Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
01-13-2019, 11:46 PM,
#41
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
एग्ज़िट से बाहर जाते समय राहुल बार बार दाएँ बाएँ देख रहा था | सलोनी उसकी साइड में चल रही थी, भीड़ ज़्यादा होने की वजह से लोगों के आपस में कंधे से कंधे टकरा रहे थे | सलोनी की नज़र अपने बेटे पर जाती है, वो कुछ परेशान सा इधर उधर देख रहा था | जब दोनो माँ बेटे की आँखे मिलती हैं तो सलोनी भवें उठाकर "क्या हुआ?" पूछती है | राहुल अपनी आँखे झुकाकर नीचे की और इशारा करता है | सलोनी की नज़र नीची होती है तो वो देखती है कि राहुल का लंड अकड़ा होने के कारण उसकी पेंट के सामने एक बड़ा सा तंबू बन गया था | 

सलोनी लोगों के बीच से होती हुई राहुल के आगे चली जाती है | राहुल के एकदम सामने पहुँचकर वो पीछे मुड़कर राहुल को पास आने का इशारा करती है | राहुल समझ जाता है और अपनी मम्मी के पीछे लगभग चिपक जाता है | अब उसका लंड दिखाई नही दे रहा था बल्कि सलोनी की गांड को उसकी जीन्स के उपर से रगड़ रहा था | हालांकि इतनी भीड़ में यह बहुत मुश्किल था कि किसी का ध्यान राहुल की तरफ़ चला जाता मगर फिर भी बेटे का मज़ाक बनने का रिस्क वो नही लेना चाहती थी, सिनेमा में तरह तरह के लोग आते हैं खास कर शाम के शो पर | खैर इसी तरह चलते चलते वो गेट के पास पहुँच गये जहाँ कार पार्किंग थी | वहाँ भीड़ नही थी, इसलिए राहुल अपनी मम्मी के पीछे छिपकर नही चल सकता था | मगर उसकी किस्मत अच्छी थी उनकी कार गेट के पास ही में पार्क थी | राहुल लगभग भागता हुआ गाड़ी के पास पहुँचा, सलोनी ने हंसते हुए गाड़ी को दूर से रिमोट से अनलॉक कर दिया | राहुल गाड़ी के अंदर बैठ चैन की साँस लेता है | सलोनी गाड़ी में बैठ उसे स्टार्ट करती है | 

शो अभी खत्म होने के कारण पार्किंग से रोड तक जाम लगा हुआ था | गाड़ियों के हॉर्न का शोर चारों तरफ़ से आ रहा था | सलोनी ने कुछ देर वेट करना उचित समझा |

"अभी पाँच मिनिट रुक कर चलते हैं, थोड़ा ट्रैफिक कम हो जाएगा" सलोनी राहुल की और मुड़ कर कहती है मगर राहुल को देखने से लग रहा था जैसे वो अभी भी परेशानी में था |

"अब क्या बात है?" 

"वो मम्मी दुख रहा है?" राहुल उभार के ऊपर से अपने लंड को सहलाता हुआ बोला |

"तो तेरे को कौन कहता है इसको हर वक़त अकड़ा कर रखने के लिए .... जब देखो खंबे की तरह खड़ा कर लेता है .... ऐसा कर तू इसे बाहर निकाल ले" 

"बाहर, जहाँ ... कोई भी देख सकता है मम्मी" राहुल इधर उधर देख कर बोलता है | 

"तो क्या हुआ" सलोनी एक ड्रॉयर को खोलती है | उसमें से एक मैगज़ीन निकाल कर राहुल की और फेंकती है | "इससे ढँक लेना" 

राहुल को यह स्कीम पसंद आती है | वो मैगज़ीन पेंट के उभार के उपर रखकर अपनी ज़िपर खोलता है और अपना लंड बाहर निकालता है | लंड के बाहर निकलते ही राहुल "ओह" करके चैन की साँस लेता है | उसके चेहरे से फ़ौरन राहत झलकती है | सलोनी उसे देखकर मुस्करा उठती है |

"ज़रा दिखा तो मुझे." 

"अभी जहाँ ... नही-नही मम्मी" राहुल घबराता सा बोल उठता है |

"क्यों, अभी कौनसा इसे कोई देख लेगा? ज़रा मेरी और से थोड़ी सी मैगज़ीन उठा दे, मैं देख लूँगी" सलोनी राहुल को ज़ोर देते हुए कहती है | 

"ठीक है मैं दिखाता हूँ, लेकिन पहले आपको वायदा करना होगा आप इसे टच नही करोगे और ना ही कोई ऐसी वैसी हरकत करोगे, आपने पहले ही मेरी हालत बहुत खराब कर दी है" राहुल अपनी मम्मी के आगे शर्त रखता है |

"ओह ......... तू तो लड़कियों की तरह नखरे दिखा रहा है ... उउन्न्नह मैं नही दिखायुंगी, सिर्फ देखना छूना नही ........ धीरे धीरे करो ना ... दर्द होता है ....... राहुल तू भी बस किसी नयी लड़की की तरह है ... अगर मैं कुछ करती हूँ तो तुझे प्राब्लम है अगर नही करती हूँ तो तुझे प्राब्लम है, मुझे तो यही समझ में नही आता तू चाहता क्या है" 

सलोनी राहुल को तीखी नज़रों से घूरती है, राहुल अपनी मम्मी को आहत भाव से देखता है | 

"चल ठीक है बाबा मैं कोई ऐसी वैसी हरकत नही करूँगी ...... अब दिखा भी दे" सलोनी थोड़ा मुस्करा कर कहती है |

राहुल एक बार आस पास नज़र डालता है खास करके अपनी मम्मी की तरफ़ | फिर वो अपनी तरफ़ से मैगज़ीन दबाकर सलोनी की तरफ़ वाला हिस्सा उपर उठाता है | सलोनी की नज़र राहुल के लंड पर पड़ती है, वो कुछ लम्हे लंड को बड़े ध्यान से देखती है | लंड इस कदर अकड़ा हुआ था कि वो झटका भी नही खा रहा था, एकदम पत्थर की तरह सख्त था | उसके उपर नसें उभर आई थी, सूपाड़ा इतना गहरा सुर्ख लाल दिख रहा था जैसे खून में डुबोया हो | एक तो लंड की लंबाई चौड़ाई पहले से ही ज़्यादा थी और उपर से वो इस कदर सख्त हो चुका था कि वो विकराल लंड देखने में ही बहुत भयानक दिख रहा था | यही लंड जब उसकी चूत में घुसेगा तो क्या धमाल मचाएगा ..... यह सोचते ही एक बार फिर से सलोनी की चूत गीली हो जाती है |

"उफफफफफफ्फ़ ..... आदमी की जगह घोड़े का लंड लगा कर घूमेगा तो वो पेंट में कैसे घुसेगा ...... दर्द तो होगा ही ना ........ उपर से अकड़ा कैसे रखा है ....... ऐसा लंड किसी लड़की की चूत में डालेगा तो बेचारी मर ही जाएगी ........ तुझे किसने कहा था इसे इतना लंबा मोटा करने के लिए ........." 

सलोनी के चेहरे पर ऐसे भाव थे कि राहुल को पता लग रहा था कि वो मज़ाक कर रही है जा गंभीरता से बोल रही है | बहरहाल चाहे उसने वो अल्फ़ाज़ मज़ाक में कहे थे मगर राहुल के लंड को बहुत अच्छे लगे थे जो खुशी से थोड़ा और फूल गया था | वो कुछ कहना चाहता था मगर उसे सुझ नही रहा था वो कहे भी तो क्या कहे | अंत-तहा उसनें चुप रहना ही बेहतर समझा | सलोनी गाड़ी को पार्किंग से निकालने लगती है | राहुल फिर से मैगज़ीन को वापस अपनी जाँघो पर दबा लेता है | गेट के पास अभी भी थोड़ा रश था मगर उन्हे वहाँ से बाहर निकालने में ज़्यादा समय नही लगा | 

रोड पर गाड़ी चलाते हुए सलोनी बीच बीच में राहुल को देख रही थी और मुस्करा रही थी | राहुल ने अपनी तरफ़ से गाड़ी का शीशा थोड़ा नीचे कर लिया था जिससे ठंडी हवा के झोंके अंदर आ रहे थे और राहुल मैगज़ीन को थोड़ा सा उपर उठाकर अपने लंड को ठंडी हवा लगवा रहा था जैसे उसकी अकड़ाहट कम पड़ने लगी थी और वो नरम पड़ने लगा था | राहुल ने वैसे तो अभी भी लंड को थोड़ा उपर करके मैगज़ीन रखी हुई थी मगर उसको अब गाड़ी चलती होने की वजह से किसी द्वारा देखे जाने का डर नही था |

तकरीबन बीस मिनिट की ड्राइव के बाद सलोनी ने गाड़ी को एक महँगे रेस्तराँ के सामने रोका | राहुल अपनी मम्मी की तरफ़ देखता है | 

"अब इस वक़्त घर जाकर मुझसे तो खाना पकाया नही जाएगा वैसे भी मुझे भूख बहुत लगी है, तुझे भी लगी होगी ना" सलोनी के पूछने पर राहुल सहमति में सर हिलाता है | सच में उसे बहुत भूख लगी थी | पहले उसे खड़े लंड ने परेशान करके रखा था इसलिए उसका ध्यान भूख की तरफ़ नही था मगर अब जब लंड ढीला पड़ गया था तो उसे भी भूख महसुस होने लगी थी |

रेस्तराँ एक आलीशान होटल के ग्राउंड फ्लोर पर बना हुआ था | सामने एक बहुत बड़ी पार्किंग थी | सलोनी का पति महीने में एक दो बार उसे वहाँ लाया करता था | 

"मुझे थोड़ा मेकअप सेट करना है, फिर चलते हैं ... तू भी अपने शेर को अपनी पेंट में घुसा ले और इसे अच्छी तरह से समझा दे कि रेस्तराँ के अंदर ज़्यादा उछल कूद ना मचाए" सलोनी बैग से छोटा आईना निकालकर होंठो पर लिपस्टिक लगाने लगती है |

कोई दस मिनिट बाद सलोनी और राहुल रेस्तराँ के अंदर बैठे थे | किस्मत से रेस्तराँ में ज़्यादा भीड़ नही थी | इसलिए सलोनी को खाली टेबल्स में से अपनी पसंद की टेबल मिल गयी | वो कॉर्नर की टेबल थी | सलोनी की पीठ दीवार की तरफ़ थी जबकि राहुल उसके सामने बैठा था और उसकी पीठ पीछे काउंटर की तरफ़ थी | अब सलोनी दीवार के पास बैठे होने के कारण रेस्तराँ का पूरा नज़ारा देख सकती थी जबकि राहुल रेस्तराँ के बाहर का | टेबल पर बैठते ही सलोनी ने और राहुल ने पानी पिया | सलोनी ने अपना बैग टेबल पर रखा और राहुल की और देखकर बहुत ही भोलेपन से मुसकराई | राहुल के कान खड़े हो गये | उसे लगने लगा कि उसकी मम्मी जहाँ भी कोई ना कोई शरारत करेगी | 
राहुल का शक़ बिल्कुल सही निकला | अभी उन्हें टेबल पर बैठे कुछ पल भी नही गुज़रे थे कि राहुल को अपनी टांग से सलोनी का पाँव घिसता हुआ महसूस हुआ | सलोनी अपने पाँव से उसके घुटने तक उसकी टांग को सहला रही थी, बड़े ही मादक अंदाज़ में उसका अंगूठा बेटे की टांग पर रेखाएँ खींच रहा था | राहुल सलोनी की तरफ़ देखता है उसकी नज़र में चेतावनी थी | सलोनी ज्वाब में अपने कंधे झटका देती है | राहुल आस पास देखता है | 

"अपनी कुर्सी आगे खीँचो ... पूरी जितनी आगे तक खींच सकते हो" सलोनी का पाँव राहुल के घुटने को सहला रहा था |

"मम्ममम्मी......." राहुल अपनी मम्मी से एतराज़ जताना चाहता था | 

"मैने कहा अपनी कुर्सी आगे खीँचो" सलोनी का पाँव अब घुटने के उपर राहुल की जाँघ को सहला रहा था | राहुल का लंड आधा सख्त भी हो चुका था |

