उनका गरम सुपाड़ा मोना की कच्छी के ऊपर से प्यासी कुवाँरी बुर से टकरा कर उसे गर्मा रहा था । धीरे धीरे उसका हाथ रेंगता हुआ मोना की बुर पर पहुँच गया. उन्होंने मोना की बुर के ऊपर से कच्छी को सरकाकर एक तरफ कर दिया. चूत की दोनो फांकों पर उसे उनका हाथ महसूस हुआ. मोना ने उसने सिसकारी भरी...
उन्होंने अपने अंगूठे और उंगलियों से पकड़ कर मोटी मोटी फांकों को एक दूसरी से अलग की और पुत्तियाँ टटोलने लगे मोना की बुर बुरी तरह से गीली हो रही थी ।
इस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स चाचा !!!
उसने काँपते हुए जांघें भींच लीं.
"नीचे से दरवाजा बंद है ना?" तरुन ने चाचा से पूछा और मोना की मम्मी की टाँगों के बीच बैठ गया...
"सब कुछ बंद है यार.. आजा.. अब इनकी खोल.."
चाचा ने मोना की कमीज़ के बटन खोल डाले और मोना के दोनो गुलाबी बेल उछ्लकर बाहर निकल आये.... चाचा मोना की दोनो चूचियों को दबा रहे थे और घुण्डियों को मसल मसल के चूस रहे थे और फ़िर मोना के निचले होंट को मुँह में लेकर चूसने लगे...
तरुन ने मोना की मम्मी का ब्लाउज खींच कर उनकी ब्रा से ऊपर कर उतार दिया और लहंगे का नारा खींचने लगा....कुछ ही देर बाद उन दोनों ने मोना और मोना की मम्मी को पूरी तरह नंगा कर दिया.. मोना की मम्मी नंगी होकर और भी मारू लग रही थी.. उनकी चिकनी चिकनी लंबी मोटी मोटी मांसल जांघें.. उनकी छोटे छोटे काले बालों में छिपी चूत.. उनका कसा हुआ पेट और सीने पर थिरक रही बड़ी बड़ी चूचियाँ सब कुछ बड़ा प्यारा था...
तरुन मोना की मम्मी की मोटी मोटी जांघों के बीच झुक गया और उनकी जांघों को ऊपर हवा में उठा दिया.. फिर एक बार मोना की तरफ मुड़कर मुस्कुराया और मोना की मम्मी की चूत को लपर लपर चाटने लगा....
मोना की मम्मी बुरी तरह सीसीया उठी और अपने नितंबों को उठा उठा कर पटकने लगी..
करीब 4-5 मिनिट तक ऐसे ही चलता रहा... तभी अचानक चाचा ने अपने अंगूठे और उंगलियों से मोना की बुर की मोटी मोटी फांकों को पकड़ कर एक दूसरी से अलग कर बोला मोना के होठों को अपने होठों से आजाद कर बोले, " बेटा तेरी बुर बुरी तरह से गीली हो रही है लगता है बुर की सील टूट के चूत बनने को बिलकुल तैयार है शुरू करें बेटा..?"
तरुन ने जैसे ही चेहरा ऊपर उठाया, उसे मोना की मम्मी की चूत दिखाई दी.. तरुन के थूक से वो अंदर तक सनी पड़ी थी.. और चूत के बीच की पत्तियाँ अलग अलग होकर फांकों से चिपकी हुई थी.. मोना की जांघों के बीच भी खलबली सी मची हुई थी...
"पर थोड़ी देर और रुक जा यार!.. चाची की चूत बहुत मीठी है..."
तरुन ने कहा और अपनी पैंट निकाल दी.. तरुन का कच्छा सीधा ऊपर उठा हुआ था ।
तरुन वापस झुक गया और मोना की मम्मी की चूत को फिर से चाटने लगा... उसका भारी भरकम लण्ड अपने आप ही उसके कच्छे से बाहर निकल आया और मोना की आँखों के सामने रह रह कर झटके मार रहा था...
चाचा ने मोना की और देखा तो मोना ने शर्मा कर अपनी नज़रें झुका ली.... अब चाचा ने उसे धीरे से लिटा दिया और मोना की पावरोटी सी बुर से कच्छी उतार दी फ़िर ढेर साड़ी क्रीम अपने लण्ड के सुपाड़े पर और मोना की बुर पर थोप दी। अपने अंगूठे और उंगलियों से मोना की बुर की मोटी मोटी फांकों को पकड़ कर एक दूसरी से अलग कर अपने लण्ड का सुपाड़ा मोना की पावरोटी सी बुर पर रखा। मोना के मुँह से सिसकारी निकल गई।
“इ्स्स्स्स्सइम्म्म्म”
अब चाचा थोड़ी आगे झुके और मोना के बायें बेल पर लगे गुलाबी रंगत के 'अनार दाने' के (निप्पल) को मुँह में दबा कर चूसते हुए धक्का मारा... पक की आवाज के साथ सुपाड़ा अन्दर चला गया।
“आअअअअअअ~आह”
क्रमश:…………………
Reply
04-25-2019, 11:56 AM,
#36
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
भाग -3
चचा भतीजा


