Adult kahani पाप पुण्य
01-15-2020, 06:50 PM, (This post was last modified: 01-23-2020, 02:52 PM by .)
RE: Adult kahani पाप पुण्य
]बस उस दिन और कुछ ख़ास नहीं हुआ. बस हम दोनों के बीच ज्यादा बात नहीं हुई और धीरे धीरे एक हफ्ता बीत गया. मैं रिशू के साथ एक दो बार साइबर कैफ़े भी हो आया और रिशू के साथ अब मैं खुल कर सेक्स के बारे में बात करने लगा. उसकी सेक्स की नॉलेज सिर्फ बुक और फिल्म तक ही नहीं थी बल्कि उसकी बातो से लगता था की उसने कई बार प्रक्टिकल भी किया था पर किसके साथ ये उसने मुझे नहीं बताया.

कुछ दिनों बाद पापा दीदी के लिए घर में ही कंप्यूटर ले आये थे और मैं अक्सर उसपर गेम खेलता रहता था. मेरे पेपर हो गए थे और हम रिजल्ट का वेट कर रहे थे. गर्मी की छुट्टिया शुरू हो गयी थी. उस दिन भी मैं गेम खेल रहा था. फ्राइडे का दिन था. दीदी मेरे पास आकर बोली चलो कंप्यूटर बंद करो और मेरे साथ बैंक चलो.

क्यों दीदी क्या हुआ.

अरे मुझे एक फॉर्म के साथ ड्राफ्ट भी लगाना है जल्दी से तैयार हो जा.

जब मैं तैयार हो कर नीचे पहुंचा तो दीदी ने भी ड्रेस चेंज करके एक ग्रीन कलर का कुरता और ब्लैक चूडीदार पहन लिया था और अपने रेशमी बालों की एक लम्बी पोनी बनी हुई थी.
जल्दी कर मोनू बैंक बंद होने वाला होगा. आज मेरे को ड्राफ्ट बनवाना ही है. कल फॉर्म भरने की लास्ट डेट है बोलते बोलते दीदी सैंडल पहनने के लिए झुकी तो उनके कुरते के अन्दर कैद वो गोरे गोरे उभार मुझे नज़र आ गए. मेरा दिल फिर से डोल गया और हम बैंक की तरफ चल पड़े.

मैंने मेह्सूस किया की लगभग हर उम्र का आदमी दीदी को हवस भरी नज़रो से घूर रहा था. पर दीदी उनपर ध्यान न देते हुए चलती जा रही थी. मुझे अपने ऊपर बड़ा फक्र हुआ की मैं इतनी खूबसूरत लड़की के साथ चल रहा था भले ही वो मेरी बहन ही.हम १५ मिनट में बैंक पहुँच गए पर उस दिन बैंक में बहुत भीड़ थी. ड्राफ्ट वाली लाइन एक दम कोने में थी और उसके आस पास कोई और लाइन नहीं थी. शुक्र था की वहां ज्यादा भीड़ नहीं थी.

मोनू तू यहाँ बैठ जा और ये पेपर पकड़ ले मैं लाइन में लगती हूँ दीदी बैग से कुछ पेपर निकलते हुए बोली.

मैं वही साइड पर रखी बेंच पर बैठ गया और दीदी कोने में जाकर लाइन में लग गयी. मैं बैठा देख रहा था की बैंक की ईमारत की हालत खस्ता थी. एक बड़ा हाल जिसमे हम लोग बैठे थे. और बाकि तीन तरफ कुछ कमरे बने थे. कुछ खुले थे कुछ में ताला लगा था. जिस जगह मैं बैठा था उसके पीछे के कमरे में तो सिर्फ टूटा फर्निचर ही भरा था.

खैर ये तो उस समय के हर सरकारी बैंक का हाल था. जहाँ दीदी खड़ी थी उस जगह तो tubelight भी नहीं जल रही थी, अँधेरा सा था. दीदी मेरी तरफ देख रहीं थी और मुझसे नज़र मिलने पर उन्होंने एक हलकी सी तिरछी स्माइल दी जैसे कह रही हो ये कहा फंस गए हम.

तभी दीदी के पीछे एक आदमी और लाइन में लग गया जिसकी उम्र करीब ३५ साल होगी. वो गुटका खा रहा था. उसने एक दम पुराने घिसे हुए से कपडे पहने थे. एक दम काले तवे जैसा उसका रंग था. गर्मी भी काफी हो रही थी.

कितनी भीड़ है बहेंनचोद... उसने गुटका थूकते हुए कहा.

तभी उसका फ़ोन बजा मैं तो अचम्भे में पड़ गया की ऐसे आदमी के पास मोबाइल फ़ोन कैसे आ गया. उस वक़्त मोबाइल रखना एक बहुत बड़ी बात थी वो भी हमारे छोटे से शहर में.
फ़ोन उठाते ही वो सामने वाले को गलिया देने लगा. बहन के लौड़े तेरी माँ चोद दूंगा वगेरह. दीदी भी ये सब सुन रही थी पर क्या कर सकती थी. उस आदमी को भी कोई शर्म नहीं थी की सामने लड़की है वो और भी गलिया दिए जा रहा था. मुझे गुस्सा आ रहा था पर तभी उसने फ़ोन काट दिया.

५ मिनट के बाद मैंने देखा तो मुझे लगा की जैसे वो आदमी दीदी से चिपक के खड़ा है. उसका और दीदी का कद बराबर था और उसने अपनी पेंट का उभरा हुआ हिस्सा ठीक दीदी के चूतरों पर लगा रखा था. मेरी तो दिल की धड़कन ही रुकने लगी. वो आदमी दीदी की शकल को घूर रहा था और दीदी के कुरते से उनकी पीठ कुछ ज्यादा ही नज़र आ रही थी. मुझे लगा वो अपनी सांसे दीदी की खुली पीठ पर छोड़ रहा था.

दीदी ने मेरी तरफ देखा तो मैं दूसरी तरफ देखने लगा जिससे दीदी को लगा मैंने कुछ नहीं देखा और दीदी थोडा आगे हुई तो मैंने देखा उस आदमी के पेंट में टेंट बना हुआ था उसने अपने हाथ से अपना लंड एडजस्ट किया, इधर उधर देखा और फिर से आगे बढकर दीदी से चिपक गया. अब उसकी पेंट का विशाल उभार उनके उभरे हुए चूतड़ो के बीच में कहीं खो गया. दीदी का चेहरा लाल हो गया था जिससे पता चल रहा था की दीदी के साथ जो वो आदमी कर रहा था उसको वो अच्छे से महसूस कर रही थी. एक बार को मेरा मन हुआ की जाकर उस आदमी को चांटा मार दूं पर पता नहीं क्यों मैं वही बैठा रहा और चुपचाप देखता रहा.

दीदी की तरफ से कोई विरोध न होते देख कर उस आदमी का हौसला बढ़ रहा था और वो दीदी से और ज्यादा चिपक गया और उनके बालों में अपनी नाक लगा कर सूंघने लगा. अब दीदी काफी परेशान सी दिख रही थी. दीदी की चोटी उस आदमी के बदन से रगड़ खा रही थी. मेरी बेहद खूबसूरत बहन के साथ उस गंदे आदमी को चिपके हुए देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा. तभी उस आदमी ने अपना निचला हिस्सा हिलाना शुरू कर दिया और उसका लंड पेंट के अन्दर से दीदी के उभरे हुए चूतरों पर रगड़ खाने लगा. ये हरकतें करते हुए वो आदमी दीदी के चेहरे के बदलते हुए हाव भाव देखने लगा.

उस जगह अँधेरा होने का वो आदमी अब पूरा फायदा उठा रहा था वैसे भी इतनी सुन्दर जवानी से भरपूर लड़की उसकी किस्मत में कहाँ थी. दीदी न जाने क्यों उसे रोक नहीं रही थी और बीच बीच में मुझे भी देख रही थी की कहीं मैं तो नहीं देख रहा हूँ. मैंने एक अख़बार उठा लिया था और उसको पढने के बहाने कनखियों से दीदी को देख रहा था. जब दीदी को लगा मैंने कुछ नहीं देखा तो वो थोड़ी रिलैक्स लगने लगी.

वो आदमी लगभग १० मिनट से दीदी के कपड़ो के ऊपर से ही खड़े खड़े अपना लंड अन्दर बहार कर रहा था. तभी मुझे लगा उस आदमी ने दीदी के कान में कुछ बोला जिसका दीदी ने कुछ जवाब नहीं दिया. फिर उस आदमी ने अपना दीवार की तरफ वाला हाथ उठा कर शायद दीदी की चूंची को साइड दबा दिया और दीदी की ऑंखें ५ सेकंड के लिए बंद हो गयी और उनके दान्त उनके रसीले होंठो को काटने लगे.