सलोनी की टोन रिक्वेस्ट की नही बल्कि ऑर्डर देने की थी | राहुल ठंडी साँस लेकर अपनी कुर्सी जितना हो सकता था आगे बढ़ा लेता है | सलोनी झट से अपना पाँव बेटे की जाँघ से उठाकर उसकी गोद में रख देती है और तेज़ी से सर उठा रहे उसके लंड को अपनी एड़ी से रगडती है | राहुल घबरा कर इधर उधर देखता है कि कोई उसकी और तो नही देख रहा और फिर टेबल के नीचे की और | टेबल पर सिर्फ कुर्सियों के पास खाली जगह थी बाकी पूरी गोलाई में टेबल के उपर से कपड़ा लटक रहा था जिससे टेबल के घेरे में एक परदा बन गया था और कुर्सी की खाली जगह पर खुद राहुल बैठा हुआ था | अब राहुल समझ गया कि उस लटकते हुए कपड़े के कारण कोई भी यह नही जान सकता था कि टेबल के नीचे क्या चल रहा है | सलोनी एक हाथ से टेबल को थपथपा रही थी जबकि दूसरा हाथ उसने कोहनी से मोड़कर अपनी ठोड़ी के नीचे रखा हुआ था और अपनी कोहनी टेबल पर टिकाई हुई थी | उसे देखने से कोई कतई अंदाज़ा नही लगा सकता था कि टेबल के अंदर वो क्या कर रही है | राहुल का लंड पूरी तरह से खड़ा हो चुका था | तभी राहुल को अपना लंड एक गिरफ़्त में महसूस होता है | सलोनी ने अपने दोनो पाँव उसकी गोद में रख जीन्स के उपर से उसके लंड को पकड़ लिया था | उसका लंड अब फिर से दर्द कर रहा था |

"मम्मी प्लीज़ ......... यहाँ नही" राहुल सलोनी को मिन्नत की नज़र से देखता कहता है |

"यहाँ नही....क्यों यहाँ क्यों नही" सलोनी उसी तरह कोहनी पर हाथ टिकाए बेटे से कहती है |

"कोई देख लेगा मम्मी........ प्लीज़ यहाँ मत कीजिए ........" राहुल फिर से मिन्नत करता है |

तभी सलोनी राहुल की पीठ पीछे वेटर को अपनी तरफ़ आते हुए देखती है | वेटर टेबल पर जूस के ग्लास रखता है और सलोनी से मुखातिब होता है और उसे ऑर्डर के लिए पूछता है | सलोनी मेनू पर टिक्क करके उसे पकड़ा देती है | इस सारे समय दौरान उसने राहुल के लंड को रगड़ना नही छोड़ा था | फिर वेटर राहुल की और मुड़ता है जिसने टेबल पर कुहनियाँ रखकर अपने चेहरे पर हाथ रखे हुए थे | वो अति उत्तेजित था | उसका चेहरा तमतमाया हुआ था | वो नही चाहता था कि वेटर उसके चेहरे को देखे |

"राहुल अपना ऑर्डर दो" सलोनी बेटे को आवाज़ देती है जो वेटर की वहाँ मोजूदगी से भली भाँति परिचित था | कोई चारा ना देख राहुल चेहरे से हाथ हटाता है और वेटर के हाथ से मेनू ले लेता है | वो वेटर से आँख नही मिलाता और सर झुकाए जल्दी जल्दी मेनू पर टिक्क कर देता है | वेटर सलोनी को मुस्कराकर बताता है कि ऑर्डर सर्व करने में पँद्रह मिनिट लग जाएँगे और इसके बाद वो वहाँ से चला जाता है |

सलोनी जूस का ग्लास पकड़ कर राहुल की और देखती है और उसके लंड को ज़ोर से अपने पाँव में दबा मसलती है |

"मम्मी दर्द हो रहा है" राहुल अपनी मम्मी की तरफ़ देख फिर से आँखो ही आँखो में मिन्नत करता है | 

"अपनी ज़िपर खोल कर इसे बाहर निकालो" सलोनी उसकी बिनती की कोई परवाह ना करती कहती है |

"मम्मी प्लीज़ जहाँ नही......कोई देख लेगा......घर चलकर जैसे चाहे कर लीजिएगा" 

"मैने भी सिनेमा हॉल में तेरी ऐसी ही मिन्नत की थी याद है? तूमे मेरी बात मानी थी" सलोनी पलटवार करती है | 

"आई एम सॉरी मम्मी आगे से आपकी हर बात मानूँगा ....... प्लीज़ अब नही करिए" 

"मैने कहा अपनी ज़िपर खोलो" सलोनी राहुल की मिन्नत मनाल को पूरी तरह नज़रअंदाज़ करते बोलती है |

राहुल रुआंसा सा मुँह करके टेबल के नीचे अपने हाथ ले जाता है और अपने लंड को बाहर निकाल लेता है | वो बहुत शर्मिंदा महसूस कर रहा था | उसे लग रहा था जैसे पुरे रेस्तराँ में उन सब लोगों के बीच वो अकेला नंगा बैठा हो | सलोनी लंड को आराम आराम से अपने पंजो के बीच कस कर दबाती है, सहलाती है, रगडती है | राहुल अपनी सिसकियाँ दबाने के लिए अपने होंठो पर अपने हाथ रख लेता है | 

"मज़ा आ रहा है ना" सलोनी राहुल की तकलीफ़ का आनंद उठाती कहती है | राहुल कुछ नही बोलता बल्कि अपनी मम्मी को खा जाने वाली नज़रों से देखता है | हालांकि सलोनी की बात बिल्कुल सही थी | उसे सच में बेहद्द मज़ा आ रहा था | मगर सलोनी जिस तरह उसकी आग को हवा देकर भड़का रही थी उससे उसे डर था कहीं वो बेकाबू ना हो जाए | जो डर सलोनी को सिनेमा हॉल में सता रहा था वही अब राहुल को सता रहा था | 

स्लोनी अपने अंगूठे के नाख़ून से लंड की कोमल त्वचा को कुरेद रही थी जबकि दूसरे पाँव का अंगूठा लंड के सुपाड़े को मसल रहा था | कुछ ही पलों में राहुल को अपने टटों में वीर्य उबलता महसूस होने लगा | वो अभी सलोनी को कहने ही वाला था कि वो छुटने के करीब है कि तभी उसकी रक्षा करने हेतु वेटर वहाँ पहुँच गया | वेटर खाना सर्व करने लगा | राहुल ने अपना सर झुकाए रखा और अपनी सांसो के शोर को दबाने का प्रयत्न करने लगा |

"अपना खाना खाओ" वेटर के जाते ही सलोनी राहुल को बोलती है जो खाने की तरफ़ देख भी नही रहा था | सलोनी उसके लंड से पाँव हटा लेती है और अपना खाना खाने लगती है | राहुल चैन की साँस लेता है | उसका लंड लगभग पिचकारी मारने के करीब पहुँच चुका था | दोनो माँ बेटा खाना खाने लगते हैं | खामोशी से खाना खाते हुए सलोनी बेटे को बीच बीच में देखती रहती है और मुस्कराती रहती है |

खाना खत्म होते ही सलोनी के पाँव फिर से राहुल की गोद में पहुँच जाते हैं | वो फिर से राहुल का लंड मसलने लग जाती है जो खाने के बाद भी ज्यों का त्यों सख्त था | इससे पहले राहुल अपनी मम्मी को कुछ कह पाता फिर से वेटर वहाँ पहुँच गया | सलोनी ने उसे बिल और उन दोनो के लिए आइस्क्रीम लाने के लिए कह दिया | वेटर के जाते ही सलोनी ने अपनी दोनो एडियाँ राहुल के लंड पर कस दी और तेज़ी से अपने दोनो पाँव उपर नीचे करने लगी |

"मम्मी प्लीज़.......ओह गॉड ...... मम्म्ममी" राहुल सिसक उठता है |

"मज़े लूट ले बेटा ... ऐसा मज़ा तुझे सिर्फ तेरी मम्मी दे सकती है" सलोनी के पाँव और भी तेज़ होते जा रहे थे |

"मम्मी मेरा निकलने वाला है ......" राहुल को लगा किसी भी पल उसके लंड से वीर्य फूट पड़ेगा |

"कंट्रोल कर .... यहाँ नही गिरना ... मुझे तेरा रस पीना है" सलोनी बेटे को देखती अपने होंठो पर जीभ फेरती है | उसका सीना भी कुछ कूछ उपर नीचे होने लगा था |
"फिर आप अपने पाँव हटा लीजिए .... वरना मुझसे नही होगा .... मेरा निकल जाएगा मम्मी" राहुल सिसक रहा था और बुरी बात यह थी कि उसे अपनी सिसकियाँ दबानी पड़ रही थी |

"खबरदार ...... मैने कहा ना मुझे तेरा रस पीना है ........ अगर तूने अपना माल यहाँ गिराया तो तुझे मेरी गांड क्या चूत भी मारने को नही मिलेगी | मैं आज के बाद कभी तुझे अपनी मारने नही दूँगी ........ मारने क्या हाथ भी नही लगाने दूँगी ... अगर मेरी चूत चाहिए तो कंट्रोल कर" सलोनी फुसफुसा कर बेटे के आगे शर्त रख देती है |

"उउउफफफफ्फ़ मम्म्ममी .................." राहुल का जिस्म कांप रहा था | लंड ने झटके मारने शुरू कर दिए थे | राहुल टेबल के सिरों को कस कर पकड़ लेता है | वो बहुत गहरी गहरी साँसे ले रहा था | अपनी पूरी मनोशक्ति का इस्तेमाल कर वो खुद को झड़ने से रोकने का प्रयत्न कर रहा था | जितनी वो कोशिश कर रहा था उतनी ही सलोनी भी कोशिश कर रही थी | राहुल ने होंठ भींच लिए, अपनी आँखे बंद करली, मुट्ठियाँ भींच ली, वो गिनती करने लगा कि अब कितने सेकेंड तक वो खुद को रोक सकता है ....... एक ..... दो...... तीन .... चार ...... पाँच ....... अचानक उसका लंड एक ज़ोर का झटका ख़ाता है क्योंकि सलोनी ने अपने पाँव की गिरफ़्त से उसे आज़ाद कर दिया था | राहुल अपनी आँखे खोल देता है | टेबल के पास वेटर खड़ा था | सलोनी पर्स से पैसे निकाल उसे देती है और वेटर आइसक्रीम रख कर वहाँ से निकल जाता है | राहुल को अब भी लग रहा था जैसे उसका लंड वीर्य छोड़ देगा | मगर सलोनी आराम से बिना कोई हरकत किए आइस्क्रीम खाने लगती है | थोड़ा सा संभल कर राहुल भी आइस्क्रीम ख़ाता है | आइस्क्रीम की ठंडक उसके पेट में तो शीतलता प्रदान कर देती है मगर उसके लंड का सूपाड़ा जल रहा था | 

"इसे पेंट में डाल और चल ... घर चलते हैं ... जल्दी कर" सलोनी की चूत पूरी तरह गीली हो चुकी थी | उसके निप्पल अकड़े हुए थे वो खुद उस समय चूदने को बेकरार हो उठी थी |
"अंदर कैसे डालूं, यह पेंट में नही घुसेगा अब" अब राहुल को नयी चिंता सता रही थी |

"पेंट को खोल कर इसके उपर बाँध ले ... जल्दी कर" सलोनी टेबल से अपना पर्स उठाती है और कार पार्किंग के लिए निकलती है |

मरता क्या ना करता, राहुल पेंट को खोलता है और उसे लंड के उपर बाँध लेता है | वो अपने लंड को तो छुपाने में सफल हो गया था मगर पेंट टाइट होने की वजह से और उपर से उसका लंड बुरी तरह फूला होने के कारण उसके लंड में दर्द महसूस हो रहा था और उपर से चलने के समय उसका लंड उसके पेट से घिसने लगा | राहुल अभी भी बहुत उत्तेजित था उसे लगने लगा कि कार तक पहुंचने से पहले ही उसका वीर्य निकल जाएगा | वो बहुत संभल कर कदम रख रहा था मगर फिर भी लंड का पेट पर घर्सन तो हो ही रहा था | राहुल हर कदम पर भगवान से प्रार्थना कर रहा था | उसके लिए तो गाड़ी तक पहुँचना भी भयानक यातना हो गयी थी | मगर अब किसी द्वारा देखे जाने का भय नही था क्योंकि पार्किंग में अंधेरा था मगर फिर भी उसे अपनी मम्मी के बोल याद थे | पार्किंग में उस समय कोई भी नही था | सलोनी आगे चलती गाड़ी के पास खड़ी हो जाती है | राहुल हल्का हल्का लंगड़ा रहा था | राहुल जैसे ही गाड़ी के पास जाकर ड़ोर खोलने के लिए हाथ आगे बढ़ाता है तो सलोनी उसका हाथ पकड़ लेती है | वो राहुल को अपनी तरफ़ घूमाती है और नीचे बैठ जाती है |

राहुल की आँखे फैल जाती हैं | वो तुरन्त आस पास देखता है मगर कोई नही था | सलोनी पेंट की हुक खोल देती है और लंड एक बार फिर से खुली हवा में लहरा उठता है | सलोनी लंड को पकड़ अपने घुटने ज़मीन पर टिका उँची होती है और झट से लंड के सुपाड़े को मुँह में भर लेती है | सलोनी के मुख की गर्माहट और जीभ का खुरदरापन अपना कमाल दिखाते हैं, राहुल का जिस्म कांपने लगता है | वो अपने हाथ अपनी मम्मी के सर पर रख अपना लंड उसके मुँह में पेल देता है और लंड से गर्म गर्म गाढ़े रस की पिचकारियाँ निकलने लगती हैं | वो नाज़ाने कब से खुद को रोके हुआ था मगर सलोनी के मुँह में लेने के बाद उसके लिए अपने लंड को झड़ने से रोकना नामुमकिन हो गया था |