मोना के कराहने की आवाज सुनते ही चाचा रुक गये और बिना लण्ड हिलाये झुककर मोना के बायें बेल पर लगे गुलाबी रंगत के अनार दाने को मुँह में दबाकर चूसने लगे। मोना की पीठ पर हाथ फ़ेरते हुए चाचा लगातार मोना के बेलों पर लगे अनार दानों को मुँह में दबाकर बारी बारी से चूस रहे थे और धीरे धीरे उसका दर्द कम हो्ता जा रहा था और अब उसे फ़िर से मजा आने लगा था। अब वो खुद ही अपने चूतड़ थिरकाने लग़ी। अनुभवी चाचा ने अब उसे धीरे धीरे अपने सुपाड़े से ही चोदना शुरू किया।
मोना की मम्मी अपनी चूची को अपने हाथ से तरुन के मुँह में दे के चुसवा रही थी.. उनका दूसरा हाथ तरुन के कच्छे से उनका लण्ड निकाल उसको सहला रहा था... अचानक मोना की मम्मी ने उसका लण्ड पकड़ा और उसको अपनी और खींचने लगी......
तरुन ने ध्यान से देखा.. मोना की मम्मी की चूत फूल सी गयी थी... उनकी चूत का मुहाने रह रह कर खुल रहा था और बंद हो रहा था.. तरुन अपना लण्ड हाथ में पकड़ कर मोना की मम्मी की जांघों के बीच बैठ गया.. उसे उसका लण्ड मोना की मम्मी की चूत पर टिका दिया. मोना की मम्मी की चूत लण्ड के पीछे पूरी छिप गयी थी...
"लो संभालो.. चाची!" कहते हुए तरुन ने धक्का मार।
उईईईईईईईईईईईईईईईमाँ
मोना की मम्मी छॅटपटा उठी.. तरुन ने अपना लण्ड बाहर निकाला और वापस धकेल दिया.. मोना की मम्मी एक बार फिर कसमसाई... फिर तो घपाघप धक्के लगने लगे.. कुछ देर बाद मोना की मम्मी के नितंब थिरकने लगे। तरुन जैसे ही नीचे की और धक्का लगाता मोना की मम्मी नितंबों को ऊपर उठा लेती... अब तो ऐसा लग रहा था जैसे तरुन कम धक्के लगा रहा है और मोना की मम्मी ज़्यादा...
सुपाड़े से चुदने में उसे मजा आ रहा था और मैं सोच रही थी कि जब सुपाड़े से चुदने में इतना मजा आ रहा है तो पूरे लण्ड से चुदने में कितना मजा आयेगा। धीरे धीरे मेरा दर्द बिलकुल खतम हो गया मोना की बुर मुलायम हो के इतनी रसीली हो गई कि सुपाड़ा उसे बुर में कम लगने लगा और थोड़ी ही देर बाद उसने चाचा से कहा-
“हाय चाचा अब बचा हुआ भी डाल न ।”
चाचा ने मुँह से निप्पल बिना छोड़े धक्का मारा.. और आधा लण्ड बुर मे चला गया मोना के मुँह से सिसकारी निकल गई।
“इ्स्स्स्स्सइम्म्म्म”
पर उसने दाँत पर दाँत जमाकर धीरे धीरे बचा हुआ लण्ड भी चूत में ले लिया। और बोली-
लो चाचा मैंने पूरा अन्दर ले लिया।
चाचा –
“शाबाश बेटा! तू तो अपनी माँ से भी जबर्दस्त चुदक्कड़ बनेगी।”
बोली-
तो चोदो चाचा जैसे तरुन माँ को चोद रहा है।
और फ़िर चाचा अपने दोनों हाथों से मोना की चूचियाँ दबाते हुए और निप्पल चूसते हुए दनादन चोदने लगे।
ऐसे ही धक्के लगते लगते करीब 15 मिनिट हो गये थे.. अचानक तरुन ने अपना लण्ड मोना की मम्मी की चूत से निकाल लिया। उसने देखा मोना की मम्मी की चूत का मुहाने लगभग 3 गुना खुल गया था.. और रस चूत से बह रहा था...
तरुन तेज़ी से हमारे पास आकर बोला,
" चूत बदल चाचा..."
तरुन के मोना के पास आते ही चाचा मोना की मम्मी के चूतड़ों के पीछे जाकर बोले,
" घोड़ी बन जा!"
मोना की मम्मी उठी और पलट कर घुटनों के बल बैठ कर अपने भारी चूतड़ों को ऊपर उठा लिया... तरुन की जगह अब चाचा ने ले ली थी.. घुटनो के बल पिछे सीधे खड़े होकर उन्होने मोना की मम्मी की चूत में अपनी लण्ड डाल दिया... और मोना की मम्मी की कमर को पकड़ कर आगे पिछे होने लगे....
इधर मोना के पास आकर तरुन अपने लण्ड को हिला रहा था.... तरुन ने मोना की मम्मी के चूत रस से गीला अपना हलव्वी लण्ड मोना की नई नवेली बुर से चूत बनी में ठांस दिया। चचा भतीजों ने दोनो माँ बेटी की धुआंदार चुदाई की । तरुन का लण्ड चाचा के लण्ड से बड़ा होने के कारण मोना को थोड़ी देर तकलीफ़ तो हुई पर एक ही रात में मोना की बुर से खाई खेली चूत बन गई।
अपनी धुआंदार चुदाई से दोनो चूतों की प्यास बुझाने और बुरी तरह झड़ने के बाद चचा भतीजों के चूतों से नीचे उतरते ही दोनों माँ बेटी निढाल होकर बिस्तर पर गिर पड़ी.. बिस्तर की चादर खींच कर अपने बदन और चेहरे को ढक लिया...वो दोनो कपड़े पहन वहाँ से निकल गये....
कुछ दिनो तक ये सिलसिला चला फ़िर बल्लू चाचा की शादी हो गयी ऊपर से मोना के बापू को कुछ शक हो गया तो उन्होंने निगरानी बढ़ा दी। दोनों ने मोना की मम्मी के यहाँ आना जाना बन्द कर दिया क्योंकि पकड़े जाने क खतरा बढ़ गया था पर मोना से तरुन का सम्बन्ध गाहे बगाहे चोरी छिपे जारी रहा । अचानक बल्लू ने महसूस किया कि चचा भतीजे का मिलना जुलना भी कम होता जा रहा है पूछने पर तरुन ने बताया –
“मेरे एक रिश्ते के मामा चन्दू मेरे से कुछ साल बड़े हैं पास ही रहते हैं । आपके अपने बाल बच्चों और डिस्पेन्सरी में व्यस्त रहने की वजह से खाली रहने पर मैं उनके यहाँ वख्त काटने आने जाने लगा और हम दोनो की दोस्ती बढ़ गई, क्योंकि चन्दू मामा चालू बदमाश लड़कियाँ पहचानने में उस्ताद हैं । अब हमदोनों ऐसी लड़कियाँ फ़ँसा साथ साथ मजे करते हैं ।
आगे की मामा भान्जे की दास्तान जो तरुन ने बल्लू को सुनायी उपन्न्यास के अगले हिस्से “मामा भान्जा” में पढ़िये
मामा भान्जा
इसी बीच चन्दू मामा की भी शादी हो गयी शादी के तीसरे दिन अचानक चन्दू मामा आये और बोले –
“यार तरुन तुम आज रात को मेरे घर आना। ”
मैंने पूछा-
“क्या कोई खास बात है?”
उसने उत्तर दिया –“कोई खास नही लेकिन आना जरूर।”
खैर मैंने बात मान ली और उसके पास चला गया उस दिन चन्दू मामा और उनकी बीवी के अलावा घर में कोई नही था चन्दू मामा बोला-
“तरुन यार आज तुम मेरी बीवी को एक बार मेरे सामने चोद दे क्योंकि मैं चाहता हूँ कि तू उसे नियमित रूप से आकर चोदा कर ।”
मैंने कहा- “अरे यह तुम क्या कह रहे हो।”
उसने जबाब दिया- “देख भई मैं तो चोदता ही हूँ लेकिन उसे ज्यादा मज़ा नही आता क्योंकि मेरा लण्ड ज्यादा बड़ा नहीं है औसत है। वह बिचारी कसमसाकर रह जाती है तुम्हारा लण्ड पाकर वह मस्त हो जाएगी। यार अगर उसने मुझे लात मार कर निकाल दिया तो मेरी बेज्जती हो जाएगी न, बिल्लू।” मैं बोला- अगर मामी बिदक गयीं तो कौन सम्हालेगा।” उसने जबाब दिया-
“नही भई वह चुदवाने के लिए तैयार है मैंने उसे सब बता दिया है।”
तब मैं मान गया और कहा-
“अच्छा ठीक है।”
उस रात को मैं और चन्दू मामा उनके कमरे में रजाई ओढ़ के बैठे टी वी पर एक उत्तेजक फ़िल्म देख रहे थे कि मामी आयी और वो भी उसी बिस्तर में हम दोनो के बीच रजाई ओढ़ के बैठ गयी मैने देखा कि रजाई में घुसने मामी की साड़ी और पेटीकोट ऊपर को सिमट गये उनकी संग़मरमरी मांसल जांघे खुल गईं थीं और और रजाई की हलचल से लग रहा था कि चन्दू मामा रजाई के अन्दर उन्हें सहलाने लगे थे। ये सोच सोच के मेरा लण्ड खड़ा हो रजाई को तम्बू का आकार दे रहा था । जिसे देख चन्दू मामा ने मामी से कहा-
“मैने तुमसे तरुन के लम्बे मोटे लण्ड का जिक्र किया था पर तुम्हें विश्वास नहीं हुआ था आज खुद देख के मेरी बात की पुष्टि कर लो।”
मामी ने कहा- “अच्छा ।”
और रजाई उलट दी मैने देखा कि रजाई के अन्दर मामी की साड़ी और पेटीकोट चूतड़ों से भी ऊपर तक सिमटे हुए थे उन्होने कच्छी नही पहन रखी थी । उनके संग़मरमरी बड़े बड़े भारी गुदाज चूतड़ और केले के तने जैसी गोरी मांसल जांघों के बीच पावरोटी सी चूत भी दिख रही थी जिसपर चन्दू मामा हाथ फ़िरा रहा था । तभी मामी ने मेरी लुंगी हटाई और मेरा लण्ड देख वह हक्की बक्की रह गयी और उसे हाथ से पकड़ बोली-
“अरे क्या लण्ड इतना बड़ा हलव्वी भी होता है ।”
ऐसा कहकर वो मेरा लण्ड सहलाने लगी। मैं शर्मा रहा था ये देख चन्दू मामा ने मामी का ब्लाउज खोल उनके बेल के आकार के उरोज आजाद कर दिये मुझे दिखा दिखाकर सहलाते हुए कहा-
“ लड़का झेंप रहा है इसकी झिझक दूर करने के लिए चल हम इसके सामने ही चुदाई करते हैं।”
मामी एक हाथ से मेरा लण्ड पकड़ दूसरे से सहलाते हुए प्यार से बोली-
“ये ही ठीक रहेगा इससे मेरी चूत का मुँह भी थोड़ा खुल जायेगा फ़िर मैं आसानी से इस घोड़े के जैसे लण्ड से चुदवा पाऊँगी वरना तो ये मामी की फ़ाड़ ही देगा।”
मामी लेट गयी और मेरा सर पकड़कर मेरा मुँह अपनी बेल के आकार की एक चूची पर लगा दिया उधर चन्दू मामा दूसरी चूची चूसते हुए मामी को चोद रहा था अब मैं भी खुल के सामने आगया और मामी की बगल में लेटकर उनके मामा की चुदाई से हिल रहे बदन से खेलते हुए, चूची चूसने लगा । मुझे उनकी चूंचियों चूसने में बहुत मजा आ रहा था मामा जैसे ही चोद के हटे मामी अपने हथों से मामा के रस से भीगी अपनी चूत के दोनों मोटे मोटे होठ फ़ैलाकर बोली- आ जा तरुनबेटा अब ये घोड़ी तेरे घोड़े के लिये तैयार है। अब देखना ये है कि दोनों मामा भांजे आज इस घोड़ी को कितना दौड़ाते हैं। ये सुनना था कि मैंने मामी पर सवारी गाँठ ली और अपना घोड़े के जैसे लण्ड का सुपाड़ा उनकी पावरोटी सी चूत के दोनों मोटे मोटे होठों के बीच रखा और एक ही धक्के मे पूरा लण्ड ठाँस दिया और धकापेल चोदते हुए उनकी चूत की धज्जियाँ उड़ाने लगा । मारे मजे के मामी अपने मुँह से तरह तरह की आवाजें निकालते हुए किलकारियाँ भर रही थी- "उफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़"उफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ ओह नहियीईईईईईईईईईईईईईईईई अहहोह ओउुुुुुुुुुुुुुुुुुुुुुउउ गाययययययययययययीीईई"
मैं और चन्दू मामा एक ही औरत को साथ साथ चोदने के माहिर थे उस रात हमदोनों ने मिलकर छ: बार जमकर मामी को चोदा । मैं खुश था की पहलीबार एक जानदार औरत को चोदा है मामी इसलिए खुश थी की उसे एक तगड़ा लण्ड मिला और अपने हसबैंड के सामने पराये मर्द से चुदवाने का सिलसिला शुरू हो गया चन्दू मामा इसलिए खुश था की उसकी बीवी को चुदाई से बड़ी संतुष्टि मिली फ़िर तो मामी जबतब मुझे बुलवा लेती और फ़िर मैं और चन्दू मामा जमकर मामी की चूत का बाजा बजाते।
पूरी कहानी सुनकर बल्लू ने कहा – यार तरुन अकेले अकेले मजे कर रहे हो मुझसे भी मिलवाओ ऐसे मजेदार लोगों से।”
तभी अचानक एक दिन खबर मिली कि मोना के बापू का देहान्त हो गया तो मैंने बल्लू चाचा से सम्पर्क किया और दोनों साथ साथ अफ़सोस प्रकट करने मोना के घर जा पहुंचे। मोना अब पूरी जवान हो चुकी थी बड़ी बड़ी ऑंखें गोल गोल गाल हँसती तो गाल में गड्ढे बन जाते ,गुदाज़ बाहें उभरे हुए चूतड और बड़ी बड़ी चूचियाँ, चूचियों की बनावट बड़ी मनमोहक थी उसे देख कर ही किसी का भी लण्ड खड़ा हो सकता है। मोना की मम्मी अभी भी बेहद हसीन और उनका बदन बेहद खूबसूरत और गुदाज था । वो रोते हुए बल्लू चाचा से और मोना मुझसे लिपट गयी । मैने देखा कि चाचा सान्त्वना देने के बहाने से उनका मांसल बदन सहला बल्कि टटोल रहे थे इधर मैं भी मोना के साथ लगभग यही कर रहा था। मेरी और चाचा कि नजरें मिलीं और हम उनका ख्याल रखने के बहाने से उस रात वहीं रुक गये। उस रात मैं और मोना बिना बिना उसके बापू के डर के खूब खुल के खेले । उधर बल्लू चाचा ने मोना की मम्मी को चोद चोद के उनका दुखी मन और चूत शान्त की। दूसरे दिन मैं और बल्लू चाचा वापस चले । हम चाचा के घर पहुँचे तो चाचा ने मुझे अन्दर ले जाकर अपनी बैठक में बैठाया। तभी चाची (बल्लू चाचा कि पत्नी) चाय ले आयी । चाचा ने कहा,
“बल्लू मैंने मोना की मम्मी की देखभाल का जिम्मा अपने ऊपर ले लिया है ।”
चाची, “ये तो बड़ी अच्छी बात है।”
मेरा मन हुआ कि कह दूँ कि चाची ये देखभाल के बहाने अपने लण्ड के लिए एक और चूत का इन्तजाम कर रहे हैं पर मैं वख्त की नजाकत जान के चुप रहा।
चाचा ने आगे कहा,
“मैं चाहता हूं कि तू मोना से शादी कर के इस नेक काम में मेरी मदद करे। अगर तुझे मंजूर हो तो मैं तेरे पिता जी से बात करूँ।”
वख्त की नजाकत के हिसाब से न तो मैं ना करने की स्थिति में था और वैसे भी ये सौदा बुरा नहीं था मोना के साथ साथ चाची की चूत मिलने की भी उम्मीद थी सो मैने हाँ कर दी।
कुछ दिन बाद मेरी शादी मोना से हो गयी से हो गयी । दोनो एक दूसरे से जाने समझे थे। सुहागरात में हमने खूब जमकर चुदाई की खूब मज़ा लिया। उसने भी बेशरम होकर चुदवाने में कोई कसर नही उठा रखी। हम दोनों बहुत खुश थे। 
आज एक नई बात पता चली कि मेरी सास मोना की मम्मी नहीं थीं बल्कि चाची थीं चाची ने ही उसे पाला था मेरी सास(चचिया सास) और मेरी बीवी दोनों चाची बेटी की तरह नही बल्कि दो सहेलियों की तरह रहती थी हलाकि मोना कहती उन्हें मम्मी ही थी । एक दिन जब मैं ससुराल गया तो मेरी सास ने खूब खातिरदारी और मेरा बड़ा ख्याल रखा । एक दिन अचानक मैं उनके कमरे में घुसने वाला था जहाँ मेरी बीवी और सास आपस में बातें कर रही थी कि मैंने सुना कि सास कह रही थी-
“मोना अच्छा ये बता तरुन का लण्ड तो अब और भी बड़ा हो गया होगा कितना बड़ा हुआ ?”
मैं कान लगा कर सुनने लगा।
मोना - अरे मम्मी बड़ा मोटा तगड़ा हो गया है खूब मज़ा आता है मुझे चुदवाने में।
सास:- क्या तुम्हारे बल्लू चाचा के लण्ड की तरह है ?
मोना :- नही मम्मी बल्लू चाचा के लण्ड से ज्यादा लंबा और मोटा है
मम्मी:- वाह और चुदाई कितनी देर तक करता है?
मोना :- अरे बड़ी देर तक चोदता रहता है मुझे हर बार चुदाई का पूरा मज़ा देता है
मम्मी :- हाय अगर तुम बुरा न माने तो तो क्या मैं भी चुदवा लूँ
मोना :- अरे बुरा मानने की क्या बात है मम्मी घर का लण्ड है तुम्हारा तो बचपन का देखा सम्झा है जब चाहो चुदवा लो।”
उस रात को मेरे खलबली मची थी मैंने मोना से पूछा कि असली बात क्या है उसने साफ साफ सारी कहानी बता दी
मोना :- देख तू तो जानता है कि मेरी चाची जिन्हें मैं मम्मी कहती हूँ के पति के गुज़र जाने के बाद बल्लू चाचा ने मेरे परिवार को संभाला मेरी चाची यानि कि मम्मी धीरे धीरे उनके नजदीक होती गयीं एक दिन मम्मी ने मुझे भी आवाज़ दी मैं भी गयी तू तो जानता है कि मेरी तो बुर की सील भी तेरे कहने पर तेरे सामने ही उन्हींने तोड़ी थी। मैंने चाचा का लण्ड पकड़ कर कहा- “बल्लू चाचा भोसड़ी के मुझे अपने मोटे लण्ड पर बैठाकर मेरी बुर गरम भी तो करो।”
बल्लू चाचा ने मुझे अपनी गोद में बैठा इस तरह बैठाया कि बुर की दोनों फ़ाकों के बीच की दरार पर लण्ड साँप की तरह लम्बाई में लेटा था। और मैं इस तरह उनकी गोद में बैठकर चूत पर लण्ड रगड़ के गरम करने लगी। थोड़ी ही देरे में लण्ड की रगड़ खा खा कर मेरी बुर गरम हो गयी । तबसे मैं भी चुदवाने लगी।
अब मम्मी को तुम्हारा भी लण्ड चाहिए, मम्मी तुमसे चुदवाना चाहती है बोलो चोदोगे न ?
मैंने कहा –“जरूर।”
फ़िर मैंने चन्दू मामा वाली मामी को चोदने की बात साफ साफ बता दी कि मैं भी चन्दूमामा वाली मामी को चोदता रहा हूँ। मेरी बीवी बहुत खुश हो गयी और मुझसे लिपट गयी बोली –
“ये तो बहुत अच्छा है ऐसा करते हैं कि तुम मेरी मम्मी को चोदना और मैं तेरे चन्दू मामा से चुदवा लूँगी जिसकी तुम बीवी चोदते हो बस हम दोनों बराबर। ठीक है न।”
क्रमश:…………………
Reply
04-25-2019, 11:56 AM,
#37
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...

मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
भाग -4
चाचा से मामा तक


सो उस रात को मैने चन्दू मामा को भी बुलवा लिया था । मैं, मेरी सास, मेरी बीवी और चन्दू मामा चारो मेरे कमरे में बैठे । मेरी सास और मेरी बीवी ने सिर्फ़ बड़े गले के ब्लाउज पेटीकोट पहन रखे थे । उनके बड़े गले के ब्लाउजों में से उनकी बड़ी बड़ी चूचियाँ आधी से ज्यादा दिख रही थीं । मेरी बीवी बोली-
“मम्मी अपने दामाद को नंगा करो न मैं चन्दू मामा को नंगा करती हूं।”
मेरी सास झुककर मेरा नेकर उतारने लगीं, झुकने से उनके बड़े गले के ब्लाउज में से उनकी चूचियाँ फ़टी पड़ रही थीं । मैं उनको देखने लगा सास की चूचियाँ तो मेरी बीवी से भी ज्यादा बड़ी थी जिसे देख मेरा लण्ड टन्ना रहा था। सास ने जैसे ही मेरी नेकर नीचे खींचा मेरा लण्ड उछल कर उनकी आखों के सामने आ गया । सास तो लण्ड देख कर दंग रह गयी उसे हाथ में थाम कर सहलाते हुए बोलीं-
“अरे ये है मर्द का लण्ड आज ये मेरी चूत को फाड़ देगा।”
मैंने उनके बड़े गले के ब्लाउज में हाथ डाल के उनकी बड़ी बड़ी चूचियाँ टटोलते हुए कहा-
“आपकी तो इससे पुरानी पहचान है चाची जो कुछ है आपकी नजर है।”
मोना चन्दू मामा को नंगा करते हुए बोली – पसन्द आया मुझे पूरा विश्वास है कि ये लण्ड साला चाहे जितना बड़ा हो तुम्हारी चूत इसका भरता बना ही देगी ।”
मेरी सास ने अपने दोनों हाथों से अपना पेटीकोट ऊपर उठाया । पहले उनकी पिण्डलियाँ फिर मोटी मोटी चिकनी गोरी गुलाबी जांघें बड़े बड़े गुलाबी भारी चूतड़ दिखे और फिर पावरोटी सी फूली दूधिया मलाई सी सफेद शेव की हुई चूत देखकर मैं दंग रह गया अपना पूरा पेटीकोट ऊपर समेट कर मेरी की नंगी गोद में बड़े बड़े गुलाबी भारी चूतड़ों को रखकर बैठते हुए बोली- तरुन बेटा तेरा लण्ड देख के मैं इतनी जोर से चौंकी कि मेरी चूत सकपकाकर ठन्डी हो गई है इसे लण्ड से सटाकर गरम कर ।” मैने उनकी चूत की दोनों फ़ाकों के बीच की दरार पे अपना ट्न्नाया गरमागरम लण्ड लिटा कर उनकी चूत को लण्ड से सेकने लगा। मैंने उनका चुट्पुटिया वाला ब्लाउज खीच कर खोल दिया उनके बड़े बड़े तरबूज जैसे गुलाबी स्तन कबूतरों की तरह फ़डफ़ड़ा़कर बाहर आ गये। मैंने दोनों हाथों से उनके विशाल स्तन थाम कर दबाते हुए कभी उनके निप्पलों को चूसता तो कभी कभी अपने अंगूठो और अंगुलियो के बीच मसलता । ।
जैसे ही मोना ने चन्दू मामा का नेकर नीचे खींचा उनके उछलते कूदते लण्ड को देख कर बोली- “वाह मामा तुम्हारा लण्ड तो पोकेट साइज़ लण्ड है अगर जल्दी मे चुदवाना हो तो तुम बड़े काम के आदमी हो ।” 
फ़िर उसका लण्ड चूत पर रगड़ते हुए बोली-
“मेरे पति ने तेरी बीबी चोदी थी आज तुम उसकी बीबी चोद के अपना बदला पूरा करो ।” फ़िर तो हम मामा भान्ज़े ने बारी बारी से दोनों माँ बेटी (या चाची भतीजी) को जमके चोदा बदल बदल के चोदा। दूसरे दिन मोना ने कहा- “मम्मी बल्लू चाचा और आंटी और उनकी बेटी बेला को भी बुलवा लो आज मैं अपने पति से आंटी उनकी बेटी बेला को जम के चुदवाऊँगी और हम दोनों बल्लू चाचा से उसके सामने चुदवायेंगें वे दोनों जैसे ही आए, मोना हमारा परिचय करवाने के बाद बल्लू चाचा से बोली-
“बल्लू चाचा,भोंसड़ी के तुमने मम्मी और मेरी चूत खूब बजाई है बदले में, आज मेरा पति तुम्हारी बीबी(आंटी) और बेटी बेला की चूतों को बजा बजा के उनका भोंसड़ा बना देगा।”
इसके बाद मोना मुझसे बोली-
“आज मैं और मम्मी बल्लू चाचा से चुदवाकर तुम्हें दिखायेंगे कि उन्होंने कैसे इतने साल हमारी चूतों के मजे लिये हैं ताकि तुम उससे सबक लो और बदले में उनकी बीबी(आंटी) और बेटी (बेला) को चोद चोद के उनकी चूतों की धज्जियाँ उड़ा दो । उनका भोंसड़ा बना दो ।”
हमेशा की तरह मोना और मेरी सास ने सिर्फ़ बड़े गले के ब्लाउज पेटीकोट पहन रखे थे । उन्होंने आंटी और बेटी बेला की साड़ी खींच कर उन्हें भी अपने स्तर का कर लिया । मोना, मेरी सास, आंटी और उनकी बेटी बेला सभी ने बड़े गले के ब्लाउज पहने थे और उन बड़े गले के ब्लाउजों में से उनकी बड़ी बड़ी चूचियाँ आधी से ज्यादा दिख रही थीं । फ़िर मोना और मेरी सास ने बल्लू चाचा को नंगा किया उनका लण्ड थाम कर सहलाते हुए मुझसे बोली-
देख रहे हो यही है वो लण्ड जो इतने साल तक मेरी और मम्मी की चूत बजाता रहा। अब बल्लू चाचा तुम्हें दिखायेंगे कि उन्होंने कैसे मजे किये ।”
मैने देखा कि बल्लू चाचा के एक तरफ़ मोना और दूसरी तरफ़ मेरी सास उनका मोटा लण्ड थाम कर बैठी हैं और बड़े प्यार से सहला रही हैं और वे दोनो के ब्लाउज में हाथ डाल एक एक चूची थाम के सहला रहे हैं।”
आंटी और उनकी बेटी बेला ने मुझे नंगा करके मेरा लण्ड थाम लिया बोली-
“अरी मोना तू तो बड़ी नसीब वाली है की तुझे इतना बड़ा लण्ड मिला है ।”
मोना ने कहा- “तो आज तू नसीब वाली हो जा आंटी! फ़ड़वा ले अपना भोंसड़ा, आज तक तो तेरा पति मेरी फ़ाड़ता रहा आज तू अपनी बजवा मेरे पति से ।”
इस बात पर मैंने आंटी और बेला गले में हाथ डाल ऊपर से उनके ब्लाउजों में हाथ डाल दोनों की चूचियाँ टटोलते हुए आंटी से पूछा-
“चाची जब बल्लू चाचा मेरी बीवी व मेरी सास को चोदता था तो तुम क्या करती थी ।”
उसने जबाब दिया-
“मैं भी अड़ोसियों पड़ोसियों से चुदवाती रहती थी। हाय मुझे क्या पता था कि तेरा लण्ड इतना जबर्दस्त है वरना मैं तुझे कभी ना छोड़ती तू तो रोज ही हमारे यहाँ आता था। इस मुए बल्लू ने भी ये भेद कभी ना बताया।”
तभी दरवाजे की घण्टी बजी मैंने जल्दी से अपना नेकर पहना और मोना ने पेटीकोट ब्लाउज के ऊपर ही शाल डाल ली हम दोनों दरवाजे पर गये और दरवाजे की झिरी से देखा तो चन्दू मामा और मामी थे हमने बेधड़क दरवाजा खोल दिया। अन्दर आते ही मामी मेरे ऊपर झपटीं-
“हाय मेरे मूसलचन्द ।” और मामी मुझसे लिपट गयी।
और मोना मामा से-
“हाय मामा लालीपाप ।” कहते हुए लिपट गयी।
चन्दूमामा मोना को चूमते हुए बोले-
“हाँ बेटा मैने सोचा तुम्हारी मामी को भी सब परिवार से मिलवा दूँ। 
मेरे कमरे में पहुँचते पहुँचते मामी ने मेरा और मोना ने मामा का लण्ड निकाल कर अपने हाथों में दबोच लिया था । मामा को देख बेला भी उनसे “लालीपाप” कहकर लिपट गयी। कमरे का नजारा भी लगभग वैसा ही था । बल्लू चाचा के एक तरफ़ मेरी सास और तरफ़ दूसरी आंटी बैठी उनका मोटा लण्ड थाम कर सहला रही हैं और बल्लू चाचा दोनो के गले में हाथ डाल ऊपर से ब्लाउज में हाथ घुसेड़ उनकी चूचियाँ टटोल सहला रहे हैं।
ये देख मामा हँस कर बोले-
“वाह चचा ऐश हो रही है ।”
बल्लू चाचा की नजर मामा मामी पर पड़ी तो मामा से लिपटी मोना बेला की तरफ़ इशारा करके वो बोले- तुम कौन सा कम ऐश कर रहे हो लौन्डियों मे गुलफ़ाम बने हो ।”
फ़िर मामी की तरफ़ इशारा करके वो बोले-
“ये क्या तुम्हारी बेगम हैं?”
मामी बल्लू चाचा का लण्ड पकड़कर बोली- “हाँ हूँ तेरी लार टपक रही है क्या? सबर कर? साला दो दो को बगल मे दबाये है फ़िर भी बल्लू चाचा की तीसरी पे नजर है देखो तो साले का कैसे टन्ना के खड़ा है ।”
ये सुन सब हँस पड़े। फ़िर मेरी सास और आंटी सब के सामने अपने पेटीकोट ब्लाउज उतार कर नंगी हो गयी । फ़िर उन्होंने मामी के कपड़े नोच डाले । फ़िर मामी ने मोना और बेला के भी पेटीकोट ब्लाउज नोच डाले, पाँचों ऐसी लग रही थीं जैसे एक से बढ़ कर एक चूचियों की नुमाइश लगी हो । कहना मुश्किल था कि किसकी ज्यादा बड़ी या शान्दार है उन्हें देखकर हम तीनो के लण्ड मस्त हो रहे थे फ़िर मेरी सास और आंटी ने मेरा लण्ड पकड़ा और बोली-
“साला सबसे तगड़ा लगता है ।”
उधर मामी ने बल्लू चाचा के लण्ड पर कब्जा कर ही रखा था और कह रही थी-
“चन्दू कह रहा था कि आंटी ने कल अपनी चूत से उसके लण्ड की बहुत खातिर की आज देखें आंटी के पति का लण्ड चन्दू की पत्नी की चूत की क्या सेवा करता है ।”
और मेरी बीवी मोना और बेला मामा के लण्ड से खेल रही थीं तीनों लण्ड एक साथ देख कर मेरी बीवी मोना बोली –
“हाय आज तो लगता है कि लण्ड की दावत है देखो साले कैसे एक दूसरे की चूत खाने को तैयार है। तब तक मेरी सास ने तीनो लण्ड नापे और बोली-
“अरे भोसड़ी के तीनो साले 6" से ऊपर है और मोटाई में 4" से कम नही है ।”
(दरअसल मामा का 6"का था बाकी हमारे दोनो के 7"से ऊपर थे)
मामी ने बल्लू चाचा के लण्ड पर हाथ फेरते हुए कहा-
“हाय तब तो आज तो अपनी चूतों की लाटरी खुल गयी यार ।”
इधर मेरी सास और आंटी मेरे , मोना और बेला मामा के लण्ड पर हाथ फेर रही थी। पहले राउण्ड में हम तीनो मिलकर अपनी मर्ज़ी के हिसाब से पाँचों औरतों को चोद कर मज़े ले रहे थे मैं कभी मेरी सास को चोदता कभी आंटी को, मामा कभी बेला को चोदता कभी मेरी बीवी मोना को, और बल्लू चाचा कभी मेरी सास को चोदता कभी मामी को । मेरी सास ने देखा बेला और मोना मामा का पीछा ही नहीं छोड़ रही हैं और दूसरी तरफ़ बल्लू चाचा उनमें(मेरी सास) और मामी में ही अदल बदल कर रहे हैं और मैं उनमें(मेरी सास) और आंटी में ही अदल बदल कर रहे हैं, तो मेरी सास बोली-
“अब दूसरी पारी में हर लण्ड को एक नई और एक पुरानी चूत चोदनी पड़ेगी साले दोनों दोनों गधे जैसे लण्ड वाले मेरे, मेरी देवरानी और मामी के पीछे पड़ गये हैं साले मेरे देवर और दामाद के गधे जैसे लण्डों से फ़ड़वा फ़ड़वा के हमारी (उनकी, आंटी की और मामी की) चूतें थकान से भोंसड़ा हो रही हैं। अरे हमारा भी मन करता है कि मामाके प्यारे से लण्ड के साथ थोड़ी राहत की साँस लें ।”
मामी बोली,-
“ मुझे कोई फ़रक नहीं पड़ता तुम दोनों चन्दू के साथ आराम करो मेरे तो अभी खेलने खाने के दिन हैं मैं तुम्हारे देवर और अपने भान्जे को झेलने में लड़कियों की मदद करूगीं।
मेरी सास और आंटी ने मामा को अपनी तरफ़ खीच ले गई। बल्लू चाचा और मेरे हिस्से मे आयी मामी मोना और बेला । बल्लू चाचा ने मोना और मामी को और मैंने बेला और मामी को चोदा ।
धीरे धीरे बल्लू की लड़की बेला चन्दू मामा और मामी से बहुत हिलमिल गई वो अक्सर चन्दू मामा के घर जाने लगी यहाँ तक कि उनके साथ दूसरे गाँव मेला देखने भी गई। फ़िर वो अक्सर चन्दू मामा और मामी के साथ उस गाँव जाने लगी। एक रात जब तरुन और बेला साथ साथ मस्ती कर रहे थे तब तरुन के पूछने पर उसने उस गाँव का किस्सा बताया।
क्रमश:…………………
Reply
04-25-2019, 11:56 AM,
#38
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
भाग -5
बेला देखने गई मेला