मुझे ठीक से समझ नहीं आया पर शायद वो आदमी हवस के नशे में दीदी की चूंची को ज्यादा ही जोर से दबा गया था.[/size]
[/quote]
मुझे भी मज़ा आ जाता है जब बस मे दीदी के पीछे कोई लंड सता देता है। कल मेरे घर एक बढई मिस्तरीआया था जो घर के बगल।मे ही रहता है दीदी को घुरता भी है मुझे तो लगा दीदी को चोदने ही आया है मैभी ध्यान दे रहा था कुछ देखने मील जाए पर दीदी लगता है समझ गयी सीर्फ चुची दबावाई रुम से बाहर नीकलने पर चेहरा लाल हो गया था दीदी का।
[/quote]
अब आज जो बढई मिस्तिरी ने दीदी के दरवाजे को ठीक कर दीदी की चुची दबाई थी वह दीदी को चोदने के चक्कर मे लगा थाउसका नाम डब्बु है उसने मुझे अपने दुकान बुलाया और पुछा दरवाजा सही काम कर रहा है तो मैने कहाँ नही तो उसने कहा चलो देख लू फिर मे सीधा दीदी के रूम के पास ले आया और दीदी को आवाज लगायि तो दीदी बाहर आयि और पुछा क्या है तो मैने कहा डब्बु जी दरवाजा चेक करने आए है तो दीदी ने कहा दरवाजा तो ठीक है इसपर डब्बु ने मेरी ओर देखा और बोला उस दिन गेट मे पेच जल्दी मे सही से कस नही पाया था और दीदी की चुचीयों को घुरने लगा दीदी भी शायद चुदना चाहती थी। और मुझे दीदी को चोदने मे शायद डब्बु मदद करे। डब्बु जो शायद समझ गया की मे दीदी कि सेटीगं मे उसकी मदद कर रहाँ हुं।मुझे खुसी से आंख मारते हुऐ कहा भाई जरा मेरे दुकान से औजार ले आओ तो मे तुम्हारी दीदी के दरवाजे सही कर देता हुं। उसकी दुअर्थी बाते सुन दीदी और मे दोनो खुस हो गये। मैने कहा कंहा रखा है तो उसने फिर आंख मारी और कहा दुकान मे मिल जायेगा। फिर मे जल्दी से घर से नीकला। अब डब्बु दीदी के सा थ अकेले था मे भी थोरी देर बाद घर मे गया और दीदी के रूम के पास जो छेद मैने कीया है जीससे मैने दीदी को मामा और उनके दोस्तो का लंड अपने बुर मे लेते देखता था। उंहा से देखने लगा अंदर दीदी सिर्फ पैंट उतार कर चुदा रही थी। सुबह सुबह दीदी की चुदाई देख मुड़ बन गया। मुठ मारने लगा जब माल झरा तब होस आया।फिर जल्दी से अपना माल पोछ के दीदी का गेट खटखटाया तो डब्बु अपना पैट ठीक करते बाहर नीकला और कहाँ आज तुमहारी दीदी की गेट टाईट कर दी है मैने तब दीदी पीछे से आयि  मैने देखा उनका पैट मे बुर के पास गीला हुआ है 
और बोली हां डब्बु जी ने बहुत मेहनत कीया दरवाजा बनाने मे। फिर डब्बु ने कहा रानु मेरे दुकान पर औजार नही मिला क्या आंख मारकर मैने कहा कोई लेक गये थे मैने वेट कीया फिर वे नही आये तो मे चला आया।पर आप तो दीदी के गेट को टाईट अच्छे से कर दीये बीना औजार के तो उसने कहा तुमहारी दीदी के पास बहुत टाईट औजार है अब तो मै तुमहारी दीदी से ही ले लुंगा।और दीदी की ओर देखक मुस्कराया ईसपर दीदी भी हसी और कहा रानु डब्बु जी बहुत अच्छे गेट टाईट कर दीये।मे अब डब्बु जी से ही काम करवाउंगी। इसपे डब्बु ने कहा मेरे दोस्त भी तुमहारी गेट के बारे मे बारे मे बोलते है कि इसका गेट बहुत टाइट होगा तुमने तो सुना होगा ही ( डब्बु और इसके दोस्त सब दीदी की गाड़ पर बहुत कामेंट करते है दीदी ने भी सुना है) इसप र दीदी ने आपने तो टाईट कीया है सबको बता दीजीये की गेट टाईट है।ईधर दीदी की बाते सुन कर मेरा लं ड टाईट हो रहा था। फि मैने कहा अब जब गेट ठीक हो गया है तो चला जाये इसपर डब्बू जी ने कहा पर गेट जादा टाईट रहेगा तो पेंच उखर सकता है तो दीदी ने कहाँ तो ढीला कर दीजीऐ(दोनो भी चुदाई करना चाह रहे थे) तब मैने कहाँ बारबार खुलेगा तो ढीला हो जायेगा। तो फिर डब्बु ने कहा ठीक है पर मेरे दोस्त सब मिलकर एकदीन मे गेट ढीला कर सकते है तो दीदी ने जो कहाँ चौका देने वाली बात थी।उसने कहा की हां मैने देखा है आपके दोस्तो को उन सब के साथ गेट ढीला करवादे सब साथ करे तो ठीक है मे दीदी की बाते सुन हैरान हो गया क्युकी दीदी तो सब सेअपना बुर चोदना चाह रही है और डब्बु के एक दोस्त राजु को मैने देखा है वह दीदी की चुची गाड़ को देख कर बहु गंदी बाते करता है खुद छह फीट का है और दीदी पर चढ़ेगा तो दीदी कुतिया की तरह कीकीया जाऐगी फीर भी दीदी कैसे यह कह रही है समझ मे नहीँ  रहा था।तभी डब्बु बोला कहो तो राजु को ढी करने बोलु मे तो दीदी ने कहा हां वो भी ठीक रहेगा।अब मेरा दीमाग खराब होनेलगा कंहाँ डब्बू से दीदी की सेटीं ग कराके डब्बू स दोस्ती करके मे दीदी को खाता या जैसे मामा अपने दोस्तो के सा थ दीदी को खाते है वैसा ही हमलोग भी करते।पर यंहा तो डब्बु जी अपने दोस्त के साथ दीदी को खाना चाह रहे है।
तभी मे डब्बू जी को आंख मारा और कहा अब चला जाये। तो डब्बु ने कहा हाँ अब चलते है और दीदी से मोबाईल नं मांगा मैने कहा मे देदेता हुं आप चलीऐ।वह कंहा हां चलो फिर हम जैसे ही उघर से बाहर नीकले डब्बु ने धीरे से कहा बहुत गर्म बुर था और मुझे पकङ कर थैकंस कहा मैने कहा ये कंयु तो उसने कहा भाई तुझे सब पता है आज की रात मेरे तरफ से पार्टी जीसमें बस मे और तू रंहेगे। बहु मज़ा आ भाई तेरी दीदी  की लेके बहुत गर्म है तेरी दीदीदी। मै झुठ का चौकते हुऐ क्या मैं समझा नही तब उसने कहा की जब मै तेरे घर गया तो गेट तो सही काम कर रहाँ था और तेरी दीदी ने भी वही कहाँ पर तु मेरे आंख मारने पर दुकान गया और लेट से आया जबकी दुकान बंद थी। तब मे समझ गया की तू अपनी दीदी को चोदवाना चाहता था पर अब ये बताओ की तेरी दीदी की ये चक्कर था या तेरा।
तब मैने हकलाते हुए कहा नही दीदी को कुछ पता नहीँ था ईसके बारे में वो मै ही दीदी को देखना चाहता था । उस दिन जब आप दरवाजा ठीक कर दीदी की चुची दबा रहे थे तो मैने देखलीया था। पर मेरे होने के वजह से आप कुछ कर ही नहीँ रहे थे। और जब आज आपने बुलाया तो मेरे घर मे कोई था भी नहीँ और मैने सोचा दीदी क्या करती है ये भी पता चल जायगा फीर मै सही नीकला दीदी ने आपसे भी चुदा लीया।
पर आप ये बात प्लीज कीसी को मत कहीयेगा प्लीज। डब्बू ने कहा हां यार मै कंयो कंहुगा पर तेरी दीदी तो बहुत गर्म है मेरे दोस्तो से खुद पेलवानाचाहती है और ये बात दीदी आपसे भी चुद गयी क्या मतलब तूने भी चोदा है अपनी दीदी को? मैने कहा कंहाऐसी मेरी किस्मत मै दीदी के बुर में अपना लंड डाल सकु। मै तो आपको ईसलीए लेक गया था की आप जब चोद लेंगे तब आप से दोस्ती बढा कर मे अपनी बात करता।
डब्बु ने हँस कर कहा ये कैसे होगा तु कैसे अपनी दीदी की बुर लेगा तुझे शर्म नही आती ऐसी बाते करते 
तब मैने कहाँ जब दीदी के साथ जब मे ईधर से गुजरता तब आप लोग जब दीदी की गांड चुची को देख कर दीदी को कहते थे ये तो पुरा लंड खा जायगी लगता है भाई के साथ सोती है भाई ही चोदता होगा बहुत गर्म जवानी है तब तो कुछ नहीँ दीदी कहती थी।अब आपसे दोस्ती कर लेता हुं और दीदी ने तो कहा भी है आपके दोस्तो के साथ गेट ढीला करवाने को कंयो सही कहा ना ।हाहाहा
चोद के कैसा लगा दीदी का बुर ये बताईऐ मजेदार था? मैने ही आपका काम बनाया।
डब्बु ने कहा मान गया भाई तुझे तू सच मे अपनी बहन को खा लेगा पर ये बता तेरी दीदी पहले किस से चुदा रही थी 
अब सब बात रात की पार्टी में।अब दीदी की चुची नाप लू बढा या नही। बाय 
घर मे घुसा तो दीदी दफा 302 नाम की किताब जीसमे उतेजक कहानी रहटी है वह पढ रही थी बीस्तर पर लेट कर।मुझे देख कर कहा था अबतक तब मैने कहाँ डब्बु जी के साथ था
दीदी ने कहा कोई काम था क्या तो मैने कहा नहीँ वह तुमहारी बहुत तारीफ कर रहे थे बोले की तुमहारीदीदी का दील बहुत बरा है बहुत अच्छे से औजार रखी हैएकदाम साफ चिकना है
मेरा मन खुस हो गया तुमहारी दीदी के गेट टाईट करके इतने अच्छे से मेरा औजार पकरे थी की क्या कहु। मेरे दोस्त सब भी तुमहारी दीदी का गेट ढीला करेंगे अब।
दीदी भी ख़ुश होते हुए कहने लगी हां भाई ठंड मे मेरे दरवाजे से बहु हवा आती थी आज डब्बु जी ने ज्यादा ही टाईट कर दीया है अब अपने दोस्तो को साथ मेरा गेट ढीला करदे बस।
[/quote]