"आअहह ........ मम्म्मममी .... गॉड ........ म्म्मम्म्मी .......... आअहह ............" राहुल सिसक रहा था | उसके लंड से वीर्य की फुहारें सलोनी के मुँह को बार बार भरती जा रही थी जो अपनी तरफ़ से भरसक प्रयत्न कर रही थी कि एक भी बूँद वीर्य की बाहर ना गिर जाए | दोनो ही बात को बिल्कुल भूल चुके थे कि वो कहाँ थे और क्या कर रहे थे | राहुल को ऐसा लग रहा था जैसे उसके जिस्म से वीर्य नही उर्जा निकल रही हो, उसमें से जिस्म की सारी ताक़त निकल रही हो | एक तरफ़ उसे पीड़ा अनुभव हो रही थी तो वहीं उसे जबरदस्त मज़ा भी आ रहा था | एक तरफ़ उसे अपनी रूह आत्मा में शांति फैलती महसूस हो रही थी और दूसरी तरफ़ उसके बदन में कमज़ोरी फैलती जा रही थी | उसके घुटने मुड़ने लगे थे | वो पीछे को गाड़ी के ड़ोर का सहारा लगा लेता है |

आख़िरकार राहुल का लंड पिचकारियाँ मारनी बंद कर देता है मगर सलोनी उसे लगातार जड़ से सिरे तक खूब दबा दबा कर निचोड़ती है और वीर्य की जो कुछ बूंदे उसके अंदर बच गयी थी उसे निकाल कर चुस्ती है | आख़िरकार लंड से वीर्य निकलना बंद हो जाता है | सलोनी पेंट की हुक लगाती है और उठकर खड़ी हो जाती है | वो कार का ड़ोर खोल कर राहुल को अंदर घुसने में मदद करती है | जो कार के ड़ोर का सहारा लिए खड़ा था और लगभग बेसूध था | अगर पीछे ड़ोर ना होता तो शायद वो नीचे गिर जाता | सलोनी घूमकर गाड़ी की ड्राइविंग सीट पर बैठती है और गाड़ी को बाहर निकालती है |

राहुल अधमुंदी पलकों से अपनी मम्मी को देख रहा था | वो इस समय बिल्कुल शान्त था | उसे एक अलग ही किस्म का अनुभव हो रहा था | स्खलन के समय होने वाले आनंद में अभी भी उसका जिस्म झूम रहा था | सलोनी गाड़ी चलाती राहुल को देखती है और उसके चेहरे पर ऐसी संतुष्टि देखकर वो मुस्करा पड़ती है | वो राहुल के बालों में हाथ फेरती है |

"मेरा बच्चा ...... मेरा बेटा .......... मेरा लाल ........" सलोनी उसे दुलारती है |
Reply
01-13-2019, 11:46 PM,
#42
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
घर तक गाड़ी पहुँचते पहुँचते राहुल में जान लौट आई थी | उसने इतने समय से अपने स्खलन को रोका हुआ था जबकि वो पिछले लगभग आठ घंटे से लगातार उत्तेजना की चरम सीमा पर था | और अन्त्तहा जब वो सखलित हुआ तो उसका स्खलन इतना तीव्र था कि उसे लगा जैसे उसके जिस्म से पूरी उर्जा ही निकल गयी थी | मगर अब उसे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था | जिस्म से बैचेनी निकल चुकी थी | बदन हल्का फुल्का हो गया था | 

सलोनी और राहुल दोनो सामान निकाल किचन में ले जाते हैं | एक बार सामान काउंटर पर रखकर सलोनी राहुल की और मुड़ती है |
"कुछ खाना है ...... मुझे मालूम है तुम्हे भूख लग रही होगी" 

"हूँ.... सच में भूख लग रही है मम्मी" राहुल पेट पर हाथ फेरता हुआ बोला |

"अब सारा माल तो मेरे मुँह में उडेल दिया, भूख तो लगेगी ना" सलोनी की बात पर राहुल शर्मा जाता है |

"ठीक है मैं कुछ लाइट सॅंडविच बना देती हूँ और साथ में दूध बना लेती हूँ ... अब तुम्हारी खुराक का पूरा ध्यान रखना पड़ेगा, दिन रात इतना ज़ोर जो लगा रहे हो" सलोनी मुस्करा कर राहुल के गाल पर हाथ फेरती है तो वो और शर्मा जाता है | सलोनी आगे बढ़कर उसके गाल पर एक ज़ोरदार किस करती है |

"दिल करता है खा जायूं तुम्हे" स्लोनी राहुल के निचले होंठ को अपने दांतो में चबाते बोली | फिर वो उसके होंठो को कई बार चूमती है और आख़िरकार ना चाहते हुए भी अपना रुख़ गैस स्टोव की और कर लेती है | राहुल का इतने प्यार दुलार से ही दिल खुश हो गया था, उसका लौड़ा भी जो पेंट में करवटें लेने लगा था कुछ ज्यादा ही खुश था | सलोनी दूध उबलना रखती है और उसमें कुछ और सामान डाल देती है | फिर वो दोबारा राहुल की और मुड़ती है |

"ज़रा रसोई के पर्दे तो बंद करदो" सलोनी राहुल से कहती है | राहुल पर्दे गिराकर जब वापस सलोनी की और घूमता है तो उसकी आँखे फैल जाती है, लेकिन अगले ही पल उसके होंठो पर मुस्कराहट आ जाती है | सलोनी अपना कुर्ता अपने बाजूयों से निकाल चुकी थी | अब वो ब्रा में थी | कुर्ता निकाल वो एक कुर्सी पर डाल देती है और राहुल की और देखकर मुस्करा उठती है | वो अपनी बाहें पीछे ले जाकर अपनी ब्रा के हुक खोलने लगती है तो राहुल आगे बढ़ता है और अपनी मम्मी की पीठ पीछे चला जाता है |

"हुन्न्ह ....... दिन पर दिन समझदार होते जा रहे हो" सलोनी चेहरा मोड़कर कंधो के उपर से राहुल को कहती है जो कि उसकी ब्रा का हुक खोल रहा था | राहुल हुक खोल देता है और सलोनी उसकी और घूम जाती है | ब्रा उसके मोटे मुम्मों पर ढीली हो चुकी थी मगर गिरती नही है | वो राहुल की आँखो में देखती है जिसकी निगाह उसके मुम्मों पर जमी हुई थी | राहुल नज़र उठाता है तो सलोनी की तीखी नजरों को अपने चेहरा पर जमे पाता है | वो शर्मीली सी मुस्कराहट के साथ अपने हाथ उपर उठाता है और धीरे से सलोनी के कंधो से ब्रा के स्ट्रेप पकड़ कर उसकी बाहों से निकालने लगता है | सलोनी बाहें आगे करके मुस्कराती हुई उसकी मदद करती है |

राहुल ब्रा को उसी कुर्सी पर डाल देता है जिस पर उसका कुर्ता पड़ा था | वो घूमता है और सलोनी के मुम्मों पर कोमलता से हाथ फेरता है | उसके कड़े निप्पल उसकी हथेलियों को रगड़ते हैं |

"उउम्म्मह.....क्या इरादा है जनाब का?" सलोनी अपनी नंगी कमर पर हाथ रखे बेटे को छेड़ती है | राहुल कोई ज्वाब नही देता और उसके लंबे कड़े निप्पलों को अपने अंगूठे और उंगलियों में मसलता है |

"उउउम्म्मह......रुक ज़रा...." सलोनी राहुल के हाथों पर अपने हाथ रख उसके हाथों को अपने मुम्मों से हटा देती है और उन्हे अपनी पेंट की हुक पर रख देती है | "पहले मेरी पेंट खोल......." 

राहुल और खुश हो जाता है | वो जल्दी जल्दी झुक कर अपनी मम्मी की पेंट की हुक खोलने लग जाता है | सलोनी उसके बालों में हाथ घूमाती है | राहुल हुक खोल पेंट को नीचे खिसका देता है |

"कच्छी भी...... मेरी कच्छी भी निकाल दो" राहुल पेंट को घुटनो पर रोक सलोनी की भीगी कच्छी को नीचे खिसका देता है और फिर पेंट समेत उसके पाँव से निकाल देता है | वो अपने हाथ को सलोनी की चूत के उपर रखकर उसे सहलाता है | राहुल चूत की खुशबू को दूर से भी सूंघ सकता था | सलोनी उसके चेहरे को पकड़ उसे खड़ा होने का इशारा करती है | राहुल के खड़ा होते ही सलोनी उसकी शर्ट के बटन खोलने शुरू कर देती है | 

"मेरी जांघें चिप चिप कर रही थी ...... कच्छी भी पूरी भीग गयी थी" सलोनी शर्ट को बाहों से निकालते बोलती है | शर्ट निकाल वो नीचे बैठ पेंट की बेल्ट खोलती है |

"मगर मम्मी मैने तो सिनेमा में अच्छे से साफ की थी" अब राहुल अपनी मम्मी के बालों में हाथ फेर रहा था और वो उसकी पेंट नीचे खिसका रही थी | 

"उउउम्म्म्मह....... बाद में रेस्तराँ में खाने के समय जब तुम्हारा लंड मसल रही थी ........... और फिर जब पार्किंग में तेरा लंड चूसा था तो मेरी फिर से गीली हो गयी थी.... देखा ना तूने मेरी कच्छी कितनी भीगी हुई थी" सलोनी राहुल के अंडरवेयर को खींच कर नीचे करके उसके आठ इंच के लंबे मोटे लौड़े को नंगा कर देती है जो खुली हवा में आते ही बुरी तरह झटके खाने लगता है |

"आपने तो मुझे भी कितना परेशन कर दिया था .... एक तो आपने मेरा निकालने वाला कर दिया और फिर उपर से कहने लगी कि वहाँ छूटना भी नही चाहिए और फिर पार्किंग में ही चूसने लगी.... कहीं कोई देख लेता तो?" राहुल अपनी नाराज़गी जाहिर करता है | सलोनी हँसती हुई उसकी पेंट उतारती है | अब दोनो माँ बेटे नंगे थे | राहुल का लौड़ा पूरा तना हुआ झटके मार रहा था तो सलोनी की चूत भी पानी बहा रही थी |

"देख तो बेशर्म को फिर से सर उठा लिया है ........... कितनी बार एक दिन में मेरी लेगा कि यह ठंडा पड़ जाए" सलोनी लंड को खींचती है तो राहुल हल्का सा हंस पड़ता है | सलोनी उठ कर खड़ी होती है और दूध की तरफ़ देखती है और गैस को थोड़ा कम कर देती है और फिर से राहुल की और मुड़ती है |

"अच्छा तुझे अच्छा नही लगा जब पार्किंग में तेरा लौड़ा चूसा था मैने ........ मूझे लगा तुझे बहुत मज़ा आया होगा ........... माल तो तूने इतना निकाला था जितना तेरा बाप तीन बार में भी नही निकाल सकता .... हुं?" सलोनी पुरे लौड़े को हाथ से सहलाती खींचती बोलती है |

"मज़ा तो आया था ... मगर मम्मी ......." राहुल थोड़ा शर्माता सा बोला "मुझे डर लग रहा था कहीं कोई देख ना ले ......... मैं नही चाहता था आपको कोई नुकसान हो" राहुल के लिए अपनी चिंता देख सलोनी उसके लौड़े को छोड़ देती है और उसके गले में बाहें डाल देती है |

"हूँ सच में मेरी बेवकूफी थी ....... मगर क्या करती .... एक तो तेरी हालत खराब थी और उपर से मुझसे कंट्रोल नही हुआ ...... बस एकदम से तेरा रस पीने के लिए बेकरार सी हो उठी ..... दिल तो कर रहा था वहीं रेस्तराँ में उन सब लोगों के सामने तेरा लौड़ा चुसुं और उन सबके सामने तुझसे चुद्वायुं .......... कितना मज़ा आता ना" सलोनी और राहुल एक दूसरे के सामने खड़े थे | राहुल ने अपनी मम्मी की कमर पर हाथ रखे हुए थे जबकि सलोनी ने उसके गले में बाहें डाली हुई थी |

"सबके सामने वहाँ ......... आप मुझसे ....... करवाती .." राहुल कंपकँपाती आवाज़ में बोला | उसका लौड़ा अपनी मम्मी की अश्लील भद्दी बातों से खूब जोश में आकर ज़बरदस्त झटके मार रहा था |