उसने तरुन से बताया एक बार चन्दू मामा हमारे घर आये और मुझे अपने साथ ले गये. चन्दू मामा का लड़का राजू किसी काम से बाहर गया था उसकी बीबी टीना भाभी से मेरी बहुत पट्ती थी क्योंकि वो भी मेरी तरह बहुत सेक्सी और हर समय चुदासी रहती थी, अब चन्दू मामा अक्सर थके थके रहते हैं कभी कभी ही चुदाई के मूड में आते हैं जिसदिन मैं उन्के साथ गई उसदिन तो एक बार उन्होने मुझे चोदा पर हर दिन मैं और टीना भाभी एक ही कमरे में सोते थे और रात में देर तक चुदाई सम्बन्धी बातें किया करते थे। फिर वहाँ से मैं बेला, मेरी मामीजी, चन्दू मामा और भाभी टीना और नौकर रामू सब लोग मेले के लिए चल पड़े. सनडे को हम सब मेला देखने निकल पड़े. हमारा प्रोग्राम 8 दिन का था.. सोनपुर मेले में पहुँच कर देखा कि वहाँ रहने की जगह नही मिल रही थी. बहुत अधिक भीड़ थी. चन्दू मामा को याद आया कि उनके ही गाँव के रहने वाले एक दोस्त के दोस्त विश्वनाथजी ने यहाँ पर घर बना लिया है सो सोचा की चलो उनके यहाँ चल कर देखा जाए. हम चन्दू मामा के दोस्त यानी की विश्वनाथजी के यहाँ चले गये. विश्वनाथजी मजबूत कदकाठी के पहलवान जैसे व्यक्ति थे। उन्होने तुरंत हमारे रहने की व्यवस्था अपने घर के ऊपर के एक कमरे में कर दी. इस समय विश्वनाथजी के अलावा घर पर कोई नही था. सब लोग गाँव में अपने घर गये हुए थे. उन्होने अपना किचन भी खोल दिया,जिसमे खाने- पीने के बर्तनो की सुविधा थी. वहाँ पहुँच कर सब लोगों ने खाना बनाया और और विश्वनाथजी को भी बुला कर खिलाया. खाना खाने के बाद हम लोग आराम करने गये.
जब हम सब बैठे बातें कर रहे थे तो मैने देखा कि विश्वनाथजी की निगाहें बार-बार भाभी पर जा टिकती थी. और जब भी भाभी की नज़र विश्वनाथजी की नज़र से टकराती तो भाभी शर्मा जाती थी और अपनी नज़रें नीची कर लेती थी. दोपहर करीब 2 बजे हम लोग मेला देखने निकले. जब हम लोग मेले में पहुँचे तो देखा कि काफ़ी भीड़ थी और बहुत धक्का-मुक्की हो रही थी. चन्दू मामा बोले कि आपस में एक दूसरे का हाथ पकड़ कर चलो वरना कोई इधर-उधर हो गया तो बड़ी मुश्किल होगी. मैने भाभी का हाथ पकड़ा, चन्दू मामा-मामी और रामू साथ थे.
मेले की भीड़ मे पहुँचे ही थे कि अचानक पीछे से मेरे चूतड़ों में कुछ कड़ा सा गड़ा और किसी ने सटकर कमर पर होले से हाथ रख दिये मैं एकदम बिदक पड़ी, कि उसी वक़्त सामने से धक्का आया और उसने मेरे उभरी हुई चूचियाँ सहला दी. भीड़ और धक्कामुक्की बढ़ती जा रही थी मुझे औरत होने की गुदगुदी का अहसास होने लगा था. वो भीड़ मे मेरे पीछे-पीछे चल रहा था, कुछ आगे बढ़ने पर अचानक पीछे से धक्का आया मेरा बदन फ़िर से सनसना गया शायद वही फ़िर पीछे से मेरी दोनो चूचियाँ पकड़ कर कान में फुसफुसाया - 'हाय मेरी जान' । मेरे चूतड़ों को तो उसने जैसे बाप का माल समझ कर दबोच रखा था. कभी-कभी मेरे चूतड़ों में उसका लण्ड गड़ने लगता था, फ़िर उसने मेरी नाभी के नीचे बन्धे पेटीकोट के नारे में से हाथ डाल मेरी चूत को अपने हाथ के पूरे पंजे से दबा लिया और मेरी चूत सहलाने लगा. उसने मेरी जाँघों को भी सहलाया. हम कुछ और आगे बढ़े तो अबकी धक्का-मुक्की में भाभी का हाथ छूट गया और भाभी आगे और में पीछे रह गयी. भीड़ काफ़ी थी और मैं भाभी की तरफ गौर करके देखने लगी. वो पीछे वाला आदमी भाभी के पेटीकोट में हाथ डाल कर भाभी की चूत सहला रहा था. भाभी मज़े से चूत सहलवाते हुए आगे बढ़ रही थी. भीड़ में किसे फ़ुर्सत थी कि नीचे देखे कि कौन क्या कर रहा है. मुझे लगा कि भाभी भी मस्ती में आ रही है. क्योकि वो अपने पीछे वाले आदमी से कुछ भी नही कह रही थी. जब मैं उनके बराबर में आई और उनका हाथ पकड़ कर चलने लगी तो उनके मुँह से आह सी निकल कर मेरे कानों में गूँजी. में कोई बच्ची तो थी नही, सब समझ रही थी. मेरा तन भी छेड़-छाड़ पाने से गुदगुदा रहा था. तभी मेरे चूतड़ों में उसका लण्ड गड़ा. ज़रा कुछ आगे बढ़े तो उसने मेरे दोनो बगलों में हाथ डाल कर मेरी बड़ी बड़ी चूचियों को इस तरह पकड़ कर खींचा कि देखने वाला समझे कि मुझे भीड़-भाड़ से बचाया है. शाम का वक़्त हो रहा था और भीड़ बढ़ती ही जा रही थी. इस छुआ छेड़ीं से हम दोनों बुरी तरह उत्तेजित हो चुदासी हो रहीं थीं तभी पीछे से वो रेला सा आया जिसमे चन्दू मामा मामी और रामू पीछे रह गये और हम लोग आगे बढ़ते चले गये. कुछ देर बाद जब पीछे मूड कर देखा तो चन्दू मामा मामी और रामू का कहीं पता ही नही था. अब हम लोग घबरा गये कि चन्दू मामा मामी कहाँ गये. हम लोग उन्हे ढूँढ रहे थे कि वो लोग कहाँ रह गये और आपस में बात कर रहे थे कि तभी दो आदमी जो काफ़ी देर से हमे घूर रहे थे और हमारी बातें सुन रहे थे वो हमारे पास आए और बोले तुम दोनो यहाँ खड़ी हो और तुम्हारे सास ससुर तुम्हें वहाँ खोज रहे हैं.
भाभी ने पूछा , कहाँ है वो? तो उन्होने कहा कि चलो हमारे साथ हम तुम्हे उनसे मिलवा देते है. {भाभी का थोड़ा घूँघट था. उसी घूँघट के अंदाज़े पर उन्होने कहा था जो क़ि सच बैठा} हम उन दोनो के आगे चलने लगे. साथ चलते-चलते उन्होने भी हमें नही छोड़ा बल्कि भीड़ होने का फायदा उठा कर कभी कोई मेरे चूचियों पर हाथ फिरा देता तो कभी दूसरा भाभी की कमर सहलाते हुए हाथ नीचे तक ले जाकर उनके चूतड़ों को छू लेता था. एक दो बार जब उस दूसरे वाले आदमी ने भाभी की चूचियों को ज़ोर से भींच दिया तो ना चाहते हुए भी चुदासी भाभी के मुँह से आह सी निकल गयी और फिर तुरंत ही संभलकर मेरी तरफ देखते हुए बोली कि इस मेले में तो जान की आफ़त हो गयी है , भीड़ इतनी ज़्यादह हो गयी है कि चलना भी मुश्किल हो गया है.
मुझे सब समझ में आ रहा था कि साली को मज़ा तो बहुत आ रहा है पर मुझे दिखाने के लिए सती सावित्री बन रही है. पर अपने को क्या गम, में भी तो मज़े ले ही रही थी और यह बात शायद भाभी ने भी नोटिस कर ली थी तभी तो वो ज़रा ज़्यादा बेफिकर हो कर मज़े लूट रही थी. वो कहते है ना कि हमाम में सभी नंगे होते हैं. मैने भी नाटक से एक बड़ी ही बेबसी भरी मुस्कान भाभी तरफ उछाल दी.इस तरह हम कब मेला छोड़कर आगे निकल गये पता ही नही चला. काफ़ी आगे जाने के बाद भाभी बोली ' बेला हम कहाँ आ गये, मेला तो काफ़ी पीछे रह गया. यह सुनसान सी जगह आती जा रही है, तेरे चन्दू मामा मामी कहाँ है?'
तभी वो आदमी बोला कि वो लोग हमारे घर है, तुम्हारा नाम बेला है ना, और वो तुम्हारे चन्दू मामा मामी है, वो हमे कह रहे थे कि बेला और बहू कहाँ रह गये. हमने कहा कि तुम लोग घर पर बैठो हम उन्हें ढूँढ कर लाते हैं. तुम हमको नही जानती हो पर हम तुम्हे जानते हैं. यह बात करते हुए हम लोग और आगे बढ़ गये थे.
वहाँ पर एक कार खड़ी थी. वो लोग बोले कि चलो इसमे बैठ जाओ, हम तुम्हे तुम्हारे चन्दू मामा मामी के पास ले चलते हैं. और अब मुझे यह बात समझ में आई कि ये दोनो आदमी वही हैं जो भीड़ मे मेरी और भाभी के चूतड़ और चूचियाँ दबा रहे थे. मैने सोचा फ़ँस तो गये ही हैं पर आखिरी सूरत में साले ज्यादा से ज्यादा क्या करेंगे चोद ही तो लेंगे, पर हमने जाने से इनकार करने का नाटक किया तो उन्होने कहा कि- “ घबराओ नही देखो हम तुम्हे तुम्हारे चन्दू मामा-मामी के पास ही ले चल रहे है और देखो उन्होंने ही हमे सब कुछ बता कर तुम्हारी खबर लेने के लिए हमे भेजा है अब घबराओ मत और जल्दी से कार में बैठ जाओ ताकि मामा- मामी से जल्दी मिल सको।”
मैंने भाभी की तरफ़ देखा भाभी ने सबकी आँख बचा कर मेरी तरफ़ शरारात से मुस्कुराकर आँख दबाई, मैं समझ गई कि आखिरी सूरत में भाभी को भी मेरी तरह मजा लूटने में कोई एतराज नहीं है । बेबसी का नाटक करते हुए हम लोग गाड़ी में बैठ गये । उन लोगों ने गाड़ी में भाभी को आगे की सीट पर बैठाया फ़िर दूसरा मेरे साथ पीछे की सीट पर बैठा कार थोड़ी ही दूर चली होगी कि उस आदमी का दायाँ हाथ मेरी गरदन के पीछे से दूसरी तरफ़ के कन्धे से आगे निकल मेरे बड़े गले के ब्लाउज में से झाँकती गोरी गुलाबी बड़ी बड़ी चूचियों में घुस उन्हें सहलाने दबाने लगा, और बायां हाथ मेरी कमर में आगे से मेरा पेट सहलाने और नाभी में उंगली डालने लगा । फ़िर उसका हाथ सरककर मेरी नाभी के नीचे बन्धे पेटीकोट के नारे में से मेरी चूत पर जा पहुंचा। उसने मेरी चूत को अपने हाथ के पूरे पंजे से दबोच लिया और सहलाने लगा । मैंने नखरा करते हुए उन्हे हटाने का नाटक करते हुए कहा ' हटो ये क्या बदतमीज़ी है.' तो एक ने कहा 'यह बदतमीज़ी नही है मेरी जान, हम वही कर रहे हैं जो मेले में कर रहे थे और तुम मजे ले रहीं थी तुम्हे तुम्हारे चन्दू मामा से मिलाने ले जा रहे हैं तो इसी खुशी में पहले हमारे चन्दू मामाओ से मिलो फिर अपने चन्दू मामा से. जब मैने आगे की तरफ देखा तो पाया कि भाभी का ब्लाउज और ब्रा खुली है दोनो टाँगे फैली हुई साड़ी और पेटिकोट कमर तक उठा हुआ है और वो आदमी कभी भाभी की दोनो चूचियाँ पकड़ता है कभी उनकी चूत को अपने हाथ के पूरे पंजे से दबोचता, सहलाता और उंगली डालता है भाभी झूठ मूठ की ना नुकुर व उसकी पकड़ से निकलने की कोशिश करने का अभिनय कर रही हैं ।
उसने कहा –
“ देखो मेरी जान, हम तुम्हे चोदने के लिए लाए हैं और चोदे बिना छोड़ेंगे नही, तुम दोनो राज़ी से चुदवा लोगी तो तुम्हे भी मज़ा आएगा और हमे भी, फिर तुम्हे तुम्हारे घर पहुँचा देंगे. जितना नखरा करोगी उतनी देरी से घर पहुँचोगी।”
और मेरी भाभी से कहा कि' “ये तो साफ़ दिख रहा है कि मजा तुम दोनो को भी आ रहा है फ़िर तुम तो शादी शुदा हो, चुदाई का मज़ा लेती ही रही हो, इसे भी समझाओ कि इतना मज़ा किसी और चीज़ में नही है, इसलिए चुपचाप खुद भी मज़ा करो और हमे भी करने दो ।”
इतना सुन कर मैं मन ही मन हँसी कि ये साला, ये नहीं जानता कि हम दोनों तो पहले से ही चुदासी हो रही हैं । अब हमने नखरे करने बन्द कर दिये और चुपचाप मज़ा लेने लगे । भाभी को शांत होते देख कर वो जो भाभी की मोटी मोटी जाघें पकड़े बैठा था वो भाभी की चूत दबोचते हुए बीच बीच में कस-कस कर भाभी की बड़ी बड़ी चूचियाँ सहलाने लगा. भाभी सी-सी करने लगी । इधर मेरी भी चूत और चूचियों, दोनो पर ही एक साथ आक्रमण हो रहा था और मैं भी सीसिया रही थी. वो मेरी चूचियों को भोंपु की तरह दबाते हुए बारी बारी से दोनों घूंड़ियों(निपलों) को होठों में दबा के चूसने में लगा था मेरे मुँह से सीसियाते हुए निकला “ स्स्स्स्सी आह्ह्ह ये तुम क्या कर रहे हो?”
क्यों मज़ा नही आ रहा है क्या मेरी जान?
मैंने एकदम से कसमसा कर हाथ पावं सिकोड़े तो दूसरा वाला मेरे चूतड़ों को सहलाते हुए मेरी चूतड़ों की दरार में उंगली फिराते हुए चूत तक ले जा रहा था.
“चीज़े तो बड़ी उम्दा है यार।”
भाभी की मोटी मोटी जाघें दबोच कर मौज लेते हुए वो बोला. “एकदम कसा मस्त देहाती माल है ।”
मैं थोड़ा सा हिली तो मेरे वाले ने मेरी चूचियों को कस कर दबाते हुए मेरे होंटो पर अपने होंट रख कर ज़ोर से चुंबन लिया फिर मेरे गालों को मूँह में भर कर इतनी ज़ोर से चूसा कि मैं बूरी तरह से गन्गना उठी. ऐसा लग रहा था कि हम दोनो की मस्त जवानी देख कर दोनो बुरी तरहा से पगला गये थे. मेरा वाला मेरे चूतड़ और चूत दबोचे बैठा था, और मेरी चूचियों और गालों का सत्यानाश कर रहा था और मैं वैसे झूठ नही बोलूँगी क्योंकि मज़ा तो मुझे भी आ रहा था पर उस वक़्त डर भी लग रहा था. मैं दोहरे दबाव में अधमरी थी. एक तरफ़ शरारात की सनसनी और दूसरी तरफ इनके चंगुल में फँसने का भय,वो मेरी गदराई चूचियों को दबाते हुए मस्त आँखो से मेरे चेहरे को निहार रहा था ।
मैने भाभी की तरफ देखा, भाभी की साड़ी और पेटिकोट कमर तक उठा हुआ था और आगे वाले ने भाभी की दायीं मोटी गदराई जाँघ अपनी जाँघ के नीचे दबा रखी थी । भाभी दोनो हाथों से उसका हलव्वी लण्ड पकड़ के सहला रही थी. उन दोनो के खड़े मोटे-मोटे फ़ौलादी लण्डों को देख कर मैं डर गयी कि जाने ये लण्ड हमारी चूतों का क्या हाल करेंगे । तभी आगे वाले आदमी ने जो कि कार चला रहा था, एक हाथ से भाभी के गाल पर चुटकी भरी फ़िर उनकी जाँघों के बीच चूत के ऊपर उगी भूरी-भूरी झांटे सहलाते और चूत मे उंगली करते हुए भाभी से पूछा'
रानी मज़ा आ रहा है ना?
और मैने देखा कि भाभी मज़ा लेते हुए नखरे के साथ बोली
'ऊँ हूँ '
तब उसने कहा ' नखड़ा ना कर, मज़ा तो आ रहा है, है ना, प्यार से चुदवा लोगी तो कसम भगवान की पूरा मज़ा लेकर ऐसे ही साफ़ सुथरी तुम्हे तुम्हारे घर पहुँचा देंगे. तुम्हारे घर किसी को पता भी नही लगेगा कि तुम कहाँ से आ रही हो. और नखड़ा करोगी तो वक़्त भी खराब होगा और तुम्हारी हालत भी और घर भी देर से पहुँचोगी. वैसे भी तुम खुद समझदार हो जो मज़ा राज़ी-खुशी में है वो ज़बरदस्ती में कहाँ.
भाभी (झुंझुलाहट के साथ) – अरे तो क्या मैं लिख के दूँ, भाषण देने के बजाय जल्दी से करता क्यों नहीं ।”
भाभी की ऐसी बात सुन कर कार एक सुनसान जगह पर रोक ली और उन लोगों ने हमे कार से उतारा और कार से एक बड़ा सा कंबल निकाल कर थोड़ी समतल सी जगह पर बिछाया और मुझे और भाभी को उस पर लिटा दिया. अब पीछे वाला आदमी मेरे करीब आया और उसने पहले मेरा ब्लाउज उतारा, ब्रा में से फ़टी पड़ रही मेरी बड़े बड़े बेलों जैसी चूचियाँ देख उसने मेरी ब्रा लगभग नोचते हुए खीच कर उतार डाली अब वो मेरी फ़ड़क कर आजाद हो गई चूचियों पर झपटा और उनपर मुँह मारने लगा। मैं गनगना कर सीस्या रही थी. फिर उसने बाकी के सभी कपड़े उतार कर मुझे पूरी तरह से नंगा किया मेरी चूत में कीड़े रेंगने लगे थे. मेरे साथ वाला आदमी का जोश बढ़ता जा रहा था, और पागलों के समान मेरे शरीर को चूम चाट रहा था । मेरी खाई खेली चूत भी चुदाई की उम्मीद से में मस्ती में भर रही थी. वो काफ़ी देर तक मेरी चूत को निहारता रहा । वो मेरी चूत को कुँवारी चूत यानि बुर समझ रहा था फ़िर उसने मेरी पाव-रोटी जैसी फूली हुई चूत पर हाथ फेरा और मस्ती में भर झुक कर मेरी चूत को चूमने लगा, और चूमते-चूमते मेरी चूत के टीट {पुत्तियाँ} को चाटने लगा.अब मेरी बर्दाश्त के बाहर हो रहा था और मैं ज़ोर से सित्कार कर रही थी. वो जितना ही अपनी जीभ मेरी मस्त चूत पर चला रहा था उतना ही उसका जोश और मेरा मज़ा बढ़ता जा रहा था. मेरी चूत में जीभ घुसेड कर वो उसे चक्कर घिन्नी की तरह घुमा रहा था, अब मैं भी अपने चूतड़ ऊपर उचकाने लगी थी. मैंने भाभी की तरफ़ देखा वो आगे वाले आदमी की गोद में बिलकुल नंगी उसके सीने से अपनी पीठ लगाकर बैठी उसका लम्बा फ़ौलादी लण्ड अपनी चूत पर रगड़ रही थीं और वो उनकी चूचियाँ सहला रहा था.
मुझे एक अजीब तरह की गुदगुदी हो रही थी फिर वो कपड़े खोल कर नंगा हो गया. उसका भी लण्ड आगे वाले की तरह खूब लंबा और मोटा फ़ौलादी था जोकि एकदम टाइट होकर साँप की भाँति फुंफ़कार रहा था जिसे देख मेरी चुदक्कड़ चूत उसे(लण्ड को) निगल जाने को बेकरार हो उठी.
क्रमश:…………………
Reply
04-25-2019, 11:56 AM,
#39
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
भाग -6
बेला देखने गई मेला