जब रात हुआ तो मे घर से बाहर निकल कर डबु जी के पास पहुंच गया। मुझे देखते खुस होकर बोले आओ रानु क्या र्पोगाम है तो मैने कहा आप बोलीये तो उसने कहा चलो दारु पीते है तो मैने कहा ठीक है मंगा लीजिए  तो उसने आर एस का बोतल निकाला और कहा सब रेडडी है फिर हम पीने बैठ गये और बाते सुरु हो गयी।
डबु बताओ तुमहारी दीदी और कीससे पेलवाती है?
मैने कहा पहले आप ये बताई दीदी को कैसे सेट कीया।
तो उसने कहा तुमहारी दीदी बहुत गर्म माल है जब भी ईधर से गुजरती थी तो मे और मेरे दोस्त तुमहारी दीदी के पीछे बहुत टो छोरते रहते थे
मै कौन सा टोन ?
वही जो तुमने सुना था
मै अरे तो बोलिये न
हमलोग कहते रहते थे क्या गांर है लेने मे बहुत मजा आयेगा' हमलोग से चुदावा लो रात भर चोदगें बुर तो एकदम चीकना रखती होगी चाट के खा जायेंगे। एकबार चोदा लोगी तो बुर फैल जायेगा। राजु तो कहता था गोदी मे चढ़ा कर चोदंगे तो और सब नहीँ कुतीया के तरह चोदेंगे
तो मैने कहा दीदी सुनती थी पुरा बात
तो उसने डबु ने कहा नहीँ पहले हम लोग सीर्फ दुकान पर बोलते थे तो गुस्सा कर देखती थी फीरधीरे धीरे ईग्नोर करने लगी तो हमलोग पीछे जाकर कहने लगे तो वो मुड कर कभी गुस्सा कर देती फिर बाते सुन कर मुस्का देती तो हमने सोच लिया लौंडीया अब लंड ले लेगी तो पहले मे तुमहारी दीदी कि बुर लेना चाहता था। तो मे तुमहारी दीदी जब बाहर नीकले तो मै पीछा कर जब बस में चढती थी तो पीछे खरा होकर लड सटा कर खडा हो जाता और ज्योति को कान में कहता था गांड दोगी खूब चोदंगे। कुछ दीन के बाद वो भीअपनी गाड़ मेरे मे सटाए रखने लगी।फीर एकदीन जब मे अकेलादुकान पर था तो वो दुकान पर आई और कहने लगी भईया मेरे रूम का गेट काम सही से नहीँ कर रहा आप ठीक कर देगे क्या। तो मैने तुमहारी दीदी को दुकान के अंदर बुला कर कहाँ मेरा फीस(लंड) टाईट है तुम दोगी। तो उसने कहा टाईट तो हर समय रहता है अब देख ले कीता टाईट है तो मैने ज्योटी के गांड को हल्के से छू कर कहा गेट टाईट तो बहुत है मै ठीक कर दुंगा। और उससे कल का समय ले लीया। पर गेट बनाने के टाइम तुम आ गये और मे उसे चोद नहीँ पाया।
पर जब तुम सुबह आकर बोले गेट ठीक करना है और घर में आने के बाद तुमहारी दीदी की चुचीआ और कैप्री मे गांड देख कर लंड तो खरा हो ही गया था और तुमहारे बातो से लगा शायद की काम हो सकता है बस क्या था तुमहारे जाते ही रूम बं द कर दीदी की बुर में हाथ रख पैं ट नीचे करके अपना पेंट खोल कर बुर में लंड डाल के चोदने लगा। गजब तुमहारी दीदी का बुर है।
मैने पुछा मजा आया?
डबू अरे भाई जीसको चोदने के लीए मेरे दोस्त मरे रहते है मोहल्ले के सारे लोग कुत्ते के तरह लारटपकाते रहते है। उसके बुर में लंड डाल के मज़ा नहीं आयेगा। ऐसे क्या खाती है तुमहारी दीदी इतनी गोरी चीकनी है ।
मै- अब खाने से कोई गोरा चीकना थोड़ी होता है नैचुरली है।
डबु- तो गांड चुची इतना कैसे नीकला है तुमने कहा था आप भी चोद लीये और कौन चोदता है तुमहारीदीदी को? बताओ दोस्त 
तब ना मे तुमहारी मदद करुंगा?
मै- अरे वो कौन बरा बात है जब आप से मे दीदीको चोदबा सकता हुं तो वो भी मे आपको बता दुंगा पर ये आप बताइए औरआप का कौन दोस्त दीदी को चोदना चाहता है?
डबु अरे भाई कौन दोस्त नहीं चोदना चाहता है तुमहारी दीदी को।राजु तो तुमहारी दीदी की गांड का दिवाना है कहता है साली एकबार दे दे कुतीया के तरह लंड गां मे डालेगा।लंगते कर बुर फारेगा
मै- बाप रे वो दीदी को चोदेगा तो सही मे गांड फट जायेगा दीदी का पुरा सांड जैसा है लंड भी मोटा होगा 
डबु तू भी तो अपनी दीदी की लेना चाहता है 
मै- मे अकेले नहीं दीदी को र्गुप मे चोदना चाहता हुं।सब दोस्त रहे कोई गाड़ चोदे कोई बुर में लंड डाले कोई मुह में लंड डाले भर दीन हमलोग दीदी की ले।लंगे कर के रखे पुरा पेले 
डबु अच्छा अब दीदी का नंबर दे
मे 9******** लीजिए 
डबु अब बताओ तेरी दीदी को और कौन चोदता है तुझे कैसे पता है ? नंबर सेव करतेहुऐ पुछा
Reply
01-23-2020, 03:28 PM, (This post was last modified: 01-23-2020, 03:36 PM by .)
RE: Adult kahani पाप पुण्य
(01-15-2020, 06:50 PM)Ranu Wrote: ]बस उस दिन और कुछ ख़ास नहीं हुआ. बस हम दोनों के बीच ज्यादा बात नहीं हुई और धीरे धीरे एक हफ्ता बीत गया. मैं रिशू के साथ एक दो बार साइबर कैफ़े भी हो आया और रिशू के साथ अब मैं खुल कर सेक्स के बारे में बात करने लगा. उसकी सेक्स की नॉलेज सिर्फ बुक और फिल्म तक ही नहीं थी बल्कि उसकी बातो से लगता था की उसने कई बार प्रक्टिकल भी किया था पर किसके साथ ये उसने मुझे नहीं बताया.

कुछ दिनों बाद पापा दीदी के लिए घर में ही कंप्यूटर ले आये थे और मैं अक्सर उसपर गेम खेलता रहता था. मेरे पेपर हो गए थे और हम रिजल्ट का वेट कर रहे थे. गर्मी की छुट्टिया शुरू हो गयी थी. उस दिन भी मैं गेम खेल रहा था. फ्राइडे का दिन था. दीदी मेरे पास आकर बोली चलो कंप्यूटर बंद करो और मेरे साथ बैंक चलो.

क्यों दीदी क्या हुआ.

अरे मुझे एक फॉर्म के साथ ड्राफ्ट भी लगाना है जल्दी से तैयार हो जा.

जब मैं तैयार हो कर नीचे पहुंचा तो दीदी ने भी ड्रेस चेंज करके एक ग्रीन कलर का कुरता और ब्लैक चूडीदार पहन लिया था और अपने रेशमी बालों की एक लम्बी पोनी बनी हुई थी.
जल्दी कर मोनू बैंक बंद होने वाला होगा. आज मेरे को ड्राफ्ट बनवाना ही है. कल फॉर्म भरने की लास्ट डेट है बोलते बोलते दीदी सैंडल पहनने के लिए झुकी तो उनके कुरते के अन्दर कैद वो गोरे गोरे उभार मुझे नज़र आ गए. मेरा दिल फिर से डोल गया और हम बैंक की तरफ चल पड़े.

मैंने मेह्सूस किया की लगभग हर उम्र का आदमी दीदी को हवस भरी नज़रो से घूर रहा था. पर दीदी उनपर ध्यान न देते हुए चलती जा रही थी. मुझे अपने ऊपर बड़ा फक्र हुआ की मैं इतनी खूबसूरत लड़की के साथ चल रहा था भले ही वो मेरी बहन ही.हम १५ मिनट में बैंक पहुँच गए पर उस दिन बैंक में बहुत भीड़ थी. ड्राफ्ट वाली लाइन एक दम कोने में थी और उसके आस पास कोई और लाइन नहीं थी. शुक्र था की वहां ज्यादा भीड़ नहीं थी.

मोनू तू यहाँ बैठ जा और ये पेपर पकड़ ले मैं लाइन में लगती हूँ दीदी बैग से कुछ पेपर निकलते हुए बोली.

मैं वही साइड पर रखी बेंच पर बैठ गया और दीदी कोने में जाकर लाइन में लग गयी. मैं बैठा देख रहा था की बैंक की ईमारत की हालत खस्ता थी. एक बड़ा हाल जिसमे हम लोग बैठे थे. और बाकि तीन तरफ कुछ कमरे बने थे. कुछ खुले थे कुछ में ताला लगा था. जिस जगह मैं बैठा था उसके पीछे के कमरे में तो सिर्फ टूटा फर्निचर ही भरा था.

खैर ये तो उस समय के हर सरकारी बैंक का हाल था. जहाँ दीदी खड़ी थी उस जगह तो tubelight भी नहीं जल रही थी, अँधेरा सा था. दीदी मेरी तरफ देख रहीं थी और मुझसे नज़र मिलने पर उन्होंने एक हलकी सी तिरछी स्माइल दी जैसे कह रही हो ये कहा फंस गए हम.