"करवाती नही, चुदवाती तुझसे .... वहाँ उन सब लोगों के बीच तेरे लौड़े को अपनी चूत में डलवाती .... टेबल के साथ घोड़ी बनकर तुझसे अपनी चूत मरवाती या फिर टेबल पर लेटकर तेरे कंधो पर अपनी टाँगे रखकर तुझसे चुदवाती" राहुल से रहा नही जाता और वो अपनी मम्मी को खींच लेता है और अपनी बाहें उसकी पीठ पर कस देता है | सलोनी अपने पंजो के बल उँची उठती है और दोनो माँ बेटा बरसों के प्यासों की तरह एक दूसरे के होंठो पर अपने होंठ रख देते हैं | एक दूसरे के मुख में जीभ धकेल वो एक दूसरे के मुख रस को चखने लग जाते हैं | राहुल अपने हाथ अपनी मम्मी की पीठ से नीचे उसके नितम्बों पर रख देता है और उन्हे भींच कर उसकी गांड को अपने लौड़े पर दबाता है और अपनी कमर आगे धकेलता है | उसका लौड़ा सलोनी की चूत पर रगड़ता है | लंड चूत के होंठो को फैलाता सलोनी के दाने को सहला देता है | सलोनी "उउउन्न्नह" करके अपने बेटे के मुँह में सिसक पड़ती है | जैसे ही दोनो के होंठ जुदा होते हैं राहुल फिर से अपनी कमर हिलकार अपना लौड़ा अपनी मम्मी की चूत पर रगड़ता है | 

"आआहह ........ जालिम ...........क्या कर दिया है तूने मुझे" सलोनी सिसक पड़ती है और दोनो के होंठ फिर से जुड़ जाते हैं | एक लंबा चुंबन चलने लग जाता है | दोनो माँ बेटा एक दूसरे की कमर पर अपनी कमर नचा रहे थे | इस बार जब दोनो के होंठ जुदा होते हैं तो सलोनी आराम से अपने नितंबो से राहुल के हाथ हटा देती है और दूध को देखती है जिसमें उबाल उठने शुरू हो चुके थे | सलोनी गैस को थोड़ा और कम कर देती है | राहुल के सामने अपनी मम्मी के गोल मटोल उभरे हुए नितंब थे, राहुल अपने हाथ से सलोनी की गांड सहलाता है | सलोनी उसकी और मुड़ती है |

"यहाँ बैठ काउंटर पर........दूध में उबाल आने वाला है | राहुल ग्रेनाईट के ठंडे काउंटर पर गैस स्टोव के पास बैठ जाता है | अब सलोनी बेटे के साथ साथ दूध का भी ख़याल रख सकती थी | वो राहुल के लंड को अपने हाथ में पकड़ लेती है | राहुल अपनी मम्मी को मुम्मों को सहलाता है |

"मम्मी आप सच में इतने लोगों के बीच....मुझे....." राहुल को यकीन नही आ रहा था |
Reply
01-13-2019, 11:47 PM,
#43
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
"अगर संभव होता तो.....तो...आज तेरी मम्मी तुझसे वहाँ चुद भी चुकी होती ...... अगर संभव होता तो........ मुझे परवाह नही होती अगर वो मुझे अपने बेटे के लौड़े से चुदवाते देख लेते ......... मगर हाए .......ऐसा हो नही सकता ... यह समाज ... और इसकी मान्यताएँ ......... देख मैं अपने बेटे से खुल कर चुदवा भी नही सकती" सलोनी लौड़े को खींचती है | राहुल के हाथ मुम्मों को कुछ ज़्यादा ही ज़ोर से मसल रहे थे |

"उफफफफ्फ़.... जितने ज़ोर से तू मेरे दूधु मसलता रहता है मुझे लगता है अपने बाप के आने तक इनका साइज़ डबल कर देगा" सलोनी की बात पर राहुल हंस पड़ता है | सलोनी उसके चेहरे को अपने हाथों में थाम अपने मुम्मों पर झुकाती है |

"मेरे दूधु चूस बेटा ....... अपनी मम्मी के दूधु चूस" राहुल तुरन्त अकड़े लंबे निप्पल को मुँह में भर लेता है और चुसने लगता है | सलोनी उसके बालों में उंगलियाँ घूमाती उसका सर एक मुम्मे से दूसरे पर रख रही थी, राहुल एक मुम्मा चूस्ता तो दूसरा मसलने लगता |

"ऐसे ही तू मेरा घंटो तक दूध पिया करता था ............ जब तक तुझे नींद नही आ जाती थी तू मेरे मुम्मे नही छोड़ता था ..... मुझे तब भी कितना सुकून देता था ........ आज भी बिल्कुल वैसा ही एहसास होता है ........ लगता है जैसे तू अभी भी मेरा वही छोटा सा नन्हा मुन्ना राहुल ही है" राहुल मुम्मे की घुंडी को अपने दांतों में काटता है |

"आउच ........ बदमाश........ आज भी तेरी आदतें नही बदली ............ बिल्कुल ऐसे ही मेरे निप्पलों को काटा करता था तू" राहुल के मुम्मे चूसने से सलोनी को मात्रत्व का अपार सुख हासिल हो रहा था | राहुल आज फिर से उसका वही दूध पिता बच्चा बन गया था जो बरसों पहले था | तभी आँख के कोने से सलोनी को बर्तन में दूध की झाग तेज़ी से उपर की और आती दिखाई देती है | वो झट से राहुल का मुँह अपने मुम्मे से हटाती है और गैस बंद कर देती है | दूध एकदम बर्तन के उपरी किनारों को छू कर वापस बैठने लगता है | सलोनी दूध में कड़छी चलाती है तो राहुल स्लैब से उतरकर सलोनी के पाँव के पास बैठ जाता है | वो घुटनो के बल होता है और अपनी मम्मी की रस टपकती चूत के उपर सीधा अपने होंठ जोड़ देता है | वो कबसे सलोनी की चूत का रस पीने के लिए तरस रहा था |

"राहुल्ल्ल्ल्ल......... उउउफफफफफफ्फ़ ....... मत कर ना ......... आआहह........ बेटा......." सलोनी राहुल की जिव्हा को अपनी चूत में घुसती महसुस करती है तो उसका जिस्म झटके खाने लगता है | राहुल सलोनी के नितंबो को थाम अपना मुँह उसकी चूत पर दबा देता है और उसके रस की बूँद बूँद चाटने चूसने लगता है | सलोनी राहुल के सर को अपनी चूत पर दबाती है | राहुल जितनी अंदर तक संभव था चूत में जीभ अंदर बाहर करता अपनी मम्मी की चूत को चोदता है |

"उउउन्न्नन्ग्घह ............ आआहह ...... राआहहुउल्ल्ल्ल्ल ......बस कर.....बस कर..............उउफ़फ्फ़ सहा नही जाता........हाए मर जायूंगी मेरे लाल" सलोनी कराहने लगती है | राहुल चूत चोदना छोड़ सलोनी के भांगकुर को अपने होंठो में दबा लेता है और उस पर अपनी जिव्हा रगड़ता है | राहुल के इस वार को सलोनी झेल नही पाती वो कांपने लगती है | 

"राहुल बेटा ...... बस कर ...... बस कर ........ हहाअययइईई ......... बस कर..." इस बार राहुल सलोनी की बात मान कर उठ जाता है और उसके उठते ही सलोनी नीचे बैठ जाती है, मुँह (फटने की हालत तक) खोल कर वो बेटे का लौड़ा मुँह में डाल लेती है | राहुल भी कुछ ज़्यादा ही उत्तेजित था |

उधर सलोनी लंड को मुँह में डाल कर चुस्ती है तो राहुल अपना लौड़ा आगे पीछे करता उसका मुँह चोदने लग जाता है | सलोनी के लिए मुश्किल था मगर वो किसी तरह सुपाड़े पर जिव्हा घूमाती उसके लौड़े को अपने मुख की गर्माहट दे रही थी | राहुल का लौड़ा तेज़ी से सलोनी का मुँह चोदने लग जाता है | अचानक सलोनी राहुल की जाँघो पर हाथ रखकर उसके लंड को मुँह से निकाल देती है और खड़ी हो जाती है | 

"मुझे मालूम है तू चोदने के लिए तडप रहा है ......... आजा मेरे लाल ...... इधर आ......" सलोनी राहुल को अपने बदन से सटा लेती है | दोनो एक छोटा सा मगर भीगा हुआ चुंबन करते हैं | सलोनी अपनी दाहिनी टांग उठाकर राहुल की जाँघ से लिपटा देती है और राहुल का हाथ पकड़ उस पर रख देती है | राहुल उसकी टांग को एक हाथ से संभाल लेता है | सलोनी बेटे के गले में एक बाँह डाल कर पंजो के बल उपर उठती है और दूसरे हाथ से उसका लौड़ा थाम लेती है | 

"आजा मेरे लाल....देख तेरी मम्मी तेरा लंड अपनी चूत में ले रही है ......... बहुत तरसाया है ना मैने तुझे मेरे लाल ....अब नही तरसायूंगी ......... अपनी लुल्ली अपनी मम्मी की चूत में डाल दे और चोद दे अपनी मम्मी को......... चोद ले अपनी मम्मी को दिल भर कर... चोद ले मेरे लाल" सलोनी राहुल के लंड को अपनी चूत के मुहाने पर फिट कर देती है |
Reply
01-13-2019, 11:48 PM,
#44
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
राहुल नहाकर बाथरूम से बाहर आता है और रिमोट उठाकर टीवी चैनल चेंज करने लगता है। एक म्यूजिक चैनल लगाकर वो आईने के सामने अपने बाल सँवारने लगता है। उसने कमर पर तौलिया लपेटा हुआ था। वो अभी सोच ही रहा था के के ऊपर जाकर अपने पहनने के लिए कपडे ले आये के तभी कमरे के दरवाजे पर नोकिंग होती है। राहुल दरवाजा खोलता है तोह सामने सलोनी दोनों हाथों में ढेर सारा सामान पकडे खड़ी थी। एक हाथ में गिलास और दूध और दूसरे में एक प्लेट में सैंडविच रखे हुए थे वो अभी भी पूरी नंगी थी। 

"नहा लिया तुमने?" सलोनी बेड पर सामान रखते पूछती है। दोनों प्लेट्स और गिलास रखने के लिए उसे हल्का सा झुकना पढता है और राहुल जो उसके पीछे खड़ा था तरुंत अपनी निगाह सलोनी की हलकी सी चौड़ी टांगों के बिच उसकी चुत पर मारता है। सलोनी की चुत के होंठ एकदम बंद थे और उसकी चुत से उसका वीर्य बेहता हुआ निचे उसकी जांघो तक चला गया था। सलोनी ने अभी तक उसका वीर्य भी साफ़ नहीं किया था। 

"मैंने केहा नाहा लिया तुमने" सलोनी सामान रखकर पीछे घुमति है और राहुल के चेहरे को देखकर उसे माजरा समज में आ जाता है।

"तुम मरद लोग भी न बस चुत के सिवा तुम्हे कुछ और नज़र ही नहीं आता" सलोनी रहल को डांटने के स्वर में केहती है और हाथ आगे बढाकर उसका तौलिया कमर से खींच लेती है। राहुल पूरा नंगा हो जाता है। उसका लौडा आधा सखत हो भी चुका था। सलोनी बेटे के लंड को देखति हताशा में सर घुमाति है। 

"मैं नहाकर आती हुण। तुम सैंडविच खाओ गरमा गरम" सलोनी तेज़ी से बाथरूम की और बढ जाती है और राहुल की नज़र अपनी मम्मी की गण्ड का तब तक पीछा करती है जब तक के वो बाथरूम के अंदर दाखिल नहीं हो जाती। वो अपने तेज़ी से सखत हो रहे लंड को पकढ़ कर झटका देता है। उसे अब सैंडविच की भूख नहीं थी, उसे तोह अब बास एक ही चीज़ चाहिए थी जिससे उसकी भूख मिटने वाली थी और वो थी अपनी मम्मी की चुत।

सलोनी को बहुत ज्यादा समय नहीं लगा नहाने में। कोई दस् मिनट बाद वो बाथरूम से अपने बाल तौलीये से सुखाते हुए निकलती है। वो अब भी पूरी नंगी थी। वो रहल की और देखति है जो अपनी जांघो पर तकिया रखे बेड की पुशत से टेक लागए बैठा टीवी देख रहा था या फिर टीवी देखने की कोशिश कर रहा था। सलोनी के अंदर घुसते ही उसकी नज़र फिर से अपनी मम्मी के दूधिया, गुदाज़ बदन पर घुमने लग्ग जाती है। सलोनी बाहें ऊपर उठाये अपने बालों को तौलीये से रगढ रही थी, इस्लिये उसके मोठे मुम्मे भी कुछ ऊपर उठे हुए थे। और उसकी बाहें हिलने के कारन तेज़ी से ऊपर निचे उछाल रहे थे। राहुल अपनी मम्मी के उन रसीले मुम्मो को को यूँ उचलते देखता है तोह उसके मुंह में पाणी भर जाता है। सलोनी अपना मुख आईंने की और मोड कर खड़ी हो जाती है और झुक कर ड्रावर को खोलती है। 