उसने अपना हलव्वी लण्ड मेरी पावरोटी सी चूत के मुहाने पर रखा फिर उसने मेरे चूतड़ों को थोड़ा सा उठा कर अपने लण्ड को मेरी बेकरार चूत में कुछ इस तरह से चांपा आधे से ज़्यादा लण्ड मेरी चूत में घुस गया था. मैं तड़प उठी, चीख उठी और चिल्ला उठी “उई माँ , हायईईईईई मैं मरीईई अहहााआ”
तभी उसने इतनी ज़ोर से ठाप मारा कि उसका पूरा लण्ड मेरी चूत में घुस गया.
“उईईईई माँ अरे जालिम कुछ तो मेरी चूत का ख्याल कर”
मैं दर्द से कराह रही थी। वो मेरे नंगे बदन पर लेट गया और मेरी एक चूची को मुँह मैं लेकर चूसने लगा. धीरे धीरे मजा बढ़ने पर मैं अपने चूतड़ों को ऊपर उछालने लगी, तभी वो मेरी चूचियों को छोड़ दोनो हाथ ज़मीन पर टेक कर लण्ड को चूत से टोपा तक खींच कर इतनी ज़ोर से ठाप मारा कि पूरा लण्ड जड़ तक हमारी चूत में समा गया
ओफफ्फ़ उफफफफफफ्फ़
और मुझे बाहों में भर कर वो ज़ोर-ज़ोर से ठप लगा रहा था. धीरे धीरे मेरी चूत का स्प्रिंग ढीला हो मेरा मज़ा बढ़ने लगा और मैं भी अपने चूतड़ उच्छाल-उच्छाल कर गपागप लण्ड अंदर करवाने लगी. और कह रहीथी
'और ज़ोर से रज़्ज़ा और ज़ोर से पूरा पेलो, और डालो अपना लण्ड' वो आदमी मेरी चूत पर घमासान धक्के मारे जा रहा था. वो जब उठ कर मेरी चूत से अपना लण्ड ठांसता था तो मैं अपने चूतड़ उचका कर उसके लण्ड को पूरी तरह से अपनी चूत मैं लेने की कोशिश करती.और जब उसका लण्ड मेरी चूत की जड़ से टकराता तो मुझे लगता मानो मैं स्वर्ग मैं उड़ रही हूँ. अब वो आदमी ज़मीन से दोनो हाथ उठा कर मेरी दोनो चूचियों को पकड़ कर हमे घपघाप पेल रहा था. यह मेरे बर्दाश्त के बाहर था और मैंने खुद ही अपना मुँह उठा कर उसके मुँह के करीब किया तो वो मेरे मुँह से अपना मुँह भिड़ा कर अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल कर अंदर बाहर करने लगा.इधर जीभ अंदर बाहर हो रही थी और नीचे चूत में लण्ड अंदर बाहर हो रहा था . इस दोहरे मज़े के कारण में तुरंत ही स्खलित हो गयी और लगभग उसी समय उसके लण्ड ने इतनी फोर्स से वीर्यपात किया की मैं उसकी छाती से चिपक उठी. उसने भी पूर्ण ताक़त के साथ मुझे अपनी सीने से चिपका लिया जिससे मेरी बड़े बड़े बेलों जैसी छातियाँ उसके सीने से दब गईं।
तूफान शांत हो गया. उसने मेरी कमर से हाथ खींच कर बंधन ढीला किया और मुझे कुछ राहत मिली, लेकिन मैं मदहोशी मे पड़ी रही. वो उठ बैठा और अपने साथी के पास गया और बोला ' यार ऐसा ग़ज़ब का माल है प्यारे मज़ा आ जाएगा. ऐसा माल बड़ी मुश्किल से मिलता है.
मैने मुड़ कर भाभी की तरफ देखा. आगे वाला आदमी भाभी के ऊपर चढ़ा हुआ था और उनकी चूचियाँ भोंपू की तरह दबा दबाकर उनपर मुँह मारते हुए उनकी फ़ूली हुई पावरोटी सी चूत में अपना फ़ौलादी लण्ड ठोंक रहा था । भाभी भी किलकारी भरते हुए बोल रही थी
“हाय राजा ज़रा ज़ोर से चोद और ज़ोर से दबा चूचियाँ ज़रा कस कर दबा आ~ह उईईईई मैं बस झड़ने ही वाली हूँ।”
भाभी अपने चूतड़ों को धड़ाधड़ ऊपर नीचे पटक रही थी.
“अम्म्म्ह~ह मैं गयी राजा”
कह कर उन्होने दोनो जाँघें फैला दीं। तभी वो आदमी भी भाभी की चूचियाँ पकड़ कर गाल चूसते हुए बोला
' आ~ह उईईईई अम्म्म्ह~ह ”
और उसने भी अपना पानी छोड़ दिया.कुछ देर बाद वो भी उठा और अपने कपड़े पहन कर साइड मैं लेट गया. भाभी उस आदमी के हटने के बाद भी आँखे बंद किए लेटी थी और मैने देखा कि भाभी की चूत से वीर्य और रज बह कर चूतड़ों तक आ पहुँच रहा था.
चुदाई का दौर पूरा होने के बाद हमने अपने कपड़े पहने और वो लोग हमें अपनी कार में वापस मेले के मेन गाउंड तक ले आए. उन्होने रास्ते मे फिर से हमे धमकाया कि यदि हमने उनकी इस हरकत के बारे मे किसी से कुछ मत कहना इस पर हमने भी उनसे वादा किया कि हम किसी को कुछ नही बताएँगे । जब हम लोग मेले के ग्राउंड पर पहुँचे तो सुना कि वहाँ पर हमारा नाम अनाउन्स कराया जा रहा था और हमारे चन्दू मामा-मामी मंडप मे हमारा इंतजार कर रहे थे. वो चारों आदमी हमे लेकर मंडप तक पहुँचे. हमारे चन्दू मामा हमे देख कर बिफर पड़े कि कहाँ थे तुम लोग अब तक , हम 2 घंटे से तुम्हे खोज़ रहे थे. इस पर हमारे कुछ बोलने से पहले ही उन दोनों मे से एक ने कहा आप लोग बेकार ही नाराज़ हो रहें है, यह दोनो तो आप लोगों को ही खोज रही थी और आपके ना मिलने पर एक जगह बैठी रो रही थी, तभी इन्होने हमे अपना नाम बताया तो मैने इन्हे बताया कि तुम्हारे नाम का अनाउन्स्मेंट हो रहा है और तुमहरे चन्दू मामा मामी मंडप मे खड़े है. और इन्हे लेकर यहाँ आया हूँ । तब हमारे चन्दू मामा बहुत खुश हुए ऐसे शरीफ {?} लोगों पर और उन्होने उन अजन्बियो का शुक्रिया अदा किया. इस पर उन दोनो ने हमे अपनी गाड़ी पर हमारे घर तक छोड़ने की पेशकश की जो हमारे चन्दू मामा-मामी ने तुरंत ही कबूल कर ली. हम लोग कार में बैठे और घर को चल दिए. जैसे ही हम घर पहुँचे कि विश्वनाथजी बाहर आए हमसे मिलने के लिए. संयोग की बात यह थी कि यह लोग विश्वनाथजी की पहचान वाले थे. इसलिए जैसे ही उन्होने विश्वनाथजी को देखा तो तुरंत ही घबरा कर पूछा ' अरे विश्वनाथजी आप, यह क्या आपकी फॅमिली है तो विश्वनाथजी ने कहा अरे नही भाई फॅमिली तो नही पर हमारे परम मित्र के ही गाँव के दोस्त और उनका परिवार है यह ।” फिर विश्वनाथजी ने उन लोगों को चाय पीने के लिए बुलाया और वो सब लोग हमारे साथ ही अंदर आ गये. वो चारों बैठ गये और विश्वनाथजी चाय बनाने के लिए किचन की तरफ़ पहुँचे तभी मेरे चन्दू मामाजी ने कहा
“बहू ज़रा मेहमानों के लिए चाय बना दे ।”
और मेरी भाभी उठ कर किचन मे चाय बनाने के लिए गयी. भाभी ने सबके लिए चाय चढ़ा दी और चाय बनाने के बाद वो उन्हे चाय देने गयी, तब तक मेरे चन्दू मामा और मामी ऊपर के कमरे में चले गये थे और नीचे के उस कमरे में उस वक़्त वो दोनो और विश्वनाथजी ही थे. कमरे में वो थी लोग बात कर रहे थे जिन्हे मैं दरवाज़े के पीछे खड़ी सुन रही थी. मैने देखा कि जब भाभी ने उन लोगों को चाय थमायी तो एक ने धीरे से विश्वनाथजी की नज़र बच्चा कर भाभी की एक चूची दबा दी. भाभी के मुँह से दबी दबी सी सिसकी निकली और वो खाली ट्रे लेकर वापस आ गयी । वो लोग चाय की चुस्की लगा रहे थे और बातें कर रहे थे.
विश्वनाथजी- आज तो आप लोग बहुत दिनों के बाद मिले हैं, क्यों भाई कहाँ चले गये थे आप लोग? क्यों भाई रमेश तुम्हारे क्या हाल चाल है.
रमेश- हाल चाल तो ठीक है, पर आप तो हम लोगों से मिलने ही नही आए, शायद आप सोचते होगे कि हमसे मिलने आएँगे तो आपका खर्चा होगा.
विश्वनाथजी- अरे खर्चे की क्या बात है.अर्रे यार कोई माल हो तो दिलाओ , खर्चे की परवाह मत करो, वैसे भी फॅमिली बाहर गयी है और बहुत दिन हो गये है किसी माल को मिले.अर्रे महेश तुम बोलो ना कब ला रहे हो कोई नया माल?
महेश - इस मामले मे तो रमेश से ही बात करो माल तो यही साला रखता है.
रमेश – क्यों झूठ बोलता है साले मेरे पास इस समय माल कहाँ? इस वक़्त तो माल इसी के पास है.
महेश _ माल तो था यार पर कल साली अपने मैके चली गयी है. पर अगर तुम खर्च करो तो कुछ सोचें.
विश्वनाथजी- खर्चे की हमने कहाँ मनाई की है. चाहे जितना खर्चा हो जाए, लेकिन कुछ मजा नहीं आ रहा यार कुछ जुगाड़ बनवओ. मैं वहीं खड़े-खड़े सब सुन रही थी मेरे पीछे भाभी भी आकर खड़ी हो गयी और वो भी उन लोगों की बातें सुन ने लगी.
रमेश- अकेले-अकेले कैसे तुम्हारे यहाँ तो सब लोग है.
विश्वनाथजी- अर्रे नही भाई यह हमारे बच्चे थोड़ी ही है, हमारे बच्चे तो गाँव गये है, यह लोग हमारे गाँव से ही मेला देखने आए है.
महेश- फिर क्या बात है. बगल मे हसीना और नगर ढिंढोरा. अगर तुम हमारी दावत करो तो इनमे से किसी को भी तुमसे चुदवा देंगे.
विश्वनाथजी- कैसे?
महेश- यार यह कैसे मत पूछो, बस पहले दावत करो।
विश्वनाथजी- लेकिन यार कहीं बात उल्टी ना पड़ जाएँ , गाँव का मामला है, बहुत फ़ज़ईता हो जाएगा.
सुरेश- यार तुम इसकी क्यों फ़िक्र करते हो मैं उड़ती चिड़िया के पर गिन सकता हूँ ये सब तैयार पके फ़ल हैं और चिल्ला चिल्ला के कह रहे हैं कि खाने वाला चाहिये सिर्फ़ खाने वाले को खाना आना चाहिये। सब कुछ हमारे ऊपर छोड़ दो ।”
रमेश- यार एक बात है, बहूँ की जो सास {यानिकि मामीजी} है उस पर भी बड़ा जोबन है. यार मैं तो उसे किसी भी तरह चोदुन्गा.