तभी दीदी के पीछे एक आदमी और लाइन में लग गया जिसकी उम्र करीब ३५ साल होगी. वो गुटका खा रहा था. उसने एक दम पुराने घिसे हुए से कपडे पहने थे. एक दम काले तवे जैसा उसका रंग था. गर्मी भी काफी हो रही थी.

कितनी भीड़ है बहेंनचोद... उसने गुटका थूकते हुए कहा.

तभी उसका फ़ोन बजा मैं तो अचम्भे में पड़ गया की ऐसे आदमी के पास मोबाइल फ़ोन कैसे आ गया. उस वक़्त मोबाइल रखना एक बहुत बड़ी बात थी वो भी हमारे छोटे से शहर में.
फ़ोन उठाते ही वो सामने वाले को गलिया देने लगा. बहन के लौड़े तेरी माँ चोद दूंगा वगेरह. दीदी भी ये सब सुन रही थी पर क्या कर सकती थी. उस आदमी को भी कोई शर्म नहीं थी की सामने लड़की है वो और भी गलिया दिए जा रहा था. मुझे गुस्सा आ रहा था पर तभी उसने फ़ोन काट दिया.

५ मिनट के बाद मैंने देखा तो मुझे लगा की जैसे वो आदमी दीदी से चिपक के खड़ा है. उसका और दीदी का कद बराबर था और उसने अपनी पेंट का उभरा हुआ हिस्सा ठीक दीदी के चूतरों पर लगा रखा था. मेरी तो दिल की धड़कन ही रुकने लगी. वो आदमी दीदी की शकल को घूर रहा था और दीदी के कुरते से उनकी पीठ कुछ ज्यादा ही नज़र आ रही थी. मुझे लगा वो अपनी सांसे दीदी की खुली पीठ पर छोड़ रहा था.

दीदी ने मेरी तरफ देखा तो मैं दूसरी तरफ देखने लगा जिससे दीदी को लगा मैंने कुछ नहीं देखा और दीदी थोडा आगे हुई तो मैंने देखा उस आदमी के पेंट में टेंट बना हुआ था उसने अपने हाथ से अपना लंड एडजस्ट किया, इधर उधर देखा और फिर से आगे बढकर दीदी से चिपक गया. अब उसकी पेंट का विशाल उभार उनके उभरे हुए चूतड़ो के बीच में कहीं खो गया. दीदी का चेहरा लाल हो गया था जिससे पता चल रहा था की दीदी के साथ जो वो आदमी कर रहा था उसको वो अच्छे से महसूस कर रही थी. एक बार को मेरा मन हुआ की जाकर उस आदमी को चांटा मार दूं पर पता नहीं क्यों मैं वही बैठा रहा और चुपचाप देखता रहा.

दीदी की तरफ से कोई विरोध न होते देख कर उस आदमी का हौसला बढ़ रहा था और वो दीदी से और ज्यादा चिपक गया और उनके बालों में अपनी नाक लगा कर सूंघने लगा. अब दीदी काफी परेशान सी दिख रही थी. दीदी की चोटी उस आदमी के बदन से रगड़ खा रही थी. मेरी बेहद खूबसूरत बहन के साथ उस गंदे आदमी को चिपके हुए देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा. तभी उस आदमी ने अपना निचला हिस्सा हिलाना शुरू कर दिया और उसका लंड पेंट के अन्दर से दीदी के उभरे हुए चूतरों पर रगड़ खाने लगा. ये हरकतें करते हुए वो आदमी दीदी के चेहरे के बदलते हुए हाव भाव देखने लगा.

उस जगह अँधेरा होने का वो आदमी अब पूरा फायदा उठा रहा था वैसे भी इतनी सुन्दर जवानी से भरपूर लड़की उसकी किस्मत में कहाँ थी. दीदी न जाने क्यों उसे रोक नहीं रही थी और बीच बीच में मुझे भी देख रही थी की कहीं मैं तो नहीं देख रहा हूँ. मैंने एक अख़बार उठा लिया था और उसको पढने के बहाने कनखियों से दीदी को देख रहा था. जब दीदी को लगा मैंने कुछ नहीं देखा तो वो थोड़ी रिलैक्स लगने लगी.

वो आदमी लगभग १० मिनट से दीदी के कपड़ो के ऊपर से ही खड़े खड़े अपना लंड अन्दर बहार कर रहा था. तभी मुझे लगा उस आदमी ने दीदी के कान में कुछ बोला जिसका दीदी ने कुछ जवाब नहीं दिया. फिर उस आदमी ने अपना दीवार की तरफ वाला हाथ उठा कर शायद दीदी की चूंची को साइड दबा दिया और दीदी की ऑंखें ५ सेकंड के लिए बंद हो गयी और उनके दान्त उनके रसीले होंठो को काटने लगे.