राहुल अपने सामने अपनी मम्मी की छूट और उसकी गण्ड का छेद साफ़ साफ़ देख सकता था। हालाँकि उसकी चुत के होंठ बंद थे मगर चुत का यूँ बेपरदा होना ही उसको तडपा देणे के लिए काफी था। मगर सलोनी ज्यादा समय तक्क झुकि नहीं रही और ड्रावर से हेयर ड्रायर निकाल कर अपने बाल सुखाने लगती है। राहुल के सामने अपनी माँ के गोल मटोल नितम्ब थे। बिलकुल कसी करारी गण्ड थी सलोनी कि, किसी भी मरद का देखते ही पाणी निकल जाए। उसकी गोरी पीठ से जेहा उसके नितम्ब सुरु होते थे बिलकुल वहा को गोलाकार कर्व में उसके नितम्ब उभरे हुए थे। राहुल उन्हें देखते याद करता है के उसके मम्मी ने कोकोनट आयल भी ख़रीदा है ताकि वो राहुल का लम्बा मोटा लौडा अपनी टाइट गण्ड में आसानी से ले सक। राहुल के दिमाग में जैसे ही वो विचार आता है और वो अपने मन में अपनी माँ की गण्ड में अपना लौडा घुसाने की कल्पना करता है तो उसका लौडा तकिये के निचे एक ज़ोरदार झटका मरता है। राहुल उत्तेजना में अपने लंड पर तकिया दबाकर उसे हलके से मसलता है। 

सलोनी आईने में से बेड पर बैठे राहुल की हरकतों को देख रही थी। जब्ब वो ड्रायर उठाने के लिए निचे झुकि थी उसने सर उठकर राहुल को उसकी जंगो के बिच झाँकते देखा था। अब भी जब्ब वो इतने समय से उसके दूधिया नितम्बो को घूर रहा था और जब्ब राहुल लौडे पर तकिया दबाकर उसे मसलता है तोह सलोनी के होंठो पर मुस्कान खेल जाती है। उसके निप्पल्स में कुछ तनाव आने लगता है और वो अपनी चूत को भीगते महसूस करती है। वो समज सकती थी के तकिये के निचे राहुल का लंड कैसे फुंकार रहा होगा।

सलोनी ड्रायर को वापस ड्रावर में डाल अपने बालों पर एक रबड़ बांद डालती है और बेड पर चढ़ अपने बेटे के पास चलि जाती है। उसके बदन पर उस रबड़ बंद के शिव सके कानो के झुम्के और नाक की बलि थी। सारा सामान यूँ का यूँ पड़ा हुआ था। राहूल ने किसी चीज़ को हाथ तक्क नहीं लगया था। सलोनी भी बेड से पुशत लगाकर राहुल से एकदम सट कर बैठ जाती है। राहुल का लंड अपनी मम्मी के बदन की गर्मी और उसके जिसम से नहाने के बाद आ रही ताज़ी मेहक से और भी ज़ोरों से फड़कने लगता है। सलोनी हाथ आगे बढाकर खाने के सामान को अपने पास खींच लेती है। 

" मैंने तुझे केहा था तू गरमा गरम सैंडविच खा लेना?" 

"मम्मी मेरा अकेला खाने का मनन नहीं किया मैने सोचा आप आ जायो फिर एक्कठे खाते हैं।"

राहुल की बात पर सलोनी झटके से राहुल की गोद से तकिया पकड़ कर खींचती है और उसे अपनी पीथ पीछे लगा लेती है। सामने राहुल का लौडा पत्थर की तरह सखत होकर आसमाँ की तरफ मुंह उठाये खडा था। राहुल "मम्मी" कहकर अपना विरोध जताता है।

"मइने तुझे खाने के लिए कहा था और तू इसे फिर से खडा करने में लगा है?" सलोनी राहूल को डाँटती है।

"मइने कब्ब इसे खडा किया अब आप हो ही इतनी सुन्दर और ऊपर से यूँ नंगी होकर आगे पीछे घूमोगी तोह खडा ही होगा ना" राहुल भोलेपन से केहता है।

"बाते बहुत बनाने लगा है तु" सलोनी राहुल की और सैंडविच बढाती केहती है।

"यह मम्मी बातें नाहि, आप सच में इतनी सुन्दर हो के मेरा बैठने का नाम ही नहीं लेता" रहल सैंडविच लेकर खाने लगता है।


"चल चल, ज्यादा माखन न लगा। मझे मालूम है कितनी सुन्दर हुन मैं!" सलोनी मुस्कराते हुए खुद भी सैंडविच खाने लगती है। सैंडविच ख़तम होते ही वो दोनों गिलास में दूध डाल कर राहुल की और बढा देती है। राहुल गिलास पकड़ तेज़ी से दूध पिने लगता है। वो फ़टाफ़ट खाना ख़तम करने की कोशिश में था ताकि अपनी मम्मी के रसीले बदन का रस्स पि सके जिसके लिए वो तरसा हुआ था।
Reply
01-13-2019, 11:48 PM,
#45
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
राहुल दूध का गिलास पीकर बेड के साथ छोटे टेबल पर रख देता है जबके सलोनी अभी भी दूध पि रही थी। राहुल पलट कर वापस अपनी मम्मी के साथ चिपक जाता है। दोनों का रुख टीवी की और था। राहुल अपनी मम्मी की बाँह उठकर अपने सर के पीछे से घुमकर अपने काँधे पर रख देता है और उसके बदन पर हल्का सा झुक जाता है।

राहुल का मुंह अपनी मम्मी के मुम्मे के बिलकुल पास में था। वो अपनी उँगलियों से उसके भरे फुले मुम्मे को प्यार से सहलाता है, बड़ी ही नाज़ुकता से उसके निप्पल से छेडछाड करता है। सलोनी उसके कांधे पर अपना हाथ फिराती अपना दूध पिती है और वो जो भी करता है उसे करने देती है। राहुल कुछ समय तक्क मुम्मे और निप्पल से यूँ ही खेलता रहता है। उसके खेल्ने से निप्पल कुछ ज्यादा ही सखत होकर तन गए थे। वो लम्बा गुलाबी निप्पल जैसे राहुल को पुकार रहा था जैसे उसे केह रहा हो मुझे अपने होंठो में भर लो। 

राहुल अपने होंठो पर जीभ फेरते हुये ऊपर अपनी मम्मी की तरफ देखता है जो दूध पीकर अपना गिलास बेड पर रख चुकी थी। राहुल की नज़रों में वो इल्तेजाः देखकर वो अपना सर इंकार में हिला देती है। राहुल थोड़ा निराश सा होकर फिर से एक नज़र उस कड़क गुलाबी निप्पल पर ड़ालता है और सर उठाकर बड़े ही मासूम चेहरे के साथ आँखों में याचना का भाव लिए अपनी मम्मी की और देखता है। उसे देखकर सलोनी की हँसी निकल जाती है। उसने अपना चेहरा यूँ बना रखा था जैसे कोई छोटा सा पप्पी बनाता है। सलोनी राहुल के सर के पीछे वाले हाथ से उसके गाल को सेहलाती है और अपनी पल्कों को बंद करके उसे मौन सहमति दे देती है। 

राहुल का चेहरा तरुंत ख़ुशी से खील उठता है। वो फ़ौरन आपना चेहरा निचे झुका कर अपनी मम्मी के कड़क गुलाबी निप्पल पर अपनी जिव्हा फेरता है। उसे अपनी जीव्हा की नोक से सेहलता है।

"म्मममहहहह्म्मम्........उउउउउम्मम्मम्म........." सलोनी के होंठो से मादक सिसकि फूट पड़ती है।

राहुल निप्पल को अपने होंठो में भर उसे चुस्ने लगता है। वो बड़े प्यार से अपनी मम्मी के मुम्मे को चुस चुस कर उसका रस्स पि रहा था। सलोनी उसके बालों में हाथ फेरती गहरी साँसे ले रही थी। राहुल का हाथ दूसरे मुम्मे को सेहलाने लगता है। वो मुम्मे को चूसता बिच बिच में नज़र उठाकर अपनी मम्मी के चेहरे को भी देख लेता था। सलोनी के चेहरे पर कामुकता के साथ उस पर सनेह और ममता की भी जबरदस्त छाप थी जो सिर्फ एक माँ के चेहरे पर अपने बेटे को अपना दूध पिलाते समय हो सकती है। सलोनी के लिए वो सिर्फ और सिर्फ उसका बेटा था, बड़ा छोटा, इससे उसे कोई फरक नहीं पढता था। उसे लगता था के एक बेटा होने के नाते राहुल को उसके जिसम के हर आंग पर पूरा अधिकार था, आखिरकार वो भी उसी जिसम का एक हिस्सा था। 

मूममे चुसते चुसते राहुल शरारत से निप्पलों को अपने दाँतो से काटने लगता है। पहले तोह सलोनी उसे कुछ नहीं कहती मगर जब्ब वो कुछ जयादा ही ज़ोर से काटता है तोह सलोनी उसके कंधे पर चपट लगाती है।

"क्यों इतना ज़ोर ज़ोर से काट रहा है खून निकल आएगा तेरे बाप ने भी वापस आकर इन्हे चुसना है, उसे क्या जवाब दूंगी?" राहुल हंस पढता है। 

चल अब बस कर।" सलोनी हल्का सा राहुल की और घुमति है और उसके खड़े लुंड को अपने हाथ में भर लेती है। "बस कर अब्ब बहुत दुधु पि लिया अपनी मम्मी का तूने..." सलोनी राहुल का लंड सहलाती केहती है मगर राहुल उसके मुम्मे से मुंह हटाकर दूसरे पर अपने होंठ जमा देता है और उसे अपने होंठो से और दाँतो से कुरेदने लगता है। अखिरकार जब्ब राहुल अपनी मम्मी के मुम्मो से मुंह उठाता है तोह उसके दूधिया मुम्मे लाल हो चुके थे, निप्पल और भी अकड चुके थे।

राहुल अपना चेहरा ऊपर उठाता है। उसके और सलोनी के होंठो के बिच कुछ ही फ़ासला था। सलोनी धीरे से अपना चेहरा राहुल के चेहरे पर झुकाती है और दोनों के होंठ मिल जाते है। दोनों पहले बड़े ही प्यार और कोमलता से एक दूसरे के होंठो को चुमते हैं मगर जलद ही दोनों एक दूसरे के होंठो को अपने होंठो में भरकर चुस्ने लगते है। वो भीगा चुम्बन लगातार लम्बा होता जाता है और दोनों की जीभे एक दूसरे के मुंह में घुस कर कोहराम मचाने लगती है। दोनों की उखड़ी साँसे पूरे कमरे में गूँज रही थी। अखिरकार सांस लेने के लिए दोनों के होंठ जुदा होते है। एक दो पल बाद फिर से उनके होंठ जूड्ड जाते है। वो दोनों एक दूसरे का मुखरस चख रहे थे। सलोनी का हाथ उत्तेजना बढ्ने के साथ साथ अपने बेटे के लौडे पर कस्ते जा रहा था। राहुल का हाथ भी अपनी मम्मी के मुम्मे से निचे उसके पेट् पर फिसलता उसकी चूत तक्क पहुँच जाता है। वो अपनी मम्मी के मुंह में जीभ घुमाता अपनी ऊँगली उसकी चुत के होंठो पर घुमाता है तोह सलोनी के जिसम को झटका सा लगता है। राहुल तरुंत अपनी ऊँगली उसकी चुत के अंदर ढकेलता है। सलोनी की चुत इतना रस्स बहा चुकी थी के ऊँगली फ़िसलती हुई उसकी चुत में घुस जाती
Reply
01-13-2019, 11:48 PM,
#46
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
सलोनी बेटे के होंठ को काटति उसके मुंह में सिसकती है। राहुल एक और ऊँगली उसकी चुत में घूसा देता है और अपना हाथ आगे पीछे करता उसे चोदने लगता है। सलोनी बेटे को चुमना भूल खुले होंठो से सिसकने लगती है। राहुल कुछ लम्हे यूँ ही उसके होंठो को चूसता है और फिर अपना चेहरा निचे झुकता उसके सीने पर अपनी जीव्हा घुमाने लगता है।


सलोनी उसके बालों में हाथ फेरती है जबके वो उसके मुम्मो को चूमता चाटता है, फिर से एक बार दोनों निप्पलों को कुछ समय के लिए चूसता है। मगर इस बार राहुल ज्यादा देर नहीं लगाता उसकी जीव्हा तेज़ी से निचे जाती है, वो अपनी मुम्म के एकदम सपाट पेट् को चूमता उसकी नाभि में जीभ घुमता है और उसे अपने होंठो में भरकर चूसता है। 

"मुम्मी तुम्हारे बदन से कितनी प्यारी मेहक आ रही है ऎसी सुन्दर महक तोह किसी फूल से भी नहीं आति" सलोनी बेटे की बात पर हवस में बुरी तरह दुबे होने के बावजूद मुसकरा देती है। राहुल के होंठ निचे जाते हैं जहान उसकी मम्मी की चूत थी। मगर अभी भी उसकी चुत और राहुल के होंटो के बिच हल्का सा फ़ासला था। राहुल चुत के ऊपर बिलकुल तिकोनी आकार में कटे छोटे छोटे बालों को चूमता उन पर अपना चेहरा रगडता है। उन कोमल बालों की रगढ का एह्सास उसे बहुत प्यारा लग्ग रहा था। अखिरकार राहुल अपना चेहरा और निचे ले जाता है, उसके होंठ अपनी मम्मी की चुत के होंठो के उपरी हिस्से को चुमते हैं राहुल पूछ पूछ करता उन्हें ऊपर से चूमता है। चुत से आती तीखी तेज़ सुंगंध उसे एहसास दिला रही थी के उसकी मम्मी कितनी उत्तेजित है। राहुल की जीव्हा बाहर आती है और वो चुत की लकीर में अपनी जीभ की सिर्फ हलकी सी नोंक घुसाता है और उसे लकीर में ऊपर से निचे फेरने लगता है। 
आहः........राहुलल......मेरे लाल......ऊफ......." इतनी देर से अपनी सिसकि दबाये सलोनी से बर्दाशत नहीं होता और वो सिसक पड़ती है।

राहुल अपनी जीव्हा की नोंक चुत में आगे पीछे घुमाता जैसे सलोनी को तडपा रहा था। वो सिर्फ नोंक के अग्रभाग से चुत के होंठो के अंदरूनी हिस्से को रगड रहा था, चाट रहा था। वो अपने हाथों से चुत के होंठो को फैला देता है और अपनी जीव्हा की नोंक से अपनी मम्मी की चुत को कुरेदता है।

"राहुललललल.......गुड़ड़........