विश्वनाथजी- अर्रे यार तुम लोग अपनी बात कर रहे या मेरे लिए बात कर रहे हो
महेश- तुम कल रात को दावत रखना और फिर जिसको चोदना चाहोगे उसी को चुदवा देंगे, चाहे सास चाहे बहूँ या फिर उसकी ननद ।
विश्वनाथजी- ठीक है फिर तुम चारों कल शाम को आ जाना.
मैने सोचा कि अब हमारी चूतों की खैर नही पीछे मुड़कर देखा तो भाभी खड़े-खड़े अपनी चूत खुज़ला रही है.
मैने कहा –क्यों भाभी चूत चुदवाने को खुज़ला रही हो.
भाभी- हाँ ननद रानी अब तुझसे क्या छुपाना, जबसे कार वाले महेश ने रगड़ के चोदा है मेरी चूत की चुदास जाग गई है. मन करता रहता है कि बस कोई मुझे पटक के चोद दे.
मैने कहा –“ पहले कहती तो किसी को रोक लेती जो तुम्हे पूरी रात चोदता रहता. खैर कोई बात नही कल शाम तक रूको चुदते चुदते तुम्हारी चूत का भोसड़ा न बन जाए तो कहना. उन तीनों के इरादे है हमे चोदने के और वो साला रमेश तो मामीज़ी को भी चोदना चाहता है.अब देखेंगे मामी को किस तरह से चोदते हैं ये लोग ।”
अगाली सुबह जब मैं सो कर उठी तो देखा कि सभी लोग सोए हुए थे सिर्फ़ भाभी ही उठी हुई थी और विश्वनाथजी का लण्ड जो की नींद में भी तना हुआ था और भाभी गौर से उनके लण्ड को ही देख रही थी. उनका लण्ड धोती के अंदर तन कर खड़ा था, करीब 10’’ लंबा और 3’’ मोटा, एकदम लोहे के राड की तरह. भाभी ने इधर-उधर देख कर अपने हाथ से उनकी धोती को लण्ड पर से हटा दिया और उनके नंगे लण्ड को देख कर अपने होंटो पर जीभ फिराने लगी. में भी बेशर्मो की तरह जाकर भाभी के पास खड़ी हो गयी और धीरे से कहा
"उइई माँ ".
भाभी मुझे देख कर शर्मा गयी और घूम कर चली गयी. में भी भाभी के पीछे चली और उनसे कहा
“देखा कैसे बेहोश सो रहे हैं ।”
भाभी- चुप रह ।”
मैं – क्यों भाभी, ज़्यादा अच्छा लग रहा है ।”
भाभी- चुप भी कर ना ।”
मैं - इसमे चुप रहने की कौन सी बात है जाओ और देखो और पकड़ कर चूत में भी ले लो उनका खड़ा लण्ड, बड़ा मज़ा आएगा.
भाभी- कुछ तो शर्म कर यूँ ही बके जा रही है ।”
मैं - तुम्हारी मर्ज़ी, वैसे ऊपर से धोती तो तुम ही ने हटाई थी।”
भाभी- अब चुप भी हो जा, कोई सुन लेगा तो क्या सोचेगा.
फिर हम लोग रोज़ की तरह काम में लग गये. करीब दस बज़े विश्वनाथजी कुछ सामान लेकर आए और हमारे चन्दू मामा के हाथ में थमा कर कहा कहा –
“आज हमारे वही तीनों दोस्त आएँगे और उनकी दावत करनी है यार इसीलिए यह सामान लाया हूँ भैया, मुझे तो आता नही है कुछ बनाना इसीलिए तुम्ही लोगों को बनाना पड़ेगा.और हां यार तुम पीते तो हो ना ?”
चन्दू मामा- नही में तो नही पीता यार ।”
विश्वनाथजी- अर्रे यार कभी-कभी तो लेते होगे ।”
चन्दू मामा-हाँ कभी-कभार की तो कोई बात नही ।”
विश्वनाथजी- फिर ठीक है हमारे साथ तो लेना ही होगा ।” 
चन्दू मामा- ठीक है देखा जाएगा ।” 
हम लोगों ने सामान वग़ैरह बना कर तैय्यार कर लिया. शाम के करीब छ: सात बज़े के बीच वो लोग आ गये। मैं तो इस फिराक में लग गयी कि यह लोग क्या बातें करते है ।” 
चन्दू मामा मामी और भाभी ऊपर के कमरे में बैठे थे. मैं उन तीनों की आवाज़ सुन कर नीचे उतर आई. वो तीनों लोग बाहर की तरफ बने कमरे मे बैठे थे. मैं बराबर वाले कमरे की किवाड़ों के सहारे खड़ी हो गयी और उनकी बातें सुनने लगी.
विश्वनाथजी- दावत तो तुम लोगों की करा रहा हूँ अब आगे क्या प्रोग्राम है?
पहला- यार ये तुम्हारा दोस्त दारू-वारू पीएगा कि नही?
विश्वनाथजी- वो तो मना कर रहा था पर मैने उसे पीने के लिए मना लिया है ।”
दूसरा- फिर क्या बात है समझो काम बन गया. तुम लोग ऐसा करना कि पहले सब लोग साथ बैठ कर पीएँगे फिर उसके ग्लास में कुछ ज़्यादा डाल देंगे. जब वो नशे में आ जाएगा तब किसी तरह पटा कर उसकी बीवी को भी पीला देंगे और फिर नशे में लेकर उन सालियों को पटक-पटक कर चोदेन्गे,
प्लान के मुताबिक उन्होने हमारे चन्दू मामा को आवाज़ लगाई. हमारे चन्दू मामा नीचे उतर आए और बोले रमा-रमा भैया ।”
चन्दू मामा भी उसी पंचायत में बैठ गये अब उन लोगों की गुपशुप होने लगी. थोड़ी देर बाद आवाज़ आई कि बहूँ ग्लास और पानी देना.
जब भाभी पानी और ग्लास लेकर वहाँ गयी तो मैने देखा की विश्वनाथजी की आँखे भाभी की चूचियों पर ही लगी हुई थी. उन्होने सभी ग्लास में दारू और पानी डाला पर मैने देखा कि चन्दू मामाजी के ग्लास में पानी कम और दारू ज़्यादा थी. उन्होने पानी और मँगाया तो भाभी ने लोटा मुझे देते हुए पानी लाने को कहा. जब में पानी लेने किचन में गयी तो महेश तुरंत ही मेरे पीछे-पीछे किचन मे आया और मेरी दोनो बड़ी बड़ी चूचियों को कस कर दबाते हुए बोला-
“कार में तुझे रमेश से चुदते देखने के बाद से ही मैं बेकरार हूँ अगर देर हो जाने का खतरा ना होता तो वहीं पटक के चोदता बेलारानी, अब ज़रा जल्दी पानी ला ताकि ये खानापीना निबटे और मेरे लण्ड से तेरी चूत की मुलाकात हो ।” मेरी सिसकारी निकल गयी
विश्वनाथजी ने चन्दू मामाजी से पूछा वो तुम्हारा नौकर कहाँ गया.
चन्दू मामा-वो नौकर को यहाँ उसके गाँव वाले मिल गये थे सो उन्ही के साथ गया है सुबह तक वापस आ जाएगा.
फिर जब तक हम लोगों ने खाना लगाया तब तक उन्होने दो बॉटल खाली कर दी थी. मैने देखा कि चन्दू मामा कुछ ज़्यादा नशे में है, मैं समझ गयी कि उन्होने जान बुझ कर चन्दू मामा को ज़्यादा शराब पिलाई है. हम लोग खाना लगा ही चुके थे. मामीजी सब्ज़ी लेकर वहाँ गयी मे भी पीछे-पीछे नमकीन लेकर पहुँची तो देख की रमेश ने मामीजी का हाथ थाम कर उन्हे दारू का ग्लास पकड़ना चाहा. मामीजी ने दारू पीने से मना कर दिया. मैं यह देख कर दरवाज़े पर ही रुक गयी. जब मामीजी ने दारू पीने से मना किया तो रमेश चन्दू मामाजी से बोला- अरे यार तुम्हारी घरवाली तो हमारी बे-इज़्ज़ती कर रही है कहो ना भौजी से ।”
चन्दू मामा ने मामी से कहा –रज्जो पी ले ना क्यों लड़के की इन्सल्ट करा रही हो.
मामीज़ी ज़ी- मैं नही पीती
रमेश- भय्या यह तो नही पी रही है, अगर आप कहें तो में पीला दूँ ।”
चन्दू मामा (हँसते हुए)- ठीक है अगर नही पी रही है तो पकड़ कर पिला दे ।”
चन्दू मामाजी का इतना कहना था कि रमेश ने वहीं मामीज़ी की बगल में हाथ डाल कर दूसरे हाथ से दारू भरे ग्लास को मामीजी के मुँह से लगा दिया और मामीजी को ज़बरदस्ती दारू पीनी पड़ी. मैने देखा कि उसका जो हाथ बगल में था उसी से वो मामीजी की चूचियाँ भी दबा रहा था और जब वो इतनी बेफिक्री से मामीजी की बड़ी बड़ी चूचियाँ दबा रहा था तो बाकी सभी की नज़रें [चन्दू मामाजी को छोड़कर] उसके हाथ से दबती हुई मामीज़ी बड़ी बड़ी चूचियों पर ही थी. यहाँ तक की उनमे से एक ने तौ गंदे इशारे करते हुए वहीं पर अपना लण्ड पैंट के ऊपर से ही मसलना शुरू कर दिया था. मामीजी के मुँह में ग्लास खाली करके मामीजी को छोड़ दिया. फिर जब मामीजी किचन मे आई तो मैने जान बुझ कर मेरे हाथ मे जो सामान था वो मामीजी को पकड़ा दिया.
मामीजी ने वो सामान टेबल पर लगा दिया. फिर रमेश ने मामीजी के मना करने पर भी दूसरा ग्लास मामीजी को पीला दिया. मामीजी मना करती ही रह गयी पर रमेश दारू पीला कर ही माना.और इस बार भी वोही कहानी दोहराई गयी यानी कि एक हाथ दारू पीला रहा था और दूसरा हाथ चूचियाँ दबा रहा था और सब लोग इस नज़ारे को देख कर गरम हो रहे थे. चन्दू मामाजी की शायद किसी को परवाह ही नही थी क्योंकि वो तो वैसे भी एक दम नशे मे टुन्न हो चुके थे। नशे और नींद से उनकी आँखें हुई जा रही थीं। यह देख महेश ने चन्दू मामाजी का ग्लास भरते हुए कहा- लगता है भाईसाहब को नींद आ रही है, भाईसाहब अगर आप सोना चाहें तो औपचारिकता छोड़कर अपने कमरे में आराम करें हम लोग सब आपके भाईबन्द हैं कोई भी बुरा नहीं मानेगा। हम समझ सकते हैं कि हमारे इस हो हल्ले में आप ठीक से सो नहीं पायेंगे। सबने महेश की हाँ मे हाँ मिलायी और महेश ने एक और ग्लास उन्हें पिलाकर(ताकि वो बिलकुल ही बेहोश हो के सोयें) ऊपर उनके कमरे मे लेजाकर लिटा दिया । चन्दू मामाजी लेटते ही सो गये। महेश ने आवाज देकर ये पक्का भी कर लिया कि वे सचमुच ही सो रहे हैं।
क्रमश:…………………
Reply
04-25-2019, 11:56 AM,
#40
RE: Muslim Sex Stories सलीम जावेद की रंगीन दुन�...
मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक

भाग -7

दावत के रंग


महेश ने नीचे आकर सबको इशारे से बता भी दिया चन्दू मामाजी सो रहे हैं और लाइन क्लियर है। अब ग्लास रख कर रमेश ने, मामीजी जो बरफ़ लेके आयीं थी, के चूतड़ों पर हाथ फिराया और दूसरे हाथ से उनकी चूत को पकड़ कर दबा दिया. मामीजी सिसकी लेकर रह गयी. मामीजी को सिसकारी लेते देख कर मेरी भी चूत में सुरसुरी होने लगी. हम लोग ऊपर चले गये. फिर नीचे से पानी की आवाज़ आई. मामीजी पानी लेकर नीचे गयी .तब तक रमेश किचन में आ पहुँचा था. मामीजी जो पानी देकर लौटी तो रमेश ने मामीजी का हाथ पकड़ कर पास के दूसरे कमरे में ले जाने लगा. मामीजी ने कहा,-

“अरे~ए ये क्या करता है”

रमेश,-

“चल न भौजी उस कमरे चल कर कुछ मौज मज़ा करते हैं. मामीजी खुद नशे में थी और रमेश की पकड़धकड़ से चुदासी भी हो रही थी सो कमज़ोर सी ना-ना करते हुए रमेश के साथ खिचती चली गईं वो उन्हें पास के उस कमरे में ले गया. मेरी नज़र तो उन दोनो पर ही थी इसलिए जैसे ही वो कमरे में घुसे मैं तुरंत दौड़ते हुए उनके पीछे जाकर उस कमरे के बाहर छुप कर देखने लगी कि आगे क्या होता है.

रमेश ने मामीजी को पकड़ कर पलंग पर डाल दिया और उनके एक हाथ उनके ब्लाउज में घुसेड़ते हुए, दूसरा हाथ पेटिकोट में डाल कर उनकी चूत सहलाने लगा.

मामीजी (नशे और उत्तेजना से भरी आवाज में)- आह यह क्या कर रहा है लड़के छोड़ मुझे, क्यों आग लगाता है इस उम्र में ।”

रमेश- अभी तुम्हारी उम्र ही क्या है भौजी मुझे तो तुम तुम्हारी बहूँ से ज्यादा जोरदार लगती हो। मैंने तो जब से तुम्हें देखा था तभी से तुम्हारे साथ मजा करने की फ़िराक में था ये सारा दावत का नाटक इसीलिए तो रचाया है भौजी रानी ।

मामीजी मन ही मन गद गद हो मुस्कुराईं फ़िर मक्कारी से भोलेपन का नाटक करते हुए बोलीं-

“पर तू करना क्या चाहता है ?”

मामी जी की शरारात भरी मुस्कुराहट और बाते सुनकर उन्हें रजामन्द जान रमेश ने राहत की साँस ली और उन्हें छोड़ के अपने कपड़े उतारते हुए खुद भी नाटकीय अन्दाज से बोला-

" वाह भौजी, अभी तुम्हें यही नही मालूम कि में क्या करना चाहता हूँ। अरे तुझे बिस्तर पे पटक के अपना एक हाथ तेरे ब्लाउज में घुसड़ और दूसरे से पेटिकोट में तेरी पावरोटी सी गुदगुदी चूत सहला रहा था ऐसे कोई पूजा तो करने से रहा। खैर अगर अब भी नहीं समझी और मेरे मुँह से साफ़ साफ़ ही सुनना है तो सुन तेरी चूत चोदना चाहता हूँ। क्या ख्याल है ?”

मामीजी(नाटक करते हुए)-

“ओहो अब समझी। तो ये बात है ।”

मामीजी की शोखी से उत्तेजित रमेश ने मामीजी साड़ी खीच ली चुटपुटिया वाले ब्लाउज को भी आसानी से नोच के उतार डाला। रमेश की उतावली देख मामीजी हँसते हुए उठ कर बैठ गईं। बैठ्ने से उनकी तरबूज के मानिन्द छातियाँ ब्रा में से फ़टी पड़ रही थीं। ये नजारा देख रमेश उनकी तरफ़ झपटा और ब्रा के ऊपर से ही उन्हें दबोचने लगा । मामीजी ने उतावले रमेश की मदद के ख्याल से हँसते हुए ब्रा का हुक खुद ही खोल दिया। ये देखते ही रमेश ने ब्रा उनके जिस्म से नोच के फ़ेंक दी। मामीजी की गोरी सफ़ेद हलव्वी छातियाँ आजाद होकर परिन्दों की तरह फ़ड़फ़ड़ायी। रमेश ने उनकी फ़ड़फ़ड़ाहट अपने हाथों में दबोच ली और उनपे मुँह मारने निपल चूसने लगा। अब मामीजी के मुँह से उनकी हँसी कि जगह उत्तेजना भरी सिसकारियाँ फ़ूटने लगीं ।

“स्स्स्स्स्स्स्सी उम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्ह आहहहहह

उम्म्म्मम्म्म्म्म्फ्फहहहहहहहहहहह उम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्मह ”

रमेश द्वारा उनकी तरबूज के मानिन्द छातियों को दोनो हाथों और मुँह से वहशियों की तरह प्यार करने से बेहद उत्तेजित हो मामीजी ने सिसकारियाँ भरते हुए अपने पेटीकोट का नारा पकड़ के खींचा और अपने घड़े जैसे भारी चूतड़ों से पेटीकोट खुद ही नीचे सरका कर जमीन पर पैरों की मदद से ठेल दिया । फ़िर रमेश का लोहे के राड जैसा लम्बा हलव्वी लण्ड अपने हाथों में थाम अपनी चुदास से बुरी तरह से पनिया रही रसीली चूत के मोटे मोटे दहकते होठों के बीच रखा। लण्ड के सुपाड़े पर चूत की गर्मी मह्सूस कर रमेश ने झुक कर देखा मामीजी की मोटी मोटी जांघों केबीचे में उभरी उनकी चूत, उसके आस पास का हिस्सा और काफ़ी मजबूत और कसाव लिए हुए था। उनकी गोरी चूत काफ़ी बड़ी पावरोटी की तरह फ़ूलकर उभरी हुयी चुदाई की मार से मजबूत हुई खाई खेली खड़ी खड़ी पुत्तियों वाला भोसड़ा थी । ये देख रमेश का लण्ड और ज्यादा फ़नफ़नाने लगा। उसने सोचा कि अगर इसे ही भोसड़ा कहते है तो चूत से भोसड़ा ज्यादा बढ़िया होता है। उसने अपने फ़नफ़नाते लण्ड का ऐसा ज़ोर का ठाप मारा की उसका आधा लण्ड मामीजी की चूत में घुस गया.

ऐसा लगा जैसे मामीजी को अपने कसे हुए तगड़े भोसड़े के कसाव पर बड़ा नाज था क्योंकि वो नशे में बड़बडाईं –आह एक ही बार में आधा अन्दर, शाबाश लड़के!

ये सुन रमेश ने दूसरा ठाप भी मारा कि उसका पूरा लण्ड अंदर घुस गया.

मामीजी ने सिसकी ली

उईईईईईईइइम्म्म्मममा

अब रमेश एंजिन के पिस्टन की तरह मामीजी के मजबूत भोसड़े से टक्कर ले उसके चीथड़े उड़ाने लगा.

आह तेरी तो बहुत टाइट है भौजी आज इसे ढीली कर के ही छोड़ूँगा

मामीजी नशे में बड़बडाईं –

“हाँ! कर दे ढीली जालिम तू अब तक कहाँ था अरे क्या कर रहा है ढीली कर पर चूत के चीथड़े तो न उड़ा हाय थोड़ा धीरे से, चूत ही न रहेगी तो चोदेगा क्या ।”

इतने में मैने विश्वनाथजी को ऊपर की तरफ जाते देखा.

मैं भी उनके पीछे ऊपर गयी और बाहर से देखा की भाभी जो कि अपना पेटिकोट उठा कर अपनी चूत में उंगली कर रही तो उसका हाथ पकड़ कर विश्वनाथजी ने कहा 'है मेरी जान हम काहे के लिए हैं, क्यों अपनी उंगली से काम चला रही, क्या हमारे लण्ड को मौका नही दोगी. अपनी चोरी पकड़े जाने पर भाभी की नज़रें झुक गयी थी और वो चुपचाप खड़ी रह गयी. विश्वनाथजी ने भाभी को अपने सीने से लगा कर उनके होंटो को चूसना शुरू कर दिया. भाभी भी अब उनके वश में हो चुकी थी.वो उनकी बड़े बड़े बेलों सी ठोस चूचियों को दबाते हुए बोले-

“इतने दिनों से तेरे इन बेलों की उछलकूद ने मेरे इसको बहुत परेशान किया है ।”

कहकर उन्होंने अपनी धोती हटा कर अपना लण्ड भाभी के हाथों में पकड़ा दिया भाभी उनके लण्ड को, जो की बाँस की तरह खड़ा हो चुका था, सहलाने लगी. अब भाभी भी खुल कर बोली-

“मैं क्या करती आप मुझे घूरते तो रहते थे पर कभी कुछ बोले ही नही ।”

उन्होने भाभी की चूचियाँ छोड़ी और उनके सारे कपड़े उतार दिए, और भाभी को वहीं पर लेटा दिया और उनके चूतड़ के नीचे तकिया लगा कर अपना लण्ड उनकी चूत के मुहाने पर रख कर एक जोरदार धक्का मारा. पर कुछ विश्वनाथजी का लण्ड बहुत बड़ा था और कुछ भाभी की चूत टाइट थी इसलिए उनका लण्ड अंदर जाने के बज़ाय वहीं अटक कर रह गया । इस पर विश्वनाथजी बोले लगता है कि आदमी के लण्ड चुदी ही नहीं तेरी चूत तभी तो तेरी इतनी टाइट है कि लगता है जैसे बिन चुदी बुर मे लण्ड डाल है "

भाभी मन ही मन मुस्कुराई पर कुछ नही बोली, क्या कहती कि चुदने को तो कल ही तुम्हारे उसे दोस्त रमेश के धाकड़ लण्ड से मैं जम के चुद चुकी हूँ पर तेरा कुछ ज्यादा ही बड़ा है और कुछ फ़ूल भी ज्यादा रहा है। विश्वनाथजी ने इधर उधर देखा और वहीं कोने में रखी घी की कटोरी देख कर खुश हो गये और बोले "लगता है साली बहू ने चुदने की पूरी तय्यारी कर रखी थी इसीलिए यहाँ पर घी की कटोरी भी रखी हुई है जिस से की चुदने मे कोई तकलीफ़ ना हो" इतना कह कर उन्होने तुरंत ही पास रखी घी की कटोरी से कुछ घी निकाला और अपने लण्ड पर घी लगा कर तुरंत फिर से लण्ड को चूत पर रख कर धक्का मारा. इस बार लण्ड तो अंदर घुस गया पर भाभी के मुँह से जोरो की चीख निकल पड़ी ' आआहह मरगई, जालिम तेरा लण्ड है या बाँस का खुट्टा' इसके बाद विश्वनाथजी फॉर्म में आ गये और और ताबड़तोड़ धक्के मारने लगे. भाभी ' उईईइमाँ लगती है थोड़ा धीमे करो ना करती ही रह गयी और वो धक्के पे धक्के मारे जा रहे थे. रूम में हचपच हचपच की ऐसी आवाज़ आ रही थी मानो 110 किमी की रफ़्तार से गाड़ी चल रही हो. कुछ देर के बाद भाभी को भी मज़ा आने लगा और वो कहने लगी ' हाय राजा मर गयी, ,हाय राजा और ज़ोर से मारो मेरी चूत, हाय बड़ा मज़ा आ रहा है, आअहहााआ बस ऐसे ही करते रहो आहहााअ औक्ककककककचह और ज़ोर से पेलो मेरे विश्वनाथ राजा , फाड़ दो मेरी चूत को आअहहााआ, अरे क्या मेरी चूचियों से कोई दुश्मनी है , इन्हे उखाड़ लेने का इरादा है क्या, है ज़रा प्यार से दबाओ विश्वनाथ राजा मेरी चूचियों को.