मुझे ठीक से समझ नहीं आया पर शायद वो आदमी हवस के नशे में दीदी की चूंची को ज्यादा ही जोर से दबा गया था.[/size]
मुझे भी मज़ा आ जाता है जब बस मे दीदी के पीछे कोई लंड सता देता है। कल मेरे घर एक बढई मिस्तरीआया था जो घर के बगल।मे ही रहता है दीदी को घुरता भी है मुझे तो लगा दीदी को चोदने ही आया है मैभी ध्यान दे रहा था कुछ देखने मील जाए पर दीदी लगता है समझ गयी सीर्फ चुची दबावाई रुम से बाहर नीकलने पर चेहरा लाल हो गया था दीदी का।
[/quote]
अब आज जो बढई मिस्तिरी ने दीदी के दरवाजे को ठीक कर दीदी की चुची दबाई थी वह दीदी को चोदने के चक्कर मे लगा थाउसका नाम डब्बु है उसने मुझे अपने दुकान बुलाया और पुछा दरवाजा सही काम कर रहा है तो मैने कहाँ नही तो उसने कहा चलो देख लू फिर मे सीधा दीदी के रूम के पास ले आया और दीदी को आवाज लगायि तो दीदी बाहर आयि और पुछा क्या है तो मैने कहा डब्बु जी दरवाजा चेक करने आए है तो दीदी ने कहा दरवाजा तो ठीक है इसपर डब्बु ने मेरी ओर देखा और बोला उस दिन गेट मे पेच जल्दी मे सही से कस नही पाया था और दीदी की चुचीयों को घुरने लगा दीदी भी शायद चुदना चाहती थी। और मुझे दीदी को चोदने मे शायद डब्बु मदद करे। डब्बु जो शायद समझ गया की मे दीदी कि सेटीगं मे उसकी मदद कर रहाँ हुं।मुझे खुसी से आंख मारते हुऐ कहा भाई जरा मेरे दुकान से औजार ले आओ तो मे तुम्हारी दीदी के दरवाजे सही कर देता हुं। उसकी दुअर्थी बाते सुन दीदी और मे दोनो खुस हो गये। मैने कहा कंहा रखा है तो उसने फिर आंख मारी और कहा दुकान मे मिल जायेगा। फिर मे जल्दी से घर से नीकला। अब डब्बु दीदी के सा थ अकेले था मे भी थोरी देर बाद घर मे गया और दीदी के रूम के पास जो छेद मैने कीया है जीससे मैने दीदी को मामा और उनके दोस्तो का लंड अपने बुर मे लेते देखता था। उंहा से देखने लगा अंदर दीदी सिर्फ पैंट उतार कर चुदा रही थी। सुबह सुबह दीदी की चुदाई देख मुड़ बन गया। मुठ मारने लगा जब माल झरा तब होस आया।फिर जल्दी से अपना माल पोछ के दीदी का गेट खटखटाया तो डब्बु अपना पैट ठीक करते बाहर नीकला और कहाँ आज तुमहारी दीदी की गेट टाईट कर दी है मैने तब दीदी पीछे से आयि  मैने देखा उनका पैट मे बुर के पास गीला हुआ है 
और बोली हां डब्बु जी ने बहुत मेहनत कीया दरवाजा बनाने मे। फिर डब्बु ने कहा रानु मेरे दुकान पर औजार नही मिला क्या आंख मारकर मैने कहा कोई लेक गये थे मैने वेट कीया फिर वे नही आये तो मे चला आया।पर आप तो दीदी के गेट को टाईट अच्छे से कर दीये बीना औजार के तो उसने कहा तुमहारी दीदी के पास बहुत टाईट औजार है अब तो मै तुमहारी दीदी से ही ले लुंगा।और दीदी की ओर देखक मुस्कराया ईसपर दीदी भी हसी और कहा रानु डब्बु जी बहुत अच्छे गेट टाईट कर दीये।मे अब डब्बु जी से ही काम करवाउंगी। इसपे डब्बु ने कहा मेरे दोस्त भी तुमहारी गेट के बारे मे बारे मे बोलते है कि इसका गेट बहुत टाइट होगा तुमने तो सुना होगा ही ( डब्बु और इसके दोस्त सब दीदी की गाड़ पर बहुत कामेंट करते है दीदी ने भी सुना है) इसप र दीदी ने आपने तो टाईट कीया है सबको बता दीजीये की गेट टाईट है।ईधर दीदी की बाते सुन कर मेरा लं ड टाईट हो रहा था। फि मैने कहा अब जब गेट ठीक हो गया है तो चला जाये इसपर डब्बू जी ने कहा पर गेट जादा टाईट रहेगा तो पेंच उखर सकता है तो दीदी ने कहाँ तो ढीला कर दीजीऐ(दोनो भी चुदाई करना चाह रहे थे) तब मैने कहाँ बारबार खुलेगा तो ढीला हो जायेगा। तो फिर डब्बु ने कहा ठीक है पर मेरे दोस्त सब मिलकर एकदीन मे गेट ढीला कर सकते है तो दीदी ने जो कहाँ चौका देने वाली बात थी।उसने कहा की हां मैने देखा है आपके दोस्तो को उन सब के साथ गेट ढीला करवादे सब साथ करे तो ठीक है मे दीदी की बाते सुन हैरान हो गया क्युकी दीदी तो सब सेअपना बुर चोदना चाह रही है और डब्बु के एक दोस्त राजु को मैने देखा है वह दीदी की चुची गाड़ को देख कर बहु गंदी बाते करता है खुद छह फीट का है और दीदी पर चढ़ेगा तो दीदी कुतिया की तरह कीकीया जाऐगी फीर भी दीदी कैसे यह कह रही है समझ मे नहीँ  रहा था।तभी डब्बु बोला कहो तो राजु को ढी करने बोलु मे तो दीदी ने कहा हां वो भी ठीक रहेगा।अब मेरा दीमाग खराब होनेलगा कंहाँ डब्बू से दीदी की सेटीं ग कराके डब्बू स दोस्ती करके मे दीदी को खाता या जैसे मामा अपने दोस्तो के सा थ दीदी को खाते है वैसा ही हमलोग भी करते।पर यंहा तो डब्बु जी अपने दोस्त के साथ दीदी को खाना चाह रहे है।
तभी मे डब्बू जी को आंख मारा और कहा अब चला जाये। तो डब्बु ने कहा हाँ अब चलते है और दीदी से मोबाईल नं मांगा मैने कहा मे देदेता हुं आप चलीऐ।वह कंहा हां चलो फिर हम जैसे ही उघर से बाहर नीकले डब्बु ने धीरे से कहा बहुत गर्म बुर था और मुझे पकङ कर थैकंस कहा मैने कहा ये कंयु तो उसने कहा भाई तुझे सब पता है आज की रात मेरे तरफ से पार्टी जीसमें बस मे और तू रंहेगे। बहु मज़ा आ भाई तेरी दीदी  की लेके बहुत गर्म है तेरी दीदीदी। मै झुठ का चौकते हुऐ क्या मैं समझा नही तब उसने कहा की जब मै तेरे घर गया तो गेट तो सही काम कर रहाँ था और तेरी दीदी ने भी वही कहाँ पर तु मेरे आंख मारने पर दुकान गया और लेट से आया जबकी दुकान बंद थी। तब मे समझ गया की तू अपनी दीदी को चोदवाना चाहता था पर अब ये बताओ की तेरी दीदी की ये चक्कर था या तेरा।
तब मैने हकलाते हुए कहा नही दीदी को कुछ पता नहीँ था ईसके बारे में वो मै ही दीदी को देखना चाहता था । उस दिन जब आप दरवाजा ठीक कर दीदी की चुची दबा रहे थे तो मैने देखलीया था। पर मेरे होने के वजह से आप कुछ कर ही नहीँ रहे थे। और जब आज आपने बुलाया तो मेरे घर मे कोई था भी नहीँ और मैने सोचा दीदी क्या करती है ये भी पता चल जायगा फीर मै सही नीकला दीदी ने आपसे भी चुदा लीया।
पर आप ये बात प्लीज कीसी को मत कहीयेगा प्लीज। डब्बू ने कहा हां यार मै कंयो कंहुगा पर तेरी दीदी तो बहुत गर्म है मेरे दोस्तो से खुद पेलवानाचाहती है और ये बात दीदी आपसे भी चुद गयी क्या मतलब तूने भी चोदा है अपनी दीदी को? मैने कहा कंहाऐसी मेरी किस्मत मै दीदी के बुर में अपना लंड डाल सकु। मै तो आपको ईसलीए लेक गया था की आप जब चोद लेंगे तब आप से दोस्ती बढा कर मे अपनी बात करता।
डब्बु ने हँस कर कहा ये कैसे होगा तु कैसे अपनी दीदी की बुर लेगा तुझे शर्म नही आती ऐसी बाते करते 
तब मैने कहाँ जब दीदी के साथ जब मे ईधर से गुजरता तब आप लोग जब दीदी की गांड चुची को देख कर दीदी को कहते थे ये तो पुरा लंड खा जायगी लगता है भाई के साथ सोती है भाई ही चोदता होगा बहुत गर्म जवानी है तब तो कुछ नहीँ दीदी कहती थी।अब आपसे दोस्ती कर लेता हुं और दीदी ने तो कहा भी है आपके दोस्तो के साथ गेट ढीला करवाने को कंयो सही कहा ना ।हाहाहा
चोद के कैसा लगा दीदी का बुर ये बताईऐ मजेदार था? मैने ही आपका काम बनाया।
डब्बु ने कहा मान गया भाई तुझे तू सच मे अपनी बहन को खा लेगा पर ये बता तेरी दीदी पहले किस से चुदा रही थी 
अब सब बात रात की पार्टी में।अब दीदी की चुची नाप लू बढा या नही। बाय 
घर मे घुसा तो दीदी दफा 302 नाम की किताब जीसमे उतेजक कहानी रहटी है वह पढ रही थी बीस्तर पर लेट कर।मुझे देख कर कहा था अबतक तब मैने कहाँ डब्बु जी के साथ था
दीदी ने कहा कोई काम था क्या तो मैने कहा नहीँ वह तुमहारी बहुत तारीफ कर रहे थे बोले की तुमहारीदीदी का दील बहुत बरा है बहुत अच्छे से औजार रखी हैएकदाम साफ चिकना है
मेरा मन खुस हो गया तुमहारी दीदी के गेट टाईट करके इतने अच्छे से मेरा औजार पकरे थी की क्या कहु। मेरे दोस्त सब भी तुमहारी दीदी का गेट ढीला करेंगे अब।
दीदी भी ख़ुश होते हुए कहने लगी हां भाई ठंड मे मेरे दरवाजे से बहु हवा आती थी आज डब्बु जी ने ज्यादा ही टाईट कर दीया है अब अपने दोस्तो को साथ मेरा गेट ढीला करदे बस।
[/quote]

जब रात हुआ तो मे घर से बाहर निकल कर डबु जी के पास पहुंच गया। मुझे देखते खुस होकर बोले आओ रानु क्या र्पोगाम है तो मैने कहा आप बोलीये तो उसने कहा चलो दारु पीते है तो मैने कहा ठीक है मंगा लीजिए  तो उसने आर एस का बोतल निकाला और कहा सब रेडडी है फिर हम पीने बैठ गये और बाते सुरु हो गयी।
डबु बताओ तुमहारी दीदी और कीससे पेलवाती है?
मैने कहा पहले आप ये बताई दीदी को कैसे सेट कीया।
तो उसने कहा तुमहारी दीदी बहुत गर्म माल है जब भी ईधर से गुजरती थी तो मे और मेरे दोस्त तुमहारी दीदी के पीछे बहुत टो छोरते रहते थे
मै कौन सा टोन ?
वही जो तुमने सुना था
मै अरे तो बोलिये न
हमलोग कहते रहते थे क्या गांर है लेने मे बहुत मजा आयेगा' हमलोग से चुदावा लो रात भर चोदगें बुर तो एकदम चीकना रखती होगी चाट के खा जायेंगे। एकबार चोदा लोगी तो बुर फैल जायेगा। राजु तो कहता था गोदी मे चढ़ा कर चोदंगे तो और सब नहीँ कुतीया के तरह चोदेंगे
तो मैने कहा दीदी सुनती थी पुरा बात
तो उसने डबु ने कहा नहीँ पहले हम लोग सीर्फ दुकान पर बोलते थे तो गुस्सा कर देखती थी फीरधीरे धीरे ईग्नोर करने लगी तो हमलोग पीछे जाकर कहने लगे तो वो मुड कर कभी गुस्सा कर देती फिर बाते सुन कर मुस्का देती तो हमने सोच लिया लौंडीया अब लंड ले लेगी तो पहले मे तुमहारी दीदी कि बुर लेना चाहता था। तो मे तुमहारी दीदी जब बाहर नीकले तो मै पीछा कर जब बस में चढती थी तो पीछे खरा होकर लड सटा कर खडा हो जाता और ज्योति को कान में कहता था गांड दोगी खूब चोदंगे। कुछ दीन के बाद वो भीअपनी गाड़ मेरे मे सटाए रखने लगी।फीर एकदीन जब मे अकेलादुकान पर था तो वो दुकान पर आई और कहने लगी भईया मेरे रूम का गेट काम सही से नहीँ कर रहा आप ठीक कर देगे क्या। तो मैने तुमहारी दीदी को दुकान के अंदर बुला कर कहाँ मेरा फीस(लंड) टाईट है तुम दोगी। तो उसने कहा टाईट तो हर समय रहता है अब देख ले कीता टाईट है तो मैने ज्योटी के गांड को हल्के से छू कर कहा गेट टाईट तो बहुत है मै ठीक कर दुंगा। और उससे कल का समय ले लीया। पर गेट बनाने के टाइम तुम आ गये और मे उसे चोद नहीँ पाया।
पर जब तुम सुबह आकर बोले गेट ठीक करना है और घर में आने के बाद तुमहारी दीदी की चुचीआ और कैप्री मे गांड देख कर लंड तो खरा हो ही गया था और तुमहारे बातो से लगा शायद की काम हो सकता है बस क्या था तुमहारे जाते ही रूम बं द कर दीदी की बुर में हाथ रख पैं ट नीचे करके अपना पेंट खोल कर बुर में लंड डाल के चोदने लगा। गजब तुमहारी दीदी का बुर है।
मैने पुछा मजा आया?
डबू अरे भाई जीसको चोदने के लीए मेरे दोस्त मरे रहते है मोहल्ले के सारे लोग कुत्ते के तरह लारटपकाते रहते है। उसके बुर में लंड डाल के मज़ा नहीं आयेगा। ऐसे क्या खाती है तुमहारी दीदी इतनी गोरी चीकनी है ।
मै- अब खाने से कोई गोरा चीकना थोड़ी होता है नैचुरली है।
डबु- तो गांड चुची इतना कैसे नीकला है तुमने कहा था आप भी चोद लीये और कौन चोदता है तुमहारीदीदी को? बताओ दोस्त 
तब ना मे तुमहारी मदद करुंगा?
मै- अरे वो कौन बरा बात है जब आप से मे दीदीको चोदबा सकता हुं तो वो भी मे आपको बता दुंगा पर ये आप बताइए औरआप का कौन दोस्त दीदी को चोदना चाहता है?
डबु अरे भाई कौन दोस्त नहीं चोदना चाहता है तुमहारी दीदी को।राजु तो तुमहारी दीदी की गांड का दिवाना है कहता है साली एकबार दे दे कुतीया के तरह लंड गां मे डालेगा।लंगते कर बुर फारेगा
मै- बाप रे वो दीदी को चोदेगा तो सही मे गांड फट जायेगा दीदी का पुरा सांड जैसा है लंड भी मोटा होगा 
डबु तू भी तो अपनी दीदी की लेना चाहता है 
मै- मे अकेले नहीं दीदी को र्गुप मे चोदना चाहता हुं।सब दोस्त रहे कोई गाड़ चोदे कोई बुर में लंड डाले कोई मुह में लंड डाले भर दीन हमलोग दीदी की ले।लंगे कर के रखे पुरा पेले 
डबु अच्छा अब दीदी का नंबर दे
मे 9******** लीजिए 
डबु अब बताओ तेरी दीदी को और कौन चोदता है तुझे कैसे पता है ? नंबर सेव करतेहुऐ पुछा
[/quote]