।हहहहहययययीीीे.....
क्यों तडपा रहा है मुझे इस तेरह।आआआअह्ह्ह्हह्ह्........बर्दाशत नहीं होता मुझसे.........
" सलोनी अपने निप्पलों को खींचती बोलती है।

मागर राहुल अपनी माँ की सीत्कारों की और कोई ध्यान नहीं देता और वो उसकी चुत के डेन को काफी देर तक कुरेदते रहता है। उसे जैसे कोई जल्दबाज़ी नहीं थी। अखिरकार राहुल अपनी जीव्हा चुत के अंदर गहरायी तक्क सलोनी की मीठी चुत के मिठे रस्स को चखने लगता है। सलोनी की आहें कराहें और भी ऊँची होने लगी थी। उसका बदन फिर से झटके खाने लगा था। कोमल मुलायम चुत के अंदर बेटे की खुर्दरी जीव्हा की रगढ उससे झेलि नहीं जा रही थी। वो अपने मुम्मो को मसल रही थी, कबी अपनी चुत पर अपने बेटे के सर को दबाने लगती थी। 

बेटा......हैय्यी.......हयई......वहा मत काट.....उउउउफ्फ्फ्फ्फ़ दाँतो से मत काट...
आआह्ह्ह्ह राहुल मान जा..." जब्ब राहुल चुत के डेन को अपने होंठो में भर लेता है और उसे हल्का सा अपने दाँतो से काटता है तोह सलोनी चीख़ ही पड़ती है। वो बेड की चादर को अपनी मुट्ठियों में भींच रही थी। चुदाई में ऐंसी पीड़ा और आनंद का जबरदस्त एहसास उसे पहली बार हो रहा था। सलोनी अपने हाथ बेड पर रख एकदम से उठ जाती है और अपनी चुत से बेटे का मुंह हटा देती है। 

"क्या मम्मी......इतना मज़ा आ रहा था.......चाटने दो न......." राहुल नाराज़ सा होता बोलता है।

"चाटने दी ना........हाईए मेरी जान निकल कर रख दि....उउउउउउफ्फ्फफ्फ्फ्.....कितनि बार बोलै है तुझसे वहां दांत से न काटा कर......." सलोनी का बदन अब्ब भी उत्तेजना से कांप रहा था।

"प्लेज़ मम्मी थोड़ा और चुस्ने दो न अपनी मीठी चुत को जब नहीं काटूंगा.....प्रोमिस....." 

"मैं अच्छी तेरह से जानती हुन तेरा प्रॉमिस कितना पक्का होता है.........ईधर आ.......मेरे पास...." सलोनी अपनी बाहें फ़ैलाती राहुल को अपने पास बुलाती है। राहुल तरुंत आगे बढ़कर अपनी मम्मी की खुली बाँहों में समां जाता है, सलोनी बेटे को अपनी बाँहों में कस्स लेती है और उसके चेहरे को चूमने लगती है। उसके दोनों होंठो को अपने होंठो में भरकर चुमती-चाटती है। राहुल अपनी माँ की पिठ पर अपने हाथ फेरता अपनी मम्मी के ममतामयी प्यार की बरसात का आनंद उठा रहा था।


"तूझे सच मुच मम्मी की चुत इतनी मिठी लगती है......" सलोनी राहुल के चेहरे से अपनी चुत के रस्स को चाटते हुए बोली।

"हूँह्.....मुम्मी तुम्हारी चुत जैसी मिठी कोई चीज़ नहीं है......" सलोनी बेटे की बात सुन हंस पड़ती है।

"बाते बनाना तोह कोई तुझसे सिखे.......अभी दोपहर को चाटी थी न 
दिल भर कर और ऊपर से अभी थोड़ी देर पहले किचन में भी......अभी भी दिल नहीं भरा तेरा .......हुँह?....." सलोनी राहुल के माथे को चूमती केहती है।

"नहि..........मुझे अभी और चुसनी है अछे से.......अभी तोह मुझे मज़ा आने सुरु ही हुआ था......" सलोनी फिर से हंस पड़ती है। वो एक बार फिर से राहुल के होंठो को अपने होंठो में भर कर चुस्ती है। 

"और मेरे मज़े का क्या मुझे मज़ा नहीं चहिये........." सलोनी अपने पेट् पर ठोकर मार रहे बेटे के लौडे को अपने हाथों में भर लेती है। 

"आपको भी मज़ा आ तोह रहा था.......आप कितना शोर मचा रही थी......." सलोनी राहुल के तर्क पर विस्मय से अपने मुंह पर हाथ रख लेती है या फिर वो यूँ ही नाटक कर रही थी। 

"येह देख लो......में समझती थी अभी मेरा बेटा भोला भाला है और यह देख........." सलोनी राहुल का नाक पकडती बोलती है।

"उम्म्म्मम्ह्ह...........छोड़ो ना मम्मी .....फिरसे एक बार और चुस्ने दो ना........."
Reply
01-13-2019, 11:48 PM,
#47
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
नही हरगिज़ नाहि.......मुझे भी मज़ा करना है........तेरा नही चुसना है.........वैसे भी तूने मेरे पूरे बदन में आग लगा दी है. मेरी चूत जल्ल रही है और अब मेरा दिल चुदने के लिए तड़फ रहा है........बस एक बार मुझे अपना लंड थोड़ा सा चुस लेने दे.......उसके बाद तेरे लंड पर सवारी करनी है मुझे........"सलोनी बेटे के लंड को अपने हाथ में मसलती बड़े ही कामुक अंदाज़ में अपने होंठो पर जीभ फेरती उसे आँख मारती है. "तो अब में चुसू तेरा लंड" 

"हुँह?........हाँ मम्मी तुम्हारा दिल कर रहा है तोह्......." राहुल यह सुनकर के उसकी मम्मी उसके लौडे पर सवारी करने के लिए बेताब है, उसकी चूत चुस्ने की जिद्द एक पल में छोड़ देता है. 

ऊह्ह्ह्ह....मम्मी तुम्हारा दिल कर रहा है तोह .......... जैसे तुम्हारा दिल तोह कर ही नहीं रहा............." 

"उऊंहहह मम्मी बातें न बनाये.......अब चुसो भी......." राहुल बेताबी से केहता है.

"चुस्त हुन ....... चुस्ती हुण........अब तोह तुझसे सबर नहीं होगा......मुझे मालूम है........"सलोनी राहुल को बेड की तरफ लेट जाने को कहती है. राहुल तकिये पर सर रखकर लेट जाता है और अपनी टांगे हलकी सी फैला देता है. सलोनी उसके घुटनो के बिच बैठ उसके लंड को पकड़ लेती है. वो अपना मुंह निचे लाती है. राहुल की तरफ देखते हुये सुर्ख लाल सुपाडे को बेहद कोमलता से चूमती है. राहुल को अपने सुपाडे पर मम्मी के होंठो का हल्का सा स्पर्श भी बर्दाशत नहीं होता और वो सिसक पढता है.

"एक बार बोल न........" सलोनी बेटे की आँखों में देखति अपने होंठ धीए धीर उसके सुपाडे पर रखती उसे अपने सूखे होंटो से सेहला रही ही.

"क्या मम्मी......"

"तु जानता है........" सलोनी लंड पर अपनी गरम साँसे फैंकते हुए उसके छेद को अपनी ऊँगली से सेहला रही थी जबकि उसकी नज़र अब भी बराबर अपने बेटे के चेहरे पर जमी हुयी थी.

"बोल न......बोल भी अब...........हाय क्यों इतना तरसाता है....." राहुल के न बोलने पर सलोनी उसे फिर से इल्तेजाः करती है.

"मम्मी.........मेरा लौडा चुसो न......."राहुल धीमे से बोल उठता है. उसकी नज़र झुकि हुयी थी.

"एक बार फिर से बोल......." सलोनी की ऑंखे बंद हो जाती है, वो उन लफ़्ज़ों को सुन एक तीखी और गहरी सांस लेती है.

"मम्मी मेरा लौडा चुसो न........" राहुल दोहराता है.

"एक बार और.......एक बार और........."सलोनी सिसकती अपने होंठ खोलते लंड के ऊपर अपने मुंह को झुकाती है.

"मम्मी मेरा लौडा चुसो न......." वासना में जलता राहुल इस बार खुद बा खुद तेज़ी से बोल उठता है. सलोनी का चेहरा निचे होता है और उसकी जीभा सांप की तराह फुंकरति हुए बाहर आती है. सलोनी गेन्द की तराह मोठे सुपाडे पर अपनी जीभा को रगड़ती उसे चाटती है.

"मम्मी मेरा लौडा चुसो न........." राहुल खुद बखुद बोल उठता है और अपनी मम्मी का सर अपने लौडे पर झुका देता है. सलोनी तरुंत सुपाडे को अपने होंठो में भर उसे अपनी जीभ से रगडना चालू कर देती है. सुपाडे की कोमल त्वचापर सलोनी की जीव्हा राहुल का उसी तरह बुरा हाल करने लग जाती है जैसे उसकी जीव्हा अपनी मम्मी की चूत में जाकर उसका कर रही थी.

सलोनी सुपाडे को जीव्हा से रगड़ती अपने होंठ धीरे धीरे लंड के ऊपर निचे करने लग जाती है. वो मूत्र के छेद को अपनी जीभ की नोंक से कुरेदती लंड को चुस रही थी. कुछ ही पलों बाद राहुल अपनी कमर हलकी हलकी उछलने लगता है. सलोनी का एक हाथ बेटे के अंड कोशों से खेलता उन्हें सेहलता है दुलारता है जबके उसके होंठ लंड की लम्बाई पर कैसे हुए उसे रगढ रहे थे सलोनी अपना मुंह कुछ तेज़ी से ऊपर निचे चलाती बेटे का लंड जोर से चुस्ती है और उधर राहुल भी मज़े और उत्तेजना के मद्द में निचे से ज़ोर ज़ोरे अपनी कमर उचलता अपन मम्मी के मुंह को चोदने लगता है.
अचानक सलोनी झटके से राहुल का लंड मुंह से निकल देती है. 

"क्या हुआ मम्मी? निकल क्यों दिया? चुसो न प्लीज......." राहुल उस समय उत्तेजना के सिखर पर था और उससे बिलकुल बर्दाशत नहीं हुआ जब सलोनी ने लंड को मुंह से निकल उसे मिल रहे जबरदस्त आनंद को रोक दिया. उसका लंड जो उसकी मम्मी के मुखरस से भीगा हुआ था और बड़े ही भयानक तरीके से झटके मार रहा था जैसे वो भी सलोनी के इस तरह अचानक से चुसाई रोक देणे से नाख़ुश था.
Reply
01-13-2019, 11:49 PM,
#48
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
मगर सलोनी जवाब देणे की बजाये उठ कर खड़ी होती है और राहुल की कमर के पास खड़ी होकर अपनी तांग उसके ऊपर से घुमति अपने दोनों पांव उसकी कमर के दोनों तरफ कर लेती है, जबके उसका रुख अपने बेटे की तरफ था. सलोनी धीरे धीरे निचे बैठने लगती है. राहुल कभी अपनी मम्मी के सुन्दर चेहरे को देख रहा था जिससे मादकता टपक रही थी तोह कभी वो उसके मोठे मम्मो को देख रहा था जिन पर सुर्ख गुलाबी निप्पल उनकी सोभा को चार चाँद लगा रहे थे तोह कभी वो उसकी चूत को देखता जो उसके निचे बैठते जाने के कारन और उसकी टैंगो के खुले होने के कारन हलकी सी खुलती जा रही थी. राहुल अपनी मम्मी की गुलाबी चूत के मोठे होंठो के बिच से झाँकते उस गहरे गुलाबी छेद को देख रहा था. चूत एकदम लंड के ऊपर उसके करीब और करीब आती जा रही थी. लंड की मांसपेशियाँ पूरी तेरह तन्न जाती हैं और उसे इतना कठोर बना देती हैं के वो झटका भी नहीं मार सकता था. लंड मुंह ऊपर उठाये चूत से मिलान का बेसब्री से इंतज़ार कर रहा था. राहुल ऑंखे फाडे चूत और लंड के उस मिलान की और देख रहा था. 