मैने देखा की विश्वनाथजी मेरी भाभी की चून्चियो को बड़ी ही बेदर्दी से किसी हॉर्न की तरह दबाते हुए घचाघच पेले जा रहे थे. तब पीछे से महेश ने आकर मेरे बगलों में हाथ डाल कर मेरी बड़ी बड़ी चूचियाँ दबाते हुए बोला, 

“अरी छिनाल तुम यहाँ इनकी चुदाई देख कर मज़े ले रही और में अपना लण्ड हाथ में लिए तुम्हे सारे घर में ढूँढता फ़िर रहा हूँ । इधर मेरी भी चूत भाभी और मामीजी की चुदाई देख कर पनिया रही थी. मुझे महेश बगल वाले कमरे में उठा ले गया और मेरे सारे कपड़े खींच कर मुझे एकदम नंगा कर दिया, और खुद भी नंगा हो गया. फिर मुझे बिस्तर पर डाल कर मेरे गदराये संगमरमरी जिस्म पर टूट पड़ा मेरी दोनों चूचियाँ थाम दबाने सहलाने मुँह मारने लगा, और कभी मेरे निपल को मुँह मे लेकर चूसने लगता । कभी मेरे बड़े बड़े संगमरमरी चूतड़ों पर हाथ फ़िराता कभी मुँह मारता । कभी मेरी मोटी मोटी केले के तने जैसी जाँघों को दबोचकर उनपर मुँह मारता। इन सबसे मेरी चूत की पूतिया [पुत्तियाँ] फड़फड़ने लगी. उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने खड़े लण्ड पर रखा और में उसके लण्ड को सहलाने लगी. मैं जैसे-जैसे उसके लण्ड को सहला रही थी वैसे वैसे वो एक आयरन रोड की तरह कड़क होता जा रहा था. मुझसे अपनी चुदास बर्दाश्त नही हो रही थी और मैं उसके लण्ड को पकड़ कर अपनी चूत से रगड़ रही थी कि किसी तरह से ये जालिम मुझे चोदे, और वो था कि मेरे जिस्म से खेलने में ही लगा था । अब मैं शरम चोद कर बोल पड़ी-

“हाय राजा अब बर्दाश्त नही हो रहा है, जल्दी से कर ना।”

मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थी. अचानक उसने मेरी चुदास से बुरी तरह पानी फ़ेकती चूत अपने हाथ मे दबोच ली। बर्दाश्त की इन्तेहा हो गयी मैं खुद ही उसका हाथ अपनी चूत से हटा कर, उसके ऊपर चढ़ गयी उसके लण्ड का सुपाड़ा अपनी चूत के मुहाने से लगा कर मैंने अपनी बुरी तरह पानी फ़ेकती चूत में पूरा लण्ड आसानी से धीरे धीरे धंसा लिया फिर अपनी चूत के घस्से उसके लण्ड पर देने लगी. उसके दोनो हाथ मेरी बड़ी बड़ी चूचियों को कस कर दबा रहे थे और साथ में निपल भी छेड़ रहे थे.अब में उसके ऊपर थी और वो मेरे नीचे. वो नीचे उचक-उचक कर मेरी बुर में अपने लण्ड का धक्का दे रहा था और में ऊपर से दबा-दबा कर उसका लण्ड सटक रही थी. कभी कभी तो मेरी चूचियों को पकड़ कर इतनी ज़ोर से खींचता कि मेरा मुँह उसके मुँह तक पहुँच जाता और वो मेरे होंठों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगता. मैं जन्नत में नाच रही थी और मेरी चूत की चुदास बढ़ती ही जा रही थी. मैं दबा दबा कर चुद रही थी और बोल रही थी, -

“बड़ा मज़ा आ रहा है मेरे चोदु राजा और जोरो से चोद मेरी चूत, भर दे अपना माल मेरी चूत में , आआआअह्ह्ह्ह्ह्हाआआ, बस इसी तरह से लगे रहो, हाआआईईईइ कितना अच्छा चोद रहे हो,


अचानक महेश ने मुझे अपने ऊपर से हटा दिया । उसका लण्ड पक से चूत से निकल गया। मैंने चौक के पूछा-

“क्या हुआ?”


महेश – “तेरे गद्देदार चूतड़ो का तो मजा लिया ही नही रानी अब तेरे चूतड़ों की तरफ़ से चूत में पेलुँगा. और उसने मुझे नीचे गिरा कर चौपाया बना और मेरे ऊपर चढ़ कर मेरी चूतड़ों को पकड़ कर ऊँचा उठाने लगा उसकी मनसा जान मैंने चूतड़ उचका अपनी चूत से उसके लण्ड के सुपाड़े की मुलाकात करवा दी। लण्ड का सुपाड़ा चूत के मुहाने पर आते ही उसने ज़ोर से लण्ड उचकाया चूत रस में भीगे होने के कारण उसके लण्ड का सुपाड़ा फट से मेरी चूतड़ में घुस गया। अब उसने अपना लण्ड अंदर-बाहर करना शुरू किया. वो बहुत धीरे-धीरे धक्का मार रह था, और कुछ ही मिनूटों में जब निशाना सध गया तो धीरे-धीरे उसकी स्पीड बढ़ती ही जा रही थी, और अब वो मेरे गद्देदार चूतड़ो पर थपाथप करते हुए किसी पिस्टन की तरह पीछे से मेरी चूत में अपना लण्ड पेल रहा था. मुझे तो चूत मे लण्ड चाहिये चाहे जिधर से मिले और अब में फ़िर बड़बड़ाने लगी, है आज़ाज़ा आ रहा है,

और ज़ोर से मारो, और मारो और बना दो मेरी चूत का भुर्ता, और दबओ मेरे चूतड़ , और ज़ोर दिखाओ अपने लण्ड का और फाड़ ओ मेरी चूत, अब दिखाओ अपने लण्ड की ताक़त. बस थोडा सा और, मैं बस झड़ने ही वाली हूँ और थोड़ा धक्का मारो शाबाश.................... अह्हाआआ लो मैं गयी, निकला...

और फ़िर मेरी चूत खूब झड़ी ।

उसी समय महेश भी बड़बड़ाया –

“हाय जानी अब गया, अब और नही रुक सकता, ले चूत रानी, ले मेरे लण्ड का पानी अपनी चूत में ले. कहते हुए उसके लण्ड ने मेरी चूत में अपने वीर्य की पिचकारी छोड़ दी । वो चूचियाँ दबाए मेरी कमर से इस तरह चिपक गया था मानो मीलों दौड़ कर आया हो. थोड़ी देर बाद उसका मुरझाया हुआ लण्ड मेरी चूत में से निकल गया और वो मेरी चूचियाँ दबाते हुए उठ खड़ा हुआ, और मुझे सीधा करके अपने सीने से सटा कर मेरे होंठों की पप्पी लेने लगा.

क्रमश:…………………
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 104 139,673 Yesterday, 08:56 PM
Last Post: kw8890
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 148 476,953 12-03-2019, 04:14 PM
Last Post: Didi ka chodu
  Sex kamukta मस्तानी ताई sexstories 23 128,234 12-01-2019, 04:50 PM
Last Post: hari5510
Star Incest Porn Kahani दीवानगी (इन्सेस्ट) sexstories 42 190,978 11-30-2019, 08:34 PM
Last Post: Didi ka chodu
Star Maa Bete ki Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल sexstories 102 53,031 11-29-2019, 01:02 PM
Last Post: sexstories
Star Adult kahani पाप पुण्य sexstories 207 622,438 11-24-2019, 05:09 PM
Last Post: Didi ka chodu
Lightbulb non veg kahani एक नया संसार sexstories 252 177,301 11-24-2019, 01:20 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Parivaar Mai Chudai अँधा प्यार या अंधी वासना sexstories 154 125,594 11-22-2019, 12:47 PM
Last Post: sexstories
Star Gandi Sex kahani भरोसे की कसौटी sexstories 54 118,101 11-21-2019, 11:48 PM
Last Post: Ram kumar
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई sexstories 27 129,460 11-18-2019, 01:04 PM
Last Post: siddhesh



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


punjabi bahin ke golai bhabhe ke chudaiअसल चाळे चाचा चाची चुतआदमी के सो जाने के बाद औरत दूसरे मर्द से च****wwwxxxससुर ने बहू के कपड़े फाड़कर की चुदासी xnxxammi ka fata hua bhosda hindi chudai kahaniwww.come.hinde.bf.hd.dever.and.bhbe.ke.mast.kulam.khula.chudie.mivisexxx sex story gokuldham mastrambahen ki saheli ko choda rone lagi kahani sexbabawww xxxx karina sex baba page 15मेरी आममी कि मोटी गांड राजसरमाXxnx HD Hindi ponds Ladkiyon ko yaad karte hai Safed Pani kaise nikalta haibabe ke cudao ke kanaeyMausi ki rasoi me khaat pe gaand maari Nepali 2015ka sex stories photoबचचे.को.दूध.पिलाकर.दुध.निकालाविडीयोjabrajasti larki ki gar me gusaya xxx videos 2019राज शर्मा सेक्स स्टोरी एक और कमीनाaaliya.chodaistoriRani mukhrzi ki chut ki pic jhante wlixxx sex stori gokuldham desi babaछूटों का समन्दर लम्बी कहानी क्सक्सक्स सेक्स स्टोरीmere dard ki parwah mat kro Gand chudai storySexyvideosBABNange malne potoDisha patani fake nude shemalesadak chhap admi , sexstoriesVe putt!! Holi kr haye sex storyhendi sikase video dood pilati diyate aik kapda otar kikam ke bhane bulaker ki chudai with audio video desiमाँ को गाओं राज शर्मा इन्सेस्ट स्टोरीxxx yami gotam ki chut chudai ki photo sexbabaचोदा के बता आइयीक्सनक्सक्स मामि भंजा होत स्टोरीज मूवीजxxxvideoghiईईईई भाईजान!! कितने गंदे हो तुमHusband na wife ko suhagrat ma chuda storyileanasexpotes comMunmun dutta babita ji xvideos2ससुर का मोटा सुपाडाफुदी तिती सैकसी विडीयोman to man xxx मुठ से लड खीचते बुढो का विडियोVandana ki ghapa ghap chudai hd videosix. योगा. bf विडिये विऐफ. xxxxxxमाँ और बहिण का चुत चुदाई का हंगामा कथाNade Jayla wsim sex baba picsअम्मी की पाकीज़ा बुरgalise bari sex kahanipeshabxxxvvvSex video jorat jatkeladka ke gad me land ghusste huye mom ki tatti khai chudai kahanTeen xxx video khadi karke samne se xhudaijacklene गर्म फोटो xxxWTF PASS .com 18sal ki ladki ki chudai kephotosxevdeoporn video bujergh aurty ko choda xbur me itna gda kese hote hai vidio shweta tiwari sex nude images sexbaba.comoviya sex baba nude nippalnkab k under se chuchi dbwane ki khanibhabhi ki behan ko lund ka super chataya antarvasna imageseksxxxbhabhiraste me kapade utarte huve hirohin .xxx.comSexy jannat fudi shaved picmona ke dood se bhare mamme hindi sex storynudeAsa saratheक्सनक्सक्स होऊww.sex nude malika aroda pictureradhika aptesexbabanewsexstory com marathi sex stories E0 A4 A8 E0 A4 B5 E0 A4 B0 E0 A4 BE E0 A4 A4 E0 A5 8D E0 A4 B0Velamma coatun purn Picssexi chaniya antr vashnaदोनोंके मोटे लंड बच्चेदानी से टकरायेbahen ne chodva vediosamundar me beec pe xxx teen jalpaari fuckहवेली कि गांड कथाDrishya Raghunath hot nude fuckin imagesअसल चाळे चाची जवलेmeenakshi sheshadri sex baba.com loop Aadmi Aur Bhains ka sexy video dikhaoమొత్తని పిర్రsxx दुकान amme ke kartutaपियंका,कि,चुदाई,बडे,जोरो सेwamiqa gabbi xxx .com picमाँ बेटे की चुदाई हिंदी में बोलती हो की मेरी चूत मार् बीटाalia on sexbaba page 5xnxxमा मि और मा चूदईgori gand ka bara hol sexy photohindi sex kahaniya chunmuniya.comsaas ki chut or gand fadi 10ike lund se ki kahaniya.comBhainsa se bur chudaiChut me lond dalkar vidio dikhaowww.deepfake anguri bhabhixxx sarhsj me dehatiकेतकी दवे नंगि फोटो नंगि फोटो