मैं ये बात किसी को बताईएगा मत प्लीज। मामा चोदतेहै और वो भी अपने दोस्तों को साथ मैने खुद देखा है और आप को भी चोदते देखा है दीदी को । खिडकी के पास मैने छेद कर के रखा है जब भी मामाँ घर आते है तब दीदी रूम बंद कर घंटो चुदाती है फीर उनके दोस्तों के साथ आने लगे रुम बंद कर के दीदी के ऊपर सब घंटों चडे रहते थे कोई टांग फैला कर चोदता था कोई दीदी से लंड चुसवाता था । घंटों मिलकर सब दीदी को खाते थे। जब दीदी रूम से बाहर नीकलती थी तो लगता था कि चल नही पायेगी पर खुस बहुत दिखती थी । साल भभर मे 28 की चुची 34 हो गयी
गांड किस तरह निकल गया आपने नहीं देखा। 
डबु हां यार तेरी दीदी ककी बुर तो एकदम पावरोटी की तरह फुली हुई ह
Reply
01-25-2020, 10:31 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
चुची तो ऐसा लगता है कि मसलते रहे


Attached Files Thumbnail(s)
   
Reply
01-25-2020, 11:02 PM, (This post was last modified: 01-25-2020, 11:16 PM by .)
RE: Adult kahani पाप पुण्य
तेरी दीदी को मेरे भी दोस्त सब खाना चाहते है। मामा और उसके दोस्तों से चुदा के तो गजब लगने लगी मुझे तो पता ही नही था की वो मामा से ही चुदाती है अच्छा अब हमारे दोस्तो के साथ इसकी खाता हुं फीर दीदी के नंबर पर वाटसएप्प पर हाय लिख कर भेजा।
दीदी- हाय कौन?
डबु- तुमहारा दीवाना
दीदी- ऐ तमीज से बात करो। कौन बोल रहे हो?
डबु- अरे जान डबु हुं। सुबह तो गेट टाईट कीया था तुम्हारा भूल गयी ।
दीदी- अरे यार तुम हो। नंबर कीसने दीया?
डबु- रानु ने
दीदी- वो। नहीं भुलुंगी कैसे उतने दीनो से पीछे परे थे। आज तो मील गया ना। कैसा रहा 
डबु- क्या कहूँ सुबह की बाते याद करके अभी भी पानी छोङ रहा है
दीदी- क्या पानी छोड़ रहा है
डबु- तुमहारा बहुत गर्म था यार
दीदी क्या गर्म था?
डबु- अरे यार तुमहारा बुर गर्म था मेरा लंड पानी छोड़ रहा है। तुमको चोदने के लिए।
दीदी हाय मेरे राजा रोज मेरे गांड में लंड सता के कहते थे ना बुर बहुत टाइट होगा।अब कहो कैसा लगा
डबु हाय मेरी जान क्या कहूँ मेरा तो लंड फटा जा रहा है तेरे गांड को सोच के। मेरे लंड पर कब बैठोगी ?
दीदी अभी नहीं पर जल्दी ही मुझे भी बैठना है 
डबु वीडियो काल करो ना मुझे तुमहारा चुची देखना है
दीदी नही काल नहीं। फोतो भेज देती हुं देख लो
डबु- मुझे दीखाते हुए अरे ये देख तेरी दीदी की चुची
एकदम मालदा आम है साली के चुची मे लंड डाल के चोदुंगा
मे - एकदम से हरबडा गया।ये कपदा तो दीदी आज पहने हुई थी।गजब की चुची लग रही थी दीदी की। इतना बड़ा जगह जगह दात के निसान पड़े थे। लगता है मामा और उनके दोस्त चोदते उक्त पुरा चुसते होंगे। दीदी की चुची देख लंड खंदा होकर फटने लगा।मैनेकहा डबु भाई जरा दीदी की सबसे मस्त चीज़ की फ़ोटोमांगो ना।
डबू


Attached Files Thumbnail(s)
           
Reply
01-25-2020, 11:20 PM, (This post was last modified: 01-26-2020, 04:10 PM by .)
RE: Adult kahani पाप पुण्य
डबु- साला अपनी दीदी की गांड के पीछे परा रहता है।रुक बोलता हु साली से ।सच मे सब के साथ मील के खाने लायक है।डबु फीर से दीदी को मैसेज करता है।हाय यार मस्त चुचीया है तुमहारी काश अभी चूस पाता।अब थोड़ा गांड भी दीखा दो जानु।
दीदी- वाह जी अब तो डीमांड बढती जा रही है।फीर कुछ और मांगोगे।जान से जानु भी हो गयी एक बार में वाह।नहीँ यार फीर तुम अपने दोस्तों को कही दीखा दोगे तब।वो सब तो अलग से पीछे पड़े रहते है जैसे लगता है खा ही जाएंगे मुझको।
डबु- अरे जानू दिखाना होता तो तुमहारी चुचीया भी तो दिखा सकता हुं। पर भरोसा रखो मे नहीं दीखाउंगा कीसीको। और मेरे दोस्तों का क्या कंहु सब तुमहारे पीछे पडे रहते है तुमको खाने के लीऐ थोड़ा ध्यान दे देना उन बेचारो पर।मेरी तरफ आंफ मारते हुऐ।
दीदी- हुं हां जी सबको जंहा ध्यान दीये तो मेरा क्या हाल हो जायेगा। नहीँ बाबा।
डबु-गांड दीखाओ ना 
दीदी एक मीनट रुको
अब खुश
डबु अभी कंहा तुमको मन भर चोदंगे तब ख़ुश होंगे जान।
दीदी मेरे से मन भर जायेगा?
डबु नहीँ यार वो नही कहा की अभी मन भर चोदते तब बहुत ख़ुशी मीलती।तुमहारा बुर तो लगता है की खा हीं जाओ।
दीदी नही यार मेरा बुर खा जाओगे तो मै चुदा पाउंगी।हाहाहा
डबु- सच मे बहुत मस्त हो तुम।
दीदी- क्यों चोदते उक्त नहीँ पता चला था।सीधे मेरा पैंट सरका के डा दीये।मै हल्ला कर देती तो।
डबु- तुमहारी चुचीया दबाने के बाद मुझे ये लग गया था। की अब तुम मेरा लंड अराम से लोगी।मस्त बुर है तुमहारा यार एकदम अराम से गया अन्दर। पहले भी चुदी हो क्या?
दीदी- चलो अब बाद में बात करते है।बाय
डबु- ज्योटी सुनो रुको।
दीदी- बाय
डबु-अच्छा बाय। बहीणचोद लगता है बीदक गयी
मै- नहीँ अब खाने का समय है सब खा रहे होंगे।दीदी भी गयी होगी।
डबु - तु भी जाएगा
मै- नहीँ अभी नहीँ दारू पीकर सब के साथ थोडे बैटुंगा।जाउंगा देर से।कैसी लगी दीदी की गांड?
डबु बहुत मस्त है तेरी दीदी की गांड।सच बता तूने सही मे दीदी की चुदाई देखी है मामा के साथ?
मै मुझे झुठ बोलने से क्या मीलेगा। मैने तो बहुत चीज देखी है दीदी को जब बेड पर लेता कर मामा लंड चुसा रहे थो तो उनके दोस्त दीदी की टांग ऊपर कर लंड डाले था।चोदने के बाद सब दीदी पर ही अपना माल गीराते है।आप पीछे से लंड डाले थे ना?
डबु हां यार मे तेरी दीदी की कैफ्री नीचे कर लंड डाला था। तु सच कह रहा है। यार तू दीदी वीडियो क्यों नहीँ बनता
मैं- नहीँ ना बना सकता बेकार मे बदनामी हो जाएगी।अभी आप ने चोदा ना कल हमलोग भी दीदी की मीलकर ले लेंगे।आप कुछ जुगाड लगाईये।मेरे दोस्त से सब गांडु है दीदी को घूरते रहते चुची गांड सब देखते रहते पर कुछ बोलते ही नही।बोलंगे नही तो कैसे होगा।एकबार दीदी को नंगे कर के लंड पर बैठा दीजीये मेरे फिर सबकोई मील कर दीदी को चोदंगे।


Attached Files Thumbnail(s)
       