जब्ब चूत लंड के एकदम करीब पहुँच जाती है तोह सलोनी रुक जाती है. चूत और लंड में अब्ब बास नाममात्र की दूरी थी. सलोनी राहुल के चेहरे पर अधिर और खींघ देखकर मुसकरा उठती है. वो अपना हाथ निचे लाती है और राहुल के लंड को पकड़ लेती है.

"ऊऊफफ्फ्फ्फफ्.....देख तोह कैसे पत्थर की तेरह सख्त करके रखा हुआ है......-....इसीलिये तोह चुसना बंद कर दिया वार्ना तू मेरे मुंह में ही झढ़ जाता और फिर मेरी दहकाती चूत का क्या होता......हये मुझे तेरे लंड से चुदना है मेरे बेटे." सलोनी लंड को जद्द से पकड़ धीरे से और निची होती है. राहुल साँस रोक कर लंड और चूत के मिलन का इंतज़ार कर रहा था. सलोनी हल्का सा और निचे होती है और लंड का सुपडा चूत के खुले गलबी होंठो को चूम लेता है.

"उऊंणह्ह्ह्हह्ह्.........हये बेटा.........." सालनि उस चुम्बन से सिसक पड़ती है.

"मम्मी......मम्मी...." राहुल की ऑंखे बंद हो जाती है.

सलोनी कमर को हल्का सा और निचे करती है तोह लंड पर चूत का दवाब बढ्ने लगता है. चूत के होंठ खुलने लगते है. सुपडा आधे के करीब होंठो को फ़ैलता चूत के मुहाने पर दस्तक दे रहा था. राहुल की ऑंखे गिद्ध की तेरह अपने लंड को अपनी मम्मी की चूत में समाते देख रही थी. सलोनी ऑंखे बंद कर अपना भार लंड पर डालती है और मोटा सुपडा चूत को बुरी तेरह फ़ैलाता 'पुक्क' की आवाज़ करता चूत में समां जाता है.

"हयै." सलोनी सिसक पड़ती है. लंड का सुपडा कुछ जयादा ही फूला हुआ था और चूत की भीतरी दीवारों को बुरी तेरह से फैला रहा था.

"मम्मी......... आअह्ह्ह्हह्ह्...." राहुल भी सिसक पढता है. उसके लंड को जलती चूत ने जब्ब अपने भीतर समाकर जकड़ लिया तोह उससे सबर नहीं हुआ और उसने निचे से कमर उछाल दि. सलोनी की रस्स टपकती भीगी चूत में उसके बेटे का मोटा लौडा चार इंच अंदर जा घुसा. 

मैं ले रही हुन न अंदर........... एक तोह तूने इसे इतना मोटा कर रखा है........अबबब रुक में लेती हुन बाकि का......... नीछे से मैट पेल देना अपना लंड मेरी चूत में............आआह्ह्ह्ह ..........." सलोनी लंड पर दवाब डालती निचे बैठने लगती है. राहुल लंड को बहुत ही धीरे धीरे चूत में ग़ायब होते देख रहा था. सलोनी की चूत के मोटे गुलाबी होंठो ने लंड को चरों और से कसा हुआ था. दो तिहाई लंड घूसने तक्क उसने सबर किया मगर फिर एकदम से उत्तेजना के ज्वर में बहता हुआ सलोनी की कमर को पकडता है और उसे पूरे ज़ोर अपने लंड पर दबाता है. सलोनी के नितम्ब राहुल की जांघो से जा टकराये और राहुल का लौडा गिली चूत को चीरता हुआ जड तक्क जा घुसा.

मेरी चूत.........हये मेरी चूत........" सलोनी की चीख़ निकल जाती है.

""मम्मी....मम्मीयियी...." राहुल भी सलोनी की जल रही कोमल चूत में अपने लंड के उस जबरदस्त एहसास को महसूस कर सिसक उठता है.

सलोनी अपनी ऑंखे खोलती है तोह राहुल के कंधे पर चपट मरती है.

"ऊऊफफफफफफ.......तुझ्से जरा सा भी सबर नहीं होट.....इतना लम्बा मोटा लौडा है और तू ऐसे मेरी छोटी सी चूत में ठूँस देता है जैसे किसी रंडी की चूत हो.........हये मेरी चूत दरद कर रही है........" सलोनी ग़ुस्से से राहुल को कहती है.

"आपको ही तोह जल्दी थी चुदने की.......अब क्या हो गया....... " 

"क्या हो गया.........तेरे अंदर जाता न इतना लम्बा मोटा तोह तुझे पता चलता कितना दरद होता है.............में दाल तोह रही थी..........लकिन तू तोह बास सिर्फ अपने मज़े की सोचता है....मम्मी की चूत चाहे फट जाए...........कीसने तुझे केहा था इसे इतना लम्बा मोटा करने के लिये........
Reply
01-13-2019, 11:49 PM,
#49
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
राहुल अपनी मम्मी के कन्धो पर हाथ रखकर उसे अपने सिने पर खींच लेता है. अपनी मम्मी के होंठो को चूसता वो उसकी कमर अपने हाथों में थाम उसे ऊपर उठता है. राहुल का लंड चूत से बाहर आने लगता है , सलोनी को चैन की सांस आती है. वो अपनी जीव्हा अपने बेटे के मुंह में धकेल देती है. उसी समय राहुल जिसने सुपाडे तक्क लौडा बाहर खींच लिया था, पूरे ज़ोर से अपनी मम्मी की कमर को अपने लंड पर दबाता है और निचे से अपनी कमर उचलता है. लौडा भीगी चूत में फिसलता जड तक्क पहुंह जाता है.

"आएईईए.........आआईईएई.........हैय्यी....... मा डाला.......... मेरी चूत................हहईयी........मेरी पहले से ही जान निकल रही है और तू .." सलोनी चीख़ पड़ती है. उसे उम्मीद भी नहीं थी के इतना डाँटने के बाद वो यूँ इतनी जल्दी पूरा लौडा उसकी चूत में यूँ पेल देगा. राहुल ने अपनी मम्मी की चीख़ पर कोई ध्यान नहीं दिया. उसने फिर से लंड बाहर खेचा, सलोनी की ऑंखे चौड़ी हो गयी. वो राहुल के उग्र बर्ताव पर हैरान थी. अगले ही पल राहुल ने फिर से पूरा लौडा अपनी मम्मी की चूत में ठोंक दिया. 


"हाय भगवान........धीरे पेल.......हैय्यी........मेरी चूत.........धीरे पेल बेटा........" सलोनी सिसक पड़ी थी. 

"धीरे क्योँ........मम्मी......... तेरी चूत में बहुत आग लगी थी, देख कैसे में अपने लंड से तेरी इस आग को बुझाता हुण................" राहुल अपनी मम्मी के होंठ चूमता उसकी कमर को कस्स कर पकड़ लेता है और लंड सुपाडे तक्क निकल पूरे ज़ोर से वापस उसकी चूत में ठोकने लगता है.

"आजह.........उउउउउउक्कछ्हः............वूऊऊऊकछहःछ................डआईईईइ.......रहःहुउल्ल........बेटायआ भगवान...................आईए......" सलोनी हर धक्के पर चीख़ रही थी.

"ल मम्मी........चुदवा अपने बेटे स................ चुदवाना था न तुझे........... चुद अब अपने बेटे के लौडे से......... हाय हर रोज़ तुझे ऐसे ही रोज चोदूंगा.........हर रोज़ तेरी चूत ऐसे ही मारूँगा............." राहुल उत्तेजना में बडबडाता है. दस् धक्के लगे होंगे के अचानक राहुल ने महसूस किया के सलोनी वापस अपनी कमर उसके लौडे पर पाटक रही थी.

"चो द.......... हयीी.......चोद मुझे.............आईईईइ........... चोद.........यच... ..... चोद ले अपनी मम्मी को...........चोद ले मेरे लाल.............मार अपनी मम्मी की चूत........" सलोनी वापस लौडे पर अपनी चूत उछलती अपने बेटे को उकसाती है. वो अब भी दरद से चीख़ रही थी मगर उस ज़ोरदार चुदाई में दर्द के साथ साथ बहुत जबरदस्त मज़ा भी था. सलोनी राहुल की छाती पर हाथ रखकर ऊपर उठने लगती है और उसकी जांघो पर सीधी बैठ जाती है. अब सलोनी सीधी कमर ऊपर उठा उठा कर बेते का लौडा अपनी चूत में ले रही थी. पूरी फुर्ती से ऊपर उठती वो धम्म धम्म लंड को चूत में ले रही थी. राहुल भी बराबर निचे से अपनी कमर उछाल रहा था. 

"हयै........हाए......सा मज..........उफ्........सा मज़ा पहले कभी नहीं आया......... उफ़ कितना मोटा लम्बा लौडा है तेरा मेरे लाल.....उफ़्फ़ पेट् के अंदर तक्क घुस गेय महसूस हो रहा है.........." सलोनी राहुल के सिने पर हाथ रखे अपनी कमर ज़ोर ज़ोर से पटक रही थी. जब्ब वो अपनी गण्ड हवा में ऊँची उठा कर वापस निचे पटकती तोह उसके नितम्बो के राहुल की जांघो से तकरने की ज़ोरदार आवाज़ आती. राहुल अपनी मम्मी के मुम्मो पर नज़र गड़ाये निचे से कमर उछाल रहा था. सलोनी के मोठे मगर ठोस मम्मे उसकी हर उछाल पर ऊपर निचे उछाल कूद लगा रहे थे. उनका बड़ा आकार उनकी उछाल कूड़ को और भी मादक बना रहा था. सलोनी के सिने पर यूँ उछलते उसके मोठे मम्मे राहुल को जैसे सम्मोहित कर रहे थे. कुछ समय यूँ ही वो मुम्मो को ऊपर निचे उचलते देखता रहता है और फिर वो अपनी निगाह ऊपर उठता है, अपनी मम्मी के चेहरे पर. सलोनी का मुख उत्तेजना से लाल होकर चमक रहा था. पीठ पीछे उसके काले स्याह बाल लेहरा रहे थे. सलोनी के होंठ कम्कम्पा रहे थे. हर बार जब्ब लंड उसकी चूत में घुसता तोह वो सिसक पढ़ति. अधमुंदी पल्कें, वो लरजते होंठ, चेहरे पर ज़माने भर की मादकता, सलोनी जैसे कोई अप्सरा थी जिसने अपने बेते के मन को मोहित कर लिया था. वो सुन्दर थी, सेक्सी तोह हद्द से ज्यादा. और उसकी सुंदरता को चार चाँद लगाती थी उसकी नाक की बाली. उससे न सिर्फ उसकी चेहरे की सुंदरता निखर आती थी बल्कि वो इतनी सेक्सी लगती थी के देखे वाला अपनी नज़र नहीं हटा पाता था. ख़ास कर जब्ब वो चुदती थी और उसके चेहरे पर उत्तेज्न, मादकता को उसकी नाक की बालि इस कदर उभरती थी के देखने वाला उसे पाने की दया मांगने लगता. 
राहुल भी अपनी मम्मी के चेहरे और मुम्मो पर अपनी नज़रें ऊपर निचे करता खो गेय था. वो अपनी कमर उछालना कभी का भूल चुका था बल्कि वो तोह अपनी मम्मी के सौंदर्य का रसपान कर रहा था. सलोनी को उत्तेजना और चुदाई के आनंद में कुछ समय तक्क एहसास नहीं होता मगर अनंतता उसका धयान जाता है के राहुल निचे से अपनी कमर नहीं उछाल रहा है. वो चोदते हुए उसके चेहरे को देख रहा है तोह वो खुद भी रुक जाती है. राहुल ऑंखे उसके चेहरे पर टिकाये अपलक उसे घूरे जा रहा था.

"कय हुआ? ऐसे क्यों घूर रहे हो?" सलोनी आस्चर्यचकित थी. राहुल के चेहरे का भाव अजीब था. उसके होंठो पर हलकी सी मुस्कराहट थी मगर ऑंखे चकाचौध थी.

"कुछ नहीं बास देख रहा हुण........." राहुल मुस्कराते हुए अपने रंग में लौट आया.

"देख रहा हुन?????........मगर क्या?" 

"देख रहा हुन मेरी मम्मी कितनी सुन्दर है.......कितनि खूबसूरत है........कितनि सेक्सी है............सच में मम्मी तुम कितनी सुन्दर हो में बता नहीं सकता........." राहुल के चेहरे से पता चलता था के वो सच बोल रहा था.