Reply
01-26-2020, 05:49 PM, (This post was last modified: Yesterday, 05:45 PM by .)
RE: Adult kahani पाप पुण्य
(01-25-2020, 11:20 PM)Ranu Wrote: डबु- साला अपनी दीदी की गांड के पीछे परा रहता है।रुक बोलता हु साली से ।सच मे सब के साथ मील के खाने लायक है।डबु फीर से दीदी को मैसेज करता है।हाय यार मस्त चुचीया है तुमहारी काश अभी चूस पाता।अब थोड़ा गांड भी दीखा दो जानु।
दीदी- वाह जी अब तो डीमांड बढती जा रही है।फीर कुछ और मांगोगे।जान से जानु भी हो गयी एक बार में वाह।नहीँ यार फीर तुम अपने दोस्तों को कही दीखा दोगे तब।वो सब तो अलग से पीछे पड़े रहते है जैसे लगता है खा ही जाएंगे मुझको।
डबु- अरे जानू दिखाना होता तो तुमहारी चुचीया भी तो दिखा सकता हुं। पर भरोसा रखो मे नहीं दीखाउंगा कीसीको। और मेरे दोस्तों का क्या कंहु सब तुमहारे पीछे पडे रहते है तुमको खाने के लीऐ थोड़ा ध्यान दे देना उन बेचारो पर।मेरी तरफ आंफ मारते हुऐ।
दीदी- हुं हां जी सबको जंहा ध्यान दीये तो मेरा क्या हाल हो जायेगा। नहीँ बाबा।
डबु-गांड दीखाओ ना 
दीदी एक मीनट रुको
अब खुश
डबु अभी कंहा तुमको मन भर चोदंगे तब ख़ुश होंगे जान।
दीदी मेरे से मन भर जायेगा?
डबु नहीँ यार वो नही कहा की अभी मन भर चोदते तब बहुत ख़ुशी मीलती।तुमहारा बुर तो लगता है की खा हीं जाओ।
दीदी नही यार मेरा बुर खा जाओगे तो मै चुदा पाउंगी।हाहाहा
डबु- सच मे बहुत मस्त हो तुम।
दीदी- क्यों चोदते उक्त नहीँ पता चला था।सीधे मेरा पैंट सरका के डा दीये।मै हल्ला कर देती तो।
डबु- तुमहारी चुचीया दबाने के बाद मुझे ये लग गया था। की अब तुम मेरा लंड अराम से लोगी।मस्त बुर है तुमहारा यार एकदम अराम से गया अन्दर। पहले भी चुदी हो क्या?
दीदी- चलो अब बाद में बात करते है।बाय
डबु- ज्योटी सुनो रुको।
दीदी- बाय
डबु-अच्छा बाय। बहीणचोद लगता है बीदक गयी
मै- नहीँ अब खाने का समय है सब खा रहे होंगे।दीदी भी गयी होगी।
डबु - तु भी जाएगा
मै- नहीँ अभी नहीँ दारू पीकर सब के साथ थोडे बैटुंगा।जाउंगा देर से।कैसी लगी दीदी की गांड?
डबु बहुत मस्त है तेरी दीदी की गांड।सच बता तूने सही मे दीदी की चुदाई देखी है मामा के साथ?
मै मुझे झुठ बोलने से क्या मीलेगा। मैने तो बहुत चीज देखी है दीदी को जब बेड पर लेता कर मामा लंड चुसा रहे थो तो उनके दोस्त दीदी की टांग ऊपर कर लंड डाले था।चोदने के बाद सब दीदी पर ही अपना माल गीराते है।आप पीछे से लंड डाले थे ना?
डबु हां यार मे तेरी दीदी की कैफ्री नीचे कर लंड डाला था। तु सच कह रहा है। यार तू दीदी वीडियो क्यों नहीँ बनता
मैं- नहीँ ना बना सकता बेकार मे बदनामी हो जाएगी।अभी आप ने चोदा ना कल हमलोग भी दीदी की मीलकर ले लेंगे।आप कुछ जुगाड लगाईये।मेरे दोस्त से सब गांडु है दीदी को घूरते रहते चुची गांड सब देखते रहते पर कुछ बोलते ही नही।बोलंगे नही तो कैसे होगा।एकबार दीदी को नंगे कर के लंड पर बैठा दीजीये मेरे फिर सबकोई मील कर दीदी को चोदंगे।
डबु दीदी की गाड़ की फोतो को घुरते हुऐ साली अब तो मे सेट करता हूँ गुर्प मे चुदाई के लीए उसी मे तुझको भी शामिल कर लुंगा। और बता कैसे तुझे चोदना हैअपनी दीदी को।
मैं दीदी को कुतिया बना कर पीछे से लंड उसके बुर मे डालु आप अपना लंड दीदी के मुंह मे डालो।और राजू साथ मे रहे तो और मज़ा आ जायेगा। हमलोग सब दीदी की बुर फैला कर चोदंगे।
डबु अब तु मदद कर हमलोग सब रात भर तेरी दीदी को चोदंगे तेरे घर में।
मैं- वो कैसे होगा
डबु- जैसे मामा खाते है सब के साथ वैसे होगा।अब तू देख लेकीन पहले ईसका गाड़ अकेले मार लू।फिर सब के साथ चोदेंगे।
मैं वैसा कुछ नहीँ है दीदी गांड भी खूब मरवाती है दीदी का तीनो छेद फ्री है।बस आप समझाओ सीर्फ
डबु क्या 
मैं- यही की तमको मेरे सब दोस्त चोदना चाहते हैं। सब तुमहारी बहुत तारीफ़ करते है फिर वो सबको देगी। मे जानता हुं 
डबु ये कैसे होग ?
कही दीक्कत हुआ तो ईतना गर्म माल मेरे हाथ से भी निकल जायेगा।
मै-वैसा कुछ नहीँ है दीदी को सब खा सकते है मामा भी पहले खुब गंदी गंदी बाते करते  थे। की तुमहारा गाड़ जब सब मील के चोदेगा तब खुब फैल जाओगी
डबु हम्म । तो फीर चुदा लेगी सबसे 
मैं अरे बस आप इतना कहना की तुमको मेरे दोस्त भी बहुत पसंद करते है। बहुत तारीफ करते है वगैरह । फिर दीदी आप सब के नीचे और आप सब दीदी की लोगे। 
डबु अच्छा और कुछ बता  अपनी दीदी के बारे में।क्या देखा है तूने 
मैं अरे क्या कंहु दीदी को तो मामा नसा की दबाई खीला कर दोस्तो गे साथ चोदे है उनके जाने के बाद दीदी नंगी बेड पर सोई थी उसके बुर से माल चु रहा था चुचीया लाल हो गयी थी मे भी दीदी की चुचीया सहलाया।पुरा बेड पर माल गिरा हुआ था।
डबु तो तूने क्यों नहीं लड़ घुसा दीया उसकी बुर में। चोद लेता
मैं वैसे क्या फायदा एक तो मैं डर ते अन्दर गया ऊपर से उसके पूरे शरीर पर मामा और उनके दोस्तो का माल गिरा हुआ था। दीदी को जबतक चाटु चुसो नही तो चोदने से क्या फायदा।
डबुं हां यार सही मे बीना उसको नंगे कीये चोदने में मज़ा नहीँ आयेगा
मैं अच्छा अब घर चलता हुं । कल मिलता हुं 
डबु कल भी जुगार लगा दे दीदी की
मैं देखता हुं।बाय
बोल कर मैं घर चला आया।


Attached Files Thumbnail(s)
   