सलोनी कुछ पलों तक्क अस्चर्य से राहुल को देखति है. उसे ताजुब्ब हो रहा था के वो अपने जवान बेटे को किस हद्द तक्क पसंद थी. सलोनी अचानक से शर्मा जाती है.

"बस बस्स.......जयादा मक्खन न लगा..........इतनी बातें करना किधर से सिख गया तु" सलोनी का चेहरा जेहन पहले उत्तेजना से लाल था अब उस पर शर्म की लाली छाती जा रही थी.

"मक्खन क्योँ.........तुमहे क्या लगता है में झूठ बोल रहा हूँ?" 

"हान........तुम बिलकुल झूठ बोल रहे हो ताकि में तुम्हे इसी तेरह हर रोज़ अपनी देती रहू"
Reply
01-13-2019, 11:49 PM,
#50
RE: Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली
"वो तोह मुझ वैसे भी मिल रही है............उसके लिए में झूठ क्यों बोलूँगा भला." राहुल सलोनी के हाथों को अपने हाथों में लेता है और उन्हें बड़े ही प्यार से चूमता है. "अब तुम्हे कैसे बातउ मम्मी तुम कितनी सुन्दर हो........यह तुम्हरी फूल सी कोमल त्वचा, तुम्हारे बदन से आती खुस्बू, तुम्हारे नाज़ुक होंठ, तुम्हारे गुलाबी गाल, ओर................" राहुल एक पल के लिए चुप हो जाता है.

"आगे आगे बोलो न........और क्या" सलोनी विस्मित थी अपने बेते के मुंह से यूँ अपनी तारीफ सुन कर वहीँ उसके मन में अजीब सी ख़ुशी थी और वो एक सुकून भी के उसका बीटा उसे सच में इतना पसंद करता है के वो अपने बेते के लिए इतनी कीमती है.

"तुमारी ऑंखे मम्मी........तुम्हरी ऑंखे कितनी सुन्दर हैं!............ और तुम्हारी नाक........कितनि सुन्दर है...और बालि डालकर तोह इतनी सुन्दर दीखती है के दिल करता है बास चूम लुण.........."

"और.......और बोलो न तुम्हे क्या अच्चा लगता है.........." सलोनी को उन लफ़्ज़ों में अदुभुत ख़ुशी के साथ साथ जबरदस्त उत्तेजना का एह्सास भी हो रहा था. 

"ऊऊफफ्फ मम्मी अब मं क्या क्या बोलूं.......कैसे बोलू........तुमहारा तोह हर अंग इतना खूबसूरत है के में बता नहीं सकता..........तुमारी पतली कमर...........तुम्हरी पीथ............तुम्हरी नाभि..........उउउउउउफ्फ्फ्फ़ यह मुलायम कोमल जांघ......... .तुम्हरी ग.......उउंम्म.....तुमहारे निताम्ब...........तुमहारे दुधू..........." राहुल सलोनी के हर अंग को छूता, सहलाता उसकी तारीफ कर रहा था. खस्स कर उसके नितम्बो और मुम्मो को उसने खूब सेहला सेहला कर उनकी तारीफ की. सलोनी को उन शब्दों के साथ बेते का नरम, कोमल स्पर्श अत्यंत रोमांचक लग रहा था. उसके बदन में सनसनाहट होने लगी थी. उसकी ऑंखे बंद होती जा रही थी. "मम्मी तुम नंगी होकर कितनी सुन्दर और मस्त दीखती हो.......और आप और भी कितनी सुन्दर और मसत दीखती अगर अपने........." राहुल अचानक से रुक जाता है.

"अगर क्या? अगर क्या........" सलोनी एकदम से ऑंखे खोल अधीरता से पूछती है.

"अगर अपने अपना मंगलसुत्र पहना होता............आपके दूध जैसे गोर दूधों के बिच वो मंगलसुत्र कितना सुन्दर दीखता है.......आप कितनी मसत लगती आगर आप इस समय वो मंगलसूत्र पहनकर मेरे ऊपर यूँ ही सवारी करति.......आपका मंगलसूत्र कैसे आपके दुधु के बिच लटकता, झुलता..........कितना मसत दीखता........हये कितना मज़ा आता......सच में मम्मी....,..." 

सलोनी राहुल को कुछ पल निहारती है, उसे यकीन नहीं हो रहा था के वो उसका अपना बेटा ही है.

"बदमाश.........बेशरम......लफ़ंगा कहीं का.........." सलोनी हँसति हुयी राहुल के नाक को पकड़ कर मरोड़ती है. राहुल भी हंस पढता है.

सही में मम्मी...........मंगलसूत्र पेहनो न प्लीज्..........एकदुम मस्त लगोगी जब्ब मेरा अपनी में लेकर ऊपर निचे कुदोगी और तुम्हारा मंगलसूत्र तुम्हारे दोनों दुधु के बिच नाचेगा" राहुल सलोनी से रिक्वेस्ट करता है. 

"नही बिलकुल भी नाहि..........तुमहे मालूम है के मंगलसूत्र सिर्फ पति के लिए पहना जाता है......बेटे के लिए नहि........उसका मतलब होता के औरत एक मर्द के लिए रिज़र्व हो गयी है और उस पर सिर्फ उसी मर्द का अधिकार होता है जो उसे मंगलसूत्र पहनाता है........जैसे मुझ पर सिर्फ तुम्हारे पीताजी का अधिकार है............समझे..." सलोनी मुस्कारते हुए अपनी कमर गोल गोल घुमति राहुल के सिने को रगड़ाती है.

"बहाने न बनाये मम्मी............जब में भी तुम्हारी लेता हुन न..............तुम खुद मुझे देती हो........जब तुम डैडी के अलावा मुझे भी दे सकती हो .....तोः फिर मेरे सामने मंगलसूत्र पहनने से क्या हो जायेगा?" 

"वूःहहहह राहुल तू भी न... पीछे ही पढ़ जाता है..........." सलोनी खीझने का नाटक करती है और फिर ऊपर उठती है. "पूक्क" की आवाज़ से भीगा लंड चूत से बाहर निकल आता है. सलोनी राहुल के ऊपर से उतरती है और बाथरूम की और भागति है. राहुल अपनी मम्मी की गण्ड को उछाले मारता देखता है तोह उसका लौडा एक ज़ोर का झटका मारता है. राहुल का धयान अपने लंड पर जाता है. सलोनी की चूत के रस्स से पूरी तेरह भीगा उसका लंड ट्यूबलाइट की रौशनी में चमक रहा था. सलोनी ज्यादा समय नहीं लागति, वो जिस रफर से कमरे से बाहर निकलि थी उसी रफ़्तार से वो वपास कमरे में दाखिल हुयी और स्कूल की किसी नट्खट लड़की की तेरह भगति हुयी बेड पर चढ़ गयी. इतना तेज़ भगने से उसके मम्मे कुछ ज्यादा ही उछाल रहे द. मगर इस बार वो अकेले नहीं उछाल रहे द. उनका साथ देणे के लिए कोई और भी था.

राहुल अपनी मम्मी के दूधिया मुम्मो के बिच उछलता मंगलसूत्र देख रहा था. सोने की चेन में पिरोये काले मनको वाला वो मंगलसूत्र सलोनी की दूधिया मुम्मो पर कितना जाँच रहा था कितना सुन्दर लग रहा था. सलोनी के हर कदम पर उसके मुम्मो को सहलाता कभी उसके निप्पलों को चूमता वो कितना आनंद ले रहा था.


सलोनी भाग कर सीधा बेड पर चढ़ जाती है और राहुल के ऊपर तांग घुमकर पहले वाली स्थिति में आ जाती है. वो हाथ निचे करके लंड पकडती है और अपनी चूत के निषाने पर लगाती है. वो एक बार राहुल को देखर मुसकरा पड़ती है जो लगातार उसके मुम्मो को और उनके बिच लटक रहे मंगलसुत्र को घूरे जा रहा था. वो इस तेरह से खुश था जैसे बच्छा नया खिलौना मिलने पर होता है. सलोनी लंड को अपनी चूत के मुहाने पर रगड़ती है और अपने होंठ भींच धम्म से निचे बैठ जाती है. राहुल का पूरा लौडा एक मिनट के भीतर दोबारा उसकी चूत में घुस चुका था.
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 66 63,654 Yesterday, 02:30 PM
Last Post: kw8890
Star Bahu ki Chudai बहुरानी की प्रेम कहानी sexstories 82 274,536 11-05-2019, 09:33 PM
Last Post: lovelylover
Star Indian Porn Kahani शरीफ़ या कमीना sexstories 49 31,084 11-04-2019, 02:55 PM
Last Post: Didi ka chodu
Star Hindi Adult Kahani कामाग्नि sexstories 85 148,713 11-02-2019, 06:41 PM
Last Post: lovelylover
  Sex Hindi Kahani बलात्कार sexstories 18 211,567 11-02-2019, 06:26 AM
Last Post: me2work4u
Lightbulb mastram kahani राधा का राज sexstories 33 94,351 10-30-2019, 06:10 PM
Last Post: lovelylover
Star Hawas ki Kahani हवस की रंगीन दुनियाँ sexstories 106 93,144 10-30-2019, 12:49 PM
Last Post: sexstories
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) sexstories 660 996,675 10-29-2019, 09:50 PM
Last Post: Didi ka chodu
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 146 390,546 10-27-2019, 07:21 PM
Last Post: Didi ka chodu
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 67 492,809 10-26-2019, 08:29 PM
Last Post: Didi ka chodu

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


ये गलत है sexbabasujatha aunty xxnxx imagerBur me musari dalanaananya pandey ki bur ki chudairumku aunty ki sex story kahaniपुचची त बुलला sex xxxपिरति चटा कि नगी फोटोMandira bedi fuck picture baba sexआईसा hot sax video MP4LAYA TELUGU SEX PHOTAपुचची झवली Ww XxDr cekup k bhane xxxxxxx video cheranjive fuck meenakshi fakes gifxxx bad mere. Mote GandBudda aur chulbuli jawani sex kahaniमेरी बॅकलेस सारी और बेटाJinsh fad kar jabarjasti secxxx porn viddoXxnx.badhaba.kalej.vidioबच्चे के लिय बाबा से चुदीईनडीयन सेकस रोते हुयेananya pande ki xxxphotosSexbaba नेहा मलिक.netසිංහල xxxxvieoSauth indian hiroin deeksha seth naggi codai photohindi incest talakshuda Maa storiesसोनाली बेंद्रे sexbaba netrani mukherjee nudesexbabaXossip.Nora fatehi sex storynagde sexi faltu pagal photomummy beta kankh ras madhoshibhabi ki madhovss chudaSexy kahani Sanskari dharmparayan auratnokar with randi malkin hindi sexbabadin mein teen baar chudwati hu mote mote chutadHindisexstory babasex com. Moti maa ki chudaiwww.com avneet kaur ki nangi cudai photos nude bollywoods pics part 2 imageChoti bachchi ki choot mein daalneka majatanya abrol sex babaगाजर xxx fuck cuud girlsladki.chodae16.xxx?Pooja sharma.xxx.Bd.पति को बोली नयी बुर का सील खोलोmerko tatti khilai or chodafilmi heroin ki chudaai kahani on sexbabaउनका लूणदा बहुत मोटा था चूत और गांड फट गयी कहानियांmalkin ne nokar ko pilaya peshabDeepshikha nagpal nude Photo sex Baba hdSexbaba to bebeladki ka chut ko kaise fade? sex xxx hdbacho ko fuslana antarvasnaबदन की भूख मिटाने बनी रंडीपोरन पुदी मे लेंड गीरने वालेदेसीभाभी के सुत मे विरयकोठे की रंडी नई पुरानी की पहिचानमुततो.xnxx.comfuddi chatan waliya pron pic असल चाळे मामी जवलेmeri hawas beteke lundseroad pe mila lund hilata admi chudaai kahanixxx yami gotam ki chut chudai ki photo sexbabaNude Nikki galwani sex baba picsbadi.astn.sex.sexnewsexstory com hindi sex stories E0 A4 AC E0 A4 B9 E0 A5 81 E0 A4 AC E0 A4 B9 E0 A5 81 E0 A4 A4 E0अपने ससुराल मे बहन ने सुहारात मनाई भाई सेफुल सुहागरात VOU X XXX Videotwo girls fucked photos sexbaba.netTelugu rasila Latha sex videosActres 121sex baba imagesxxx nikar gulabixxx bp 2019भाभीwifechudaiphotocollege girl gand cgodae rialgita Basra sex baba.comIndian actor Athiya shetty nangi photo chudaiवरिया muhme girana xxxnargis dese xxxindainxxx hathiyar dedh inch motaMarathi antervsanaauntyi ka bobas sex videoआश्रम मेंरश्मि की चुदाई राज शर्माxxx jorwa bahan boltikahani videowww sexbaba net Thread deepika padukone nude playing with pussySEXBABA.NET/BAAP AUR SHADISHUDA BETIKareixxxxदीदी चूड़ी फार्महाउसेस प् हिंदी सेक्स स्टोरीएक लड्की के साथ एक लडका नंगी विडियो