Reply
Yesterday, 05:55 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
(01-26-2020, 05:49 PM)Ranu Wrote:
(01-25-2020, 11:20 PM)Ranu Wrote: डबु- साला अपनी दीदी की गांड के पीछे परा रहता है।रुक बोलता हु साली से ।सच मे सब के साथ मील के खाने लायक है।डबु फीर से दीदी को मैसेज करता है।हाय यार मस्त चुचीया है तुमहारी काश अभी चूस पाता।अब थोड़ा गांड भी दीखा दो जानु।
दीदी- वाह जी अब तो डीमांड बढती जा रही है।फीर कुछ और मांगोगे।जान से जानु भी हो गयी एक बार में वाह।नहीँ यार फीर तुम अपने दोस्तों को कही दीखा दोगे तब।वो सब तो अलग से पीछे पड़े रहते है जैसे लगता है खा ही जाएंगे मुझको।
डबु- अरे जानू दिखाना होता तो तुमहारी चुचीया भी तो दिखा सकता हुं। पर भरोसा रखो मे नहीं दीखाउंगा कीसीको। और मेरे दोस्तों का क्या कंहु सब तुमहारे पीछे पडे रहते है तुमको खाने के लीऐ थोड़ा ध्यान दे देना उन बेचारो पर।मेरी तरफ आंफ मारते हुऐ।
दीदी- हुं हां जी सबको जंहा ध्यान दीये तो मेरा क्या हाल हो जायेगा। नहीँ बाबा।
डबु-गांड दीखाओ ना 
दीदी एक मीनट रुको
अब खुश
डबु अभी कंहा तुमको मन भर चोदंगे तब ख़ुश होंगे जान।
दीदी मेरे से मन भर जायेगा?
डबु नहीँ यार वो नही कहा की अभी मन भर चोदते तब बहुत ख़ुशी मीलती।तुमहारा बुर तो लगता है की खा हीं जाओ।
दीदी नही यार मेरा बुर खा जाओगे तो मै चुदा पाउंगी।हाहाहा
डबु- सच मे बहुत मस्त हो तुम।
दीदी- क्यों चोदते उक्त नहीँ पता चला था।सीधे मेरा पैंट सरका के डा दीये।मै हल्ला कर देती तो।
डबु- तुमहारी चुचीया दबाने के बाद मुझे ये लग गया था। की अब तुम मेरा लंड अराम से लोगी।मस्त बुर है तुमहारा यार एकदम अराम से गया अन्दर। पहले भी चुदी हो क्या?
दीदी- चलो अब बाद में बात करते है।बाय
डबु- ज्योटी सुनो रुको।
दीदी- बाय
डबु-अच्छा बाय। बहीणचोद लगता है बीदक गयी
मै- नहीँ अब खाने का समय है सब खा रहे होंगे।दीदी भी गयी होगी।
डबु - तु भी जाएगा
मै- नहीँ अभी नहीँ दारू पीकर सब के साथ थोडे बैटुंगा।जाउंगा देर से।कैसी लगी दीदी की गांड?
डबु बहुत मस्त है तेरी दीदी की गांड।सच बता तूने सही मे दीदी की चुदाई देखी है मामा के साथ?
मै मुझे झुठ बोलने से क्या मीलेगा। मैने तो बहुत चीज देखी है दीदी को जब बेड पर लेता कर मामा लंड चुसा रहे थो तो उनके दोस्त दीदी की टांग ऊपर कर लंड डाले था।चोदने के बाद सब दीदी पर ही अपना माल गीराते है।आप पीछे से लंड डाले थे ना?
डबु हां यार मे तेरी दीदी की कैफ्री नीचे कर लंड डाला था। तु सच कह रहा है। यार तू दीदी वीडियो क्यों नहीँ बनता
मैं- नहीँ ना बना सकता बेकार मे बदनामी हो जाएगी।अभी आप ने चोदा ना कल हमलोग भी दीदी की मीलकर ले लेंगे।आप कुछ जुगाड लगाईये।मेरे दोस्त से सब गांडु है दीदी को घूरते रहते चुची गांड सब देखते रहते पर कुछ बोलते ही नही।बोलंगे नही तो कैसे होगा।एकबार दीदी को नंगे कर के लंड पर बैठा दीजीये मेरे फिर सबकोई मील कर दीदी को चोदंगे।
डबु दीदी की गाड़ की फोतो को घुरते हुऐ साली अब तो मे सेट करता हूँ गुर्प मे चुदाई के लीए उसी मे तुझको भी शामिल कर लुंगा। और बता कैसे तुझे चोदना हैअपनी दीदी को।
मैं दीदी को कुतिया बना कर पीछे से लंड उसके बुर मे डालु आप अपना लंड दीदी के मुंह मे डालो।और राजू साथ मे रहे तो और मज़ा आ जायेगा। हमलोग सब दीदी की बुर फैला कर चोदंगे।
डबु अब तु मदद कर हमलोग सब रात भर तेरी दीदी को चोदंगे तेरे घर में।
मैं- वो कैसे होगा
डबु- जैसे मामा खाते है सब के साथ वैसे होगा।अब तू देख लेकीन पहले ईसका गाड़ अकेले मार लू।फिर सब के साथ चोदेंगे।
मैं वैसा कुछ नहीँ है दीदी गांड भी खूब मरवाती है दीदी का तीनो छेद फ्री है।बस आप समझाओ सीर्फ
डबु क्या 
मैं- यही की तमको मेरे सब दोस्त चोदना चाहते हैं। सब तुमहारी बहुत तारीफ़ करते है फिर वो सबको देगी। मे जानता हुं 
डबु ये कैसे होग ?
कही दीक्कत हुआ तो ईतना गर्म माल मेरे हाथ से भी निकल जायेगा।
मै-वैसा कुछ नहीँ है दीदी को सब खा सकते है मामा भी पहले खुब गंदी गंदी बाते करते  थे। की तुमहारा गाड़ जब सब मील के चोदेगा तब खुब फैल जाओगी
डबु हम्म । तो फीर चुदा लेगी सबसे 
मैं अरे बस आप इतना कहना की तुमको मेरे दोस्त भी बहुत पसंद करते है। बहुत तारीफ करते है वगैरह । फिर दीदी आप सब के नीचे और आप सब दीदी की लोगे। 
डबु अच्छा और कुछ बता  अपनी दीदी के बारे में।क्या देखा है तूने 
मैं अरे क्या कंहु दीदी को तो मामा नसा की दबाई खीला कर दोस्तो गे साथ चोदे है उनके जाने के बाद दीदी नंगी बेड पर सोई थी उसके बुर से माल चु रहा था चुचीया लाल हो गयी थी मे भी दीदी की चुचीया सहलाया।पुरा बेड पर माल गिरा हुआ था।
डबु तो तूने क्यों नहीं लड़ घुसा दीया उसकी बुर में। चोद लेता
मैं वैसे क्या फायदा एक तो मैं डर ते अन्दर गया ऊपर से उसके पूरे शरीर पर मामा और उनके दोस्तो का माल गिरा हुआ था। दीदी को जबतक चाटु चुसो नही तो चोदने से क्या फायदा।
डबुं हां यार सही मे बीना उसको नंगे कीये चोदने में मज़ा नहीँ आयेगा
मैं अच्छा अब घर चलता हुं । कल मिलता हुं 
डबु कल भी जुगार लगा दे दीदी की
मैं देखता हुं।बाय
बोल कर मैं घर चला आया।
घर आया तो लेट काफी हो गया था। तो दीदी को ही काल किया गेट खोलने के लीये।
दीदी ने जब गेट खोला तो मुझे पीये हुऐ देखा तो गुस्सा करने लगी।
तो मैने
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Kamvasna मजा पहली होली का, ससुराल में 42 87,007 01-29-2020, 10:17 PM
Last Post:
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम 929 579,968 01-29-2020, 12:36 PM
Last Post:
Star Antarvasna तूने मेरे जाना,कभी नही जाना 32 106,441 01-28-2020, 08:09 PM
Last Post:
Lightbulb Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी ने 49 93,702 01-26-2020, 09:50 PM
Last Post:
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) 661 1,569,567 01-21-2020, 06:26 PM
Last Post:
Exclamation Maa Chudai Kahani आखिर मा चुद ही गई 38 185,655 01-20-2020, 09:50 PM
Last Post:
  चूतो का समुंदर 662 1,818,368 01-15-2020, 05:56 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Porn Kahani एक और घरेलू चुदाई 46 78,517 01-14-2020, 07:00 PM
Last Post:
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार 152 719,774 01-13-2020, 06:06 PM
Last Post:
Star Antarvasna मेरे पति और मेरी ननद 67 233,738 01-12-2020, 09:39 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 14 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


anti chaut shajigsocata.hu ketni.masum rekotonkerti kh.,kirti suresh and anupama ki chut imagesex story marathitunmoti ladki ke kalijhant wali bhosda gand&boobs ka photochaudaidesishraddha kapoor ngha potu xxxx umarvhideshi mota lamba land ki sex videosaliwwwxxxमेले की भीड़ में गांडjija sali ki sex Batayexxx videoखटिया पे चुदाई होते देखीshuriti sodhi ke chutphotophotogorichutನನ್ನ ತಾಯಿ ನಡುವೆ new xxx storyjetha sandhya ki jordar chudaijannat fudi seel pack saxi videobur mejhat dehati ladki sexywww sexbaba net Thread hindi adult kahani E0 A4 95 E0 A4 BE E0 A4 AE E0 A4 BE E0 A4 97 E0 A5 8D E0 Apooja gandhisexbababarbadi sex storieswww.jbrdsti sex mrathi kthadifferent type yonichut picturebosde ki chudai maderchod galiyo ke sathऔरत औरत ke mume सुसु kartiwi अश्लील ful hdलड चुसना मारवाडि फोटुxxx साडी मस्ट मुलांनी दुधबहनचोद भईया बेरहमी से चोदो बड़े लन्ड से रात भर दबाकर चोदोSex video jorat jatkekhofnak chudai baba se storybhudda rikshavla n sexy ldki chudi khniasmanjas ki khaniyaमाँ के होंठ चूमने चुदाई बेटा printthread.php site:mupsaharovo.ruchut ka ras pan oohh aahh samuhikahhhh huuu bata zor zor se chodo kamukta hindi sex storiechutada masal masal kar dabaye sex storieshum kirayedar ki biwi meri maa kirayedar chudai ki kahaniNidhi Bhanushali sexXXX HD WALLराज शर्मा चुतो का समंदरyum sex stori in hindi compliteHindimesexymomमुखसे चुत चाट ने की पीचरNude Nidhiy Angwal sex baba picsNamard pornpicladies new boob dekhairasmi sex girl bolchalBibi apmanit chodai khaniअनूशका सेटी कीxxxPasina Chutajay Asi Hot Sex KahaniDesi anty ki chudai hard sex gifs chodo mujesabse Bade land wala sex 20sex/SHREYA sex CUM BABAमराठी नागडया झवाड या मुली व मुलkatrina hindi sex story sexbaba.netdesi bodyaboobsBahu ke hilte chutad dekh kar mera lundयोने बुर सेक्सफॉटोसोल्लगे क्सनक्सक्स नईछोड़ो मुझे अच्छे लग रहा जल्दी छोडो जोर जोर से छोडो न जरा से दिखाओ फुल हद बफ चुड़ै वालीtv actress semer ke cudai ke photo sex baba comup xnxx netmuh me landganv की chuddakkad sudhiya काकी की चुदाईxnxxxx.jiwan.sathe.com.ladake.ka.foto.naam.pata.ऐश्वर्या की सुहागरात - 2- Suhagraat Hindi Stories desiaksDesi52 hd download daoRukmini Maitra Wallpapet XxxMausine mere lips chuskar lal kiyexxxbfpesabsexvidaogirlxxx sexy lovely lipstick bali chudakar womanमामी ने लात मरी अंडकोस पे मर गयाअधेड आंटी की सूखी चूत की चुदाई कहानीसेक्सोलाजीPrintable version bollywood desibees